ऐमलथीया (उपग्रह)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सन् १९९६-९७ में गैलिलेओ यान द्वारा ली गयी ऐमलथीया की झलकी
सन् १९७९ में वॉयजर प्रथम द्वारा ली गयी ऐमलथीया की झलकी

ऐमलथीया (यूनानी: Αμάλθεια, अंग्रेज़ी: Amalthea) बृहस्पति ग्रह का तीसरा सब से अंदरूनी उपग्रह है। इस उपग्रह की खोज ९ सितम्बर १८९२ में ऍडवर्ड ऍमरसन बर्नार्ड नामक अमेरिकी खगोलशास्त्री ने की थी और यूनानी मिथ्य-कथाओं की एक पारी के नाम पर इसका नाम रखा गया। यह उपग्रह बृहस्पति के छल्लों में स्थित है और ऐमलथीया गोसेमर छल्ले के बाहरी किनारे पर स्थित है। यह छल्ला इसी उपग्रह से उभरी हुई धुल का बना है। यह बृहस्पति की परिक्रमा उस ग्रह से १,८१,००० किमी की दूरी पर करता है। ऐमलथीया के बृहस्पति के इतना पास होने से और उस ग्रह की तुलना में बहुत छोटा होने से बृहस्पति की स्थिरमुखी परिक्रमा करता है, यानि परिक्रमा करते हुए ऐमलथीया का एक ही रुख़ हमेशा बृहस्पति की ओर होता है।[1] यह बृहस्पति के इतना पास है कि यदि इसकी सतह पर खड़ा होकर आकाश पर नज़र डाली जाए तो उसके अधिकांश भाग में बृहस्पति ही फैला हुआ दिखाई देगा।[2]

अकार और रंग-रूप[संपादित करें]

ऐमलथीया का अकार बेढंगा है और उनका माप २५० - १४६ - १२८ कीमी है (लम्बाई, चौड़ाई, गहराई)। इसका रंग काफ़ी लाल है। वैज्ञानिक अंदाज़ा लगते हैं कि यह अधिकतर पानी की बर्फ का बना हुआ है और इसमें लालीमा प्रदान करने वाले कुछ तत्व मिले हुए हैं। संभव है कि इनमें आयो नामक पड़ोसी चन्द्रमा पर हो रहे ज्वालामुखीय विस्फोटों में उगला गया सल्फ़र शामिल हो।[3] जब गैलिलेओ यान ने इसका अध्ययन किया तो इसपर पहाड़ियाँ और क्रेटर नज़र आये थे।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Jupiter odyssey: the story of NASA's Galileo mission, David M. Harland, Springer, 2000, ISBN 978-1-85233-301-0, ... Although Amalthea is clearly irregular in shape, and its 270-kilometre long primary axis is tidally locked and aimed at Jupiter, it is too small for much surface detail to be resolved in the best Voyager image ...
  2. Jupiter, Ron Miller, Twenty-First Century Books, 2002, ISBN 978-0-7613-2356-3, ... In fact, from Amalthea Jupiter appears so large that it might be said that it is the sky ...
  3. The grand tour: a traveler's guide to the solar system, Ron Miller, William K. Hartmann, Workman Pub., 1993, ISBN 978-1-56305-031-2, ... Amalthea is red only on the surface. A little digging might reveal a much lighter color. The scarlet coloring of Amalthea may be a layer of sulfur-rich contaminants blown off Io by meteorites and volcanic eruptions ...