जहाज़रानी मंत्रालय, भारत सरकार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाजरानी मंत्रालय , भारत सरकार का एक मंत्रालय है जो नियमों और विनियमों और शिपिंग से संबंधित कानूनों के निर्माण और प्रशासन के लिए शीर्ष निकाय है। २०१४ से नितिन गडकरी[1] शिपिंग मंत्री है।

जहाज़रानी मंत्रालय
Emblem of India.svg
भारत के राष्‍ट्रीय चिन्ह
Jawaharlal Nehru Trust Port.jpg
मुंबई बंदरगाह
मंत्रालय अवलोकन
अधिकारक्षेत्रा भारत सरकार
मुख्यालय परिवहन भवन
1, संसद मार्ग
नई दिल्ली

28°37′9.58″N 77°12′37.29″E / 28.6193278°N 77.2103583°E / 28.6193278; 77.2103583
उत्तरदायी मंत्रीगण नितिन गडकरी, परिवहन मंत्री
श्री कृष्ण पाल, शिपिंग राज्य मंत्री
वेबसाइट
shipping.nic.in

परिचय[संपादित करें]

समुद्री परिवहन एक देश के सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए एक महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा है|यह देश की गति,संरचना और जल परिवहन के विकास का प्रतिनिधित्व करता है।जहाजरानी मंत्रालय के भीतर जहाज निर्माण और मरम्मत, प्रमुख बंदरगाहों, राष्ट्रीय जलमार्ग और अंतर्देशीय जल परिवहन भी शामिल है। मंत्रालय पर उनके कार्यान्वयन की नीतियों और कार्यक्रमों को तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

इतिहास[संपादित करें]

निर्माण[संपादित करें]

जुलाई १९४२ में संचार विभाग को दो भागों में विभाजित किया गया था:[2]

  • डाक विभाग
  • युद्ध के परिवहन विभाग

सरकार द्वारा विभाग को आवंटित कार्य[संपादित करें]

युद्ध के परिवहन विभाग को आवंटित कार्यों में प्रमुख बंदरगाहों,रेलवे प्राथमिकताओं,सड़क और जल परिवहन,पेट्रोल राशन और प्रोड्यूसर गैस के उपयोग शामिल हैं। मोटे तौर पर देखा जाए तो युद्ध के परिवहन विभाग का कार्य-युद्ध के समय में परिवहन के लिए जहाजों की मांग, तटीय शिपिंग का प्रशासन और प्रमुख बंदरगाहों का विकास था। बाद में, निर्यात की योजना बनाना परिवहन प्राथमिकता के विभाग लिया गया था।

अगले कुछ वर्षों का परिवर्तन[संपादित करें]

१९५७[संपादित करें]

युद्ध के परिवहन विभाग को परिवहन एवं संचार मंत्रालय नामित किया गया था और परिवहन विभाग इसके तहत रखा गया था।

१९६६[संपादित करें]

२५ जनवरी १९६६ को राष्ट्रपति के आदेश के तहत परिवहन,जहाजरानी एवं पर्यटन विभाग, परिवहन और विमानन मंत्रालय के अधीन रखा गया था।

१९६७[संपादित करें]

१३ मार्च १९६७ को,परिवहन और विमानन मंत्रालय- जहाजरानी और परिवहन मंत्रालय और पर्यटन और नागरिक उड्डयन मंत्रालय में विभाजित किया गया था।

१९८५[संपादित करें]

२५ सितंबर १९८५ को,पुनर्गठन के दौरान परिवहन और जहाजरानी मंत्रालय परिवहन मंत्रालय के तहत भूतल परिवहन विभाग बनाया गया।

१९८६[संपादित करें]

२२ अक्टूबर १९८६ को,परिवहन मंत्रालय के तहत भूतल परिवहन विभाग भूतल परिवहन मंत्रालय के रूप में नाम दिया गया था।

१९९९[संपादित करें]

१५ अक्टूबर १९९९ को, भूतल परिवहन मंत्रालय को नौवहन विभाग और सड़क परिवहन और राजमार्ग विभाग में फिर से आयोजित किया गया था।

२०००[संपादित करें]

