कम्मा (जाति)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साँचा:Caste Groups of India (Kamma)

कम्मा तेलुगु: కమ్మ या कम्मावारु एक सामाजिक समुदाय है जो ज्यादातर दक्षिण भारतीय राज्यों आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और कर्नाटक में पाया जाता है. वर्ष 1881 में कम्मा जाति की जनसंख्या 795,732 थी.[1] 1921 की जनगणना के अनुसार आंध्रप्रदेश की जनसंख्या में उनका हिस्सा 4.0% का था और तमिलनाडु एवं कर्नाटक में वे एक बड़ी संख्या में मौजूद थे.[2][3][4] पिछली सदी के अंतिम दशकों में इनकी एक बड़ी तादाद दुनिया के अन्य हिस्सों विशेषकर अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया में प्रवासित हो गयी.

प्राचीन इतिहास[संपादित करें]

उत्पत्ति[संपादित करें]

"कम्मा" शब्द और कम्मा के नाम से जाने जाने वाले सामाजिक समुदाय की उत्पत्ति के बारे में कई अवधारणाएं मौजूद हैं लेकिन कोई भी निर्णायक नहीं है.

बौद्ध मूल

एक सिद्धांत यह है कि कृष्णा नदी की घाटी के बौद्ध प्रधान इलाकों में रहने वाले लोगों को यह नाम कम्मा (पाली में) या कर्मा (संस्कृत में) के थेरावदा बौद्ध विचार से प्राप्त हुआ था.[5] इस क्षेत्र को कभी कम्माराष्ट्रम/कम्मारत्तम/कम्मानाडु के रूप में जाना जाता था जो पल्लवों, पूर्वी चालुक्यों और चोलों के नियंत्रण में था.[6][7][8] कम्मानाडु के उल्लेख वाले शिलालेख तीसरी सदी सी.ई. के बाद से उपलब्ध हैं.[9][10][11][12][13][14] कुछ इतिहासकारों के अनुसार कम्मा मौर्य काल से ही अस्तित्व में थे.[15]

कम्भोज/पल्लव मूल

कुछ इतिहासकारों का मत था कि कम्मा नाम संभवतः कम्भोज से लिया गया है. अवध बिहारी लाल अवस्थी की टिप्पणी इस प्रकार है: हम दक्षिण भारत की जातियों में काम्भी, कम्मा, कुम्भी आदि को पाते हैं. संभवतः दक्षिण भारत में एक कम्बोज देश भी रहा होगा .[16] गरुड़ पुराण में अश्मक, पुलिंद, जिमुता, नरराष्ट्रा, लता और कार्नाटा देशों के आस-पास एक कम्भोज साम्राज्य/रियासत के बारे में बताया गया है, साथ ही विशेष रूप से हमें यह भी बताता है कि कम्बोज के हिस्से भारत के दक्षिणी भाग में रहते थे.

पुलिंद अश्मक जिमुता नरराष्ट्रा निवासिनः

कार्नाटा कम्बोज घटा दक्षिणपथवासिनः .[17]

कुर्मी मूल

कम्मा जाति के एक अन्य मूल का अनुमान इस रूप में लगाया जाता है: गंगा के मैदानी इलाकों के बौद्ध कुर्मी पुष्यमित्र शुंग के अत्याचार से बचने के लिए बड़ी संख्या में कृष्णा नदी के डेल्टा क्षेत्र में प्रवासित हो गए थे (184 बीसीई).[18] इस उर्वर क्षेत्र में धरणीकोटा, भट्टीप्रोलू, चन्दावोलु आदि में बौद्ध धर्म पहले से फल-फूल रहा था.[19] इतिहासकारों ने यह अनुमान लगाया है कि संस्कृत शब्द कुर्मी/कुर्म बाद के वर्षों में कम्मा बन गया होगा.[20] कम्माराष्ट्रम शब्द का पहला रिकॉर्ड इक्ष्वाकु राजा मधारीपुत्र पुरुषदत्त (तीसरी शताब्दी सीई) के जग्गय्यापेटा शिलालेख में मिलता है.[21] कम्माराष्ट्रम का विस्तार कृष्णा नदी से लेकर कन्दुकुर (प्रकाशम डीटी.) तक था. अगला रिकॉर्ड पल्लव राजा कुमार विष्णु द्वितीय का था जिसके बाद पूर्वी चालुक्य राजा मांगी युवराज (627-696 सीई) का जिक्र आता है. इसके बाद का शिलालेख तेलुगु चोलों/चोड़ों का और काकतीय राजवंश में कम्मानाडु का उल्लेख मिलता है.[22] इस क्षेत्र को पल्लव साम्राज्य के कारण पल्लावानाडु/ पलानाडु / पलनाडु के रूप में भी जाना जाता है.

आनुवंशिकी[संपादित करें]

सामाजिक समुदाय कम्मा को हाल ही में हैप्लोग्रुप्स R2(M124 73.3%)[23], L1 (M27), R1a1(M17) और Q* (M242) में शामिल के रूप में पहचाना गया है.[24] हैप्लोग्रुप R2 की यात्रा के बाद यह अनुमान लगाया जा सकता है कि यह सामाजिक समुदाय संभवतः बिहार क्षेत्र के अशोक के मौर्य साम्राज्य से प्रवासित होकर आंध्र प्रदेश के पलनाडु क्षेत्र में स्थित और केंद्रित सातवाहन साम्राज्य में चला गया होगा. इस प्रवास में आंध्र देश में बौद्ध धर्म का प्रसार हुआ हो सकता है. आगे भी तटीय क्षेत्रों और आंध्र प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में हरित चारागाहों की चाह में कई पीढ़ियों तक प्रवास होता रहा होगा.

