कुल्लू

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
कुल्लू
—  नगर  —
कुल्लू घाटी का विहंगम दृश्य
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य हिमाचल प्रदेश
ज़िला कुल्लू

Erioll world.svgनिर्देशांक: 31°58′N 77°06′E / 31.97, 77.1

कुल्लू भारत के हिमाचल प्रदेश प्रान्त का एक शहर है। कुल्‍लू घाटी को पहले कुलंथपीठ कहा जाता था। कुलंथपीठ का शाब्दिक अर्थ है रहने योग्‍य दुनिया का अंत। कुल्‍लू घाटी भारत में देवताओं की घाटी रही है। हिमाचल प्रदेश में बसा एक खूबसूरत पर्यटक स्‍थल है कुल्‍लु। बरसों से इसकी खूबसूरती और हरियाली पर्यटकों को अपनी ओर खींचती आई है। विज नदी के किनारे बसा यह स्‍थान अपने यहां मनाए जाने वाले रंगबिरंगे दशहरा के लिए प्रसिद्ध है। यहां 17वीं शताब्‍दी में निर्मित रघुनाथजी का मंदिर भी है जो हिंदुओं का प्रमुख तीर्थ स्‍थान है। सिल्‍वर वैली के नाम से मशहूर यह जगह केवल सांस्‍कृतिक और धार्मिक गतिविधियों के लिए ही नहीं बल्कि एडवेंचर स्‍पोर्ट के लिए भी प्रसिद्ध है।

पर्यटन स्थल[संपादित करें]

कुल्‍लू गर्मी के मौसम में लोगों का एक मनपसंद गंतव्‍य है। मैदानों में तपती धूप से बच कर लोग हिमाचल प्रदेश की कुल्‍लू घाटी में शरण लेते हैं। यहां के मंदिर, सेब के बागान और दशहरा हजारों पर्यटकों को कुल्‍लू की ओर आकर्षित करते हैं। यहां के स्‍थानीय हस्‍तशिल्‍प कुल्‍लू की सबसे बड़ी विशेषता है।

रघुनाथजी मंदिर[संपादित करें]

इस मंदिर का निर्माण राजा जगत सिंह ने 17वीं शताब्‍दी में करवाया था। कहा जाता है कि एक बार उनसे एक भयंकर भूल हो गई थी। उस गलती का प्रायश्चित करने के लिए उन्‍होंने इस मंदिर का निर्माण करवाया था। यहां श्री रघुना‍थ अपने रथ पर विराजमान हैं। इस मंदिर में स्‍थापित रघुनाथ जी की प्रतिमा राजा जगत सिंह ने अयोध्‍या से मंगवाई थी। आज भी इस मंदिर की शोभा देखते ही बनती है।

बिजली महादेव मंदिर[संपादित करें]

कुल्‍लू से 1४ किमी. दूर पहाडी पर बना यह मंदिर यहां का प्रमुख धार्मिक स्‍थल है। मंदिर तक पहुंचने के लिए कठिन चढ़ाई चढ़नी होती है। यहां का मुख्‍य आकर्षण 100 मी. लंबी ध्वज़(छड़ी) है। इसे देखकर ऐसा ल्रगता है मानो यह सूरज को भेद रही हो। इस ध्वज़ (छड़ी) के बारे में कहा जाता है बिजली कड़कने पर इसमें जो तरंगे उठती है वे भगवान का आशीर्वाद होता है। इस ध्वज पर लग़भग हर साल बिजली गिरती है। कभी-कभी मंदिर के अन्दर शिवलिन्ग पर भी बिजली गिरती है जिस से शिवलिन्ग खऩ्डित हो जाता है। पुजारी खऩ्डित शिवलिन्ग को मक्खन से जोडता है जिस से शिवलिन्ग फिर सामान्य हो जाता है। इस मंदिर से कुल्‍लू और पार्वती घाटी का खुबसूरत नजारा देखा जा सकता है।

कुल्‍लु दशहरा[संपादित करें]

कुल्‍लु का दशहरा पुरे देश में प्रसि‍द्ध है। इसकी खासियत है कि जब पूरे देश में दशहरा खत्‍म हो जाता है तब यहां शुरु होता है। देश के बाकी हिस्‍सों की तरह यहां दशहरा रावण, मेघनाथ और कुंभकर्ण के पुतलों का दहन करके नहीं मनाया जाता। सात दिनों तक चलने वाला यह उत्‍सव हिमाचल के लोगों की संस्‍कृति और धार्मिक आस्‍था का प्रतीक है। उत्‍सव के दौरान भगवान रघुनाथ जी की रथयात्रा निकाली जाती है। यहां के लोगों का मानना है कि करीब 1000 देवी-देवता इस अवसर पर पृथ्‍वी पर आकर इसमें शामिल होते हैं।

