एडेनिन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
एडेनिन
Adenine.svg
Adenine-3D-balls.png
Adenine-3D-vdW.png
आईयूपीएसी नाम 9H-प्यूरीन-6-अमीन
अन्य नाम 6-अमीनोप्यूरीन
पहचान आइडेन्टिफायर्स
सी.ए.एस संख्या [73-24-5]
पबकैम 190
SMILES
गुण
आण्विक सूत्र C5H5N5
मोलर द्रव्यमान 135.127 g/mol
गलनांक

360 - 365 °C

जहां दिया है वहां के अलावा,
ये आंकड़े पदार्थ की मानक स्थिति (२५ °से, १०० कि.पा के अनुसार हैं।
ज्ञानसन्दूक के संदर्भ

ऐडेनिन एक प्यूरीन है,जिसकी जैवरासायनिकी के क्षेत्र में विविध भूमिकाएं हैं, जिसमें कोशिकीय श्वसन भी शामिल है। यह ऊर्जा-प्रचुर ऐडेनोसिन ट्राई फॉस्फेट (ए.टी.पी) एवं कोफैक्टर: निकोटिन-एमाइड ऐडेनिन डाई-न्यूक्लियोटाइड (एन.ए.डी) तथा फ्लेविन ऐडेनिन डाई-न्यूक्लियोटाइड (एफ.ए.डी) तथा प्रोटीन संश्लेषण में डी एन ए के घटक के रूप में भी महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाता है। [1] ऐडेनिन का आकार थाएमिन या यूरेसिल के संपूरक है।

संरचना[संपादित करें]

यह अनेक टॉटोमर बनाता है, वे मिश्रण, जो कि अनेकों बार अदला बदल किए जा सकते हैं, व प्रायः इसके तुलनीय या समकक्ष माने जाते हैं।

जैवसंश्लेषण[संपादित करें]

प्यूरीन उपापचय में ऐडिनिन एवं गुवानिन का निर्माण भी होता है। ऐडेनिन एवं गुवानिन, दोनों ही न्यूक्लियोटाइड आयनिसिन मोनोफॉस्फेट (आई.एम.पी) से व्युत्पन्न होते हैं, जिसका संश्लेषण पहले ही अस्तित्व में रहे राइबोज़ पर एक जटिल प्रक्रिया द्वारा होता है। इसमें अमीनो अम्ल ग्लाइसिन, ग्लूटामाइन, ऐस्पार्टिक अम्ल तथा सह-किण्वक टैट्रा-हाइड्रो-फोलेट से स्थानांतरित हुए फॉर्मेट आयन के परमाणु प्रयोग होते हैं।

प्रकार्य[संपादित करें]

ऐडेनिन, दो प्यूरीन न्यूक्लियोबेस में से एक है (दूसरा गुवानिन है), जो न्यूक्लिक अम्ल में से न्यूक्लियोटाइड निर्माण में प्रयोग होते हैं। डी.एन.ए में ऐडेनिन थायमिन से दो हाइड्रोजन बंधओं द्वारा जुड़ा रहता है। इससे न्यूक्लिक अम्ल की संरचना स्थिर रह पाती है। आर एन ए में, जो साइटोप्लाज़्म में प्रोटीन संश्लेषण हेतु प्रयोग होता है; ऐडेनिन यूरेसिल से जुड़ा रहता है।

ऐडेनिन ऐडेनोसिन बनाता है, जो एक न्यूक्लियोसाइड है, जब वह राइबोज़ से जुड़ता है। और डिऑक्सीऐडेनोसिन बनाता है, जब यह डीऑक्सीराइबोज़ से जुड़ता है। यह ऐडेनोसिन ट्राईफॉस्फेट (ए.टी.पी), एक न्यूक्लियोटाइड, बनाता है, जब तीन फॉस्फेट समूह ऐडेनोसिन से जुड़ते हैं। ऐडेनोसिन ट्राईफॉस्फेट कोशिकीय उपापचय में प्रयोग होता है, जहां यह एक रासायनिक ऊर्जा के रासायनिक अभिक्रियाओं में स्थानांतरण के लिए प्रयोग होता है।

इतिहास[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]