गर्भस्राव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
गर्भस्राव
{{{other_name}}}
वर्गीकरण एवं बाह्य साधन
आईसीडी-१० O03.
आईसीडी- 634
मेडलाइन प्लस 001488
ईमेडिसिन topic list
एम.ईएसएच D000022

गर्भस्राव या स्वतःप्रवर्तित गर्भपात , वह समय है जब भ्रूण या गर्भस्थ शिशु जीवित रहने में असमर्थ होता है और गर्भावस्था का स्वाभाविक अंत हो जाता है. आमतौर पर, गर्भावस्था के 24 हफ्तों के पहले मानव शरीर में ऐसा होने का वर्णन है. गर्भावस्था के प्रारंभिक दिनों में गर्भस्राव का होना आम समस्या है.[1]

शब्दावली[संपादित करें]

प्रारंभिक गर्भस्राव, जो एलएमपी(LMP) (औरत के आखिरी मासिक धर्म) के छठे सप्ताह से पहले होता है, उसे चिकित्सकीय भाषा में गर्भावस्था के प्रारंभिक दौर में नुकसान [2] या रासायनिक गर्भावस्था [3] कहा जाता है. अंतिम मासिक धर्म एलएमपी (LMP) के छठे सप्ताह के बाद होने वाले एलएमपी (LMP) को चिकित्सकीय भाषा में नैदानिक स्वतःप्रवर्तित गर्भपात कहा जाता है.[2]

चिकित्सा संदर्भों में, "गर्भपात" शब्द का अर्थ ऐसी किसी भी प्रक्रिया, जिससे गर्भपात या उसे हटाना या उसके निष्कासन से है जिससे गर्भावस्था का अंत हो जाता है, चाहे वह स्वाभाविक ढंग से हुआ हो या जानबूझ कर किया गया हो. कई महिलाएं जिनका गर्भस्राव हो चुका होता है, वे अपने अनुभव की वजह से "गर्भपात" शब्द पर आपत्ति करती हैं क्योंकि आमतौर पर इसका संबंध प्रेरित गर्भपात के साथ जुड़ा हुआ है. हाल के वर्षों में चिकित्सा समुदाय में इस शब्द से परहेज करने और अस्पष्ट शब्द "गर्भस्राव" के प्रयोग करने के पक्ष में चर्चा हुई है.[4]

गर्भावस्था के 37 सप्ताह से पहले प्रसव पीड़ा के परिणामस्वरुप हुए जीवित बच्चे को "समय पूर्व प्रसव" कहते हैं, भले ही जन्म के कुछ देर बाद ही शिशु की मृत्यु हो जाय. व्यावहारिकता की सीमा जिस पर 50% भ्रूण/ शिशु लंबे समय तक जीवित रहते हैं वह 24 सप्ताह के आसपास है, जबकि 26 सप्ताह में मध्यम या प्रमुख स्नायविक विकलांगता 50% तक कम हो जाती है.[5] हालांकि, 21 हफ्तों और 5 दिन[6] से कम समय के गर्भावस्था में जन्मे शिशु के लंबे समय तक जीवित रहने की सूचना नहीं मिली है, जबकि 16 हफ्ते से पहले जन्मे शिशुओं के कई बार जन्म के कुछ समय बाद कुछ मिनट तक जीवित रहने की सूचना है.[7]

गर्भावस्था के दौरान 20-24 सप्ताह के बाद जब एक भ्रूण गर्भाशय में मर जाता है तब उसे "स्टीलबर्थ" कहा जाता है; कम समय की गर्भावस्था पर सटीक परिभाषा हर देश में भिन्न होती है. समयपूर्व प्रसव या स्टीलबर्थ्स को आमतौर पर गर्भपात के रूप में विचार नहीं किया जाता है, हालांकि इन शब्दों और इन घटनाओं के कारणों का उपयोग एक ही समय हो सकता है.

भ्रूण के गर्भस्राव को अंतर्गर्भाशयी भ्रूण की मौत आईयूएफटी (IUFT) भी कहा जाता है.

वर्गीकरण[संपादित करें]

संभावित गर्भपात पर नैदानिक प्रस्तुति ने व्यावहारिकता से पहले गर्भावस्था के दौरान किसी भी तरह के खून के बहाव को वर्णित किया है, जिसका मूल्यांकन करना अभी भी बाकी है. जांच में यह पाया गया है कि भ्रूण जीवनक्षम रहता है और गर्भावस्था बिना किसी परेशानी के आगे जारी रहती है. यह सुझाव दिया गया है कि अल्ट्रासाउंड स्कैन में एक छोटा सा सबक्रोनिक हेमाटोमा मिलने पर बिस्तर पर आराम करने से गर्भावस्था के जारी रहने की संभावना बढ़ जाती है.[8]

वैकल्पिक रूप से गर्भावस्था के नहीं ठहरने पर उन्हें वर्णित करने के लिए निम्नलिखित पदों का प्रयोग किया जाता है:

  • एक खाली थैली ऐसी स्थिति है जहां गर्भावस्था की थैली सामान्य रूप से विकसित होती है, जबकि गर्भावस्था का भ्रूणीय हिस्सा या तो अनुपस्थित रहता है या बहुत जल्दी विकसित होना छोड़ देता है. ऐसी हालत के लिए अन्य शब्द हैं निष्फल डिम्ब और गैरभ्रूणीय गर्भावस्था .
  • अपरिहार्य गर्भपात का प्रयोग वहां किया जाता है जहां पहले से ही गर्भाशय की ग्रीवा खुली [9] और फैली होती है, लेकिन भ्रूण का निष्कासित होना अभी तक बाकी है. आमतौर पर इससे पूर्ण गर्भपात हो जाता है. भ्रूण की धड़कन को रुका हुआ दिखाया गया हो सकता है लेकिन यह इस मापदंड का हिस्सा नहीं है.
  • पूर्ण गर्भपात तब होता है जब गर्भाधान के सभी उत्पादों को निष्कासित कर दिया जाता है. गर्भाधान के उत्पादों में ट्रोफोब्लास्ट, कोरियोनिक विल्ली, भ्रूणीय थैली, जर्दी की थैली और भ्रूण जैसा ध्रुव (भ्रूणीय); या गर्भावस्था में बाद में भ्रूण, नाल की रस्सी, उल्बीय रस और उल्बीय झिल्ली भी शामिल हो सकते हैं.
  • अपूर्ण गर्भपात तब होता है जब ऊतक पारित हो जाता है लेकिन यूटेरो में कुछ रह जाता है.[10]
  • अलक्षित गर्भपात वह स्थिति है जब भ्रूण या शिशु मर गया है लेकिन अभी तक गर्भपात नहीं हुआ हो. इसे अलक्षित गर्भपात भी कहा जाता है.

