खाड़ी रुपया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गल्फ़ रुपी मई १९५९ में भारत के रिज़र्व बैंक ने खाड़ी देशों में विनिमय हेतु एक विशेष मुद्रा निकाली जिसे गल्फ़ रुपी (खाड़ी का रुपया) नाम दिया गया । इसे क़तर, बहरीन तथा कुवैत में मुद्रा के तौर पर प्रयोग किया गया । आरंभ में इसका मूल्य लगभग १३.३३ ब्रिटिश पाउंड के बराबर रखा गया । 1960 के दशक में अपनी स्वतंत्रता तथा १९६६ में रुपये के अवमूल्यन करने के बाद खाड़ी के देश अपनी मुद्राएँ (दीनार) ख़ुद छापने लगे । इसी समय ये देश पूर्ण स्वायत्त भी हो रहे थे ।


बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]