गोविंद पुरुषोत्तम देशपांडे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोविंद पुरुषोत्तम देशपांडे (१९३८- १६ अक्टूबर २०१३), जिन्हें जीपी देशपांडे , गोविंद देशपांडे, गोपु और जीपीडी के नाम से भी जाना जाता था, भारतीय राज्य महाराष्ट्र के एक मराठी नाटककार थे।

उनका जन्म नासिक में हुआ। उन्होंने नई दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के "पूर्व एशियाई अध्ययन केन्द्र" (Center for East Asian Studies) में कई वर्षों तक शिक्षण का कार्य किया। सेवानिवृत्ति के बाद वो अपनी पत्नी कालिंदी, एक महिला आंदोलन कार्यकर्ता, के साथ पुणे चले गये।

प्रसिद्ध मराठी नाटककार , निबंधकार , समीक्षक और आधुनिक विचारक। चीनी अध्ययन के विशेषज्ञक ,पूर्व एशियाई अध्ययन केंद्र, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व अध्यक्ष । वर्तमान में पुणे में अपनी पत्नी सुप्रसिद् महिला आंदोलन कार्यकर्ता कालिंदी देशपांडे के साथ रहते है । जीपी देशपांडे के नाटको में समकालीन जीवन में प्रगतिशील मूल्यों के पतन पर चिंतन प्रमुख रहता है । जीपी देशपांडे अकादमिक लेखों के माध्यम से प्रगतिशील मूल्यों और रचनात्मकता पर प्रभावशाली उतेजक विचार विमर्श करते है ।

प्रकाशित कृतियाँ[संपादित करें]

नाटक

  • उध्वथा - धर्मशाला
  • चाणक्य विश्नुगुप्त - राजनीतिक आयामों के साथ एक विशुद्ध ऐतिहासिक नाटक।
  • रास्ते - सत्यदेव दुबे और अरविन्द गौड़ द्वारा मन्चन ।
  • आन्धार - यात्रा , हिन्दी मै प्रथम मन्चन- निदेशक राजिन्द नाथ ने किया , प्रमुख भूमिका उतरा बाबक‍र ने की थी
  • सत्या -शोधक ,19 वीं सदी के समाज सुधारक ज्योति बा फूले के जीवन और समय पर आधारित नाटक । प्रथम मन्चन - सुधन्वा देशपांडे के निदेशन में जनम द्वारा ।
  • अन्तिम दिवस ,प्रथम मन्चन -अरविन्द गौड़ के निदेशन में , अस्मिता नाटय सस्था द्वारा । फिल्म- चक दे इंडिया प्रसिद्ध शिल्पा शुक्ला ( बिन्दिया नाइक ) ने इसमै अभिनय किया ,2001

निबंध आलोचना

  • संस्कृति और राजनीति पर निबंध
  • Dialectics of Defeat: Problems of Culture in Post-Colonial India, Seagull, Kolkata, 2006

कविता संग्रह

  • आदि आदि कविताएं

पुरस्कार और सम्मान

  • संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार - 1996
  • महाराष्ट्र राज्य पुरस्कार 1977