ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन (हीमोग्लोबिन ए१सी, लघु:HbA1c, A1C, या Hb1c; इसे HbA1c भी कहा जाता है) के परीक्षण से रक्त में पिछले तीन महीने की शुगर की मात्रा का पता लगाया जाता है। मधुमेह के सभी मरीजों के लिए यह परीक्षण बहुत महत्त्वपूर्ण होता है, क्योंकि इससे यह पता चलता है कि पिछले तीन महीने से जो दवाइयां मरीज ले रहा है, वे किस हद तक काम कर रही हैं। यह टेस्ट उन महिलाओं के लिए भी अच्छा है, जो गर्भधारण करना चाहती हैं, क्योंकि गर्भ धारण के वक्त खून में शुगर की मात्रा सामान्य से ज्यादा होती है तो बच्चे के सामान्य रूप से पैदा होने की संभावनाएं बहुत कम हो जाती हैं। इसकी मात्रा सभी मरीजो मे अलग अलग होती है।