चेष्टा-अक्षमता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Apraxia
{{{other_name}}}
वर्गीकरण एवं बाह्य साधन
आईसीडी-१० R48.2
आईसीडी- 438.81, 784.69
डिज़ीज़-डीबी 31600
मेडलाइन प्लस 003203
ईमेडिसिन neuro/438 
एम.ईएसएच D001072

मस्तिष्क के विशिष्ट स्थलों की क्षति के एक विकार को चेष्टा-अक्षमता' कहते है, जिसमें इच्छा और शारीरिक क्षमता होने के बावजूद उद्देश्यपूर्ण [1]संचलन करने की क्षति या क्षमता नहीं रहती है. यह एक गतिजनक योजना बनाने का विकार है, जो कि उपार्जित या विकासात्मक होता है, लेकिन यह सरल आज्ञा (जिसका परीक्षण व्यक्तियों की श्रृंखला में से सही संचलन की पहचान करने से होता है) को समझने के लिए असमंजन, ग्रहणशील की हानि, या असफलता से नहीं होता है. चेष्टा-अक्षमता और वाचाघात, भाषा के उत्पादन और/या उसे समझने की असमर्थता; अबुलिया, किसी कार्रवाई को पूरा करने की इच्छा में कमी; या अलोचिरिया, जिसमें रोगियों को शरीर के एक हिस्से का बोध दूसरे में होता है; के बीच भ्रमित न हों.

शब्द चेष्टा-अक्षमता का मूल शब्द प्राक्सिस है, जिसका यूनानीअर्थ आदत, विलेख या काम करना हैं. इसके पहले एक नकारात्मक अ आता है जिसका अर्थ रहित है.

प्रकार[संपादित करें]

चेष्टा-अक्षमता के कई प्रकार हैं:

  • अनभिप्रेत गति (एक प्रेरक नियंत्रण पर अक्षमता जैसे कि, "अपने दाँत ब्रश करना या "सलाम" करना)- जिसका चिकित्सकों द्वारा अक्सर सामना किया जाता है.
    • अंग चेष्टा-अक्षमता , जिसमें पैर और हाथों का संचलन शामिल है;
    • अमौखिक-मौखिक या चेहरे संबंधी संचलन जैसे होंठ चाटना, सीटी, खाँसी, या पलक के झपकने पर नियंत्रण न रख पाना.
  • कल्‍पनात्‍मक (एक योजना बनाना या विशिष्ट संचलन के विचार की असमर्थता, जैसे कि, "अपना कलम उठाकर अपना नाम लिखना");
  • अंग-बलगतिकी (किसी अंग से ठीक और सटीक संचलन न कर पाना);
  • मौखिक (भाषण के लिए आवश्यक संचलन की योजना बनाने में कठिनाई), इसे भाषण चेष्टा-अक्षमता के रूप में भी जाना जाता है(नीचे देखें);
  • निर्मित ( सरल विन्यास का निर्माण करने कि असमर्थता ), जैसे कि अन्तर्विभाजक पंचभुज का निर्माण;
  • नेत्रगोलक संचलन कारक (आँखसंचलन में कठिनाई विशेष रूप से सैकेड संचलन).
  • गति चेष्टा-अक्षमता

प्रत्येक प्रकार की जटिलता का परीक्षण घटते स्तर पर किया जा सकता है, अगर एक व्यक्ति आदेश पर अमल में विफल रहता है, तो आप अपने आप सञ्चालन कर सकते हैं और उस व्यक्ति को नकल करने के लिए पूछ सकते हैं, या आप उन्हें एक असली वस्तु जैसे कि टूथब्रश दे सकते हैं और उन्हें इसका इस्तेमाल करने को कह सकते हैं.

चेष्टा-अक्षमता एक भाषा विकार वाचाघात के साथ हो सकता है.

