खिंचाव के निशान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Wiktionary-logo-en.png
stria को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।
"स्ट्रे" एक सामान्य शब्द है जिसे संदर्भित किया जाता है पतले, संकीर्ण खांचे या चैनलों या विशेष रूप से एक पतली रेखा अथवा पट्टी अगर उनमें से कई एक दूसरे के समानांतर या नजदीक हों
Striae atrophicae
वर्गीकरण व बाहरी संसाधन
Belly Strech Marks.jpg
आईसीडी-१० L90.6
आईसीडी- 701.3
रोग डाटाबेस 30027
मेडलाइन+ 003287
ई-मेडिसिन derm/406 

खिंचाव के निशान या स्ट्रे (एकवचन स्ट्रिया) जैसा कि इसे त्वचाविज्ञान में कहा जाता है, एक प्रकार के रंगहीन खिंचाव के निशान जो त्वचा पर हो जाते हैं। यह त्वचा के फटने के कारण होता है और समय के साथ-साथ यह कम तो हो जाता है लेकिन पूरी तरह से गायब नहीं होता.

खिंचाव के निशान अक्सर त्वचा की वृद्धि (यौवन में आम) या वजन बढ़ने (जैसे गर्भावस्था, मांसपेशियों के निर्माण या मोटापा तेजी से बढ़ने) सहित त्वचा के तीव्र खिंचाव के कारण होते हैं या कुछ मामलों में त्वचा का अत्यधिक खिंचाव जो त्वचा के लचीलेपन को काबू कर लेता है। यौवन, गर्भावस्था, मांसपेशियों के निर्माण, पारलैंगिकता के लिए होने वाले हार्मोन प्रतिस्थापन आदि की वजह से जो हार्मोनल परिवर्तन होते हैं उससे खिंचाव के निशान प्रभावित होते हैं।[1] इन चिह्नों के प्रकार के लिए चिकित्सा शब्दावली में स्ट्रे ऐट्रोफिक, वरज़ेचर्स, स्ट्रेया डिसटेन्सा, स्ट्रे क्युटिस डिसटेन्सा, स्ट्रे ग्रैविडेरम द्वारा (ऐसे मामलों में जहां यह गर्भावस्था के कारण होता है), लिनिया ऐट्रोफिक, लिनिया अल्बिकान्टे या सहज स्ट्रे शामिल हैं।

लक्षण एवँ चिह्न[संपादित करें]

ये पहले लाल या बैंगनी लाइनों के रूप में दिखाई देते हैं, लेकिन धीरे-धीरे इनका रंग फीका पड़ने लगता है। प्रभावित क्षेत्र खाली दिखाई देते हैं और स्पर्श करने से नरम महसूस होते हैं।[2]

खिंचाव के निशान त्वचा पर होते हैं, लचीला मध्यम परत त्वचा के आकार को बनाए रखने में मदद करता है। किसी भी प्रकार के खिंचाव के निशान बहुत लंबे समय तक नहीं रहते क्योंकि त्वचा इसे स्वयं ठीक कर लेती है। खिंचाव की भूमिका वहां अधिक होती हैं जहां निशान होते हैं और जिस दिशा में वे जा रहे होते हैं। खिंचाव ही एकमात्र वजह नहीं है।[3]

खिंचाव के निशान शरीर के किसी भी भाग में दिखाई दे सकते हैं लेकिन सबसे अधिक उस भाग में दिखाई देते हैं जहां बड़ी मात्रा में वसा का जमाव होता है। सबसे आम जगहों में पेट (विशेष रूप से नाभि के निकट), स्तन, ऊपरी बांह, बांह के नीचे, पीठ, जांघ (आंतरिक और बाह्य दोनों), कमर और नितंब शामिल हैं। इससे स्वास्थ्य को कोई खतरा नहीं होता और न ही शरीर की कार्यक्षमता को इससे कोई समझौता करना पड़ता है और सामान्य रूप से यह अपने आप ठीक हो जाते हैं।[4]

कारण[संपादित करें]

