कक्षीय अनुनाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
गैलीलियन चंद्रमाओं; गेनिमेड, युरोपा और आयो का 1:2:4 का कक्षीय अनुनाद I

कक्षीय अनुनाद (Orbital resonance) पाया जाता है जब दो या दो से अधिक पिंड किसी एक ही बड़े पिंड की परिक्रमा समान अवधि में पूरी करते है ।[1]

उदाहरण के लिए बृहस्पति के उपग्रहों गेनिमेड, युरोपा और आयो का 1 : 2 : 4 का अनुनाद, तथा प्लुटो और नेप्च्यून के बीच 2 : 3 का अनुनाद । आयो, युरोपा और गेनिमेड बृहस्पति के ठीक क्रमशः चार, दो व एक चक्कर लगाने में समान समय लेते है । इसी तरह प्लूटो सूर्य के दो चक्कर (246 x 2 = 492 वर्ष) और नेप्च्यून सूर्य के तीन चक्कर (164 x 3 = 492 वर्ष) समान समय में लगाते है । ध्यान रहे यह महज एक संयोग नहीं है बल्कि प्रणाली इन स्वरुपों को गुरुत्वाकर्षण के अधीन धारण करती है जिसके तहत वें एक दूसरे पर प्रभाव डालते है ।

सन्दर्भ[संपादित करें]