चिलियन पर्वत शृंखला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
चिलियन पर्वत शृंखला

चिलियन पर्वत शृंखला (祁连山, चिलियन शान; Qilian Mountains) या नान शान (南山, Nan Shan) कुनलुन पर्वत शृंखला की एक उत्तरी शाखा है जो जनवादी गणराज्य चीन की वर्तमान चिंगहई और गांसू प्रान्तों के बीच की सरहद पर स्थित है। यह तिब्बत के पठार की उत्तरी सीमा भी है। यह दुनहुआंग शहर के दक्षिण से शुरू होकर ८०० किमी दक्षिण-पूर्व को चलती है जहां यह हेशी गलियारे की दक्षिणी सरहद भी बनती हैं।

भूगोल[संपादित करें]

गांसू का सबसे ऊँचा पहाड़, ५,५४७ मीटर लम्बा 'चिलियन शान', इसी शृंखला में है। इस से भी दो ऊँचें पहाड़ - ५,८०८ मीटर ऊँचा कंगज़ेग्याई (Kangze'gyai) और ५,७५९ मीटर ऊँचा चायदम शान (Qaidam Shan) चिलियन की मुख्य शृंखला से हटकर ज़रा दक्षिण में हैं। शृंखला के पश्चिमी छोर पर अलतिन ताग़ (Altyn Tagh) शृंखला आगे को निकलती है। चिलियन शृंखला का पूर्वी छोर चिंगहई झील से उत्तर में गुज़रता है और लान्झू शहर के पास दबन शान (Daban Shan) और शिंगलोंग शान (Xinglong Shan) नामक पर्वतों में ख़त्म होता है। चिलियन शान से बहुत से छोटे नदी-झरने निकलते हैं जो हेशी गलियारे के खेतों में फ़सलों के लिए अति-आवश्यक हैं।[1]

इतिहास[संपादित करें]

चीनी इतिहास-ग्रन्थ महान इतिहासकार के अभिलेख के अनुसार दुनहुआंग और चिलियन पहाड़ों का इलाक़ा ही युएझ़ी लोगों की मातृभूमि थी। माना जाता है की इन्होने ही आगे चलकर भारत के कुषाण राजवंश की स्थापना की।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. China Investment Environment & Strategies: The Key to Winning in the Greater China Market, Joe Y. Eng, iUniverse, 2005, ISBN 978-0-595-35679-9, ... more than 80 rivers, all of which originates in the Kunlun and Qilian Mountain Ranges ... Many saltwater lakes exist in this province, the largest of which is the Qinghai Lake—with an area of 1775 square miles ...
  2. Migration and Settlement of the Yuezhi-Kushan: Interaction and Interdependence of Nomadic and Sedentary Societies, Xinru Liu, Journal of World History, Vol. 12, No. 2, 2001, ... The Yuezhi peple, who early resided near the border of the agricultural part of China and later migrated on the Eurasian steppe all the way to north India, eventually becoming the rulers of the vast agricultural-trading Kushan empire ...