खिंचाव के निशान को बढ़ावा देने के कई कारण हैं: 324 महिलाओं पर एक अध्ययन के बाद पाया गया कि मातृत्व के उपयुक्त उम्र से कम महिलाओं में बच्चे को जन्म देने के बाद, जिनके शरीर का द्रव्यमान ऊंचा हो, 15 किलो (31 पाउंड) वजन अधिक होने पर और जन्म के समय नवजात का वजन सामान्य से अधिक होने जैसे कई अलग-अलग कारण हैं जिनके कारण खिंचाव के निशान होते हैं। किशोरों पर गंभीर खिंचाव के निशान के होने का खतरा सबसे अधिक होता है।[5]

ग्लूकोकॉर्टिकॉयड हारमोन खिंचाव के विकास के लिए जिम्मेदार होते हैं जो फाइब्रोब्लास्ट को कोलेजन और एलास्टिन फाइबर का निर्माण करने से रोककर उपत्वक को प्रभावित करते हैं जो त्वचा को कसने के लिए आवश्यक होते हैं। यह सहायक सामग्री को कम कर देता है, जिससे त्वचा में फैलाव होता है और त्वचा और वाह्यत्वचा के फटने की क्रिया में वृद्धि करता है।

त्वचा जब अधिक खिंचाव के लिए मजबूर हो जाती है तो फटने लगती है। हार्मोनल परिवर्तन और आनुवंशिकी बल, साथ ही भोजन और [संभवतः] व्यायाम त्वचा के झेलने की क्षमता को प्रभावित करते हैं।[6]

रोकथाम और निष्कासन[संपादित करें]

75% और 90% महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान कुछ हद तक खिंचाव के निशान होते हैं। आमतौर पर गर्भावस्था के परिणाम के रूप में निरंतर हार्मोन के स्तर के कारण खिंचाव होते हैं जो छठे या सातवें महीने के दौरान दिखाई देते हैं, मुख्यतः तिमाही के दौरान, जब त्वचा पर खिंचाव का बल सर्वाधिक होता है।

एक जर्मन शोध टीम ने मालिश और क्रीम का प्रयोग कर इसपर परीक्षण किया और पाया कि इस उपचार से केवल एक-तिहाई महिलाओं में खिंचाव के निशान विकसित हुए, जबकि अनुपचारित नियंत्रण समूह की दो-तिहाई महिलाओं में खिंचाव के निशान विकसित हुए, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि यह अध्ययन डबल-ब्लाइंड अध्ययन था या नहीं.[7]

क्या तेल या क्रीम खिंचाव के विकास को रोक सकते हैं इस अध्ययन पर अनियमित रूप से परीक्षण हो रहें हैं। इस अध्ययन से पाया गया कि एक क्रीम (ट्रोफोलास्टिन) जिसमें गोटू कोला के सार तत्व, विटामिन ई और कोलैजेन हाइड्रोलिसेट्स मिश्रित हैं जो गर्भावस्था के दौरान कम खिंचाव के निशान से संबंधित हैं।[8][9] एक अन्य अध्ययन में, एक क्रीम (वेरम) जिसमें विटामिन ई, पैन्थेनॉल, ह्याल्युरोनिक एसिड, इलास्टिन और मेन्थॉल युक्त थे उसकी जांच की गई, हालांकि जिसमें प्रयोगिक औषध नियंत्रण की कमी थी। जो गर्भावस्था के दौरान कम खिंचाव के निशान से संबंधित है जिसे किसी उपचार की आवश्यकता नहीं होती.[9]

एक और अनियमित परीक्षण 300 महिलाओं पर प्रयोगिक औषध-नियंत्रित डबल-ब्लाइन्ड अध्ययन के तहत कोको मक्खन से किया गया। परिणाम यह हुआ कि कोकोआ मक्खन का उपयोग कर 44% महिलाओं को गर्भावस्था के बाद खिंचाव के निशान हुए, जबकि 55% ने एक प्रयोगिक औषध का उपयोग किया, लेकिन आँकड़ों की दृष्टि से यह अंतर कोई विशेष महत्वपूर्ण नहीं था।[10]

