एक्रो डांस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
एक्रो नृत्य का नियम का एक भाग एल्बो स्टैंड का प्रदर्शन

एक्रो डांस (कलाबाजी नृत्य) नृत्य की एक शैली है जिसमे शास्त्रीय नृत्य की तकनीक के साथ एक्रोबैटिक के तत्व सूक्ष्मता से जुड़े होते हैं. यह हृष्ट-पुष्ट चरित्र द्वारा परिभाषित, अपनी अनूठी नृत्यकला, जिसमे नृत्य और कलाबाजी का बेजोड़ मिश्रण है, और इसमें कलाबाजी का उपयोग नृत्य के संदर्भ में किया जाता है.[1] यह शौकिया प्रतिस्पर्धी नृत्य के रूप में एक लोकप्रिय नृत्य शैली के साथ ही साथ पेशेवर नृत्य थिएटर तथा समकालीन सर्कस प्रस्तुतियों जैसे कि सर्कुए डू सोलेइल (Cirque du Soleil) के रूप में प्रस्तुत किया जाता है. यह तालबद्ध और कलात्मक जिमनास्टिक के विपरीत है, जो ऐसे खेल हैं जिनमे जिमनास्टिक के सन्दर्भ में नृत्य के तत्वों को क्रियान्वित किया जाता है, जिसमे हरेक नृत्य को शासी जिमनास्टिक.संगठन और अंकों के कोड द्वारा विनियमित किया जा रहा है. एक्रो डांस को अक्रोबेटिक डांस और जिम्नास्टिक डांस सहित अन्य कई प्रकार के नामों में जाना जाता है, हालांकि आमतौर पर इसे नर्तकों और पेशेवरों के द्वारा बस नृत्य के रूप में संदर्भित किया जाता है.

एक्रो नृत्य शैली के रूप में नर्तकियों के लिए एक विशेष रूप से चुनौती क्योंकि उनके लिए नृत्य-कला और कलाबाजी-कौशल (एक्रोबेटिक स्किल) दोनों में प्रशिक्षित होने की आवश्यकता है. एक्रो नर्तकियों को उत्कृष्ट शारीरिक क्षमता संपन्न होना चाहिए, क्योंकि एक्रो में शारीरिक गतिविधि की मांग होती है. हालांकि एक्रो एक लोकप्रिय नृत्य शैली है, फर भी कई नृत्य स्कूलों में यह नहीं सिखाया जाता है, अक्सर अक्रोबटिक प्रशिक्षण के लिए आवश्यक सुविधाओं या विशेषज्ञता की कमी के कारण.

इतिहास[संपादित करें]

एक वाडेविल नर्तकी

अक्रोबेटिक डांस का प्रादुर्भाव वाडेविले में किये जाने वाले एक प्रकार के प्रदर्शन के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में 1900 के आरम्भ में हुआ. हालांकि 1900 से पूर्व कई दशकों से व्यक्तिगत नृत्य और अक्रोबेटिक अंग-संचालन के कार्य वाडेविल में प्रदर्शित किये जाते रहे हैं, यह 1900 तक आकर यह नृत्य और अक्रोबेटिक अंग-संचालनों के संयुक्त मिश्रण का लोकप्रिय प्रदर्शन हो गया.

अक्रोबेटिक नृत्य अचानक से ही वाडेविले में प्रकट नहीं हुआ, बल्कि, यह समय के साथ धीरे - धीरे अपने प्रारूप की कई किस्मों में दिखाई दिया, और फलस्वरूप कोई एक व्यक्ति कलाकार को इसके प्रवर्तक के रूप में उद्धृत नहीं किया गया है. शर्मन कोट्स, जिसने वाटरमेलोन ट्रस्ट के साथ 1900 से 1914 तक प्रदर्शन किया, उसे साथी नर्तकियों ने अबतक की पहली अक्रोबेटिक नर्तकी.के रूप में मान लिए.[2] अन्य आरंभिक प्रमाणित नृत्य-कलाकारों में टॉमी वुड्स थे, जो शफल अलोंग (Shuffle Along) में अपनी धीमी गति से अक्रोबेटिक डांस के लिए जाने जाते हैं, जिसमे उन्होंने अक्रोबेटिक अंग-संचालनों को समय और संगीत के ताल-मेल के साथ सूक्ष्मता से अंजाम दिया है.[3] 1914 में, कलाबाज लुलु कोट्स (Lulu Coates) ने क्रैकजैकेट्स (Crackerjacks), एक लोकप्रिय वाडेविल मंडली का गठन किया जिसमे उनके प्रदर्शन में रंग-बिरंगे अक्रोबेटिक डांस शामिल थे, पर यह मंडली 1952 में तितर-बितर हो गई.[4] गेंस ब्रदर्स सहित कई अन्य लोकप्रिय वाडेविले कंपनिया उनके शो में में कलाबाजी और नृत्य का प्रदर्शन शामिल करती थीं.

