खीचड़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खीचड़ (अथवा खींचड़) एक जाट जाति की गौत्र है जो भारतीय प्रान्त राजस्थान के झुन्झुनू, चुरू, नागपुर, गंगानगर, हनुमानगढ़ और सीकर जिलों में पाई जाती है। वीरभान खिचड़ ने राजस्थान के सीकर नगर की स्थापना की। उन्होंने हरियाणा के सिरसा और फतेहाबाद जिलों की भी स्थापना की। खिचड़ों की उत्पति जोइया से मानी जाती है। सम्भवतया वो चौहानों की खिची गौत्र के समान हैं।[1]

इतिहास[संपादित करें]

गोत्र सिद्धान्त के उद्भव के बारे में यह माना जाता है कि हरियाणा के राजा जिनके तीन पुत्र थे। एक खिचड़ था दूसरे का नाम महला एवं तीसरे का नाम कुलहरी था। ये तीनों पुत्र राजस्थान में आ गये। मान्यताओं के अनुसार महला झुन्झुनू के गाँव भलरिया में रहने लगे। वहाँ से वो राजस्थान के अन्य भागों में बसते गये। इसी प्रभाव के अनुसार महला और खिचड़ों को भाई माना जाता है और आपस में वैवाहिक सम्बंध स्थापित नहीं करते।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Tribes and Castes Vol. II, p. 375.