निम्नलिखित दो शब्द व्यापक जटिलताओं या गर्भस्राव के प्रभाव पर विचार करते हैं:

  • सेप्टिक गर्भपात तब होता है जब अलक्षित या अपूर्ण गर्भपात का ऊतक संक्रमित हो जाता है. गर्भ का संक्रमण सैप्टिसीमिया फैलाने का जोखिम वहन करता है और स्त्री के जीवन के लिए गहरा जोखिम होता है.
  • लगातार तीन गर्भस्राव होने की घटना आवर्ती गर्भावस्था हानि आरपीएल (RPL) या आवर्ती गर्भस्राव (चिकित्सकीय भाषा में बार-बार होने वाला गर्भपात कहलाता है) है. अगर गर्भस्राव में तब्दील हो रहे गर्भधारण का अनुपात 15% है,[11] तब लगातार दो बार गर्भस्राव होने की संभावना 2.25% होती है और लगातार तीन गर्भस्राव होने की संभावना 0.34% है. आवर्ती गर्भावस्था हानि की घटना की 1% संभावना है.[11] महिलाओं की एक बहुत बड़ी तादाद (85%) जिनका दो बार गर्भस्राव हो चुका है, वे गर्भधारण कर सकती हैं और उसके बाद सामान्य रूप से जिंदगी जी सकती हैं.

गर्भस्राव के शारीरिक लक्षण गर्भावस्था के समय के हिसाब से बदलते हैं:[12]

  • छह सप्ताह की अवधि तक संभवतः हल्की ऐंठन या मासिक दर्द के साथ खून के सिर्फ छोटे थक्के निकल सकते हैं.
  • 6 से 13 हफ्तों में भ्रूण या शिशु के चारों ओर एक थक्का बन जायेगा और प्लेसेंटा कई थक्कों के साथ 5 सेमी के आकार में पूर्ण गर्भस्राव होने से पहले निकल जायेगा. यह प्रक्रिया कुछ घंटे ले सकती है या कुछ दिनों तक बीच-बीच में हो भी सकती है और बंद भी हो सकती है. लक्षण व्यापक रूप से भिन्न होते हैं और संभवतः शारीरिक परेशानी की वजह से उल्टियां हो सकती हैं और जी मचल सकता है.
  • 13 हफ्तों में भ्रूण गर्भ से आसानी से पारित किया जा सकता है लेकिन नाड़ पूर्ण या आंशिक रूप से गर्भाशय में रह जाता है जिसके परिणामस्वरूप अपूर्ण गर्भपात होने का खतरा रहता है. प्रारंभिक गर्भस्राव की तरह रक्तस्राव, ऐंठन और दर्द के शारीरिक लक्षण हो सकते हैं लेकिन कभी-कभी प्रसव-पीड़ा की तरह अधिक गंभीर दर्द भी हो सकता है.

संकेत और लक्षण[संपादित करें]

गर्भस्राव का सबसे आम लक्षण है खून बहना;[13] गर्भावस्था के दौरान बहते खून को संभावित गर्भपात कहा जा सकता है. गर्भावस्था के दौरान जो महिलाएं खून बहने पर नैदानिक उपचार कराती हैं उनमें से आधे का गर्भस्राव हो जायेगा.[14] रक्तस्राव के अलावा दूसरे लक्षण सांख्यिकीय तौर पर गर्भस्राव के लक्षण नहीं हैं.[13]

अल्ट्रासाउंड परीक्षा के दौरान या ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन एचसीजी (HCG) के परीक्षण के माध्यम से भी गर्भस्राव का पता लगाया जा सकता है. एआरटी( ART) तरीकों से गर्भवती हुई महिलाओं और जिनका गर्भस्राव हो चुका हो ऐसी महिलाओं की एक साथ निगरानी करके उनके गर्भस्राव के बारे में जल्दी पता लगाया जा सकता है, जबकि जिनकी निगरानी नहीं की जा रही हो उनके बारे में पता लगाना मुश्किल हो सकता है.

अव्यवहार्य गर्भावस्था, जिन्हें स्वाभाविक रूप से निष्कासित नहीं किया गया है के प्रबंधन के लिए कई चिकित्सा विकल्प मौजूद हैं.

मनोवैज्ञानिक[संपादित करें]

हालांकि इसके बाद महिला शारीरिक रूप से जल्दी ठीक हो जाती है लेकिन आमतौर पर अभिभावकों को मनोवैज्ञानिक तौर पर इससे उबरने में काफी लंबा समय लग सकता है. इस मामले में लोगों में बहुत भिन्नता पायी जाती है: कुछ लोग कुछ ही महीने में इससे उबरने में सक्षम हो जाते हैं लेकिन दूसरों को एक साल से अधिक का समय भी लग जाता है. कुछ लोगों को राहत मिल सकती है तो कुछ अन्य नकारात्मक भावनाएं महसूस कर सकते हैं. गर्भस्राव झेल चुकी महिलाओं पर आधारित प्रश्नावली (GHQ-12 जनरल हेल्थ क्वेश्चनेर) के अध्ययन से पता लगा है कि गर्भस्राव के बाद तकरीबन आधी (55%) महिलाएं तुरंत, 25% 3 महीने तक, 18% 6 महीनों तक, और 11% 1 वर्ष तक मनोवैज्ञानिक संकट से गुजरती हैं.[15]

गर्भपतित बच्चों के लिए एक कब्रिस्तान

जो लोग शोक के दौर से गुजरते हैं, उन्हें लगता है जैसे उनके बच्चे ने जन्म लिया था लेकिन उसकी मौत हो गयी. गर्भ में वह भ्रूण भले ही कम समय के लिए ठहरा हो लेकिन इस बात से उनका दर्द कम नहीं हो पाता है. गर्भावस्था का पता लगने के बाद से अभिभावक भ्रूण या गर्भस्थ शिशु के साथ जुड़ना शुरू कर देते हैं. जब गर्भावस्था की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाती है तब सारे सपने, कल्पनाएं और भविष्य की योजनाएं बुरी तरह से प्रभावित हो जाती हैं.

