जादू मशरूम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Psilocybe semilanceata 6514

मैजिक मशरूम[संपादित करें]

साइलोस्यबीन मशरूम को सीइकहीदीलीक मशरूम कहा जाता है, यह मशरूम में मुख्या तात्व है जो सीइकहीदीलीक दवाओं साइलोस्यबीन और सेलोबिन बनाने के काम आता है। आम भाषा मे जादू मशरूम शरूओम्स है।लगभग 40 प्रजातियों के जीनस सेलोसेइब में पाए जाते हैं। सीलोसिभा कुबीन्सिस ही आम साइलोस्यबीन मशरूम उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पाए जाता है। साइलोस्यबीन मशरूम की संभावना प्रागैतिहासिक काल से इस्तेमाल किया गया है और रॉक कला में दर्शाया गया हो सकता है। कई संस्कृतियों का धार्मिक संस्कार में इन मशरूम का इस्तेमाल किया है। आधुनिक पश्चिमी समाज में, वे अपने साइकेडेलिक प्रभाव के लिए मनोरंजन किया जाता है।

इतिहास[संपादित करें]

शीघ्र (Early)[संपादित करें]

पुरातात्विक साक्ष्य प्राचीन काल में साइलोस्यबीन युक्त मशरूम का प्रयोग इंगित करता है। मध्य पाषाण काल ​​के शैल चित्रों से तास्सीलि एन अज्जीर (Tassili n'Ajjer)(एक प्रागैतिहासिक उत्तर अफ्रीकी साइट पहचान किया है केस्स्पीएन संस्कृति) लेखक जियोर्जियो समोरिनि द्वारा पहचान की गई है। "पत्थरों से युक्त बंदर थ्योरी" कम प्राइमेट से आधुनिक मनुष्य तक विकसित होना के लिये आहार और सांस्कारिक के दूरदर्शी पौधों और स्वाभाविक रूप से होने वाली साइकेडेलिक यौगिकों का उपयोग होत है।साइलोस्यबीन (Psilocybe) जीनस की हालुसेजेनीक (hallucinogenic) प्रजातियों का एक इतिहास है जिस्के तहत मेसोअमेरिका की मूल के लोगों के बीच उपयोग किया है धार्मिक भोज, अटकल और उपचार के लिए, कलमबुस काल से वर्तमान दिन तक। मशरूम पत्थर और रूपांकनों ग्वाटेमाला में Mayan मंदिर खंडहर में पाया गया है। एक प्रतिमा (statuette) जो 200 ई मे पाइ गाई है वह साइलोस्यबी (Psilocybe) मेक्सिकाना मशरूम को चित्रण कर रही है जो एक पश्चिम मैक्सिकन शाफ्ट और चैम्बर कब्र के कोलीमा राज्य में पाया गया था। हाल्लुइनोजेनीक (Hallucinogenic) साइलोस्यबी मशरूम को " आज़ितेक्स (Aztecs) के नाम से जाने जाते थे। स्पेनिश माना की मशरूम ने अनुमति दी आज़ितेक्स और आन्या लोग के साथ् संवाद कार्ने दीया वह "शैतान" था। जो स्पेनिश लोग खाना से उन्है रोमन कैथोलिक ईसाई परिवर्तित कर्ती है। स्पेनिश इयुकेरिस्ट के कैथोलिक संस्कार करने के लिये तेओनानसत्ल (teonanácatl) के उपयोग से नीकले दिया गाये। इस इतिहास के बावजूद, कुछ दूरदराज के क्षेत्रों में तेओनानसत्ल (teonanácatl) का उपयोग कर रह थे। पश्चिमी औषधीय साहित्य में हालुसेजेनीक (hallucinogenic) मशरूम का पहला उल्लेख 1799 में लंदन चिकित्सा और शारीरिक जर्नल में छपी। एक आदमी जब वह अपने परिवार के लिए लंदन के ग्रीन पार्क में नाश्ते के लिए साइलोस्यबी सेमीलान्सीअता (semilanceata) मशरूम को खाते थे। उन्हें इलाज करने वाले चिकित्सक बाद में सबसे कम उम्र के बच्चे को "अत्यंत हँसी के दौरे के साथ पाया था। और न ही अपने पिता या माता के खतरों उसा आए।

आधुनिक (Modern)[संपादित करें]

