ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा
Flag of ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा को दर्शाता पाकिस्तान का मानचित्र
राजधानी
 • निर्देशांक
पेशावर
 • 34°00′N 71°19′E / 34.00°N 71.32°E / 34.00; 71.32
जनसंख्या (2008)
 • घनत्व
20,215,000 (अनुमान)
 • 259.6/km²
क्षेत्रफल
74,521 km²
समय मंडल PST (UTC+5)
प्रमुख भाषा(एं) उर्दु (राष्ट्रीय)
अंग्रेज़ी (आधिकारिक)[1]
पश्तो
हिन्दको
खोवार
पंजाबी
फारसी
दर्जा सूबा
 • जिले  •  24
 • शहर  •  
 • संघीय परिषद  •  986
स्थापना
 • राज्यपाल/आयुक्त
 • मुख्य मंत्री
 • विधायक (सीटें)
   १ जुलाई, १९७०
 • ओवाएज़ अहमद घानी
 • अमीर हैदर खान होटी
 • प्रांतीय सभा (124)
जालस्थल ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा सरकार
मकरा चोटी

ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा (पहले:उत्तर पश्चिम सीमांत प्रान्त) पाकिस्तान का एक प्रान्त या सूबा है। इसे सूबा-ए-सरहद के नाम से भी जाना जाता है जो अफ़ग़ानिस्तान की सीमा पर स्थित है। यहाँ पर पश्तूनों की आबादी अधिक है जिन्हें स्थानीय रूप से पख़्तून भी कहते हैं। इनकी मातृभाषा पश्तो है। इस प्रांत की जनसंख्या करीब 2 करोड़ है जिसमें अफ़ग़ानिस्तान से आए शरणार्थियों की 15 लाख की आबादी सम्मिलित नहीं है।

इतिहास[संपादित करें]

आर्यों का आगमन ईसा के कोई 2000 साल पहले आरंभ हुआ। इस क्षेत्र में इंडो-ईरानियन शाखा आई। माना जाता है कि सातवीं सदी ईसापूर्व में हिन्दू महाजनपद गान्धार यहीं या इसी के समीप स्थित था। ईसा के 200 साल पहले बौद्ध धर्म यहाँ बहुत लोकप्रिय हुआ। मौर्यों के पतन के बाद इसपर कुषाणों का शासन आया। यह कुषाण साम्राज्य की राजधानी था और इस्लाम आने से पहले इसपर ईरानी आकर्मण भी होते रहे। इससे यहाँ जरथुष्ट्र के अनुयायियों की भी आबादी थी।

सातवीं सदी में चीन के पर्यटकों ने यहाँ के बौद्ध धर्म का जिक्र किया है। ग्यारहवीं सदी में गज़नी के महमूद ने बौद्ध तथा जोरास्ट्री शाहों को हराकर अपना शासन स्थापित किया। गज़नी तथा गज़नी पर गोर के शासन के बाद यहाँ तुर्क तथा अरबों की आबादी बढ़ती गई। दिल्ली सल्तनत के शासन में भी यहाँ इस्लाम अपनाया गया। मुग़लों तथा फ़ारस के साफ़वियों के बीच इस क्षेत्र को लेकर संघर्ष होता रहा। 1893 में अंग्रेज़ों ने अफ़गानों से यह क्षेत्र एक समझौते में ले लिया और 1947 में जब पाकिस्तान आज़ाद हुआ तो यह पाकिस्तान का अंग बन गया। उत्तर पश्चिम सीमांत प्रान्त में २४ जिले हैं।

संदर्भ[संपादित करें]