वंशानुक्रम[संपादित करें]

कई शिलालेखों से यह पता चलता है कि कम्मानाडु के राजाओं और सैनिकों ने 10वीं सदी के बाद से नायक/नायकुडु टाइटल का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया था.[25] इस समय तक तकरीबन 1200 कम्मा कुलनाम (इन्तिपेरू )ज्ञात हैं. 1068 सीई में बड़बानल भट्ट ने कम्मा और वेल्मा के कुलनामों और गोत्रों को सूचीबद्ध किया था.[26] पैतृक गाँवों के नामों को गोत्रों के रूप में अपनाया गया था. इससे पता चलता है कि कम्मा और वेल्मा जातियाँ बौद्ध या जैन धर्म को मानती थीं जिन्होंने गोत्र प्रणाली का पालन नहीं किया था और यह कि दोनों सामाजिक समुदायों का एक सामान इतिहास था. दोनों समुदायों के द्विशाखित होने के ऐतिहासिक कारण ज्ञात नहीं हैं हालांकि इनकी कई कहानियाँ मौजूद हैं.[27] कई कम्मा नायकों के शिलालेखों में उल्लेख किया गया है कि वे दुर्जय कुल (वंश) से संबंधित थे.[28] उदाहरण के लिए, मडाला गाँव में स्थित सागारेश्वर मंदिर में पिन्नमा नायडू के शिलालेख (1125 सीई) में यह उल्लेख किया गया है कि वे दुर्जय कुल और वालुत्ला गोत्र के थे.[29] उसी मंदिर में एक अन्य शिलालेख (1282 सीई) में उल्लेख है कि देविनेनी एरा नायडू, कोम्मी नायडू और पोथी नायडू बुद्धवर्मा कुल, दुर्जय कबीले और वालुत्ला गोत्र से संबंधित थे.[30][31] रावुरु में स्थित शिलालेख में उल्लिखित है कि महारानी रुद्रमा देवी, एक्की नायडू, रूद्र नायडू, पिनारुद्र नायडू और पोथी नायडू के अंगरक्षक दुर्जय वंश और वालित्ला गोत्र से संबंधित थे.[32][33]. यहाँ यह उल्लेख करना महत्त्वपूर्ण है कि कम्मा जाति के कई मार्शल कुल वालुत्र गोत्र से संबंधित थे.[34] कम्मानाडु के कई तेलुगु चोड़ समुदायों के कई पूर्वी चालुक्यों और बाद में काकतीयों के साथ संबंध थे. कई शिलालेखों और "वेलुगोतिवारी वंशावली" में यलम्पति, समेत्रा, माच्चा, चोड़, वासिरेड्डी, कट्टा, अडापा आदि जैसे कुलानामों वाले कम्मा समुदायों का संबंध चोड़ चालुक्य वंशावली से था.[5][35] वासिरेड्डी कुल का एक कुलनाम "चालुक्य नारायण" था.[36]. इतिहासकारों ने यह अनुमान लगाया है कि 10वीं सदी के अंत तक दुर्जय, चोड़, चालुक्यों के कुछ भाग और कम्मानाडु के हैहय समुदाय कम्मा जाति में सम्मिलित हो गए थे.[37][38]

मध्ययुगीन इतिहास[संपादित करें]

पहचान[संपादित करें]

योद्धा वर्ग के कई जातियों में विभाजन और उनका समेकन काकतीय राजा रुद्र प्रथम (1158-1195 सीई) के समय में शुरू हुआ था. वेलुगोतिवारी वंशावली और पद्मनायकचरित्र के अनुसार मध्ययुगीन काल में लिखे गए पुस्तकों में किसान (कापू) कम्मा और वेलमा बन गए थे.[39][40] मध्यकालीन काल में 'कापू' शब्द का मतलब एक किसान या रक्षक था.

"... कालाचोडितमुना काकातीवारुगोलची कापुलेल्ला वेलामा कम्मालैरी"

(तेलुगु: "...కాలచోదితమున కాకతీవరుగొల్చి కాపులెల్ల వెలమ, కమ్మలైరి")

बड़बानल भट्ट ने कम्मा और वेलमा समुदायों के कुलनामों और गोत्रों को निर्धारित किया था. सत्तारूढ़ राजवंशों के लिए एक जाति के रूप में कम्मा समुदाय की मान्यता 11वीं सदी तक नहीं देखी जा सकती है. सबूतों के निशान गोनका प्रथम (1075-1115 सीई) से शुरू करते हुए वेलानाडु के तेलुगु चोल/चोड़ जाति के शिलालेखों में पाए जा सकते हैं, जो कम्मानाडु में कई स्थानों पर मिलते हैं. कम्मा और दुर्जय वंशावली के कोटा कुल से संबंधित धरणीकोटा राजाओं (1130-1251 सीई) का तेलुगु चोलों के साथ वैवाहिक गठबंधन था.[41][42] हालांकि, कोटा राजाओं के मूल के संदर्भ में कुछ विवाद भी थे.[43] कोटा राजाओं ने काकतीय राजवंश की महिलाओं से शादी की थी (जैसे कि कोटा बेथाराजा ने गणपति देवा की बेटी, गणपम्बा से शादी की थी). काकतीय गणपति देवा ने दिविसीमा के एक योद्धा जयपा सेनानी की बहनों से शादी की थी.[44] जयपा नायडू को भारतीय नृत्य के क्षेत्र में उनके योगदानों के लिए भी जाना जाता है (1231 सीई)[45] और वे काकतीय सेना में हाथी सैन्य दस्ते के प्रमुख भी थे. इसी समय के आस-पास कम्मानाडु कई योद्धा काकतीय राजवंश की सेनाओं में शामिल हो गए थे. वारंगल क्षेत्र में कम्मा समुदाय को कम्मा कापू कहा जाता है.[46]

प्रसिद्ध तेलुगु कवि श्री नाथ (14वीं सदी सीई) ने अपने समय में हुए सामाजिक विभाजन का वर्णन करते हुए पद्मनायक, वेलमा और कम्मा जातियों को अपने भीमेश्वर पुराणामु में वर्गीकृत किया है.[47].

"....अंडु पद्मानायकुलाना, वेलामलाना, कम्मालना त्रिमार्गा गंगप्रवाहम्बुलुम्बोले गोत्रंबुलान्नियेनी जगतपवित्रम्बुलाई प्रवाहिमपचुन्दा " -

(तेलुगु: .....అందు పద్మనాయకులన, వెలమలన, కమ్మలన త్రిమర్గ గంగాప్రవాహంబులుంబోలె గొత్రంబులన్నియెని జగత్పవిత్రంబులై ప్రవహింపచుండ)

काकतीय काल[संपादित करें]

