चालू खाता घाटा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
IMF आंकड़ों के आधार पर संचयी चालू खाता शेष 1980-2008 (US$ बिलियन)

अर्थशास्त्र में, चालू खाता भुगतान के संतुलन के प्राथमिक दो घटकों में से एक है, दूसरा है पूंजीगत खाता.


यह व्यापार शेष (माल और सेवाओं के आयात को घटाकर निर्यात), निवल घटक आय (जैसे लाभांश और ब्याज) और निवल अंतरण भुगतान (जैसे विदेशी सहायता) का कुलयोग है.



चालू खाता = व्यापार शेष + विदेश से निवल घटक आय + विदेश से एकतरफ़ा अंतरण

चालू खाता शेष देश के विदेशी व्यापार की प्रकृति के दो प्रमुख उपायों में से एक है (दूसरा है निवल पूंजीगत बहिर्गमन).


चालू खाता अधिशेष तदनुरूपी राशि द्वारा देश की कुल विदेशी मुद्रा आस्तियों में वृद्धि करता है, और चालू खाता घाटा इसके विपरीत कार्य करता है. परिकलन में सरकारी और निजी, दोनों भुगतान शामिल किए जाते हैं.

इसे चालू खाता कहा जाता है, क्योंकि वर्तमान अवधि में आम तौर पर माल और सेवाओं की खपत होती है.[1]


यदि सभी वित्तीय अंतरण, निवेश और अन्य घटकों को नज़रअंदाज़ किया जाए, तो राष्ट्र के माल और सेवाओं के निर्यात और आयात के बीच का अंतर व्यापार संतुलन है.


यदि किसी राष्ट्र का आयात उसके निर्यात से अधिक है, तो वह देश का व्यापार घाटा कहलाता है.


सामान्यतः चालू खाता अधिशेष में विदेशों में सकारात्मक निवल बिक्री का योगदान होता है; नकारात्मक शुद्ध बिक्री से आम तौर पर चालू खाता घाटा होता है.


चूंकि निर्यात से सकारात्मक शुद्ध बिक्री होती है, और व्यापार संतुलन आम तौर पर चालू खाते का सबसे बड़ा घटक है, एक चालू खाता अधिशेष को आम तौर पर सकारात्मक शुद्ध निर्यात से जोड़ा जाता है.

ऑस्ट्रेलिया जैसी खुली अर्थव्यवस्था में हमेशा ऐसा नहीं होता, जहां व्यापार घाटे की तुलना में आय घाटा अधिक रहता है[2].


निवल घटक आय या आय खाते को, जोकि चालू खाते का उप खाता है, प्रायः बहिर्गमन के तहत आय भुगतान और आगमन के तहत आय प्राप्तियों को प्रस्तुत किया जाता है.

आय से तात्पर्य विदेश में किए गए निवेशों से प्राप्त धन ही नहीं है (नोट: निवेश को पूंजीगत खाते में दर्ज किया जाता है लेकिन निवेश से प्राप्त आय को चालू खाते में दर्ज किया जाता है) बल्कि विदेश में कार्यरत व्यक्तियों द्वारा स्वदेश में अपने परिवारों को प्रेषित धन भी है, जो धन-प्रेषण कहलाता है. यदि आय खाता ऋणात्मक है, तो देश ब्याज़, लाभांश इत्यादि के रूप में प्राप्ति की तुलना में अधिक अदायगी कर रहा है. उदाहरणार्थ, जब से संयुक्त राज्य अमेरिका ने अन्य मुद्राओं के सापेक्ष डॉलर का मूल्य बाजार के द्वारा उस बिंदु तक निर्धारित करने की अनुमति दी है, जहां आय भुगतान और प्राप्तियां तकरीबन समान होती हैं, उसकी निवल आय में तीव्र गिरावट आई है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

1998 में जब से कनाडा के केंद्रीय बैंक ने कनाडा के डॉलर की विदेशी मुद्रा में हस्तक्षेप न करने की सख्त नीति शुरू की, तब से कनाडा के आय भुगतान और प्राप्तियों के बीच अंतर तेजी से घट रहा है.[3]

आय खाते की विभिन्न उपश्रेणियां पूंजी खाते के विशिष्ट संबंद्ध उपश्रेणियों से जुड़ी होती हैं क्योंकि आय में अक्सर विदेशी पूंजी के स्वामित्व (आस्तियां) या नकारात्मक पूंजी (ऋण) के घटक भुगतान शामिल होते हैं.