इस नुकसान के बाद दूसरों का भावनात्मक समर्थन बहुत महत्वपूर्ण होता है. जिन लोगों ने गर्भस्राव का अनुभव नहीं किया है, उन लोगों के लिए यह समझना बेहद मुश्किल है कि ऐसे दौर में इंसान क्या महसूस करता है और उन पर क्या गुजरती है, और सहानुभूति प्रकट करना बहुत मुश्किल होता है. यह अभिभावक के उबरने की अवास्तविक उम्मीदों को जन्म दे सकता है. किसी भी बातचीत में वे शायद ही अब गर्भावस्था और गर्भस्राव का उल्लेख करते हैं क्योंकि यह मुद्दा बहुत दर्दनाक होता है. इसकी वजह से महिला खुद को विशेष रूप से कटा हुआ महसूस कर सकती है. चिकित्सकों द्वारा अनुपयुक्त या असंवेदनशील प्रतिक्रियाओं की वजह से उनका दुख और आघात और बढ़ सकता है, इस वजह से अधिकतर मामलों में एक मानक कोड इस्तेमाल करने की प्रक्रिया शुरू की गयी है.[16]

ऐसे अभिभावकों के लिए जिन्होंने गर्भस्राव का अनुभव किया हो, उनके लिए गर्भवती महिलाओं और नवजात बच्चों से मिलना अक्सर दर्दनाक साबित होता है. कभी-कभी दोस्तों, परिचितों और परिवार के साथ भेंट-मुलाकात में इसकी वजह से काफी मुश्किलें पैदा होती हैं.[17]

कारण[संपादित करें]

गर्भस्राव कई कारणों से हो सकता है, जिनमें से सभी को पहचाना नहीं जा सकता है. इन कारणों में आनुवंशिक, गर्भाशय या हार्मोनल असामान्यताएं, प्रजनन पथ के संक्रमण और ऊतक अस्वीकृति शामिल हैं.

प्रथम तिमाही[संपादित करें]

गर्भाधान से छह सप्ताह तक एक सम्पूर्ण स्वतःप्रवर्तित गर्भपात, यानी अंतिम मासिक धर्म (LMP) से आठ सप्ताह

नैदानिक तौर पर सबसे स्पष्ट गर्भस्राव (विभिन्न अध्ययनों में दो तिहाई से तीन तिमाहियों के बीच) पहली तिमाही के दौरान होते हैं.[18][19]

पहले 13 सप्ताह में हुए गर्भस्राव में आधे से ज्यादा भ्रूणों में गुणसूत्र असामान्यताएं पायी जाती हैं. आनुवंशिक समस्या वाली गर्भावस्था में गर्भस्राव होने की 95% आशंका होती है. अधिकतर गुणसूत्र समस्याएं संयोग से होती हैं. इनका माता पिता के साथ कोई लेना-देना नहीं होता है और पुनरावृत्ति की संभावना भी नहीं होती. हालांकि, अभिभावक के जीन की वजह से गुणसूत्र समस्याओं के होने की संभावना रहती है. यह गर्भस्राव की पुनरावृत्ति होने की प्रमुख वजह हो सकती है या फिर अगर अभिभावक में से किसी एक का बच्चा या अन्य रिश्तेदार को जन्म-दोष हो.[20] आनुवांशिक समस्याएं अधिकतर उम्रदराज अभिभावकों को होती हैं, उम्रदराज महिलाओं में गर्भस्राव की दर अधिक होने का यह प्रमुख कारण हो सकता है.[21]

गर्भस्राव जल्दी होने का एक अन्य कारण प्रोजेस्टरोन की कमी हो सकता है. गर्भावस्था के प्रथम तिमाही में मासिक धर्म के अपने दूसरे चक्र में प्रोजेस्टरोन स्तर (लुटियल चरण) कम होने पर महिलाओं को प्रोजेस्टरोन पूरक दी जा सकती है.[20] हालांकि, किसी अध्ययन से यह पता नहीं चला है कि पहली तिमाही में प्रोजेस्टरोन पूरकों से गर्भस्राव का जोखिम कम हो जाता है,[22] यहां तक कि लुटियल चरण की समस्याओं की पहचान कर गर्भस्राव में उनके योगदान पर सवाल उठाया गया है.[23]

दूसरी तिमाही[संपादित करें]

दूसरी तिमाही में 15% गर्भपात शायद गर्भाशय विकृति, गर्भाशय में विकास (फाइब्रॉएड) या ग्रीवा संबंधी समस्याओं की वजह से हो सकता है.[20] इन वजहों से भी समय से पहने जन्मा बच्चा हो सकता है.[18]

एक अध्ययन में पाया गया कि दूसरी तिमाही में नाल की रस्सी की समस्याओं के कारण 19% नुकसान हुए. नाल से जुड़ी समस्याओं से बाद में अधिकाधिक संख्या में गर्भस्राव हो सकते हैं.[24]

जोखिम के सामान्य कारक[संपादित करें]

एक से अधिक भ्रूण से जुड़ी समस्याओं की वजह से बाद में गर्भस्राव का खतरा बढ़ जाता है.[20]

अनियंत्रित मधुमेह बहुत हद तक गर्भस्राव का खतरा बढ़ा देता है. जिन महिलाओं का मधुमेह नियंत्रित है उन्हें गर्भस्राव होने का अधिक खतरा नहीं होता है. इस रोग के लक्षण के लिए प्रसवपूर्व निगरानी रखना ही महत्वपूर्ण होगा क्योंकि गर्भावस्था(गर्भस्थ मधुमेह) में मधुमेह विकसित होने का खतरा रहेगा.