कम्मा समुदाय काकतीय वंश के शासन काल (1083-1323 सीई) में उनकी सेना में महत्वपूर्ण पदों पर पहुँचते हुए प्रमुखता के साथ उभरे. सबसे प्रसिद्ध कमांडरों में से एक रुद्रमा देवी और प्रतापरुद्र द्वितीय के समय के दौरान दादी नागदेव थे जिन्होंने देवगिरि के यादव राजा के हमले को रोकने में मुख्य भूमिका निभाई.[48] नागदेव के पुत्र गन्न मंत्री जिसे गन्न सेनानी या युगांधर भी कहा जाता है, एक महान योद्धा और कला एवं साहित्य के संरक्षक थे. गन्न वारंगल किले के कमांडर थे. उन्हें बंदी बना लिया गया था और इस्लाम में धर्मांतरण कर प्रतापरुद्र के साथ दिल्ली ले जाया गया था.[49] इसके बाद वे दिल्ली दरबार में वज़ीर के ऊंचे पद तक पहुंचे और फिर उन्हें पंजाब में शासन करने के लिए भेजा गया.[50][51] कवि मारण ने अपना मार्कंडेय पुराणम गन्न (मलिक मकबूल) को समर्पित किया था.[52] नागदेव के अन्य पुत्र एल्लया नायक और मचाया नायक भी बहादुर सेनानी थे. एक और ख्याति प्राप्त योद्धा मुप्पिदी नायक थे जो एक अभियान पर कांची गए थे, उन्होंने पंड्या राजा को हराया था और 1316 सीई में काकतीय राजवंश के साथ उसका विलय कर दिया था. 1296 और 1323 सीई के बीच मुसलमानों के साथ लंबे समय तक चली लड़ाई में हजारों कम्मा नायकों के साथ अन्य लोगों ने वारंगल की रक्षा में अपने जान कुर्बान कर दिए. मुसलमानों द्वारा तेलुगु लोगों पर किये गए अमानवीय अत्याचारों ने बाद में दो कम्मा सरदारों, मुसुनूरी प्रोलय नायक और मुसुनूरी कपाया नायकों को जन्म दिया जिन्होंने विद्रोह के ध्वज को उठाने के लिए काकतीय राजा प्रतापरुद्र की सेवा की.[53][54] वारंगल के पतन के बाद उन्होंने नायक सरदारों को एकजुट कर लिया और दिल्ली सल्तनत से वारंगल को छीन लिया और 50 वर्षों तक शासन किया.[55] (मुसुनूरी नायक)

विजयनगर काल[संपादित करें]

काप्पानीडु (मुसुनूरी कपाया नायक) की शहादत के बाद कई कम्मा समुदाय विजयनगर साम्राज्य के लिए प्रवासित हो गए. श्री कृष्णादेवराय के शासनकाल के दौरान सैंतीस गोत्रों से संबंधित कम्मा समुदाय विजयनगर शहर में रहते थे.[56] कम्मा नायकों ने विजयनगर सेना की चारदीवारी का निर्माण किया था और तमिलनाडु के कई क्षेत्रों में राज्यपालों के रूप में नियुक्त किये गए थे.[57] भारत के अंतिम हिन्दू राज्य की सुरक्षा में उनकी भूमिका महत्वपूर्ण थी.[58] शोहरत हासिल करने वाले कुछ प्रमुख कमांडरों में शामिल थे:

  • पेम्मासानी थिम्मा नायडू विजयनगर सेना के कमांडर थे जिसने 1422 सीई में गुलबर्ग (कालुबारिगे) की लड़ाई लड़ी और इसमें जीत हासिल किया था. कृतज्ञ राजा देवराय द्वितीय ने उन्हें गांदीकोटा (चुड्डपा) का राज्यपाल बनाया था.[59][60] थिम्मा नायडू ने रायलसीमा क्षेत्र में एक बड़ी संख्या में मंदिरों और टैंकों का निर्माण किया. गांदीकोटा के कम्मा समुदायों ने बहमनी जैसे मुस्लिम शासकों को दूर रखा और आने वाले लंबे समय के लिए तेलुगु धरती को संरक्षित रखा.[61]
  • पेम्मासानी रामालिंगा नायडू श्री कृष्ण देव राय के सबसे पसंदीदा और मुख्य कमांडर थे.[62] रायचूर की लड़ाई को रामलिंगा ने जीता था जिसके दौरान हजारों कम्मा योद्धाओं की जानें गयीं थीं. रामालिंगा के कारनामे कवियों कई द्वारा extolled थे.[63] पुर्तगाली इतिहासकार नुनीज ने रामालिंगा को "कैमानायके" के रूप में संदर्भित किया है.[64] (पेम्मासानी नायक).
  • विजयनगर साम्राज्य में बहादुरी का पुरस्कार जीतने वाले अन्य उल्लेखनीय कबीलों में रावेला नायक और सूर्यदेवड़ा नायक शामिल थे. इन कबीलों के कई कमांडरों ने तेलुगु धरती के सम्मान के लिए लड़ाईयां लड़ीं और इसे संरक्षित रखा.[65]
  • कम्मा समुदायों ने नायकर या नाइकर या नायडू कुलनाम के तहत कई वर्षों तक दक्षिणी और उत्तरी तमिलनाडु के बड़े क्षेत्रों को नियंत्रित किया जो विजयनगर साम्राज्य की एक विरासत थी. तमिलनाडु में इल्लैयारासनादल और कुरिविकुलम की जमींदारियां पेम्मासानी परिवारों से संबंधित हैं.[66]

मार्शल कबीले : कम्मा सामाजिक समुदाय से संबंधित कई कबीले विजयनगर काल के युद्धों और इसके बाद के वर्षों में प्रमुखता से देखे जाते हैं. इनमें से कुछ गुटों में पेम्मासानी, माचा, वासिरेड्डी, कोडाली, समेत्रा, चोडा/चोडे, दसारी, आलामंडला, अडप्पा, सूर्यदेवड़ा, नादेंडला, साखामुरी आदि शामिल हैं.[5] कृष्णदेवराय की सेना के कई सबसे प्रमुख कम्मा कमांडर सूर्यादेवड़ा, वासिरेड्डी, पेम्मासानी, रावेला और सयापानेनी कुलों से संबंधित थे.

गोलकुंडा काल[संपादित करें]

1565 में तल्लीकोटा की लड़ाई के बाद विजयनगर साम्राज्य बहुत कठिन दौर से गुजरा था. पेम्मासानी नायकों, रावेला नायकों और सयापानेनी नायकों ने मुसलमानों को दूर रखने में अराविती राजाओं की दृढ़तापूर्वक मदद की. आंध्र की धरती में 1652 में गांदीकोटा पर कब्जा करने के साथ मुस्लिम सत्ता को अपने पाँव जमाने में 90 साल और लग गए. कम्मा नायक बड़ी संख्या में तमिल क्षेत्र में प्रवासित हो गए. गोलकुंडा काल के दौरान सयापानेनी नायकों (1626-1802) ने दुपादु क्षेत्र में गोलकुंडा सुल्तानों के जागीरदारों के रूप में शासन किया.[67][68] उनमें से गंगप्पा नायडू, वेंकटाद्री नायडू और रंगप्पा नायडू प्रसिद्ध थे. इब्राहिम कुतुब शाह ने 1579 में कोंडाविदु पर कब्जा कर लिया. उनके मराठा कमांडर रायाराव ने दशमुखों और चौधरियों को 497 गांवों में नियुक्त किया. तटीय आंध्र प्रदेश में चौधरी टाइटल का प्रयोग इसी दौरान शुरू हुआ था.