1955 में, वेलेंटीना और आर गॉर्डन वस्सान पहली ज्ञात पश्चिमी देशों के लिए सक्रिय रूप से एक स्वदेशी मशरूम समारोह में भाग लिए। वस्सान भी 1957 में जीवन में अपने अनुभवों पर एक लेख प्रकाशित करने, उनकी खोज के प्रचार के लिए बहुत कुछ लिखा गाया। 1956 में रोजर हेइम सैइकोअक्तेव मशरूम की पहचान की जो वस्सान साइलोस्यबी के रूप में मेक्सिको से वापस लाया था। और 1958 में, अल्बर्ट होफम्मेन पहले इन मशरूम में सक्रिय यौगिकों के रूप में साइलोस्यबीन (psilocybin) और सेलोसीन (psilocin) की पहचान की। वर्तमान में, साइलोस्यबीन मशरूम उपयोग, ओक्साका के लिए केंद्रीय मैक्सिको से फैले कुछ समूहों के बीच बताया गया है।

ठौर-ठिकाना (occurrence)[संपादित करें]

साइलोस्यबीन, बसिदिओमेकोता (Basidiomycota) मशरूम की 200 से अधिक प्रजातियों में अलग सांद्रता में मौजूद है। एक 2000 की समीक्षा में (review) साइलोस्यबीन मशरूम की दुनिया भर में वितरण है। गास्तोन गुज़्मान (Gastón Guzmán) और सहयोगियों निम्नलिखित के बीच इन वितरित पीढ़ी को माना। साइलोस्यबी (Psilocybe) (116 प्रजातियों), ज्य्म्नोपिलीउस (Gymnopilus), पानाइओलौस (Panaeolus), कोपेलान्दिअ (Copelandia),हापफोलोमा (Hypholoma),प्लितीउस् (Pluteus), इनोस्य्बी (Inocybe),कोनोसेबी (Conocybe),पानएओलिना (Panaeolina), जेर्रोनेमा (Gerronema), अग्रोस्य्बि (Agrocybe), गालएरिना (Galerina) और म्य्सिना (Mycena)। गुज़्मान एक 2005 की समीक्षा में 144 प्रजातियों के लिए साइलोस्यबीन (psilocybin) युक्त साइलोस्यबी (Psilocybe) वृद्धि की। इनमें से अधिकांश मेक्सिको में पाए जाते हैं (53 प्रजातियों) शेष वितरित रूप से अमेरिका,कनाडा, यूरोप, एशिया, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और जुड़े द्वीपों मे पाए जाता है। सामान्य में, psilocybin युक्त प्रजातियों आमतौर पर धरण और संयंत्र के मलबे, घास के मैदान आदि मे पाया जाता है।

प्रभाव (Effects)[संपादित करें]

साइलोस्यबीन मशरूम का प्रभाव साइलोस्यबी और साइलोसिन (psilocin) से आते हैं। जब साइलोस्यबीन खाया जाता है। जो साइलोसिन टूट कर निर्माण करने लाग्ता है। यह साइकेडेलिक प्रभाव के लिए जिम्मेदार है। साइलोस्यबी और साइलोसिन, उपयोगकर्ताओं की अल्पकालिक सहिष्णुता में बढ़ जाती है। इस प्रकार उन्हें गाली देना मुश्किल क्योउन्कि वै एक छोटी अवधि के भीतर माशरूम लिया जाता है। कमजोर परिणामी प्रभाव हैं। साइलोस्यबीन (Psilocybin) मशरूम शारीरिक या मानसिक निर्भरता नही कर्ता। जहरीला (कभी कभी घातक) जंगली उठाया मशरूम को साइलोस्यबीन मशरूम गालात से ले लिया जाता है। मैजिक मशरूम ब्रिटेन में कम से कम नुकसान के कुछ कारण के रूप में मूल्यांकन की जब तुलनाने एक अध्ययन मनोरंजक दवाओं (recreational drugs) स्वतंत्र वैज्ञानिक समिति ने जब इन पर विध्या की। अन्य शोधकर्ताओं (psilocybin) "शरीर के अंग प्रणालियों को गैर विषैले है"। उच्च उप्योग भय का कारण होने की संभावना है और खतरनाक व्यवहार का कारान बन साक्ता है।

दवा के रूप में (As medicine)[संपादित करें]

कुछ लोग विभिन्न मानसिक स्थितियों का बेहतर उपचार के विकास के लिए सिंथेटिक और मशरूम व्युत्पन्न साइलोस्यबीन (psilocybin) के उपयोग कार्ते है। उस के सहित क्रोनिक क्लस्टर सिर दर्द, इंपीरियल कॉलेज लंदन और चिकित्सा जॉन्स हॉपकिंस स्कूल में किया हाल के अध्ययनों से निष्कर्ष निकालना, साइलोस्यबीन (psilocybin) अवसादरोधी के रूप में कार्य करता है और FMRI मस्तिष्क स्कैन ने सुझाव दिया गाया है।