एशिया में साम्राज्यवाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एशिया में साम्राज्यवाद के बीज पन्द्रहवीं शताब्दी के उत्तरार्ध में पड़ गये थे जब भारत के लिये समुद्री मार्ग की खोज करने के लिये एक-के-बाद-एक कई समुद्री यात्राएँ की गयीं। ये यात्राएं यूरोप और एशिया के बीच मसालों के क्षेत्र में सीधा व्यापार-सम्पर्क स्थापित करने के उद्देश्य से की गयीं।

1415 से 1542 तक के पुर्तगाली यात्राएँ : पहुचने का स्थान व तिथि; हिन्द महासागर में पुर्तगाली व्यापारिक मार्ग (नीला); जॉन तृतीय के अधीन पुर्तगाली साम्राज्य (हरा)

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

एशिया का इतिहास