छद्मनगरीकरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब किसी स्थान पर कोई बड़ा शहर बन जाता है किन्तु उस शहर की जनसंख्या के अनुरूप अधोसंरचना का विकास नहीं हो पाता तो इसे छद्मनगरीकरण (Pseudo-urbanization) या छद्म-शहरीकरण कहते हैं। छद्मनगरीकरण की स्थिति में नगर की जनसंख्या तो बढ़ जाती है किन्तु आवास, शिक्षा, स्वच्छ जल, यातायात, विद्युत तथा सफाई आदि कि समुचित व्यवस्था का अभाव ही बना रह जाता है (जैसा कि गाँवों में होता है)। ऐसी स्थिति प्राय: विकाशशील या अविकसित देशों के नगरों में पायी जाती है।