गोदारा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोदारा (गोदरा एवं गुदारा भी) भारत के राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और दिल्ली में रहने वाली जाट और विश्नोई समाज की गोत्र है। इस गोत्र के कुछ लोग पश्चिमी इलाकों जैसे गुजरात और पाकिस्तान में भी बस गये। जाट जाति में गोदारा एक बहुत बड़ी गोत्र के रूप में प्रतिनिधित्व करते हैं।

उद्भव[संपादित करें]

गोदारा शब्द की व्यत्पति गोदावरी नदी के नाम से हुई मानी जाती है। कुछ धारणाओं के अनुसार मेवाड़ के राजकुमार को गोहित वंश ने गोद (दत्तक) लिया था जिन्होंने उन्हे गोदारा बनाया। वो जांगल देश के शासक थे।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. भीम सिंह दहिया. "Jats, the ancient rulers: a clan study [जाट, प्राचीन शासक: एक गोत्र अध्ययन]" (अंग्रेज़ी में). स्टर्लिंग पब्लिसर्स प्राइवेट लिमिटेड. p. 238.