वासिरेड्डी सदाशिव नायडू ने 1550 से 1581 तक नंदीगाम परगना पर शासन किया.[69] उन्हें यह परगना गोलकुंडा के इब्राहिम कुतुब शाह ने दिया था. मैकेंज़ी के अनुसार वीरप्पा नायडू को 1670 में नंदीगाम परगना के देशमुख के रूप में नियुक्त किया गया था. 1685 में चिनापद्मनाभ नायडू ने अबुल हसन तनीषा से 500 गांवों का एक अनुदान प्राप्त किया था.[70] उनहोंने चिंतापल्ली में एक किले का निर्माण किया और 1710 सीई तक शासन किया. उनके उत्तराधिकारियों ने 1760 तक शासन किया. इस अवधि के दौरान फ्रांसीसी और अंग्रेज आंध्र देश का नियंत्रण हासिल करने की कोशिश कर रहे थे. जग्गय्या ने 1763 के बाद से चिंतापल्ली पर शासन किया. उन्हें 1771 में गोलकुंडा नवाब के भाई बसालत जंग द्वारा भेजे गए फ़्रांसीसी सैन्य बलों द्वारा मार दिया गया. जग्गय्या की पत्नी अच्चम्मा उनके साथ सती हो गयी थी. जग्गय्या के पुत्र वेंकटाद्री ने 1777 में चिंतापल्ली को फिर से हासिल कर लिया और एक उदार एवं बेहतरीन शासक के रूप में ख्याति अर्जित की.[71] (वासिरेड्डी वेंकटाद्री नायडू और वासिरेड्डी कुल). अंग्रेजों ने 1788 तक गोलकुंडा नवाबों से आंध्र का नियंत्रण हासिल कर लिया था. गोलकुंडा काल के दौरान एक अन्य कम्मा रियासत देवरकोटा थी जिसकी राजधानी चल्लापल्ली थी. इसके शासक यार्लागड्डा गुरुवरयुडू 1576 में अब्दुल्ला कुतुब शाह के मातहत थे. उनके उत्तराधिकारियों ने 1751 में फांसीसियों द्वारा और इसके बाद 1765 में अंग्रेजों द्वारा अधिकृत किये जाने तक गोलकुंडा के जागीरदारों के रूप में शासन किया था.

ब्रिटिश काल[संपादित करें]

18वीं सदी के अंत तक ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपना शासन आंध्र प्रदेश में समेकित कर लिया था. जमींदार और देशमुखों की सेनाओं को नष्ट कर दिया गया था और उनके पास केवल कर संग्रह की शक्ति बची रह गयी थी. ब्रिटिश शासन के अधीन सुप्रसिद्ध कम्मा जमींदारों में मुक्त्याला, चिंतापल्ली (अमरावती), चल्लापल्ली, देवरकोटा, कपिलेश्वरपुरम आदि शामिल थे. इन ज़मींदारों ने कई स्कूलों और पुस्तकालयों की स्थापना कर आधुनिक शिक्षा को प्रोत्साहित किया.

आधुनिक इतिहास[संपादित करें]

प्रमुख राज्यों के पतन के बाद कम्मा समुदायों ने अपने मार्शल अतीत की विरासत के रूप में आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के बड़े उपजाऊ क्षेत्रों को नियंत्रित किया. अंग्रेजों ने उनकी शोहरत को मान्यता दी और उन्हें ग्राम प्रमुख (तलारी) बना दिया जिसे कर संग्रह करने वाले चौधरियों के रूप में भी जाना जाता था. भूमि और कृषि के साथ कम्मा समुदायों का संबंध सुविख्यात है. कम्मा समुदायों की मार्शल संबंधी दिलेरी को आधुनिक समय में जमीनों को अनुकूल बनाने के अच्छे कामों में उपयोग के लिए रखा गया था. तेलुगु भाषा में कई ऐसी कहावतें हैं जो कम्मा समुदाय की कृषि के क्षेत्र में अनुकूलता और मिट्टी से उनके भावनात्मक लगाव के बारे में बताते हैं.

उदहारण के लिए

  • कम्मावाणी चेतुलु कट्टिना निलवडु (तेलुगु: కమ్మవాని చేతులు కట్టినా నిలవడు) (आप भले ही कम्मा के हाथों को बाँध दें वह शांत नहीं बैठेगा)
  • कम्मावारिकी भूमि भयपडुथुण्डी (तेलुगु: కమ్మవారికి భూమి భయపడుతుంది ) (धरती कम्मा से डरती है[72].

एडगर थर्सटन जैसे अंग्रेजी इतिहासकारों और एम.एस. रंधावा जैसे विख्यात कृषि वैज्ञानिकों ने कम्मा किसानों की भावना को सराहा है.[73][74]. त्रिपुरानेनी गोपीचंद द्वारा लिखित एक लघु कथा मामकरम में जमीन और मिट्टी के साथ कम्मा किसानों के भावनात्मक लगाव का गहराई से चित्रण किया गया है.[75]

सर ऑर्थर कॉटन द्वारा बांधों और बैराजों का निर्माण और गोदावरी एवं कृष्णा नदी के डेल्टा क्षेत्रों में एक सिंचाई प्रणाली की स्थापना कम्मा किसानों के लिए एक महान वरदान था. पानी की उपलब्धता और कड़ी मेहनत की स्वाभाविक प्रवृत्ति ने कम्मा जाति को समृद्ध और प्रगतिशील बनाया.[76] कई स्कूलों और पुस्तकालयों की स्थापना कर और अपने बच्चों को आधुनिक शिक्षा लेने के लिए प्रोत्साहित कर पैसों का बेहतर इस्तेमाल किया गया. सभी समुदायों में कम्मा बड़ी संख्या में शिक्षा लेने के लिए सबसे आगे रहने वालों में से एक थे.[77] 10 सालों की अवधि में अकेले गुंटूर जिले में उनके प्रयासों से 130 हाई स्कूलों और हॉस्टलों की स्थापना की गयी थी. चल्लापल्ली और कपिलेस्वरपुरम के जमींदारों ने कई स्कूलों और पुस्तकालयों की स्थापना की थी. आधुनिक समय में समृद्धि में वृद्धि की रफ़्तार व्यापार, रियल एस्टेट, कृषि, कला और फिल्म उद्योग, शिक्षा, चिकित्सा, इंजीनियरिंग, मीडिया और उच्च प्रौद्योगिकी में उनके उद्यम और उल्लेखनीय उपलब्धियों के कारण तेजी से बढ़ी.[78]