गर्भस्राव के लिए पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम जोखिम का एक बहुत बड़ा कारक है, पीसीओ के साथ गर्भधारण करने वाली 30-50% महिलाओं में पहली तिमाही में गर्भस्राव हो जाता है. दो अध्ययनों से पता लगा है कि पीसीओ के साथ गर्भधारण करने वाली महिलाओं का इलाज मेटफॉर्मिन से करने पर गर्भस्राव होने की दर काफी कम हो जाती है (मेटफोर्मिन दवा से इलाज करने वाले समूह ने नियंत्रित समूह की एक तिहाई में गर्भस्राव का अनुभव किया).[25] हालांकि, गर्भावस्था में मेटफॉर्मिन इलाज पर करायी गयी 2006 की समीक्षा ने सुरक्षा के अपर्याप्त सबूत मुहैया कराये और इसीलिए इस दवा से नियमित इलाज कराने की सिफारिश नहीं की.[26]

कभी-कभी विकसित हो रहे गर्भस्थ शिशु को अनुचित प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के कारण गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्त चाप होता है, जो प्रीक्लेम्पसिया के नाम से जाना जाता है और गर्भस्राव के जोखिम के साथ जुड़ा हुआ है. इसी तरह, पुनरावर्ती गर्भस्राव का इतिहास रखने वाली महिलाओं में प्रीक्लेम्पसिया होने का खतरा रहता है.[27]

हाइपोथायरोडिज्म के गंभीर मामले गर्भस्राव के खतरे बढ़ाते हैं. गर्भस्राव पर {0}हाइपोथायरोडिज्म{/0} के हल्के मामलों के दर के प्रभाव स्थापित नहीं हो पाये हैं. प्रतिरक्षा की कुछ स्थितियों का होना जैसे कि ऑटोइम्यून रोग का होना गर्भस्राव होने के खतरे को बढ़ा देता है.[20]

कुछ बीमारियां (जैसे कि रूबेला, चामडिया और अन्य) गर्भस्राव के खतरे को बढाती हैं.[20]

तंबाकू (सिगरेट) पीने वालों में गर्भस्राव का खतरा अधिक होता है.[28] गर्भस्राव की तादाद बढ़ने की एक वजह पिता के धूम्रपान से भी जुडी हो सकती है.[2] पति पर किये गये अध्ययन ने पाया कि हर दिन 20 से कम सिगरेट पीने वाले पतियों में 4% का खतरा है जबकि हर दिन 20 से ज्यादा सिगरेट पीने वाले पतियों में 81% जोखिम बढ़ जाता है.

कोकीन का सेवन गर्भस्राव की दरों को बढ़ाता है.[28] शारीरिक आघात, पर्यावरण के विषैले तत्वों के प्रभाव और गर्भधारण के समय आईयूडी का उपयोग करने को भी गर्भस्राव का जोखिम बढ़ाने से जोड़ा गया है.[29]

पैरोक्सेटाइन और वेनलाफैक्साइन जैसे विशेष एंटीडिप्रेसन्ट स्वतःप्रवर्तित गर्भपात की वजह बन सकते हैं.[30][31]

चित्र:Age-and-miscarriage.png
20 की उम्र के बाद गर्भपात दरों में वृद्धि

मां की उम्र प्रमुख जोखिम कारक है. 20 की उम्र के बाद गर्भस्राव की दर बेतहाशा बढ़ती ही जाती है.[32][33]

संदिग्ध जोखिम कारक[संपादित करें]

कई कारकों को गर्भस्राव की उच्च दर के साथ संबद्ध किया गया है, लेकिन यह बहस का विषय है कि क्या वे गर्भस्राव के कारण हैं. कोई साधारण कारण तंत्र ज्ञात नहीं है, संबंध दिखाने वाले अध्ययन से संभावनावों के बदले (गर्भस्राव हो जाने के बाद जाँच आरम्भ कर, जो पूर्वाग्रह ग्रस्त हो सकता है) पूर्वव्यापी (अध्ययन की शुरुआत महिलाओं के गर्भवती होने से पहले से आरम्भ कर) या दोनों हो सकते हैं.

मतली और उल्टी गर्भावस्था के (एनवीपी NVP, या सुबह की कमजोरी) गर्भस्राव के जोखिम के साथ कम जुड़े रहे हैं. इस रिश्ते के लिए कई तंत्र प्रस्तावित किये गुए हैं, लेकिन किसी पर भी व्यापक रूप से सहमति नहीं हैं.[34] क्योंकि एनवीपी (NVP) गर्भावस्था के दौरान एक महिला के भोजन के सेवन की मात्र और अन्य गतिविधियों को बदल सकता है, गर्भस्राव के संभावित कारणों की जांच के समय यह एक भ्रम उत्पन्न करने वाला कारक हो सकता है.

व्यायाम भी एक ऐसा ही पहलू है. 92,000 से अधिक गर्भवती महिलाओं पर किये गए एक अध्ययन में पाया गया कि अधिकतर व्यायाम (तैराकी के अपवाद सहित)18 सप्ताह से पहले के गर्भस्राव के लिए एक उच्च जोखिम के रूप में सम्बंधित हैं. व्यायाम पर अधिक समय खर्च करना गर्भस्राव के लिए एक बड़े खतरे के तौर पर जुड़ा है, प्रति सप्ताह 1.5 घंटे व्यायाम के साथ खतरा लगभग 10% बढ़ गया था और प्रति सप्ताह 7 घंटे व्यायाम के साथ खतरा 200% बाधा हुआ देखा गया. उच्च प्रभाव वाले व्यायाम बढे हुए जोखिम के साथ विशेष रूप से जुड़े थे. 18 सप्ताह के गर्भ के बाद व्यायाम और गर्भस्राव दरों के बीच कोई सम्बन्ध नहीं पाया गया था. अधिकतर गर्भस्राव महिलाओं को अध्ययन के लिए नियुक्त करने के पहले ही हो चुके थे और गर्भावस्था के दौरान मतली या गर्भावस्था के पहले की व्यायाम की आदतों के बारे में कोई जानकारी एकत्र नहीं की गयी थी.[35]

कैफीन के सेवन की दर को, कम से कम अधिक मात्रा में सेवन को भी गर्भस्राव की दर से जोड़ा गया है. 2007 में 1000 से अधिक गर्भवती महिलाओं पर किये गए एक अध्ययन में पाया गया कि प्रति दिन 200 मिलीग्राम कैफीन का सेवन करने वाली महिलाओं में गर्भस्राव की दर 25% की रिपोर्ट की गयी है, जबकि प्रतिदिन कैफीन का सेवन न करने वाली महिलाओं में गर्भस्राव की दर 13% पाई गयी. 10 ऑउंस (300 मिलीलीटर) कॉफी या 25 ऑउंस चाय (740 मिलीलीटर) में 200 मिलीग्राम कैफीन मौजूद होता है. यह गर्भावस्था से जुडी मिचली और उल्टी के लिए (एनवीपी NVP या सुबह की कमजोरी) नियंत्रित अध्ययन में देखा गया था: एनवीपी (NVP) ने महिलाओं को कैसे प्रभावित किया, इसका ध्यान रखे बगैर भारी मात्रा में कैफीन का सेवन करने वाली महिलाओं में गर्भस्राव की दर अधिक पाई गयी. अध्ययन के लिए महिलाओं की नियुक्ति की जाने के पहले ही आधे से अधिक गर्भस्राव हो चुके थे.[36] 2007 में लगभग 2,400 गर्भवती महिलाओं पर किये गए एक अध्ययन में पाया गया कि प्रतिदिन 200 मिलीग्राम तक कैफीन का सेवन गर्भस्राव की दर में वृद्धि के साथ नहीं जुड़ा था (अध्ययन में गर्भावस्था के आरंभिक दिनों में प्रतिदिन 200 मिलीग्राम से अधिक पीनेवाली महिलाओं को शामिल नहीं किया गया है).[37] 2009 में एक संभावित सह-अध्ययन ने कोई वर्द्धित खतरा नहीं दिखाया है.[38]

