कुंदुरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
कुंदुरी की पत्तियाँ, पके फल एवं फूल
कुंदरू के कच्चे फल

कुंदुरी (Coccinia indica) भूशायी अथवा आरोही बूटी है जो सारे भारत मे गली रूप में उगती है। इसकी जड़ें लंबी और फल २ से ५ सें. मी. लंबे और १ से २.५ सें. मी. व्यासवाले अंडाकार अथवा दीर्घवृत्ताकार होते हैं। फल कच्चा रहने पर हरे और सफेद धारियों से युक्त होता है। पक जाने पर इसका रंग चटक सिंदूरी हो जाता है। कच्चे फल तरकारी बनाने के काम आते हैं और पकने पर ये ताजे भी खाए जाते हैं। कुछ लोग पके हुए फलों को शक्कर में पाग देते हैं।

कुंदुरी के फलों के रासायनिक विश्लेषण से निम्नांकित मान प्राप्त हुए हैं:

आर्द्रता ९३.१० प्रतिशत
कार्बोहाइड्रेट ०३.५० प्रतिशत
प्रोटीन ०१.२० प्रतिशत
खनिज पदार्थ ००.५० प्रतिशत
वसा ००.१०
कैल्सियम ००.४० प्रतिशत
तंतु ०१.६० प्रतिशत
फास्फोरस ००.०३ प्रतिशत

कुंदुरी की जड़ों, तनों और पत्तियों के अनेक विरचनों का उल्लेख देशी ओषधियों में पाया जाता है जिसके अनुसार इसे चर्म रोगों, जुकाम, फेफड़ों के शोथ तथा मधुमेह में लाभदायक बताया गया है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]