खिंचाव के निशान के सुधार के लिए लेज़र उपचार, चर्म-अपघर्षण और रासायनिक नुस्खे सहित विभिन्न प्रकार के उपचार उपलब्ध हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें] कुछ क्रीम निर्माताओं ने दावा किया है कि हाल ही में खिंचाव के निशान पर सबसे अच्छे परिणाम प्राप्त हुए हैं; यद्यपि, कुछ अध्ययनों ने इन दावों का समर्थन किया है।

डरमेटोलॉजिक सर्जरी पत्रिका में एक अध्ययन से पता चला कि रेडियोफ्रीक्वेंसी के साथ संयुक्त 585 एनएम लेजर स्पंदित डाई से "अच्छा और बहुत अच्छा" उपचार किया गया है जिसमें 37 रोगियों में से 33 रोगियों के खिंचाव के निशान में व्यक्तिपरक सुधार हुए, हालांकि आगे भी इस अध्ययन के परिणामों का पालन होना जरूरी है। इसके अलावा, लेजर स्पंदित उपचार को कई बार दोहराए जाने से त्वचा के रंगायण से व्यक्तियों की त्वचा का रंग गहरा होने लगता है।[11]

उपत्वक और अंतरत्‍वक अगर अंदर प्रवेश कर जाए, तो लेजर खिंचाव के निशान को दूर नहीं कर पाएगी.[12]

टम्मी टक शल्य प्रक्रिया से पेट के खिंचाव के निशान हटाए जा सकते हैं, यह नाभि के नीचे की त्वचा के निशान को मिटा देते जहां यह अधिकतर पाए जाते हैं।

एक नया साधन, फ्रैक्शनल लेजर रिसर्फेसिंग खिंचाव के इलाज का नवीन दृष्टिकोण प्रदान करता है। बिखरे हुए प्रकाश के दानों के केवल एक अंश का प्रयोग कर लेजर द्वारा निशान का इलाज किया जाता है जो कई प्रकार के उपचारों से ऊपर है। इससे सूक्ष्म घाव बन जाते हैं। शरीर प्रत्येक उपचार का जवाब नए कोलाजेन और उपकला का निर्माण करके देती है। 2007 में एक नैदानिक परीक्षण में, 5-6 उपचार के परिणामस्वरूप खिंचाव के निशान का 75 प्रतिशत से ज्यादा सुधार हुआ।[13] 2007 में एक ब्राजील के नैदानिक अध्ययन से पता चला कि फ्रैक्शनल लेजर रिसर्फेसिंग त्वचा की बनावट और परिपक्वता दोनों में, सफेद त्वचा I-IV में सुधार करता है।[14]

हाल ही में त्वचाविज्ञान उपचार के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में छह साप्ताह तक सत्रह महिलाओं पर खिंचाव के निशान का उपचार नए साधन के साथ किया गया। नतीजे बताते हैं कि अंतिम (छठे) उपचार के बाद 38.2% और 11.8% रोगियों में एक सप्ताह के बाद क्रमशः 25-50% और 51-75% सुधार हुआ। उपचार के दीर्घकालिक प्रभाव की पुष्टि 6 सप्ताह के बाद की गई जिससे पता चला कि क्रमशः 26.5% और 5.9% रोगियों में 51-75% और> 75% सहित उच्च प्रतिशत रोगियों में खिंचाव के निशान में सुधार दिखाई दिए. प्रतिभागियों में से कोई भी ऐसा नहीं था जिसके खिंचाव के निशान में नैदानिक दृष्टि से सुधार नहीं दर्ज किए गए। रोगी के संतोष को भी मापा गया और पाया गया कि 65 % रोगियों ने रिपोर्ट की कि वे इलाज से बहुत संतुष्ट हैं, 23% संतुष्ट और 12% कम संतुष्ट थे।[15]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • प्रत्युपयाजक शर्तों की सूची

संदर्भ[संपादित करें]