निदान[संपादित करें]

एक गर्भस्राव की पुष्टि अल्ट्रासाउंड के द्वारा और पारित ऊतकों की परीक्षा के माध्यम से की जा सकती है. गर्भस्राव के लिए सकल या माइक्रोस्कोपिक पैथोलाजीक लक्षणों की तलाश के लिए गर्भाधान के उत्पादों को देखा जाता है. अणुविक्षणीय रूप से इनमें विली ट्रोफोब्लास्ट भ्रूण के भाग और एन्डोमीट्रीअम में गर्भावस्था में पृष्ठभूमि में होनेवाले परिवर्तन शामिल हैं. असामान्य गुणसूत्र व्यवस्था को देखने के लिए आनुवंशिक परीक्षण भी किये जा सकते हैं.

उपचार/प्रबंधन[संपादित करें]

प्रारंभिक गर्भावस्था के दौरान रक्त क्षय गर्भस्राव और अस्थानिक गर्भावस्था दोनों में सबसे आम लक्षण है. दर्द गर्भस्राव के साथ दृढ़ता से सम्वद्ध नहीं है लेकिन अस्थानिक गर्भावस्था के लक्षणों में यह एक आम बात है.[13] चिन्ताकारक रक्त क्षय, दर्द या दोनों की स्थिति में ट्रांसवेजिनल अल्ट्रासाउंड किया जाता है. यदि अल्ट्रासाउंड में जीवनक्षम अंतर्गर्भाशयी गर्भावस्था नहीं पाई जाती है तो अस्थानिक गर्भावस्था, जो कि एक जीवन-घातक स्थिति है, की संभावना का पता करने के लिए सीरियल βएचसीजी (HCG) परीक्षण किये जाते हैं.[39][40]

यदि खून कम बह रहा है तो चिकित्सक के पास जाने की सिफारिश की जाती है. यदि भारी रक्त स्राव हो रहा हो, काफी दर्द हो, या बुखार हो तो आपातकालीन चिकित्सा सहायता की मांग करने के लिए सिफारिश की जाती है.

संपूर्ण गर्भपात के निदान के लिए (जब तक अस्थानिक गर्भावस्था कि सम्भावना नहीं व्यक्त की गयी हो) कोई इलाज आवश्यक नहीं है. अधूरे गर्भपात, खाली थैली या गर्भपात चूक के मामलों में उपचार के तीन विकल्प हैं:

  • इनमें से अधिकांश मामले बिना किसी उपचार के (चौकसी से इंतजार) दो से छह हफ्तों के भीतर 65-80%) स्वाभाविक रूप से समाप्त हो जाते हैं.[41] यह तरीका सर्जरी और दवाओं से होने वाले दुष्प्रभाव और जटिलताओं से बचाता है.[42]
  • चिकित्सकीय प्रबंधन आमतौर पर गर्भस्राव को पूरा करने के लिए प्रोत्साहन हेतु मिसोप्रोस्टोल (एक प्रोस्टाग्लैंडीन, ब्रांड नाम साइटोटेक) के उपयोग द्वारा किया जाता है. मिसोप्रोस्टोल से उपचार किये जाने वाले मामलों में लगभग 95% कुछ दिनों के भीतर पूरे हो जाते हैं.[41]
  • सर्जिकल उपचार (आमतौर पर वैक्यूम एस्पिरेशन जिसे कभी-कभी डी एंड सी (D&C) या डी और ई (D&E)) कहा जाता है) गर्भस्राव को पूरा करने के लिए सबसे तेज रास्ता है. यह रक्त-स्राव की अवधि और भारीपन को भी कम करता है तथा गर्भस्राव के साथ जुड़े शारीरिक दर्द के लिए सबसे अच्छा उपचार है.[41] बार-बार के गर्भस्राव या दीर्घकालिक गर्भ हानि के मामलों में विकृति परिक्षण हेतु ऊतक के नमूने प्राप्त करने के लिए भी डी एंड सी (D&C) सबसे अच्छा तरीका है. तथापि, डी एंड सी (D&C) में गर्भाशय ग्रीवा और गर्भाशय में चोट, गर्भाशय में छेदऔर अंतर्गर्भाशयी लाइन में संभावित क्षति सहित जटिलताओं का भारी जोखिम है. उन महिलाओं के लिए जो भविष्य में बच्चे पैदा करना और अपने गर्भाशय को क्षति से बचाना चाहती हैं, यह एक महत्वपूर्ण विषय है.

महामारी विज्ञान(एपिडेमियोलॉजी)[संपादित करें]

गर्भस्राव की व्यापकता का निर्धारण कठिन है. कई गर्भस्राव गर्भावस्था के प्रारंभिक चरण में, इसके पहले की एक औरत को पता चले की वह गर्भवती है, हो जाते हैं. गर्भस्राव होने वाली महिलाओं का घर पर उपचार करने का अर्थ अधिकांश मामलों में गर्भस्राव पर चिकित्सा आंकड़ों का छूट जाना है.[14] बहुत ही संवेदनशील प्रारंभिक गर्भावस्था परीक्षण का उपयोग करनेवाले संभावित अध्ययनॉ ने पाया है कि 25% गर्भ 0} एलएमपी (LMP) छठे सप्ताह तक (महिला के अंतिम मासिक धर्म होने) का गर्भस्राव हो जाता है.[43][44] 8% गर्भधारण में नैदानिक गर्भस्राव (एलएमपी (LMP) के छठे सप्ताह के बाद होने वाले) हो जाता है.[44]

एलएमपी (LMP) के 10 सप्ताह बाद अर्थात् जब भ्रूण चरण शुरू होता है तो एलएमपी का जोखिम तेजी से कम हो जाता है.[45] एलएमपी (LMP) के 8.5 सप्ताह और जन्म के बीच गर्भस्राव की दर दो प्रतिशत है; नुकसान "वस्तुतः भ्रूण अवधि के अंत तक पूरा" होता है.[46]