तमिलनाडु के कम्मा समुदाय, जो विजयनगर साम्राज्य के प्रवासित कमांडरों के वंशज हैं उन्होंने काले कपास की खेती के लिए मिट्टी तैयार करने में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया और बाद में विशेष रूप से कोयंबटूर में विविध प्रकार के औद्योगिक उद्यमों में अपना विस्तार किया.[79][80][81][82][83]

हाल ही के अतीत में उद्यमी किसानों ने अन्य क्षेत्रों जैसे कि निजामाबाद, रायचूर और बेल्लारी (कर्नाटक), रायपुर (छत्तीसगढ़) और संबलपुर (उड़ीसा) में प्रवास कर लिया. पिछले पचास वर्षों में कम्मा समुदाय के उद्यमों ने आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और सामान्य रूप से देश के सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक जीवन के हर पहलू को गहराई से प्रभावित किया है. आंध्र प्रदेश राज्य की अर्थव्यवस्था के लिए कम्मा समुदाय के योगदान महत्वपूर्ण हैं.

ज्ञान और शिक्षा की शक्ति के साथ कम्मा समुदाय की एक बड़ी संख्या अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड आदि में प्रवासित हो गए हैं. यह प्रवास आंध्र प्रदेश राज्य द्वारा अनुभव किये जा रहे कई सामाजिक-सांस्कृतिक परिवर्तनों के साथ निरंतर जारी है.

वितरण[संपादित करें]

आंध्र प्रदेश राज्य में कम्मा समुदाय मुख्य रूप से खम्मम, गुंटूर और कृष्णा जिले के बाद प्रकासम जिलों में पाए जाते हैं. इनकी एक बड़ी संख्या पश्चिमी गोदावरी, पूर्वी गोदावरी, चित्तूर, निजामाबाद, हैदराबाद (भारत), रंगारेड्डी, अनंतपुर और नेल्लोर जिलों; कर्नाटक के बेल्लारी और बंगलोर जिलों; एवं तमिलनाडु के चेन्नई, मदुरै, कोयम्बटूर, तिरुनेलवेली, तूतीकोरिन, कोविलपट्टी, विरुधुनगर, थेनी, डिंडीगुल, उत्तरी अर्काट और दक्षिण अर्काट जिलों में भी पायी जाती है.

ज़मींदारियाँ[संपादित करें]

आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के कुछ प्रमुख कम्मा ज़मिंदारियों में शामिल हैं:

  • चल्लापल्ली - यार्लागड्डा कुल
  • चिंतापल्ली/अमरावती - वासिरेड्डी कुल
  • कपिलेश्वरपुरम - श्री बालुसु कुल
  • मुक्त्याल - वासिरेड्डी कुल
  • मेल्कालाथुरु (पुराना अर्काट डीटी) - बोल्लिना/बोल्लिनेनी/बोल्लिनी कुल
  • इलायारासनेंडल (तिरुनेलवेली डीटी) - राविल्ला कुल
  • नीकारापट्टी (डिंडुगल डीटी ) - पेम्मासानी कुल

कुलनाम (सरनेम)[संपादित करें]

कई कम्मा कुलनाम जो "नेनी" निरूपण के साथ पूरे होते हैं, "नायाकुडु/नायडू/नायूनी" टाईटलों वाले किसी पूर्वज के वंश से हैं. उदाहरण के लिए कुलनाम "वीरमाचानेनी' की उत्पत्ति 'वीरामाचा नायडू' से हुई थी. अन्य कुलानामों से उन गांवों का संकेत मिलता है जिनसे उन व्यक्तियों का मूलतः संबंध था. कम्मा समुदाय विभिन्न क्षेत्रों में अलग-अलग टाईटलों का उपयोग करते थे जैसे कि चौधरी, नायडू, राव और नायकर. तमिलनाडु और दक्षिणी आंध्र प्रदेश में सामान्यतः नायडू का प्रयोग किया जाता है. नायकर टाईटल का प्रयोग कोयम्बटूर जिले के दक्षिणी क्षेत्रों में किया जाता है. हालांकि तेलुगु भाषी कापू, वेलामा और अन्य समुदाय भी तटीय आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में क्रमशः नायडू और नायकर टाईटलों का उपयोग करते हैं.

उप-प्रभाग[संपादित करें]

ब्रिटिश भारत की जनगणना के अनुसार (1891) छः प्रभाग मौजूद थे यानी पेडाकम्मा, गोडाचाटू कम्मा और इल्लुवेल्लानी कम्मा (कृष्णा, गुंटूर, अनंतपुर जिलों में); बंगारू कम्मा (उत्तरी अर्काट); वाडुगा कम्मा (कोयम्बटूर) और कवाली कम्मा ( गोदावरी जिलों में)[84]. इसके अलावा गांदीकोटा कम्मा, गैम्पा कम्मा और माचा कम्मा जैसे प्रभाग भी मौजूद हैं. आधुनिक समय में इन डिवीजनों में सभी मौजूद हैं लेकिन गायब हो गए हैं.

राजनीति[संपादित करें]

कम्मा समुदाय आंध्र प्रदेश के सभी क्षेत्रों और तमिलनाडु एवं कर्नाटक के कुछ हिस्सों में राजनीतिक रूप से सक्रिय हैं. बीसवीं शताब्दी के दौरान प्रोफेसर एन.जी. रंगा, पटूरी राजगोपाल नायडू, कोठा रघुरामैया, गोट्टीपती ब्रह्मैया, मोटुरु हनुमंत राव और कल्लूरी चंद्रमौली जैसे नेताओं की एक बड़ी संख्या ने राष्ट्रीय स्वतंत्रता आंदोलन में प्रमुख भूमिका निभाई थी. कई कम्मा समुदाय भी वामपंथी आदर्शों के प्रति आकर्षित थे और कम्युनिस्ट पार्टी में शामिल हुए. यह साठ के दशक के मध्य तक राज्य में एक मजबूत राजनीतिक शक्ति थी. कई समृद्ध कम्मा ने स्वेच्छा से अपनी भूमि का त्याग कर दिया और सक्रिय रूप से भूमि वितरण संबंधी सुधारों के लिए काम किया. इससे कई भूमिहीन व्यक्तियों को मध्यम वर्ग का दर्जा प्राप्त करने में मदद मिली और सिर्फ एक विशेष समुदाय की बजाय संपूर्ण राज्य के लिए व्यापक आर्थिक विकास लेकर आया. हम इस बलिदान के फायदों को राज्य में अब देख रहे हैं जिस तरह आंध्र प्रदेश एक महत्त्वपूर्ण आर्थिक केंद्र के रूप में विकसित हो गया है. हालांकि शुरुआती दिनों में कम्युनिस्ट पार्टी के प्रति उनकी आत्मीयता दुनिया भर में कम्युनिस्ट पार्टी का प्रभाव कम होने के साथ-साथ उनके लिए अपनी राजनीतिक ताकत खोने का कारण बनी.

