एक दीवाना था

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
एक दीवाना था
एक दीवाना था.jpg
पोस्टर
निर्देशक गौतम मेनन
निर्माता
  • गौतम मेनन
  • रेशमा घटला
  • वेंकट सोमसुंदरम
पटकथा जावेद अख्तर
कहानी
  • गौतम मेनन
  • मनु ऋषि (संवाद)
अभिनेता
संगीतकार ए आर रहमान
छायाकार एम. एस. प्रभू
संपादक अन्थोनी गोंजाल्विस
स्टूडियो
  • फ़ोक्स स्टार स्टूडियोज़
  • फोटोन कथाज़
  • आर.एस. इन्फोटेनमेंट
वितरक फ़ोक्स स्टार स्टूडियोज़
प्रदर्शन तिथि(याँ)
  • 17 फ़रवरी 2012 (2012-02-17)
कार्यावधि 140 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी

एक दीवाना था २०१२ मे बनी भारतीय रोमांस ड्रामा फिल्म है, जो गौतम मेनन द्वारा लिखी और निर्देशित की गयी है। इसमें फिल्मी सितारे प्रतीक बब्बर और एमी जैक्सन प्रमुख भूमिकाओं में है।[1][2]

कथानक[संपादित करें]

सचिन का परिवार मुंबई में जेस्सी के परिवार के यहाँ किराए पर रहता है। सचिन (प्रतीक बब्बर) को पहली ही नज़र में जेस्सी (एमी जैक्सन) से प्यार हो जाता है। सचिन, जो एक कोंकनास्त ब्राह्मिन है, एक मैकेनिकल अभियंता है जो बेरोजगार है पर एक फ़िल्म निर्माता बनने के सपने देखता है और जेस्सी, जो एक मल्याली ईसाई है, एक बिसिए पदवीधर है जो आईटी कंपनी सिंटेल मे कार्य करती है। सचिन दिन रात जेस्सी से बात करने की कोशिश करता है, उसे निहारता रहता है और एक दिन गलती से अपने प्यार का इज़हार कर देता है। अगले ही दिन जेस्सी केरला चली जाती है। सचिन को लगता है की जेस्सी उससे नाराज़ हो कर चली गई है और वह अपने दोस्त (मनी ऋषि), जो एक कैमरामैन है, के साथ केरला पहुँच जाता है। वहा वह उससे मिलकर माफ़ी मांगता है और दोस्त बने रहने की गुज़ारिश करता है। मुंबई आते वक्त सचिन हद्द भूल कर जेस्सी को चूम लेता है, जिसके चलते वह नाराज़ हो जाती है। जेस्सी का भाई जेरी सचिन और जेस्सी को साथ देख लेता है और दोनों में झगडा हो जाता है। दोनों के झगडे परिवारो तक पहुँच जाते है और इसके चलते कुछ समय बाद जेस्सी की शादी तय हो जाती है और वह केरला लौट जाती है। सचिन अपने दोस्त के साथ पुनः केरला जाता है, पर वहाँ जेस्सी की शादी में जेस्सी विवाह-बद्ध होने से इनकार कर देती है। सचिन और उसके दोस्त को जेस्सी के घर वाले पकड़ लेते हैं और लड़ाई के चलते दोनों जेल पहुँच जाते है। जेल से छुटने के बाद जेस्सी और सचिन में प्यार हो जाता है।

दोनों मुंबई मे चुपके-चुपके मिलना शुरु कर देते हैं। सचिन का भी फ़िल्म निर्माता बनने का सपना साकार होने लगता है। एक दिन बेंगलुरु के पास शूटिंग के लिए सचिन निकल जाता है और यहाँ मुंबई में जेस्सी के परिवार वाले उसकी शादी पुनः तय करने लगते हैं। परेशान होकर जेस्सी सचिन से सारे सम्बन्ध तोड़ लेती है। छः महीने बाद सचिन को पता चलता है कि जेस्सी की शादी हो चुकी है और अब वह यूके चली गई है।

दो वर्ष बाद सचिन अपनी प्रेम कहानी पर एक फ़िल्म बनाना शुरू करता है। फ़िल्म की शूटिंग के दौरान आगरा में ताजमहल के पास उसकी मुलाकात जेस्सी से पुनः होती है। वहाँ सचिन को पता चलता है कि जेस्सी ने अभी तक शादी नहीं की है। दोनों वापस प्रेम करने लगते हैं और शादी कर लेते हैं। सचिन की फ़िल्म भी रिलीज़ के बाद सफल हो जाती है और इसके साथ ही फ़िल्म का अंत हो जाता है।

पात्र[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

गीतकार जावेद अख्तर, सिवाए उसके जहाँ लिखा गया है. 

क्र. शीर्षक गायक अवधि
1. "क्या है मोहब्बत"   ए आर रहमान 4:27
2. "दोस्त है (गर्ल आई लव्ड यु)"   नरेश अय्यर, जसप्रीत जस्ज़ और आर्या
साथ में: सचिन-जिगर
4:08
3. "एरोमेल (माई बिलव्ड)" (मलयालम बोल: कैथापरम नाम्बूथिरी) अल्फांसो जोज़फ़ 5:40
4. "होसान्ना"   लेओन डीसुज़ा और सुज़ान डिमेलो 5:31
5. "फूलों जैसी लड़की" (मलयालम बोल: कल्याणी मेनन) क्लिंटन सरेजो और कल्याणी मेनन 5:25
6. "शर्मिंदा हूँ"   ए आर रहमान और मधुश्री 6:56
7. "सुन लो ज़रा"   रशीद अली, श्रेया घोशाल और टिम्मी 4:11
8. "जोहर ज़बीं"   जावेद अली 3:13
9. "ब्रोकन प्रोमिसेस" (वाद्य) श्रेया घोशाल 4:31
10. "मोमेंट्स इन केरला" (वाद्य) प्रभाकर 2:40
11. "जेस्सिज़ लैंड" (वाद्य) मेघना 3:09
12. "जेस्सी इज़ ड्रायविंग मी क्रेज़ी" (बिट सोंग) संजीव थोमस और टिम्मी 2:55

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]