१७ नवम्बर २००० को,भूतल परिवहन मंत्रालय दो मंत्रालयों अर्थात् सड़क परिवहन मंत्रालय और राजमार्ग और नौवहन मंत्रालय में विभाजित किया गया था।

२००४[संपादित करें]

२ अक्टूबर २००४,शिपिंग और सड़क परिवहन मंत्रालय फिर से विलय कर दिया गया है और शिपिंग मंत्रालय, सड़क परिवहन और राजमार्ग के रूप में नाम दिया है। इसके तहत दो विभाग कर रहे हैं :

  • नौवहन विभाग
  • सड़क परिवहन और राजमार्ग विभाग

संगठनात्मक व्यवस्था[संपादित करें]

  • सचिव के सहयोग के लिए संयुक्त सचिव (शिप्पिंग) संयुक्त सचिव (पत्तन) ,विकास सलाहकार (पत्तन) चर्तरिंग मुख्य नियंत्रक, निदेशन उपसचिव, अवरसचिव अ. क. सचिव / तकनिकी अधिकारी गण हैं।[3][4]
  • लेखा विभाग,मुख्य लेखा नियंत्रक के अधीन है,वह लेखांक, भुगतान, बजट, आंतरिक लेखा परीक्षा और नकदी प्रबंधन के लिए जिम्मेदार है।
  • सलाहकार ( परिवहन अनुसंधान) नीति नियोजन , परिवहन समन्वय , मंत्रालय का सवाल है जिसके साथ परिवहन के विभिन्न साधनों पर आर्थिक और सांख्यिकीय विश्लेषण के लिए मंत्रालय की विभिन्न पंखों के लिए आवश्यक डेटा समर्थन प्रदान करता है।

निम्नलिखित स्वायत्त संगठन, सोसाइटी / एशोशियेशन और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम पोत परिवहन मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण के अधीन कार्य कर रहे हैं :

अधीनस्थ / संबद्ध कार्यालय[संपादित करें]

  • नौवहन महानिदेशालय, मुंबई
  • अंडमान और लक्षद्वीप हार्बर वर्क्स, पोर्ट ब्लेयर
  • लाइटहोउसेस एंड लाइटशिप्स के महानिदेशक, नई दिल्ली
  • लघु पत्तन सर्वेक्षण संगठन, मुम्बई

स्वायत्त निकाय[संपादित करें]

  • कोलकाता पत्तन न्यास
  • पारादीप पत्तन न्यास
  • विशाखापत्तनम पत्तन न्यास
  • चेन्नई पत्तन न्यास
  • तूतीकोरिन पत्तन न्यास
  • कोचीन पत्तन न्यास
  • नई मंगलौर पत्तन न्यास
  • मोरमुगाओ पत्तन न्यास
  • मुंबई पत्तन न्यास
  • कांडला पत्तन न्यास
  • भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण, नोएडा
  • महा पत्तन के लिए प्रशुल्क प्राधिकरण, मुंबई
  • माविक भविष्य निधि संगठन, मुम्बई

संघ[संपादित करें]

  • भारतीय सामुद्रिक विश्वविद्यालय
  • भारतीय पत्तन संघ
  • नाविक कल्याण कोष सोसाइटी

सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों[संपादित करें]

  • शिपिंग कॉर्पोरेशन,मुंबई
  • कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड, कोचीन
  • केंद्रीय अंतर्देशीय जल परिवहन निगम लि.
  • भारतीय निकर्षण निगम लिमिटेड, विशाखापत्तनम
  • हुगली डॉक और पत्तन इंजीनियर्स लिमिटेड.
  • एन्नोर पोर्ट लिमिटेड
  • सेतुसमुद्रम निगम लिमिटेड

सांख्यिकी[संपादित करें]

भारत वर्तमान में समुद्री देशों के बीच १६ वें स्थान पर है। वर्तमान में,देश के पश्चिमी और पूर्वी क्षेत्र में १३ प्रमुख बंदरगाह (१२ सरकारी और एक कॉरपोरेट) और लगभग 200 गैर प्रमुख बंदरगाह हैं। मंत्रालय के अनुसार, भारत का मात्रा से ९५ % और मूल्य से ७० % व्यापार समुद्री परिवहन के माध्यम से होता है।[5]

