कायान्तरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मछली जैसे मेंढक का बच्चा कुछ ही दिनों में कायांतरण करके मेंढक बन जाता है

कायान्तरण (अंग्रेज़ी: metamorphosis, मेटामोरफ़ोसिस) एक जीववैज्ञानिक प्रक्रिया है जिसमें किसी जानवर के पैदा होने के या अंडे से निकलने के बाद कोशिकाओं (सेल) की बढ़ौतरी से उसके शारीरिक ढाँचे में कम समय में बड़े परिवर्तन आ जाते हैं।[1] उदाहरण के लिए रेंगने वाली इल्ली (कैटरपिलर) कायांतरण करके उड़ने वाली तितली बन जाती है। इसी तरह से मेंढक का बच्चा (टैड्पोल) एक नन्ही मछली जैसा लगता है लेकिन कुछ ही दिनों में पूरी तरह परिवर्तित होकर मेंढक बन जाता है।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. A Wildlife Guide to Chile: Continental Chile, Chilean Antarctica, Easter Island, Juan Fernandez Archipelago, Sharon Chester, pp. 90, Princeton University Press, 2010, ISBN 978-0-691-12976-1, ... Butterflies and moths physically develop in a biological process called metamorphosis. This involves a conspicuous, relatively abrupt change in the insect's structure or form through cell growth and differentiation ...
  2. Rivers and Ponds, Jeanne King, Ellen Krogman, pp. 66, Teacher Created Resources, 1997, ISBN 978-1-57690-114-4, ... Amphibians like the frog begin life as an egg. The egg hatches into a tadpole, a fish-like creature that soon loses its tail and grows arms, legs, and lungs. One day the tiny froglet is ready to leave the water, looking like a miniature version of its parent ...