1980 के दशक के दौरान उन्होंने अपने तत्कालीन अध्यक्ष नन्दमूरी तारक रामाराव जिन्हें एनटीआर भी कहा जाता है, द्वारा तेलुगु देशम पार्टी के गठन के साथ राज्य और राष्ट्रीय राजनीति में एक बार फिर से एक मुख्य भूमिका निभाई.[85] नारा चंद्रबाबू नायडू ने आंध्र प्रदेश को एक प्रगतिशील दिशा दी और राज्य को वैश्विक मान्यता दिलाई.[86]

क्रॉसरोड्स (दोराहा/चौराहा)[संपादित करें]

कम्मा परिवारों की एक बड़ी संख्या ने पहले ही अपने आप को भारत और विदेशों के शहरी केन्द्रों में प्रतिस्थापित कर लिया है. उनकी उद्यमी प्रकृति और कड़ी मेहनत ने एक 'नव-अमीर" वर्ग तैयार कर दिया है. गांवों में भूमि सुधारों के कारण कई कम्मा समुदायों को गरीबों और निर्धनों को दान करने के लिए अपनी जमीन सरकार को सौंप देने के लिए मज़बूर होना पड़ा. इसके बाद जमीन का स्वामित्व खंडित हो गया और इस समय ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले ज्यादातर कम्मा छोटे किसान हैं. मौसम की अनियमितता और बेहतर "समर्थन मूल्य" की कमी ने कृषि को अलाभकारी बना दिया है. कृषि में रुचि कम होने के साथ-साथ शहरी क्षेत्रों में प्राप्त होने वाले अवसरों ने परिस्थितियों को और अधिक बिगाड़ दिया है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • कम्मा की सूची

टिप्पणियां[संपादित करें]

