चन्द्रशेखर कम्बार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Nuvola apps ksig.png
चन्द्रशेखर कम्बार
ಚಂದ್ರಶೇಖರ ಕಂಬಾರ

चन्द्रशेखर कम्बार "आधुनिक तकनीकी दुनिया में कन्नड़" के विषय में बंगलौर में बात करते हुए
जन्म 2 जनवरी 1937 (1937-01-02) (आयु 77)
घोड़ागेरी, बेल्गौम ज़िला, कर्णाटक
उपजीविका कवि, नाटककार, प्रोफेसर
राष्ट्रीयता भारत
शिक्षण स्थान कर्णाटक विश्व विद्यालय, धारवाड़ से पी०एच०डी[1]
अवधि 1956 – वर्तमान
शैलियाँ कथा-साहित्य
प्रमुख पुरस्कार ज्ञानपीठ
साहित्य अकादमी पुरस्कार
पद्म श्री
पम्पा पुरस्कार
जीवन संगी सत्यभामा
संतान राजशेखर कम्बार, जयश्री कम्बार, गीता सतीश, चन्नम्मा कम्बार,

चंद्रशेखर कंबार (कन्नड़: ಚಂದ್ರಶೇಖರ ಕಂಬಾರ; जन्म : २ जनवरी १९३७) एक कन्नड़ भाषा के कवि, नाटककार एवं लोकसाहित्यकार हैं। उन्होंने कन्नड़ भाषा में फिल्मों का निर्देशन भी किया है और वे हम्पी में कन्नड़ विश्वविद्यालय के संस्थापक कुलपति भी रहे हैं।[3] उनके उल्लेखनीय साहित्यिक योगदान के आलोक में उन्हें 2010 के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार प्रदान करने की घोषणा की गई है।[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]