वॉटर और एडवेंचर स्‍पोर्ट[संपादित करें]

कुल्‍लु घाटी में अनेक जगह हैं जहां मछली पकड़ने का आनंद उठाया जा सकता है। इन जगहों में रायसन, कसोल नागर और जिया प्रमुख हैं। इसके साथ ही ब्यास् नदी में वॉटर राफ्टिंग का मजा लिया जा सकता है। इन सबके अलावा यहां ट्रैकिंग भी की जा सकती है।

कुल्‍लु के आसपास दर्शनीय स्‍थल[संपादित करें]

नग्गर[संपादित करें]

यह स्‍थान करीब 1400 वर्षों तक कुल्‍लु की राजधानी रही है। यहां 16वीं शताब्‍दी में बने पत्‍थर और लकड़ी के आलीशान महल आज होटल में बदल चुके हैं। इन होटलों का संचालन हिमाचल पर्यटन निगम करता है। यहां रूसी चित्रकार निकोलस रोएरिक की एक चित्र दीर्घा है। इन सबके अलावा यहां विष्‍णु, त्रिपुरा सुंदरी और भगवान कृष्‍ण के प्राचीन मंदिर भी हैं।

जगतसुख[संपादित करें]

जगतसुख कुल्‍लु की सबसे प्राचीन राजधानी है। यह विज नदी के बायीं ओर नागर और मनाली के बीच स्थित है। यहां दो प्राचीन मंदिर हैं। पहला छोटा सा गौरीशंकर मंदिर और दूसरा संध्‍या देवी का मंदिर है।

देव टिब्‍बा[संपादित करें]

समुद्र से 2953 मी. की ऊंचाई पर स्थित इस जगह को इंद्रालिका के नाम से भी जाना जाता है। कहा जाता है कि महर्षि वशिष्‍ठ ने अर्जुन को पशुपति अस्‍त्र पाने के लिए तप करने का परामर्श दिया था। इसी स्‍थान पर अर्जुन ने इंद्र से यह अस्‍त्र पाने के लिए तप किया था।

बंजार[संपादित करें]

यहां श्रृंग ऋषि का प्रसिद्ध मंदिर है। इन्‍हीं ऋषि की याद में यहां प्रति वर्ष मई के महीने में एक उत्‍सव का आयोजन किया जाता है। ठहरने के लिए पीडब्‍ल्‍यूडी का रेस्‍ट हाउस उपलब्‍ध है। कुछ दूरी पर ही जलोरी पास हे जो बन्जार से सिर्फ् १९ किलोमीट‍र दूर् हे जो गर्मियों में भी बर्फ् की चादर से लिप्त रह्ता हे।यहां से कुछ दू‍री प‍र सियोल्सर नाम की झील है, जो देवदार के उंचे-उंचे पेडों के हरे भरे जंगल से घिरी हुई है जो बेह्द सुन्दर है।

मणीकरन[संपादित करें]

यह स्‍थान कुल्‍लु से 43 किमी. दूर है। यह जगह गर्म पानी के झरने के लिए प्रसिद्ध है। हजारों लोग इस पवित्र गर्म पानी में डुबकी लगाते हैं। यहां का पानी इतना गर्म होता है कि इसमें दाल और सब्‍जी पकायी जा सकती हैं। यह हिंदुओं और सिक्‍खों का प्रसिद्ध धार्मिक स्‍थल है। यहां गुरुद्वारे के साथ रामचंद्र और शिवजी का प्राचीन मंदिर भी है।

कैसे जाएं[संपादित करें]

वायु मार्ग

नजदीकी हवाई अड्डा भुंतर कुल्‍लु से 10 किमी. दूर है। यहां के लिए दिल्‍ली से नियमित उड़ानें हैं। भुंतर से कुल्‍लु घाटी के लिए बस और टैक्सियां मिल जाती हैं।

रेल मार्ग

निकटतम रेलहेड कालका, चंडीगढ़ और पठानकोट हैं जहां से कुल्‍लु सड़क के रास्‍ते पहुंचा जा सकता है।

सड़क मार्ग

कुल्‍लु दिल्‍ली, अंबाला, चंडीगढ़, शिमला, देहरादून, पठानकोट, धर्मशाला और डलहौजी समेत हिमाचल और देश के अन्‍य भागों से सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। इन जगहों से कुल्‍लु के लिए नियमित रूप से बसें चलती हैं।

बाहरी कड़ियां[संपादित करें]