  1. डब्लू.सी. प्लोडेन, 1883, 1881 की भारतीय राष्ट्र जनगणना, जनसंख्या का आकड़ा वॉल्यूम II., कलकत्ता, पी. 30
  2. जनसंख्या का आकड़ा: http://www.odi.org.uk/resources/odi-publications/working-papers/179-caste-class-social-articulation-andhra-pradesh-india.pdf
  3. आंध्र प्रदेश में जाति, वर्ग और सामाजिक अभिव्यक्ति: मैपिंग डिफरेन्शल रीजनल ट्रजेक्टरी, के.श्रीनिवासुलू, पॉलिटिकल साइंस का विभाग, ओस्मानिया यूनिवर्सिटी, 2002, हैदराबाद, पी. 3
  4. सूरी, के.सी., 2002, ओवरसीज़ डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट, ब्रिटेन: http://www.odi.org.uk/publications/working-papers/180-democratic-process-electoral-politics-andhra-pradesh-india.pdf
  5. कोठा भाविह चौधरी द्वारा (तेलुगु भाषा में) कम्मावरी चरित्र, 1939. संशोधित संस्करण (2006), पवुलुरी प्रकाशक, गुंटूर
  6. तेलुगु विग्नना सर्वास्वामु, वॉल्यूम 2, इतिहास, तेलुगु यूनिवर्सिटी हैदराबाद
  7. वी.आर. वेमुरी द्वारा तेलुगु-अंग्रेजी शब्दकोश, 2003, एशियन एज्युकेशनल सर्विसेज, पी. 99, आईएसबीएन 81-206-1637-5
  8. तेलुगु साहित्य का इतिहास, चेनचईयाह, बी. और भुजंगा राव, आर.एम., 1988, एशियन एज्युकेशनल सर्विसेज, पी.50, आईएसबीएन 81-206-0313-3
  9. अमरावती और जग्गय्यापेटा का बौद्ध स्तूप, मद्रास प्रेसीडेंसी, जे. बर्गेस, 1886, पी. 110
  10. एपिग्राफिका इंडिका, वॉल्यूम VIII, पीपी. 233-236 (कुमार विष्णु की चंद्लुरु कॉपर प्लेट का शिलालेख)
  11. एपिग्राफी इंडिका, वॉल्यूम XV, पीपी. 249-252 (पल्लव राजा विजय स्कंदवर्मा की ओंगोल तांबे प्लेट का शिलालेख)
  12. एपिग्राफिका इंडिका, वॉल्यूम XVIII, पी. 250 (पुलकेसी द्वितीय की कोप्परापू तांबे प्लेट का शिलालेख, 7वीं शताब्दी सीई)
  13. एपिग्राफिका इंडिका, वॉल्यूम XVIII, पी. 27 (चालुक्य राजा विक्रमादित्य V की अलुरु शिलालेख, 1011 सीई)
  14. दक्षिण भारत की कॉप-प्लेट और स्टोन का शिलालेख, ए.बटर्वर्थ और वी.सी. वेणुगोपाल, 1905, गवर्नमेंट प्रेस, मद्रास; सुन्दीप प्रकाशन, 2006, आईएसबीएन 81-85066-63-9
  15. C., Veerabhadra Rao (1910) (PDF). Andhrula Charitra. Vol 1. pp. 232. http://ia331307.us.archive.org/1/items/andhrulacharitra025965mbp/andhrulacharitra025965mbp.pdf. 
  16. गरुड़ पुराण: ऐक अध्यन, पंडित. अवध बिहारी लाल अवस्थी, पी. 28
  17. गरुड़ पुराण (1/15/13)
  18. कोठा भाविह चौधरी द्वारा (तेलुगु भाषा में) कम्मावरी चरित्र, 1939. संशोधित संस्करण (2006), पवुलुरी प्रकाशक, गुंटूर (कम्मा का संक्षिप्त इतिहास, के.बी. चौधरी, 1954, कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी, डिजिटाइज़ 2007)
  19. बुद्धिस्ट हैरिटेज ऑफ आंध्र प्रदेश
  20. सामग्रा आंध्र देसा चरित्र-सम्सकृति, वॉल्यूम III, 2002, एम.एच. राव, कमला प्रकाशन, हैदराबाद
  21. अमरावती और जग्गय्यापेटा का बौद्ध स्तूप, मद्रास प्रेसीडेंसी, जे. बर्गेस, 1886
  22. दक्षिण भारत की कॉपर-प्लेट और स्टोन का शिलालेख, ए. बटर्वर्थ और वी.सी. वेणुगोपाल, 1905, गवर्नमेंट प्रेस, मद्रास; सुन्दीप प्रकाशन, 2006, आईएसबीएन 81-85066-63-9 (त्रिभुवन मल्ला की कोनिडेना शिलालेख - 1146 सीई)
  23. [1]
  24. [2]
  25. आंध्रा इतिहास और संस्कृति की पत्रिका, वॉल्यूम 1, नंबर 2 (परुचुरी केतिनायुडू का शिलालेख)
  26. सर्वग्ना सिंगाभुपाला द्वारा पद्मानायका चरित्र (तेलुगु में)
  27. भारत के मध्य प्रांत की जनजातियां और जातियां, आर.बी रसेल और आर.बी.एच. लाई, 1995, एशियन एज्युकेशनल सर्विसेज, पी.372, ISBN-206--0833 X
  28. दक्षिण भारतीय शिलालेख, वॉल्यूम I, पी. 243 और 317
  29. मद्रास एपिग्राफी की वार्षिक रिपोर्ट वॉल्यूम 38, नंबर 346
  30. मद्रास एपिग्राफी की वार्षिक रिपोर्ट वॉल्यूम 38, नंबर 348
  31. आंध्रा इतिहास और संस्कृति की पत्रिका, वॉल्यूम 1, नंबर 2
  32. मद्रास एपिग्राफी की वार्षिक रिपोर्ट, 1916, वॉल्यूम 15, नंबर 333, पी. 135
  33. काकतीय शिलालेख, ए आर #539, नंबर 442: http://www.whatisindia.com/inscriptions/south_indian_inscriptions/volume10/kakatiya_dynasty_2.html
  34. कम्मावरी चरित्र, कोठा भावैह चौधरी, 1939, संशोधित संस्करण (2006), पवुलुरी प्रकाशक, गुंटूर
  35. एन.वेंकटरामनय्या द्वारा अंग्रेजी अनुवाद वेलुगोतिवारी वंशावली
  36. अहल्यासंकरणदानाविलासमु
  37. अन्ध्रुला चरित्र, सी. वीरभद्र राव (तेलुगु में) (http://ia331307.us.archive.org/1/items/andhrulacharitra025965mbp/andhrulacharitra025965mbp.pdf)
  38. कोठा भाविह चौधरी द्वारा (तेलुगु भाषा में) कम्मावरी चरित्र, 1939. संशोधित संस्करण (2006), पवुलुरी प्रकाशक, गुंटूर, पीपी 10-13, 15
  39. वेलुगोतिवारी वंशावली एन.वेंकटरामनय्या द्वारा अंग्रेजी अनुवाद
  40. सर्वग्ना सिंगाभुपाला द्वारा पद्मानायकाचरित्र (तेलुगु में)
  41. कोठा भाविह चौधरी द्वारा (तेलुगु भाषा में) कम्मावरी चरित्र, 1939. संशोधित संस्करण (2006), पवुलुरी प्रकाशक, गुंटूर. पीपी. 31-32
  42. आंध्रादेसा के प्रारंभिक राजवंशों का एक इतिहास, सी. 200-625, बी.वी. कृष्णाराव, वी.आर. सास्त्रुलू, मद्रास, 1942, पी. 370; http://books.google.co.in/books?id=ONSCAAAAIAAJ&q=dharanikota&dq=dharanikota&lr=&pgis=1
  43. आंध्र देश का इतिहास, यशोदा देवी, ज्ञान प्रकाशन हाउस, नई दिल्ली; http://books.google.co.in/books?id=-d9IAvFOUHsC&pg=PA171&dq=dhanyakataka&lr=#PPA159,M1
  44. आन्ध्र का इतिहास, दुर्गा प्रसाद (http://igmlnet.uohyd.ernet.in:8000/gw_44_5/hi-res/hcu_images/G2.pdf)
  45. नृत्य रत्नावली (http://www.telugupeople.com/discussion/article.asp?id=111