माता पिता की उम्र के साथ गर्भस्राव की व्याप्ति काफी बढ़ जाती है. एक अध्ययन में पाया गया कि 25 वर्ष से कम के पुरुषों से गर्भधारण में गर्भस्राव की संभावना 25-29 साल के पुरुषों से गर्भधारण की तुलना में 40% कम रहती है. इसी अध्ययन में पाया गया कि 40 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों से गर्भधारण में गर्भस्राव की संभावना 25-29 वर्ष के आयु वर्ग के पुरुषों की अपेक्षा 60% अधिक रहती है.[47] एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि अधिक आयु के पुरुषों से गर्भधारण में गर्भपात का वर्द्धित जोखिम मुख्य रूप से गर्भ की पहली तिमाही में देखा गया है.[48] जबकि एक अन्य अध्ययन में पता चला है कि 45 तक की उम्र की महिलाओं में अधिक खतरा होता है, लगभग 800% (इस अध्ययन में 20-24 की आयु वर्ग कि तुलना में) 75% गर्भधारण गर्भस्राव में समाप्त हो जाता है.[49]

अन्य जानवरों में[संपादित करें]

गर्भ धारण करने वाले सभी जानवरों में गर्भस्राव होता है. गैर-मानव पशुओं में गर्भस्राव के विभिन्न प्रकार के ज्ञात जोखिम कारक हैं. उदाहरण के लिए, भेड़ों में, यह भीड़ भरे दरवाजे में घुसने या कुत्तों द्वारा पीछा किये जाने के कारण हो सकता है.[50] गायों में गर्भस्राव (यानी स्वतःप्रवर्तित गर्भपात ब्रुसेल्लोसिस या कैम्प्य्लोबक्टेर जैसे संक्रामक रोगों के कारण हो सकता है लेकिन अक्सर टीकाकरण द्वारा इसे नियंत्रित किया जा सकता है.[51] अन्य बीमारियों को भी जानवरों को गर्भस्राव के लिए लक्षित करने हेतु जाना जाता है. गर्भवतीमैदानी चूहों की प्रजाति में स्वतःप्रवर्तित गर्भपात तब होता है जब उनके साथी को हटा लिया जाता है और वे एक नए नर साथी कि संपर्क में आते हैं[52] जो ब्रूस प्रभाव का एक उदाहरण है, हालांकि यह प्रभाव प्रयोगशाला की तुलना में जंगली आबादी में कम देखा गया है.[53] मादा चूहों में स्वतःप्रवर्तित गर्भपात होने ने गर्भपात से पहले अपरिचित नरों के साथ समय बिताने में तेजी से वृद्धि देखी गयी है.[54]

आईसीडी ICD10 कोड[संपादित करें]

चौड़ाई = 20%
  • बार बार होनेवाला गर्भपात
  • अपूर्ण गर्भपात
  • अलक्षित गर्भपात
  • संभावित गर्भपात
80 चौड़ाई =% N96
O03.0-O06.4
O02.1
O20.0

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • प्रसव
  • स्टिलबर्थ
  • समय से पहले जन्म