वाडेविले युग के पतन के बाद से, अक्रोबेटिक नृत्य एक बहुआयामी विकास की प्रक्रिया के बाद अपने वर्तमान रूप में आया है. इस विकास का सबसे महत्वपूर्ण पहलू नृत्य आंदोलनों के लिए नींव के रूप में बैले तकनीक का एकीकरण है, इस प्रकार एक्रो नृत्य में फार्म और अंग-संचालन की परिशुद्धता लाई गयी जो वाडेविल अक्रोबेटिक नृत्य में अनुपस्थित थी. इसके अलावा, वाडेविले अक्रोबेटिक नृत्य अक्सर संगीत के अक्रोबेटिक सेट से थोड़ा अधिक थे, जबकि नृत्य के संदर्भ में प्रदर्शित अंग-संचालनों की निर्धारित कलाबाजी से अधिक आधुनिक एक्रो नृत्य मौलिक रूपसे मात्र नृत्य हैं.

लाक्षणिक विशेषताएं[संपादित करें]

एक्रो की परिभाषित विशेषता नृत्य और अक्रोबेटिक अंग-संचालनों के बीच निर्बाध, सुंदर संक्रमण है. इसके अलावा, उसके अक्रोबेटिक सामग्री के सन्दर्भ में, एक नृत्य में नृत्य संचालन का उल्लेखनीय प्रतिशत होना चाहिए, ताकि इसे एक्रो के रूप में वर्गीकृत किया जा सके. उदाहरण के लिए, जिमनास्टिक फर्श व्यायाम को एक्रो नहीं माना जाता है क्योंकि इसकी अक्रोबेटिक सामग्री की तुलना में इसमें नृत्य के अंग-संचालनों की कमी है, और इसलिए भी कि इसमें नृत्य और जिम्नास्टिक के अंग-संचालनों के बीच निर्बाध संक्रमण का अभाव है.

नृत्य तकनीक[संपादित करें]

एक्रो में अंग-संचालनों को बैले, जैज, गीतात्मक और आधुनिक नृत्य शैलियों में संस्थापित किया गया है. एक्रो नृत्य में अंग-संचालन इन नृत्य शैलियों में निषिद्ध नहीं है, लेकिन इन शैलियों का पूरा अभाव आम तौर पर एक ऐसे नृत्य के जन्म का कारण होगा जिसे एक्रो की तुलना में अलग कुछ और ही वर्गीकृत किया जा सकता है (उदाहरण के रूप में, ब्रेक डांस.

ऐक्रोबेटिक तत्व[संपादित करें]

एक्रो नृत्य में ऐक्रोबेटिक अंग-संचालनों के प्रदर्शन को करामात (tricks) के रूप में संदर्भित किया जाता है. कई करामात (गुर) सामान्यतः एक्रो नृत्य में प्रदर्शित होते हैं, जटिलता और उन्हें करने के लिए आवश्यक कौशल व्यापक रूप से बदलते रहते हैं. नर्तकियों को आवश्यक कौशल प्रदर्शन के लिए अपेक्षित स्पष्ट आवश्यकता के अलावा, करतब के प्रकार हैं जिसे एक एक्रो नृत्य में प्रदर्शित किया जा सकता है कि जो नर्तकियों की संख्या पर निर्भर करता है.

एकल करतबों को स्वतंत्र नर्तकियों द्वारा एकल या सामूहिक नृत्य में प्रदर्शित किया जा सकता है. इसके उदाहरण हैं:[5]

  • बैक लेआउट
  • बैक टक (पीठ के बल उकडूं मुद्रा)
  • बैक वाक् ओवर
  • कार्ट व्हील
  • चेस्ट स्टैंड (चीन स्टैंड)छाती के बल (ठोड़ी पर खड़े होना)
  • एल्बो (कोहनी) स्टैंड
  • फ्रोंट एरियल
  • हैण्डस्प्रिंग
  • हैण्डस्टैंड (हाथों पर खड़े होना)
  • हैण्ड वाकिंग (हाथ के बल चलना)
  • किप अप
  • राउण्डऑफ
  • साइड एरियल
  • वाल्देज़
फ्रंट एरियल
हाथ से चलना
वॉलडेज़