पूंजी खाते से, अर्थशास्त्री और केंद्रीय बैंक विभिन्न प्रकार की पूंजी पर आय की निहित दरें निर्धारित करते हैं.


उदाहरण के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका अपनी पूंजी के विदेशी स्वामित्व पर विदेशियों की तुलना में भारी दर पर आय बटोरता है.


भुगतान संतुलन के पारंपरिक लेखांकन में, चालू खाता निवल विदेशी आस्तियों में परिवर्तन के बराबर होता है.

चालू खाता घाटा का तात्पर्य है निवल विदेशी आस्तियों में समांतर कमी.



चालू खाता = निवल विदेशी आस्तियों में परिवर्तन


चालू खाता घाटा कम करना[संपादित करें]

चालू खाता घाटा कम करने के लिए आम तौर पर निर्यात (माल एक देश से बाहर जा रहा है और विदेश में प्रवेश हो रहा है) में वृद्धि या आयात (विदेश से देश में आने वाला माल) में कमी की जाती है.


यह आम तौर पर आयात प्रतिबंध, कोटा, या शुल्क (हालांकि इनसे परोक्ष रूप से निर्यात भी सीमित हो सकता है) या निर्यात पर छूट देकर हासिल किया जाता है.


विदेशी खरीदारों के लिए निर्यात को सस्ता बनाने के लिए विनिमय दर को प्रभावित करने से परोक्ष रूप से भुगतान संतुलन में वृद्धि होगी.

यह मुख्य रूप से घरेलू मुद्रा के अवमूल्यन से किया जाता है. घरेलू आपूर्तिकर्ताओं के अनुकूल सरकारी खर्च का समायोजन भी कारगर है.



चालू खाता घाटा कम करने के लिए कम स्पष्ट पर अधिक प्रभावी पद्धतियों में शामिल उपाय है राष्ट्रीय सरकार द्वारा उधार में कमी सहित, घरेलू बचत में वृद्धि (या घरेलू उधार में कमी).



पिचफ़र्ड थीसिस[संपादित करें]

ध्यान दिया जाए कि चालू खाता घाटा हमेशा एक समस्या नहीं है.

पिचफ़र्ड थीसिस के अनुसार यदि चालू खाता घाटा निजी क्षेत्र द्वारा संचालित है तो फ़र्क नहीं पड़ता.

कुछ लोगों का मानना है कि यह सिद्धांत ऑस्ट्रेलियाई अर्थव्यवस्था के लिए सही सिद्ध हुआ है, जिसका लगातार चालू खाता घाटा रहा है, किन्तु जो पिछले 18 वर्षों से (1991 -2009) आर्थिक उन्नति कर रही है.

इसका श्रेय विदेशी निवेश पर लगातार आहरण (60% ऋण प्रतिभूतियों के रूप में) को दिया जाता है जिससे महत्वपूर्ण आय घाटा उत्पन्न हुआ है.

अन्य लोगों का तर्क है कि ऑस्ट्रेलिया पर्याप्त विदेशी ऋण संचित कर रही है, जो मुसीबत बन सकती है, खास कर यदि ब्याज दरों में वृद्धि हो तो.

चालू खाते में घाटे का यह भी मतलब है कि देश निवल पूंजी का आयातकर्ता है.

विदेशी सहायता चालू खाते का एक अंश है.

