कुलदीप नैयर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
कुलदीप नैयर

कुलदीप नैयर भारत के प्रसिद्ध लेखक एवं पत्रकार है।

जन्म : 14 अगस्त 1924, सियालकोट (अब पाकिस्तान) शिक्षा : स्कूली शिक्षा सियालकोट में। विधि की डिग्री लाहौर से। यू॰एस॰ए॰ से पत्रकारिता की डिग्री ली। दर्शनशास्त्र में पी-एच. डी.। कार्य अनुभव : भारत सरकार के प्रेस सूचना अधिकारी के पद पर कई वर्षों तक कार्य करने के बाद वे यू एन आई, पी. आई. बी. ‘द स्टैट्समैनं ‘इण्डियन एक्सप्रेस' के साथ लम्बे समय तक जुड़े रहे। वे पचीस वर्षों तक ‘द टाइम्स' लन्दन के संवाददाता भी रहे।

रचनाएँ[संपादित करें]

‘बिटवीन द लाइन्स', ‘डिस्टेण्ट नेवर : ए टेल ऑफ द सब कौनण्टनेण्ट', ‘इण्डिया आफ्टर नेहरू', ‘वाल एंट वाघा, इण्डिया पाकिस्तान रिलेशनशिप', ‘इण्डिया हाउस', ‘स्कूप' (सभी अंग्रेजी में)। ‘द डे लुक्स ओल्ड' के नाम से प्रकाशित कुलदीप नैयर की आत्मकथा भी काफी चर्चित रही है। सन् 1985 से उनके द्वारा लिखे गये सिण्डिकेट कॉलम विश्व के अस्सी से ज्यादा पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहे हैं।

विवाद[संपादित करें]

कुलदीप नैयर पर छद्म धर्मनिपेक्ष होने के साथ साथ हिंदू विरोधी होने के का भी आरोप समय समय पर लगता रहता हे| नैयर ने तो यहाँ तक कहा डाला की प्रधानमंत्री वाजपेयी को कानून बनाए चाहिए जो किसी राष्ट्रीय स्वयं सेवक को उच्च पद के लिए अयोग्य बनाये |[1]

एक प्रतिष्ठित राष्ट्रिय दैनिक में अन्ना हजारे के अन्दोलन के लिए नायर ने यह कहा की इस आन्दोलन को अनशन से अलग रखते तो अच्छा होता और इसका ठीकरा उन्होंने टीम अन्ना के सदस्यों पर फोड़ा | उन्होंने कहा की ये लोग ध्यान खींचने के लिए इसे किसी नाटकीय कदम को उठाना चाहते थे[2] विदित रहे की अन्ना ने स्वयं ही यह स्वीकारा हे की अनशन करना उनकी स्वयं की इच्छा थी न की किसी और की | अन्ना यह कहा चुके है की वो कोई बच्चे नहीं है वह वही कार्य करते हे जिसकी गवाही उनकी आत्मा देती हे|

सम्मान/पुरस्कार[संपादित करें]

नॉर्थवेस्ट यूनिवर्सिटी द्वारा ‘एल्यूमिनी मेरिट अवार्ड' (1999)। सन् 1990 में ब्रिटेन के उच्चायुक्त नियुक्त किये गये। सन् 1996 में भारत की तरफ से संयुक्त राष्ट्र संघ को भेजे गये प्रतिनिधि मण्डल के सदस्य भी रहे। अगस्त, 1997 में राज्यसभा के मनोनीत सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]