गर्भगृह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गर्भगृह मंदिरस्थापत्य का शब्द। गर्भगृह मंदिर का वह भाग है जिसमें देवमूर्ति की स्थापना की जाती है।

परिचय[संपादित करें]

बादामी गुफा मन्दिरों का गर्भगृह

वास्तुशास्त्र के अनुसार देवमंदिर के ब्रह्मसूत्र या उत्सेध की दिशा में नीचे से ऊपर की ओर उठते हुए कई भाग होते हैं। पहला जगती, दूसरा अधिष्ठान, तीसरा गर्भगृह, चौथा शिखर और अंत में शिखर के ऊपर आमलक और कलश। जगती मंदिरनिर्माण के लिए ऊँचा चबूतरा है जिससे प्राचीन काल में मंड भी कहा जाता था। इसे ही आजकल कुरसी कहते हैं। इसकी ऊँचाई और लंबाई, चौड़ाई गर्भगृह के अनुसार नियत की जाती है। जगती के ऊपर कुछ सीढ़ियाँ बनाकर अधिष्ठान की ऊँचाई तक पहुँचा जाता था, इसके बाद का भाग (मूर्ति का कोठा) गर्भगृह होता है जिसमें देवता की मूर्ति स्थापित की जाती है। गर्भगृह ही मंदिर का मुख्य भाग है। यह जगती या मंड के ऊपर बना होने के कारण मंडोवर (सं. मंडोपरि) भी कहलाता है। गर्भगृह के एक ओर मंदिर का द्वार और तीन ओर भित्तियों का निर्माण होता है। प्राय: द्वार बहुत अलंकृत बनाया जाता था उसके स्तंभ कई भागों में बँटे होते थे। प्रत्येक बाँट को शाखा कहते थे। द्विशाख, त्रिशाख, पंचशाख, सप्तशाख, नवशाख तक द्वार के पार्श्वस्तंभों का वर्णन मिलता है। इनके ऊपर प्रतिहारी या द्वारपालों की मूर्तियाँ अंकित की जाती हैं। एवं प्रमथ, श्रीवक्ष, फुल्लावल्ली, मिथुन आदि अलंकरण की शोभा के लिए बनाए जाते हैं। गर्भगृह के द्वार के उत्तरांग या सिरदल पर एक छोटी पूर्ति बनाई जाती है, जिसे लालाटबिंब कहते हैं। प्राय: यह मंदिर में स्थापित देवता के परिवार की होती है ; जैसे विष्णु के मंदिरों में या तो विष्णु के किसी अवतारविशेष की या गरुड़ की छोटी मूर्ति बनाई जाती है। गुप्तकाल में मंदिर के पार्श्वस्तंभों पर मकरवाहिनी गंगा और कच्छपवाहिनी यमुना की मूर्तियाँ अंकित की जाने लगीं।

गर्भगृह के तीन ओर की भित्तियों में बाहर की ओर जो तीन प्रतिमाएँ बनाई जाती हैं, उन्हें रथिकाबिंव कहते हैं। ये भी देवमूर्तियाँ होती हैं जिन्हें गर्भगृह की प्रदक्षिणा करते समय प्रणाम किया जाता है।

गर्भगृह की लंबाई चौड़ाई प्राय: छोटी ओर बराबर होती है। प्रदक्षिण पथ से घिरे मंदिरों में प्राय: अँधेरा रहती है, इस कारण उन्हें सांधार कहते हैं। गर्भगृह मंदिर का हृदयस्थान है। यह पूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा हो जाने के बाद अत्यंत पवित्र माना जाता है। विष्णु आदि की मूर्तियाँ प्राय: पिछली दीवार के सहारेरखी जाती हैं और शिवलिंग की स्थापना गर्भगृह के बीचोबीच होती हैं। देवतत्त्व की दृष्टि से गर्भगृह अत्यंत मांगलिक और महत्त्वपूर्ण स्थान होता है। यही मंदिर का ब्रह्मस्थान है। देवगृह के भीतरी भाग में दीवारों पर प्राय: और कोई रचना नहीं करते किंतु इसके अपवाद भी हैं। देवगृह की छत प्राय: सपाट होती हैं किंतु शिखर सहित मंदिरों में इसका भी अपवाद देखा जाता है। आरंभकाल में देवगृह या मंडोवर की रचना संयत और सादी होती थी। उस समय विशेष अलंकरणों का प्रयोग न था, किंतु समय पाकर देवगृह भित्तियों में नाना प्रकार के अलंकरण बनाए जाने लगे। देवगृह के द्वार सहित चारों ओर की भित्तियाँ चार भद्र कही जाती हैं। भद्र के तीन भाग करके यदि बीच का भाग कुछ निकाल दिया जाय तो वह तीन भागों में बँटा हुआ भद्र त्रिरथ कहलाता है। ऐसे ही पंचरथ, सप्तरथ नौरथ तक बनाए जा सकते हैं। बीच का निकला हुआ भाग या निर्गम रथ और दोनों कोनों के अंत:प्रविष्ट भाग प्रतिरथ कहलाते हैं। यदि निर्गम और प्रवेशवाले भागों की संख्या पाँच हुई तो बीच का भाग रथ, उसके दोनों ओर के भाग प्रतिरथ ओर दोनों कोनों के कोणरथ कहलाते हैं। उत्सेध, उदय या ऊँचाई में भी गर्भगृह के बाहर की ओर बहुत से अलंकरण बनाए जाते हैं; उनमें ऊपर नीचे दो जंघाएँ और उनके बीच की तीन पट्टियाँ कहलाती हैं। जंघाओं पर प्राय: स्त्रीमूर्तियों का अंकन रहता है, जिन्हें प्रेक्षणिका, सुरसुंदरी, अलसकन्या, अप्सरा आदि कई नाम दिए गए हैं। वे प्राय: नृत्य, नाट्य, संगीत और मिथुनश्रृगांर की मुद्राओं में अंकित की जाती हैं। देवगृह का उठान नीचे की खुरशिला से लेकर कलश तक, वास्तु और शिल्प के सुनिश्चित नियमों के अनुसार बनाया जाता है। उसमें एक एक घर के पत्थरों के नाम, रूप या अलंकरण निश्चित हैं, किंतु उनके भेद भी अनंत हैं। गर्भगृह प्राय: चौकोर होता है, किंतु चतुरस्र आकृति के अतिरिक्त आयताकार बेसर (द्वयस्र) अर्थात एक ओर गोल तथा एक ओर चौकोर और परिमंडल ये आकृतियों भी स्वीकृत हैं, किंतु व्यवहार में बहुत कम देखी जाती हैं।