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Petrozza, John C (August 29, 2006). "Early Pregnancy Loss". eMedicine. WebMD. http://www.emedicine.com/med/topic3241.htm. अभिगमन तिथि: 20 July 2007. 
    "Early Pregnancy Loss (Miscarriage)". Pregnancy-bliss.co.uk. The Daily Telegraph. 2007. http://www.pregnancy-bliss.co.uk/miscarriage.html. अभिगमन तिथि: 20 July 2007. 
  2. Venners S, Wang X, Chen C, Wang L, Chen D, Guang W, Huang A, Ryan L, O'Connor J, Lasley B, Overstreet J, Wilcox A, Xu X (2004). "Paternal smoking and pregnancy loss: a prospective study using a biomarker of pregnancy.". Am J Epidemiol 159 (10): 993–1001. doi:10.1093/aje/kwh128. PMID 15128612. http://aje.oxfordjournals.org/cgi/content/full/159/10/993. 
  3. "What is a chemical pregnancy?". Baby Hopes. http://www.babyhopes.com/articles/chemical-pregnancy.html. अभिगमन तिथि: 27 April 2007. 
  4. Hutchon D, Cooper S (1998). "Terminology for early pregnancy loss must be changed". BMJ 317 (7165): 1081. PMC 1114078. PMID 9774309. 
    Hutchon D (1998). "Understanding miscarriage or insensitive abortion: time for more defined terminology?". Am. J. Obstet. Gynecol. 179 (2): 397–8. doi:10.1016/S0002-9378(98)70370-9. PMID 9731844. 
  5. [14]^Kaempf JW, Tomlinson M, Arduza C, et al. (2006). "Medical staff guidelines for periviability pregnancy counseling and medical treatment of extremely premature infants". Pediatrics 117 (1): 22–9. doi:10.1542/peds.2004-2547. PMID 16396856. http://pediatrics.aappublications.org/cgi/content/full/117/1/22.  विशेष रूप से देखें -TABLE 1 Survival and Neurologic Disability Rates Among Extremely Premature Infants
  6. "Powell's Books - Guinness World Records 2004 (Guinness Book of Records) by". http://www.powells.com/biblio?show=0553587129&page=excerpt?. अभिगमन तिथि: 28 November 2007. 
  7. Patricia Lee June (November 2001). "A Pediatrician Looks at Babies Late in Pregnancy and Late Term Abortion". Presbyterians Pro-Life. अभिगमन तिथि:
  8. Ben-Haroush A, Yogev Y, Mashiach R, Meizner I (2003). "Pregnancy outcome of threatened abortion with subchorionic hematoma: possible benefit of bed-rest?". Isr. Med. Assoc. J. 5 (6): 422–4. PMID 12841015. 
  9. Kaufman, Matthew H.; Latha Stead; Feig, Robert (2007). First aid for the obstetrics & gynecology clerkship. New York: McGraw-Hill, Medical Pub. Division. pp. 138. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-07-144874-8. 
  10. MedlinePlus (25 October 2004). "Abortion - incomplete". Medical Encyclopedia. http://www.nlm.nih.gov/medlineplus/ency/article/000904.htm. अभिगमन तिथि: 24 May 2006. 
  11. Royal College of Obstetricians and Gynaecologists (May 2003). "The investigation and treatment of couples with recurrent miscarriage". Guideline No 17. http://www.guideline.gov/summary/summary.aspx?ss=15&doc_id=7681&nbr=4480. अभिगमन तिथि: 25 June 2009. 
  12. "miscarriage". October 2004. http://www.birth.com.au/Info.asp?class=6620&page=13. अभिगमन तिथि: 0 March 2009. 
  13. Gracia C, Sammel M, Chittams J, Hummel A, Shaunik A, Barnhart K (2005). "Risk factors for spontaneous abortion in early symptomatic first-trimester pregnancies". Obstet Gynecol 106 (5 Pt 1): 993–9. doi:10.1097/01.AOG.0000183604.09922.e0 (inactive 2010-03-17). PMID 16260517. 
  14. Everett C (5 July 1997). "Incidence and outcome of bleeding before the 20th week of pregnancy: prospective study from general practice.". BMJ 315 (7099): 32–4. PMC 2127042. PMID 9233324. http://bmj.bmjjournals.com/cgi/content/full/315/7099/32. 
  15. Lok IH, Yip AS, Lee DT, Sahota D, Chung TK (April 2010). "A 1-year longitudinal study of psychological morbidity after miscarriage". Fertil. Steril. 93 (6): 1966–75. doi:10.1016/j.fertnstert.2008.12.048. PMID 19185858. 
  16. [36]^गर्भपात व्यवहार की मानक संहिता Miscarriage Standard Code of Practice
  17. David Vernon (2005). "Having a Great Birth in Australia". Archived from the original on 2007-01-29. http://web.archive.org/20070129170526/web.mac.com/david.vernon/iWeb/Having%20a%20Great%20Birth%20in%20Australia/Welcome%20-%20Great%20Birth.html. 
  18. Rosenthal, M. Sara (1999). "The Second Trimester". The Gynecological Sourcebook. WebMD. http://www.webmd.com/content/article/4/1680_51802.htm. अभिगमन तिथि: 18 December 2006. 
  19. Francis O (1959). "An analysis of 1150 cases of abortions from the Government R.S.R.M. Lying-in Hospital, Madras". J Obstet Gynaecol India 10 (1): 62–70. PMID 12336441. 
  20. [45]^"Miscarriage: Causes of Miscarriage". HealthSquare.com. http://www.healthsquare.com/fgwh/wh1ch27p3.htm. अभिगमन तिथि: 18 September 2007.  347-9: से शब्दशः उद्धृत"Chapter 27. What To Do When Miscarriage Strikes". The PDR Family Guide to Women's Health and Prescription Drugs. Montvale, NJ: Medical Economics. 1994. pp. 345–50. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-56363-086-9.  (taken word-for-word from pp. 347-9 of:
  21. "Pregnancy Over Age 30". MUSC Children's Hospital. http://www.musckids.com/health_library/hrpregnant/over30.htm. अभिगमन तिथि: 18 December 2006. 
  22. Wahabi HA, Abed Althagafi NF, Elawad M (2007). "Progestogen for treating threatened miscarriage". Cochrane database of systematic reviews (Online) (3): CD005943. doi:10.1002/14651858.CD005943.pub2. PMID 17636813. 
  23. Bukulmez O, Arici A (2004). "Luteal phase defect: myth or reality". Obstet. Gynecol. Clin. North Am. 31 (4): 727–44, ix. doi:10.1016/j.ogc.2004.08.007. PMID 15550332. 
  24. Peng H, Levitin-Smith M, Rochelson B, Kahn E (2006). "Umbilical cord stricture and overcoiling are common causes of fetal demise.". Pediatr Dev Pathol 9 (1): 14–9. doi:10.2350/05-05-0051.1. PMID 16808633. 
  25. Jakubowicz DJ, Iuorno MJ, Jakubowicz S, Roberts KA, Nestler JE (2002). "Effects of metformin on early pregnancy loss in the polycystic ovary syndrome". J. Clin. Endocrinol. Metab. 87 (2): 524–9. doi:10.1210/jc.87.2.524. PMID 11836280. http://jcem.endojournals.org/cgi/content/full/87/2/524. अभिगमन तिथि: 17 July 2007. 
    Khattab S, Mohsen IA, Foutouh IA, Ramadan A, Moaz M, Al-Inany H (2006). "Metformin reduces abortion in pregnant women with polycystic ovary syndrome". Gynecol. Endocrinol. 22 (12): 680–4. doi:10.1080/09513590601010508. PMID 17162710. 
  26. Lilja AE, Mathiesen ER (2006). "Polycystic ovary syndrome and metformin in pregnancy". Acta obstetricia et gynecologica Scandinavica 85 (7): 861–8. doi:10.1080/00016340600780441. PMID 16817087. 
