कोरो भाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
कोरो
बोलने का स्थान भारत
क्षेत्र अरुणाचल प्रदेश, भारत
कुल बोलने वाले ८०० - १,२०० (२०१० अनुमान)
भाषा-परिवार सम्भवत: तिब्बती-बर्मी
भाषा कोड
आइसो ६३९-१ -
आइसो ६३९-२
आइसो ६३९-३ jkr

कोरो (Koro) भारत के उत्तर-पूर्वी राज्य अरुणाचल प्रदेश के पूर्व कमेंग ज़िले में बोली जाने वाली एक भाषा है। इसे बोलने वाले अधिकतर २० वर्ष से अधिक आयु के हैं, यानि नई पीढ़ी द्वारा कम बोली जाने के कारण यह संकटग्रस्त मानी जाती है। भाषावैज्ञानिकों के अनुसार यह सम्भवत: तिब्बती-बर्मी भाषा-परिवार कि सदस्य है, हालांकि यह पक्का नहीं है और सम्भव है कि यह किसी भी अन्य भाषा से सम्बन्धित न हो। कोरो-भाषी लोग आका (ह्रूसो) नामक समुदाय के साथ रहते हैं लेकिन इन दोनो की मातृभाषाएँ अलग हैं और उनके गिनती, शरीर के अंगो और अन्य प्रयोगों के बुनियादी शब्द तक एक-दूसरे से भिन्न हैं। कोरो और आका में शब्द-समानता केवल ९% की मापी गई है।[1][2] कोरो के कई शब्द पास की तानी भाषाओं से मिलते हैं लेकिन इन दोनों में भिन्नताएँ भी बहुत हैं। कुछ विद्वानों ने यह सम्भावना प्रकट की है कि शायद इतिहास में कभी कोरो-भाषियों के पूर्वज ज़बरदस्ती कहीं और से दास बना कर लाए गए हों।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Morrison, Dan "'Hidden' Language Found in Remote Indian Tribe". National Geographic Daily News, October 5, 2010, Retrieved on October 5, 2010
  2. Schmid, Randolph E. "Undocumented language found hidden in India". Associated Press. 5 October 2010

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]