  1. बर्नस्टिन, एरिक. व्हाट कॉज़ स्ट्रेच मार्क्स? . 31 दिसंबर 1998 पेशेन्ट गाइड टू स्ट्रेच मार्क्स. 10 फ़रवरी 2009
  2. "Stretch Mark". Encyclopedia Britannica. http://www.britannica.com/EBchecked/topic/568975/stretch-mark. अभिगमन तिथि: 2009-11-01. 
  3. "About Stretch Marks". All About Stretch Marks. AllAboutStretchMarks.com. http://www.allaboutstretchmarks.com/. अभिगमन तिथि: 2009-11-01. साँचा:MEDRS
  4. 548150_183143,00.html "How to prevent and treat stretch marks". www.ivillage.co.uk. iVillage. http://www.ivillage.co.uk/beauty/bodybasics/stretch/articles/0, 548150_183143,00.html. अभिगमन तिथि: 2009-11-01. 
  5. Atwal, G.S.S.; Manku, L.K.; Griffiths, C.E.M.; Polson, D.W. (2006). "Striae gravidarum in primiparae". British Journal of Dermatology 155 (5): 965–9. doi:10.1111/j.1365-2133.2006.07427.x. PMID 17034526. 
  6. "Role of Hormones In the Development of Stretch Marks". Stretch Marks. nostrechmarks.com. http://www.nostrechmarks.com/hormones-stretch-marks.html. अभिगमन तिथि: 2009-11-01. साँचा:MEDRS
  7. Wierrani, F; Kozak, W; Schramm, W; Grünberger, W (1992). "Attempt of preventive treatment of striae gravidarum using preventive massage ointment administration". Wiener klinische Wochenschrift 104 (2): 42–4. PMID 1609525. 
  8. Mallol, J.; Belda, M.A.; Costa, D.; Noval, A.; Sola, M. (1991). "Prophylaxis of Striae gravidarum with a topical formulation. A double blind trial". International Journal of Cosmetic Science 13 (1): 51–57. doi:10.1111/j.1467-2494.1991.tb00547.x. PMID 19291041. 
  9. Young, Gavin; Jewell, David; Young, Gavin (1996). "Creams for preventing stretch marks in pregnancy". Cochrane Database of Systematic Reviews. doi:10.1002/14651858.CD000066. 
  10. Buchanan, Keisha; Fletcher, Horace M.; Reid, Marvin (2010). "Prevention of striae gravidarum with cocoa butter cream". International Journal of Gynecology & Obstetrics 108 (1): 65–8. doi:10.1016/j.ijgo.2009.08.008. PMID 19793585. 
  11. Suh, Dong-HYE; Chang, KA-Yeun; Son, HO-Chan; Ryu, JI-HO; Lee, Sang-JUN; Song, KYE-Yong (2007). "Radiofrequency and 585-nm Pulsed Dye Laser Treatment of Striae Distensae: A Report of 37 Asian Patients". Dermatologic Surgery 33 (1): 29–34. doi:10.1111/j.1524-4725.2007.33004.x. PMID 17214676. 
  12. "Cell Therapy Targets Gum Disease, Stretch Marks". Sexual Health. sexualhealth.com. http://sexualhealth.e-healthsource.com/?p=news1&id=525439. अभिगमन तिथि: 2009-11-01. 
  13. Petrou I (February 2007). "Fractional photothermolysis tackles striae distensae". Dermatology Times 28 (2): 94–106. http://www.modernmedicine.com/modernmedicine/article/articleDetail.jsp?id=401949. अभिगमन तिथि: 2007-05-23. 
  14. "Fractional photothermolysis for the treatment of striae distensae". Journal of the American Academy of Dermatology 56 (2, Supplement 2): AB204. 2007. doi:10.1016/j.jaad.2006.10.931. 
  15. Manuskiatti, Woraphong; Boonthaweeyuwat, Einapak; Varothai, Supenya (2009). "Treatment of striae distensae with a TriPollar radiofrequency device: A pilot study". Journal of Dermatological Treatment 20 (6): 359–64. doi:10.1080/09546630903085278. PMID 19954393. 

साँचा:Localized connective tissue diseases