२५ वर्षों की अवधि में भारतीय नौवहन टन भार के प्लॉट[संपादित करें]

██ तटीय


██ प्रवासी

[6]

बाजार का आकार[संपादित करें]

भारतीय बंदरगाहों की कार्गो यातायात वित्तीय वर्ष २०१२ के लिए ९११.५ लाख टन थे , और वित्तीय वर्ष २०१७ के लिए १७५८ लाख टन होने का अनुमान है। भारतीय बंदरगाहों एसोसिएशन द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार अप्रैल-मई २०१४ में अप्रैल-मई २०१३ से ४.८% की वृद्धि हुई है। २०१३-१४ में कोयला कार्गो यातायात ( थर्मल कोयला और कोकिंग कोल )२०.६% की वृद्धि हुई है। अप्रैल २०१३ की तुलना में अप्रैल २०१४ में उर्वरकों की हैंडलिंग में २५% की वृद्धि हुई है। लौह अयस्क हैंडलिंग भी माह के दौरान १६.८% की वृद्धि हुई है|

निवेश[संपादित करें]

भारतीय बंदरगाहों क्षेत्र औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग ( डीआईपीपी ) के अनुसार, अप्रैल २००० और मई २०१४ के बीच विदेशी प्रत्यक्ष निवेश के लायक अमेरिका $ १६३५.४० करोड़ प्राप्त हुए। भारत में बंदरगाहों क्षेत्र २०१३-१४ में ३० परियोजनाओं को सम्मानित किया गया जिस्से देश २०००० करोड़ रुपए निवेश हुए है। क्षेत्र में प्रमुख निवेश और विकास:

  • अदानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोनने धमरा पोर्ट कंपनी लिमिटेड में १००% हिस्सेदारी खरीदने के लिए एल एंड टी इंफ्रास्ट्रक्चर और टाटा स्टील के साथ ५००० करोड़ का समझौता किया है[7]
  • जेएनपीटी और पीएसए ८००० करोड़ रुपये के लायक पोर्ट के चौथे कंटेनर टर्मिनल के लिए एक रियायत समझौते पर हस्ताक्षर किए है|यह वर्तमान में २ लाख बीस फुट समकक्ष इकाइयों की कुल क्षमता के साथ , कोलकाता , तूतीकोरिन और चेन्नई बंदरगाहों में कंटेनर टर्मिनल संचालित है। चौथे कंटेनर टर्मिनल ४.८ करोड़ बीस फुट समकक्ष इकाइयों की क्षमता होगी
  • पारादीप बंदरगाह विस्तार योजनाओं के भाग के रूप में संकर कार्गो टर्मिनल स्थापित करने की योजना है[8]
  • एल एंड टी जहज़ लिमिटेड कटुपल्ली बंदरगाह पर कंटेनर हैंडलिंग के अलावा ऑटोमोबाइल और तेल उत्पादों में शामिल करने की योजना बना रहा है

सरकार की पहल[संपादित करें]

सरकार, बंदरगाहों के निर्माण और रखरखाव से संबंधित परियोजनाओं के तहत १००% तक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की अनुमति दी है।[9] १० साल कर छूट बंदरगाहों, अंतर्देशीय जलमार्ग और अंतर्देशीय बंदरगाहों के संचालन के कारोबार में लगे उद्यमों के लिए दिया गया है। सड़क परिवहन, राजमार्ग और नौवहन मंत्री श्री नितिन गडकरी, गंगा नदी के किनारे परिवहन के विकास और पर्यटन के लिए अन्य मंत्रालयों के साथ समन्वय स्थापित करेंगे।[10] राष्ट्रीय समुद्री एजेंडा २०१०-२०२०[11] बंदरगाह क्षेत्र के विकास के लिए ढांचे की रूपरेखा तैयार करने के लिए जहाजरानी मंत्रालय की एक पहल है। यह एजेंडा भारतीय बंदरगाहों के संचालन क्षमता और प्रतिस्पर्धात्मकता में सुधार करने के लिए नीति संबंधी पहल का सुझाव है।