भुगतान संतुलन में अंतर्संबंध[संपादित करें]

सरकारी आरक्षित निधियों में अनुपस्थित परिवर्तन, चालू खाता पूंजी और वित्तीय खातों के योग का प्रतिरूप है.

यह सवाल उठ सकता है कि: क्या चालू खाता, पूंजी और वित्तीय खातों द्वारा संचालित है या पूंजी और वित्तीय खाते, चालू खाते से संचालित हैं?

पारंपरिक प्रतिक्रिया है कि चालू खाता प्रमुख सांयोगिक घटक है, जहां पूंजी और वित्तीय खाते, अधिशेष के परिणामस्वरूप उत्पन्न निधियों की कमी या निवेश को दर्शाते हैं.


तथापि, हाल ही में कुछ पर्यवेक्षकों ने सुझाव दिया है कि कुछ मामलों में विपरीत आकस्मिक संबंध महत्वपूर्ण हो सकते हैं.

खास तौर पर, यह विवादास्पद सुझाव दिया जाता है कि संयुक्त राज्य अमेरिका का चालू खाता घाटा अंतर्राष्ट्रीय निवेशकों की अमेरिकी परिसंपत्तियों को प्राप्त करने की इच्छा से प्रेरित है (नीचे प्रस्तुत बेन बर्ननंके, विलियम पूल लिंक देखें)।

फिर भी, निस्संदेह मुख्य दृष्टिकोण यही है कि प्रेरणार्थक घटक चालू खाता है और धनात्मक वित्तीय खाता देश के चालू खाता घाटा के वित्त की जरूरत को दर्शाता है.


अमेरिकी खाता घाटा[संपादित करें]

1989 के बाद से, संयुक्त राज्य अमेरिका के चालू खाता घाटों में तेजी से वृद्धि हुई है, जो 2006 में सकल घरेलू उत्पाद के करीब 7% तक पहुंच गया.

इससे शैक्षणिक और नीति के क्षेत्रों में चिंता उत्पन्न हुई है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

तथापि, नए प्रमाणों से पता चलता है कि सकारात्मक मूल्यांकन प्रभावों के कारण अमेरिका के चालू खाते में कमी आई है.[4]

अर्थात्, विदेशी निवेशकों की घरेलू परिसंपत्तियों की तुलना में विदेशों में अमेरिकी परिसंपत्तियों का मूल्य बढ़ रहा है.


इसलिए अमेरिकी निवल विदेशी परिसंपत्तियों का चालू खाता घाटे के साथ अवमूल्यन नहीं हो रहा है.

तथापि 2008 में, दो खरब से अधिक डॉलर की अमेरिकी निवल विदेशी परिसंपत्ति के ह्रास से यह सकारात्मक मूल्यांकन प्रभाव पलट गया है.[5]

इसका मुख्य कारण विदेशी परिसंपत्तियों (अधिकांश विदेशी इक्विटी) के घरेलू स्वामित्व से लेकर घरेलू परिसंपत्तियों (अधिकांश अमेरिकी राजकोष और बांड) के घरेलू स्वामित्व का ख़राब प्रदर्शन था.


इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. इकोलॉजिकल इकनॉमिक्स: प्रिंसीपल्स एंड एप्लिकेशन्स, हरमन ई. डेली, जोशुआ फ़ार्ले; आईलैंड प्रेस, 2003
  2. "Trade deficit the key to avoiding debt trap". Sydney Morning Herald. 4 June 2005. http://www.smh.com.au/news/Ross-Gittins/Trade-deficit-the-key-to-avoiding-debt-trap/2005/06/03/1117568376791.html. अभिगमन तिथि: 24 May 2010. 
  3. Bank of Canada - Intervention in the Exchange Market
  4. Current Account Sustainability and Relative Reliability
  5. US net foreign assets

बाह्य लिंक[संपादित करें]

]


] डॉलर्स एंड सेंस पत्रिका से


[[Category:समष्टि अर्थशास्त्र ]] '