वाक् चेष्टा-अक्षमता[संपादित करें]

उपार्जित वाक् चेष्टा-अक्षमता(ऐओएस )और वाक् बाल्यकाल चेष्टा-अक्षमता (सीऐएस) के लक्षण में असंगत स्‍पष्‍टोच्‍चारण संबंधी त्रुटियाँ,स्‍पष्‍टोच्‍चारण संबंधी स्थिति को तलाशने के लिए मौखिक संचलन का समूह और बढ़ती त्रुटियों के साथ बढ़ते शब्द और वाक्यांश की लंबाई शामिल है. ऐओएस अक्सर दोनों मौखिक चेष्टा-अक्षमता (भाषण और गैर भाषण संचालनों के दौरान ) और अंग चेष्टा-अक्षमता के साथ होता है.

वाक् बाल्यकाल चेष्टा-अक्षमता (सीएस) उन बच्चों में होता है जिन्हें शक्ति या स्‍पष्‍टोच्‍चारण में कोई कठिनाई नहीं है, लेकिन प्रेरक की योजना और समन्वय की समस्याओं की वजह से वाक् संचलन में असमर्थ होते हैं. यह भाषण के दौरान स्‍पष्‍टोच्‍चारण संबंधी सामान्य समन्वय बच्चों में ध्वनिकृत क्षति के साथ भ्रमित नहीं होना चाहिए.

उपार्जित भाषण की चेष्टा-अक्षमता में पहले उपार्जित अधिग्रहीत भाषण स्तरों का नुकसान शामिल है. यह दोनों बच्चों और वयस्कों में होता है, जिन्होंने (चेष्टा-अक्षमता की शुरुआत होने से पहले) बोलने की क्षमता के कुछ स्तर हासिल कर लिए होते हैं. वाक् बाल्यकाल चेष्टा-अक्षमता के विपरीत, ऐओएस आम तौर पर एक स्ट्रोक, ट्यूमर, या अन्य ज्ञात स्नायविक बीमारी या चोट का परिणाम है.

कारण[संपादित करें]

अचेतनगति मनःशक्ति क्षय लगभग हमेशा (आमतौर पर बायां )दिमाग के गोलार्द्ध में भाषा प्रबलता के घाव से होता है; और इन रोगियों को विशेषकर ब्रोका या कंडक्शन प्रकार का वाचाघातहोता है. पूर्वकाल महासंयोजिका के घाव से बाईं ओर का अचेतनगति मनःशक्ति क्षय हो सकता है.

चिंतन मनःशक्ति क्षय सामान्यतः मनोभ्रंश और उलझन के साथ होता है.

प्रमस्तिष्क फुलाव के कारण कंसट्रक्शनल चेष्टा-अक्षमता यकृत मस्तिष्कशोथ के साथ होता है.

उपचार[संपादित करें]

चेष्टा-अक्षमता से पीड़ित व्यक्तियों का उपचार भौतिक चिकित्सा, व्यावसायिक चिकित्सा और / या वाक्[कृपया उद्धरण जोड़ें]चिकित्सा है.

पूर्वानुमान[संपादित करें]

चेष्टा-अक्षमता से पीड़ित व्यक्तियों का पूर्व निदान भिन्न है. चिकित्सा के साथ, कुछ रोगियों में काफी सुधार देखा जाता है, जबकि दूसरों में बहुत थोड़ा सुधार दिखता हैं. चेष्टा-अक्षमता से पीड़ित कुछ व्यक्तियों को संचार के प्रयोग से लाभ हो सकता है.

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. apraxia at Dorland's Medical Dictionary
  • Epstein, O.; Perkin, D.; Cookson, J.; de Bono, D.P. (2003). Clinical Examination. London: Mosby. pp. 294. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7234-3229-5. http://www.fleshandbones.com/bookshop/title.cfm?ISBN=0723432295. 
  • कस्पेर, डी.एल, ब्रौन्वाल्ड, ई.; फौकी, ऐ.स.; हौसेर, स.ल., लोंगो, डीएल, जेमिसन, जे.एल. हैरिसन द्वारा आंतरिक औषधि के सिद्धांत . न्यूयॉर्क: मैकग्रौ-हिल, २००५. आईएसबीएन (इस्बं) ०-४१५-१४१२८-१

बाहरी कडियां[संपादित करें]

साँचा:Speech and voice symptoms and signs