भविष्य की योजनाएं[संपादित करें]

निवेश और माल यातायात,बंदरगाह सेवाओं के स्वास्थ्य का प्रतिनिधित्व करते है जिसमें मार्गदर्शन,शरण देने और समुद्री परिसंपत्तियों के प्रावधान के रूप में संचालन और रखरखाव की सेवाओं समावेश है। अपनी 12 वीं पंचवर्षीय योजना में भारत के योजना आयोग के बंदरगाहों क्षेत्र में रु 180626 करोड़ के कुल निवेश की उम्मीद है।[12] अपनी समुद्री एजेंडा २०१०-२०२० के माध्यम से, शिपिंग मंत्रालय काफी हद तक निजी क्षेत्र की भागीदारी के माध्यम से , २०२० से ३१३० मीट्रिक टन से अधिक का लक्ष्य क्षमता स्थापित किया है|इस क्षमता का अधिक से अधिक ५० फीसदी गैर प्रमुख बंदरगाहों में पैदा किए जाने की उम्मीद है|[13]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. National Portal of India : Government : Who's Who
  2. "संगठनात्मक इतिहास". जहाजरानी मंत्रालय. http://shipping.nic.in/index1.php?lang=1&level=1&sublinkid=42&lid=52. अभिगमन तिथि: ४ अक्टूबर २०१४. 
  3. "संगठनात्मक व्यवस्था". जहाजरानी मंत्रालय. http://shipping.nic.in/index1.php?lang=1&level=1&sublinkid=44&lid=54. अभिगमन तिथि: ४ अक्टूबर २०१४. 
  4. "Flow Chart of setup". Ministry of Shipping,Government of India. http://shipping.nic.in/writereaddata/l892s/67895757-org.pdf. अभिगमन तिथि: 4 October 2014. 
  5. "Maritime Statistics". Indianbusiness.nic.in, Government of India. http://indiainbusiness.nic.in/newdesign/index.php?param=industryservices_landing/361/2. अभिगमन तिथि: 2 October 2014. 
  6. "भारतीय नौवहन टन भार". जहाज़रानी मंत्रालय. http://shipping.nic.in/writereaddata/l892s/tonnage-35709190.pdf. अभिगमन तिथि: ४ अक्टूबर २०१४. 
  7. "Adani Strikes: Acquisition of Dharma Port". The Economic Times. 16 May 2014. http://articles.economictimes.indiatimes.com/2014-05-16/news/49898153_1_dhamra-port-company-ltd-dpcl-special-economic-zone-ltd. अभिगमन तिथि: ४ अक्टूबर २०१४. 
  8. "Paradip ports offers hybrid ports". The Hindu. 8 June 2014. http://www.thehindubusinessline.com/companies/paradip-port-offers-hybrid-cargo-terminals-to-investors/article6095080.ece. अभिगमन तिथि: ४ अक्टूबर २०१४. 
  9. "Government Initiatives". Indianbusiness.nic.in,Government of India. http://indiainbusiness.nic.in/newdesign/index.php?param=industryservices_landing/361/2. अभिगमन तिथि: ४ अक्टूबर २०१४. 
  10. "Ports in India". Indian Brand Equity Foundation. http://www.ibef.org/industry/ports-india-shipping.aspx. अभिगमन तिथि: ४ अक्टूबर २०१४. 
  11. "राष्ट्रीय समुद्री एजेंडा २०१०-२०२०". जहाजरानी मंत्रालय. http://shipping.nic.in/showfile.php?lid=261. अभिगमन तिथि: ४ अक्टूबर २०१४. 
  12. "12th Five Year Plan (2012-2017)". योजना आयोग , भारत. http://planningcommission.gov.in/aboutus/committee/wrkgrp12/transport/report/wg_port.pdf. अभिगमन तिथि: ४ अक्टूबर २०१४. 
  13. "PPP in the Agenda". जहाजरानी मंत्रालय. http://www.performance.gov.in/sites/default/files/document/strategy/Shipping.pdf. अभिगमन तिथि: ४ अक्टूबर २०१४.