एलेक्ट्रॉन नलिका

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एलेक्ट्रॉन नलिका (Electron tube) काँच या अन्य पदार्थ का नली से मिलता-जुलता संरचना है। इसमें एक एलेक्ट्रॉन का कोई स्रोत होता है जिससे निकलकर एलेक्ट्रॉन दूसरे प्लेट पर जाते हैं। इन एलेक्ट्रॉनों की संख्या, इनके वेग, इनकी उर्जा आदि को तरह-तरह से नियंत्रित किया जाता है। इस प्रकार बहुत सी युक्तियाँ एलेक्ट्रॉन नलिका का प्रयोग करके बनती हैं। उदाहरण के लिये, टेलिविजन मॉनिटर, कैथोड-किरण नलिका, निर्वात डायोड, ट्रायोड, थाइरेट्रॉन, मैग्नेट्रॉन, क्लाइस्ट्रॉन आदि।

कुछ प्रकार की नलियों का उपयोग रेडियो-आवृत्ति-शक्ति (रेडियो फ्ऱीक्वेंसी पावर) उतपन्न करने में किया जाता है जिसका उपयोग रेडियो संग्राही (रिसीवर) तथा रेडियो प्रेषी (ट्रैंसमिटर) में किया जाता है। इन नलियों का उपयोग क्षीण संकेतों के प्रवर्धन (ऐंप्लिफ़िकेशन), ऋजुकरण (रेक्टिफ़िकेशन) तथा परिचयप्राप्तकरण (डिटेक्शन) में होता है। यह कहा जा सकता है कि साधारण इलेक्ट्रान नली की खोज ने ही रेडियो टेलीफोन, ध्वनिचित्र (बोलता सिनेमा), दूरवीक्षण (टेलिविज्हन), रेडियो आदि को जन्म दिया है।

रचना[संपादित करें]

साधारणतया इलेक्ट्रान नली धातु के दो अथवा अधिक विद्युदग्रों (इलेक्ट्रोड्स) की बनी होती है जो काँच अथवा धातु के बने निर्वात कक्ष में बंद रहते हैं। ध्रुव एक दूसरे से पृथक्कृत होते हैं। एक ध्रुव को ऋणाग्र (कैथोड) कहते हैं जिसका कार्य इलेक्ट्रानों का उत्पादन है। दूसरे ध्रुव को धनाग्र (एनोड) अथवा पट्टिका (प्लेट) कहते हैं जो ऋणाग्र की अपेक्षा धन विभव पर रखा जाता है। इस प्रकार इलेक्ट्रान नली में स्थापित विद्युत्‌क्षेत्र में इलेक्ट्रान ऋणात्मक ध्रुव से धनात्मक ध्रुव की ओर चलते हैं और ध्रुवों के अंतर्गत एक इलेक्ट्रान धारा बहने लगती है। एक साधारण परिपथ (सर्किट), जिसमें ऐसी नली का उपयोग किया गया है, आकृति 1 में दिखाया गया है। बाह्य परिपथ में इलेक्ट्रान धनाग्र से विभवस्रोत (वोल्टेज सोर्स) से होकर ऋणाग्र में जाते हैं।

ऐसी समान विशिटतावाली नली, जिसमें दो ध्रुव होते हैं, द्वध्रिवी कहलाती है। कुछ नलियों में एक और ध्रुव लगा देते हैं जिसे ग्रिड कहते हैं ग्रिडविभव का उचित नियंत्रण करने पर नली में विद्युद्धारा का नियंत्रण एवं विशेष परिवर्तन किया जा सकता है। पहले पहल प्रयोग में लाई जानेवाली नलियों में इस ध्रुव की अपनी एक विशेष बनावट थी और इसी बनावट के कारण इसे ग्रिड कहते हैं। आजकल प्रयोग में लाई जानेवाली नलियों में इस प्रकार के अनेक ध्रुव होते हैं और इन नलियों का नाम इन ध्रुवों की संख्या पर पड़ जाता है, जैसे त्रिध्रुवी जिसमें तीन ध्रुव होते हैं, चतुर्ध्रुवी जिसमें चार ध्रुव होते हैं, पंचध्रुवी जिसमें पाँच ध्रुव होते हैं, इत्यादि।

अधिकतर इलेक्ट्रान प्राप्त करने के लिए ऋणाग्र को तप्त किया जाता है। इस प्रकार की नलियों को ऊष्मायनिक नलियाँ (थर्मिआयोनिक टयूब) (द्र. उष्मायन) कहते हैं। परंतु कुछ विशेष प्रकार की ऐसी नालियाँ होती हैं जिनको तप्त करने की आवश्यकता नहीं होती। उनको शीत ऋणाग्र नलियाँ (कोल्ड कैथोड टयूब) कहते हैं, उदाहरण के लिए गैस फोटो नली (गैस फोटो टयूब), विभव नियंत्रक नली (वोल्टेज रेग्यूलेटर ट्यूब) इत्यादि का उल्लेख किया जा सकता है।

प्रकार[संपादित करें]

इलेक्ट्रान नलियाँ कई प्रकार की होती हैं। सरलतम नली द्विध्रुवी (डाइओड) है, फिर त्रिध्रुवी (ट्राइओड), चतुर्ध्रुवी (टेट्रोड), पुंजशक्ति नली (बीम पावर टयूब), पंचध्रुवी (पेंटोड), षड्ध्रुवी इत्यादि हैं। इनके अतिरिक्त क्लाइस्ट्रान, मगनाट्रान, प्रगामी तरंग नली (ट्रैवेलिंग वेव टयूब) इत्यादि विशेष प्रकार की नलियाँ भी हैं जिनका प्रयोग उच्च आवृत्ति पर होता है। ऋणाग्र किरण नलियों (कैथोड रे टयूब्स) में इलेक्ट्रान पुंज का प्रयोग प्रकाश उत्पन्न करने में होता है और इस प्रकार वैद्युत शक्ति से दृष्टि संबंधी (विज्हुअल) परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। साधारण ऋणाग्र किरण नली का विशेष रूप ओथिकान नली है जिसका प्रयोग दूरवीक्षण में किया जाता है। प्रकाशविद्युत्‌ नलियों (फ़ोटो इलेक्ट्रिक टयूब) में प्रकाश का प्रयोग वैद्युत प्रभाव उत्पन्न करने में किया जाता है। कभी कभी निर्वात नलियों में थोड़ी सी गैस छोड़ दी जाती है जिससे उनके लाक्षणिक (कैरैक्टरिस्टिक) वक्रों में परिवर्तन हो जाए और वे कुछ विशिष्ट कार्यो में लाई जा सकें।

इलेक्ट्रॉन नलिकाएँ दो प्रकार की होती हैं :

विविध निर्वात नलिकाएँ[संपादित करें]

  • Audion
  • Beam-power pentode (beam tetrode)
  • Cathode ray tube
  • Charactron
  • Compactron
  • Crookes tube
  • Dekatron
  • Diode
  • Fleming valve
  • Iconoscope
  • Kinescope
  • Krytron
  • Klystron
  • Loewe 3NF
  • Magnetron
  • Mercury arc valve
  • Miniature valve
  • Monoscope
  • Nonode
  • Pentagrid converter
  • Pentode
  • Selectron tube
  • Storage tube
  • Tetrode
  • Traveling wave tube
  • Triode
  • Video camera tube
  • Williams tube

गैस भरी एलेक्ट्रॉन नलिकाएँ[संपादित करें]

  • Rectifiers
  • Voltage Regulators
  • Exitron
  • Ignitron
  • Thyratron
  • Nixie Tube
  • Seditron