  46. एच.ई.एच. निजाम के राज्य की जातियां और जनजातियां, एस.एस. हसन, 1989, एशियन एज्युकेशनल सर्विसेज, पी. 308, आईएसबीएन 81-206-0488-1
  47. भिमेस्वारा पुरानामु, श्रीनाथ, 1-31 (तेलुगु में)
  48. [Inscription 421 States that Dadi Ganna-Nayaka made a gift of land http://www.whatisindia.com/inscriptions/south_indian_inscriptions/volume10/kakatiya_dynasty_1.html]
  49. अर्तिबुस एशिए, वागोनेर, पी.बी और राइस, जे.एच., 2001, 61:77-117
  50. दिल्ली सल्तनत: एक राजनीतिक और मिलिट्री इतिहास, पीटर जैक्सन, 1999, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, कैम्ब्रिज
  51. इस्लाम का इतिहास कैम्ब्रिज, बी लुईस, ए.के.एस. लैंब्टन और पी.एम. होलट्प, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, 1977, पी 19, आईएसबीएन 0-521-29137-2
  52. श्री मारना मार्कंडेय पुरानामु, जी.वी. सुब्रह्मण्यम, 1984, साहित्य एकेडमी, हैदराबाद, पी. 185
  53. प्रोलाया का विलासा ग्रांट; एपिग्राफिका इंडिका 32: 239-268
  54. आंध्र का इतिहास, दुर्गा प्रसाद (http://igmlnet.uohyd.ernet.in:8000/gw_44_5/hi-res/hcu_images/G2.pdf), पी. 168
  55. प्रैक्टिस में प्री-कोलोनियल इंडिया, सिंथिया टैलबोट, 2001, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, पीपी.177-182, आईएसबीएन 0-19-513661-6
  56. फरदर सॉर्सेस ऑफ विजयनगर हिस्ट्री, के.ए. नीलकांत शास्त्री, 1946.
  57. विजयनगर साम्राज्य के कम्मा कमांडर, के.ई.दत्त, इन: आन्ध्र हिस्टोरिकल सोसाइटी की पत्रिका, 1926. वॉल्यूम X, पी. 223
  58. विलियम जैक्सन द्वारा विजयनगर वॉइसेस, एश्गेट प्रकाशन लिमिटेड, 2005 पी.124, आईएसबीएन 0-7546-3950-9
  59. आन्ध्र हिस्टोरिकल रिसर्च सोसायटी की पत्रिका, 1926 वॉल्यूम X, के. इस्वारा दत्त, पीपी. 222-224
  60. विजयनगर, बर्टन स्टीन, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, 1989, पी.88, आईएसबीएन 0-521-26693-9
  61. विजयनगर, बर्टन स्टीन, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, 1989, पी.92, आईएसबीएन 0-521-26693-9
  62. कृष्णराज विजयामु, कुमार धुर्जती
  63. टाइडिंगज़ ऑफ दी किंग: ए ट्रांसलेशन एंड एथ्नोहिस्टोरिकल अनैलिसिस ऑफ दी रायवाचकामु, फिलिप बी. Wagoner, 1993, (ISBN 0-8248-1495-9).
  64. ए फॉरगोटन एम्पायर (विजयनगर): भारत के इतिहास में योगदान, रॉबर्ट सेवेल्ल. (http://historion.net/r.sewell-vijayanagar-history-india
  65. सौगंधिका प्रसवापहरनामु, रत्नाकरम गोपाला कवी
  66. दक्षिणी भारत का उच्चवर्ग, ए.वादिवेलु, 1984, मित्तल प्रकाशन, नई दिल्ली, पी. 167
  67. टेक्स्चरस ऑफ टाइम: राइटिंग हिस्ट्री इन साउथ इंडिया, वी. नारायनाराऊ, डी.डी. शुलमन और एस. सुब्रह्मण्यम, 2003, अन्य प्रेस एलएलसी, पी. 264, आईएसबीएन 1-59051-044-5
  68. कम्मावरी चरित्र, के.बी. चौदरी, 1939, संशोधित संस्करण (2006), पवुलुरी प्रकाशक, गुंटूर
  69. हिस्ट्री ऑफ वासिरेड्डी क्लैन
  70. कृष्णा डिस्ट्रिक्ट मैनुअल, कर्नल गॉर्डन मैकेंज़ी, मद्रास प्रेसीडेंसी, 1883, एशियन एज्युकेशनल सर्विसेज, 1990, आईएसबीएन 81-206-0544-6
  71. श्री राजा वासिरेड्डी वेंकादादरी नायडू, 1963, के.लक्ष्मीनारायण.
  72. गेजेटर ऑफ दी नेल्लोर डिस्ट्रिक्ट: मद्रास डिस्ट्रिक्ट, गवर्नमेंट प्रेस, मद्रास, 1942, पी.104
  73. कास्ट्स एंड ट्राइब्स ऑफ साउथर्न इंडिया, 1965, एडगर थर्सटन.
  74. फार्मर्स ऑफ इंडिया, 1959, एम.एस.रंधावा, इंडियन काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चर रिसर्च, नई दिल्ली
  75. टी. गोपीचंद, तेलुगु कथानिकालू, साहित्य एकेडमी, नई दिल्ली, 1979
  76. पार्टीज, इलेक्शंस एंड मौबिलिजेशन, के.आर. मूर्ति, 2001, अनमोल प्रकाशन, नई दिल्ली, पी. 20
  77. एज्युकेशन एंड दी डिसप्रिविलेग्ज्ड, एस भट्टाचार्य, 2002, ओरिएंट, लॉन्गमैन, पी.58, आईएसबीएन 81-250-2192-2
  78. कास्ट्स एंड दी आंध्रा कम्युनिस्टस, एस. हैरिसन, एपीएसआर, वॉल्यूम. 50, पीपी. 378-404
  79. विजयनगर, बर्टन स्टीन, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, 1989, पी.46, आईएसबीएन 0-521-26693-9
  80. ग्लोबलिसिंग फ़ूड, डी. गुडमैन, 1997, रोउतलेद्गे, पी. 91, आईएसबीएन 0-415-16252-1
  81. फ्रटर्नल कैपिटल, शरद चारी, 2004, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, पी. 162, आईएसबीएन 0-8047-4873-X
  82. दी वॉइइज टू एक्सेलेंस, एन.अमरनाथ, 2005, पुस्तक महल, पी.122,आईएसबीएन 81-223-0904-6
  83. रूरल सोसाइटी इन साउथईस्ट एशिया, के.गौघ, 1981, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, कैम्ब्रिज, पी. 29, आईएसबीएन 0-521-04019-1
  84. 1881 की भारतीय राष्ट्र जनगणना, जनसंख्या का आकड़ा वॉल्यूम II., डब्लू.सी. प्लोडेन, 1883, कलकत्ता, पी. 30
  85. पॉलिटिकल पार्टीज इन साउथ एशिया, एस.के.मित्रा और एम.एन्स्केट, 2004, प्रेजर/ग्रीनवुड, पी.115, आईएसबीएन 0-275-96832-4
  86. दी इम्पैक्ट ऑफ एशियन पावर्स ऑन ग्लोबल डेवलपमेंट्स, ई. रिटर और पी.हाज्ड्रा, 2004, स्प्रिंगर, पी. 125, आईएसबीएन 3-7908-0092-9

संदर्भ[संपादित करें]

शिलालेख[संपादित करें]

  • त्रिभुवन मल्ला के कोनिडेना शिलालेख - 1146 सीई
  • दक्षिण भारतीय शिलालेख, वॉल्यूम I, पी. 243 और 317
  • मद्रास एपिग्राफी की वार्षिक रिपोर्ट वॉल्यूम 38, नंबर 346 (पिन्नमा नायडू का शिलालेख)
  • मद्रास एपिग्राफी की वार्षिक रिपोर्ट, वॉल्यूम 38, नंबर 348 (देविनेनी एरा नायडू का शिलालेख)
  • आंध्रा इतिहास और संस्कृति की पत्रिका, वॉल्यूम 1, नंबर 2
  • मद्रास एपिग्राफी की वार्षिक रिपोर्ट, 1916, वॉल्यूम 15, नंबर 333, पी. 135 (रुद्रमा के अंगरक्षकों का विवरण).
  • श्रवणबेलगोला (1180 सीई) में जैन कवि बोप्पना द्वारा पुराने कन्नड़ में अलंकृत शिलालेख

वाह्य कड़ियाँ[संपादित करें]