  27. [64] ^"The effect of recurrent miscarriage and infertility on the risk of pre-eclampsia.";Trogstad L, Magnus P, Moffett A, Stoltenberg C.; BJOG: An International Journal of Obstetrics & Gynaecology, Volume 116 Issue 1, pp. 108–113; http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/19087081
  28. Ness R, Grisso J, Hirschinger N, Markovic N, Shaw L, Day N, Kline J (1999). "Cocaine and tobacco use and the risk of spontaneous abortion.". N Engl J Med 340 (5): 333–9. doi:10.1056/NEJM199902043400501. PMID 9929522. 
  29. "Miscarriage: An Overview". Armenian Medical Network. 2005. http://www.health.am/pregnancy/more/miscarriage_an_overview/. अभिगमन तिथि: 19 September 2007. 
  30. PMID 19863482 (PubMed)
    Citation will be completed automatically in a few minutes. Jump the queue or expand by hand
  31. PMID 20513781 (PubMed)
    Citation will be completed automatically in a few minutes. Jump the queue or expand by hand
  32. [78] ^ Heffner L. Advanced, Maternal Age – How old is too old? New England Journal of Medicine 2004; 351(19):1927–29.
  33. http://www.endo.gr/cgi/reprint/351/19/1927.pdf
  34. Furneaux EC, Langley-Evans AJ, Langley-Evans SC (2001). "Nausea and vomiting of pregnancy: endocrine basis and contribution to pregnancy outcome". Obstet Gynecol Surv 56 (12): 775–82. doi:10.1097/00006254-200112000-00004. PMID 11753180. 
  35. Madsen M, Jørgensen T, Jensen ML, et al. (2007). "Leisure time physical exercise during pregnancy and the risk of miscarriage: a study within the Danish National Birth Cohort". BJOG 114 (11): 1419–26. doi:10.1111/j.1471-0528.2007.01496.x. PMC 2366024. PMID 17877774. 
  36. Weng X, Odouli R, Li DK (2008). "Maternal caffeine consumption during pregnancy and the risk of miscarriage: a prospective cohort study". Am J Obstet Gynecol 198 (3): 279.e1–8. doi:10.1016/j.ajog.2007.10.803. PMID 18221932. 
    Grady, Denise (January 20, 2008). "Study Sees Caffeine Possibly Tied to Miscarriages". The New York Times. http://www.nytimes.com/2008/01/20/health/20cnd-caffeine.html?_r=1&bl&ex=1201150800&en=0019b93b4bb1c219&ei=5087%0A. अभिगमन तिथि: 23 January 2008. 
  37. Savitz DA, Chan RL, Herring AH, Howards PP, Hartmann KE (January 2008). "Caffeine and miscarriage risk" (PDF). Epidemiology 19 (1): 55–62. doi:10.1097/EDE.0b013e31815c09b9. PMID 18091004. http://www.cafeesaude.com.br/downloads/caffeine%20miscarriage%202008%20A.pdf. 
    "Studies Examine Effects Of Caffeine Consumption On Miscarriage Risk". Medical News Today. 23 January 2008. http://www.medicalnewstoday.com/articles/94764.php. अभिगमन तिथि: 16 February 2008. 
  38. Pollack AZ, Buck Louis GM, Sundaram R, Lum KJ (September 2009). "Caffeine consumption and miscarriage: a prospective cohort study". Fertil. Steril. 93 (1): 304–6. doi:10.1016/j.fertnstert.2009.07.992. PMC 2812592. PMID 19732873. 
  39. Yip S, Sahota D, Cheung L, Lam P, Haines C, Chung T (2003). "Accuracy of clinical diagnostic methods of threatened abortion". Gynecol Obstet Invest 56 (1): 38–42. doi:10.1159/000072482. PMID 12876423. 
  40. Condous G, Okaro E, Khalid A, Bourne T (2005). "Do we need to follow up complete miscarriages with serum human chorionic gonadotrophin levels?". BJOG 112 (6): 827–9. doi:10.1111/j.1471-0528.2004.00542.x. PMID 15924545. 
  41. Kripke C (2006). "Expectant management vs. surgical treatment for miscarriage". Am Fam Physician 74 (7): 1125–6. PMID 17039747. http://www.aafp.org/afp/20061001/cochrane.html#c2. अभिगमन तिथि: 31 December 2006. 
  42. Tang O, Ho P (2006). "The use of misoprostol for early pregnancy failure.". Curr Opin Obstet Gynecol 18 (6): 581–6. doi:10.1097/GCO.0b013e32800feedb. PMID 17099326. 
  43. Wilcox AJ, Baird DD, Weinberg CR (1999). "Time of implantation of the conceptus and loss of pregnancy.". New England Journal of Medicine 340 (23): 1796–1799. doi:10.1056/NEJM199906103402304. PMID 10362823. 
  44. Wang X, Chen C, Wang L, Chen D, Guang W, French J (2003). "Conception, early pregnancy loss, and time to clinical pregnancy: a population-based prospective study.". Fertil Steril 79 (3): 577–84. doi:10.1016/S0015-0282(02)04694-0. PMID 12620443. 
  45. [110] ^ Q&A: Miscarriage. (गर्भपात: प्रशनोत्तर) (5 अगस्त, 2004). बीबीसी समाचार. 1 जनवरी 2007 को पुनरुद्धारित. Lennart Nilsson, A Child is Born 91 (1990)(At eight weeks, "the danger of a miscarriage . . . diminishes sharply.") भी देखें
  46. [111] ^ रोडेक, चार्ल्स, व्हिटल, मार्टिन. Fetal Medicine: Basic Science and Clinical Practice (Elsevier Health Sciences 1999), पृष्ठ 835.
  47. Kleinhaus K, Perrin M, Friedlander Y, Paltiel O, Malaspina D, Harlap S (2006). "Paternal age and spontaneous abortion". Obstet Gynecol 108 (2): 369–77. doi:10.1097/01.AOG.0000224606.26514.3a (inactive 26 June 2008). PMID 16880308. 
  48. Slama R, Bouyer J, Windham G, Fenster L, Werwatz A, Swan S (2005). "Influence of paternal age on the risk of spontaneous abortion.". Am J Epidemiol 161 (9): 816–23. doi:10.1093/aje/kwi097. PMID 15840613. 
  49. Nybo Andersen A, Wohlfahrt J, Christens P, Olsen J, Melbye M (2000). "Maternal age and fetal loss: population based register linkage study". BMJ 320 (7251): 1708–12. doi:10.1136/bmj.320.7251.1708. PMC 27416. PMID 10864550. 
  50. [118] स्पेन्सर, जेम्स. Sheep Husbandry in Canada , पृष्ठ 124 (1911).
  51. [119] ^ "Beef cattle and Beef production: Management and Husbandry of Beef Cattle”, न्यूजीलैंड का विश्वकोश (1966 ).
  52. Fraser-Smith, AC (1975). "Male-induced pregnancy termination in the prairie vole, Microtus ochrogaster". Science (American Association for the Advancement of Science) 187 (4182): 1211–1213. doi:10.1126/science.1114340. PMID 1114340. http://www.sciencemag.org/cgi/content/abstract/187/4182/1211. 
  53. Wolff, Jerry O; Wolff, Jerry (June 2002). "A field test of the Bruce effect in the monogamous prairie vole (Microtus ochrogaster)". Behavioral Ecology and Sociobiology (Berlin/Heidelberg: Springer) 52 (1): 31–7. doi:10.1007/s00265-002-0484-0. ISSN 1432-0762. http://www.springerlink.com/content/g65dcacncm0rwbkm/. 
  54. Becker, Stuart D; Jane L Hurst (February 25, 2009 (online) / 7 May 2009). "Female behaviour plays a critical role in controlling murine pregnancy block". Proc. R. Soc. B (London: The Royal Society) 276 (1662): 1723–9. doi:10.1098/rspb.2008.1780. ISSN 1471-2945. PMC 2660991. PMID 19324836. http://rspb.royalsocietypublishing.org/content/early/2009/02/21/rspb.2008.1780.abstract. 

बाह्य लिंक्स[संपादित करें]