दोहरे करतब (डबल ट्रिक्स) भी नर्तक- नर्तकियों के भागीदारी वाले करतब के रूप में जाने जाते हैं---जिसे नर्तक-नर्तकियों की एक जोड़ी द्वारा ही प्रदर्शित किया जा सकता है. इसका एक उदाहरण पिच टक है, जिसमे एक नर्तकी 'काठी' के साथ अपने हाथों से जीन का आकार धारण करती है. काठी पर दूसरी नर्तकी अपने कदम रखती है और फिर पहली नर्तकी काठी.को उर्ध्वमुखी कर देती है. दूसरा नर्तकी है, जो ऊपर की ओर वापस रोटेशन के साथ स्वचालित है, हवा में एक पूरी परिक्रमा के बाद पैरों के बल जमीन पर उतरती है. एकरो पार्टनर्स कभी कभी एकल या डबल करतबों के अलावा नर्तकी को शोभनीय तरीके से ऊपर उठा लेने को प्रदर्शित करेंगे.

  • डबल बैक वाक ओवर
  • डबल कार्टव्हील
  • डबल प्लेंज
  • लानमाउअर
  • पिच टक
  • स्विज्ज्ल
  • वॉल्ट समरसॉल्ट
लॉनमोवर
पिच टक
स्विज़ल

सामूहिक करतबों (ग्रुप ट्रिक्स) में आम तौर पर तीन या अधिक नर्तकियों की आवश्यकता होती है. इसके उदाहरण हैं:

  • पिरामिड ब्रिज़
  • ट्रिपल कार्टव्हील

परिधान[संपादित करें]

जूते[संपादित करें]

एक्रो जूते की एक जोड़ी.
नीचे से देखने पर एक फूट थौंग दिखाई देता है.

एक्रो नृत्य का प्रदर्शन आमतौर पर व्यापक रूप से बदलती रहनेवाली कठोर सतहों पर किया जाता है. इस तरह के फर्श वस्तुतः जिमनास्टिक फर्श से काफी अलग होते हैं, जिनका निर्माण गद्देदार फ़ोम और स्प्रिंग के फर्श के ऊपर मानक सतह बिछाकर किया जाता है. जबकि जिमनास्ट नंगे पांव प्रदर्शन करते हैं और खिंचाव (ट्रैकशन) तथा लचीलेपन (कुशनिंग) के लिए मानक जिमनास्टिक फर्श पर निर्भर करते हैं, एक्रो नर्तकियां शायद ही कभी नंगे पैर नृत्य करती हैं, बजाय वे ऐसे जूतों पर निर्भर करती हैं जैसेकि एक्रो जूते या चमड़े की पट्टी वाली हवाई चप्पलें ताकि पैरों को आवश्यक तनाव और कर्षण उपलब्ध कराया जा सके.

सभी प्रकार के सामान्य एक्रो जूते खिंचाव (ट्रैक्शन) और लचीलापन (कुशनिंग) दोनों प्रदान करते हैं. इसके अलावा, एक्रो प्रदर्शन की सतहें अक्सर खुरदुरी होती हैं, अतः एक्रो जूतों के जरिये त्वचा घर्षण से पैर के तलवे की अवश्य रक्षा करनी चाहिए. विशेष रूप से पैर के गद्दीदार पंजों के लिए घर्षण से संरक्षण जरूरी है, क्योंकि उन्हें बहुत तेजी से नृत्य के दौरान उछल-कूद और चक्कर से काफी घर्षण सहना पड़ता है. पार्श्व फिसलन से बचने के लिए कर्षण (ट्रैकशन) आवश्यक है अन्यथा कठोर फर्श पर गिरना खतरनाक हो सकता है. टक्स और लेआउट के करतब दिखाने में गद्दी लगाने (कुशनिंग) से नरम आरामदायक असर पड़ता है, क्योंकि इन करतबों को करने में नर्तकी के पांव तेज गति वेग से फर्श से टकरा सकते हैं. जब मार्ले फर्श (Marley floor) अनुपलब्ध है, ऐसी स्थिति में गद्दी लगाना (Cushioning) विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, क्योंकि इस प्रकार की प्रदर्शन की खुली सतहें जिनपर गद्दी नहीं लगी हैं वे अत्यंत कठोर और मुश्किल पैदा करने वाली हो सकती है.

एक्रो जूते[संपादित करें]

एक्रो नर्तकियां अक्सर जाज डांस शूज़ पहनती है, जिन्हें एक्रो नर्तकियां आमतौर पर एक्रो जूते कहती हैं. एक्रो जूते के विभिन्न निर्माताओं ने इनके अलग-अलग नाम दिए हैं: जाज बूट्स, जाज टखने (एन्कल) बूट्स, जाज बूटीज और अन्य. वे आम तौर पर फीतों के बिना होते हैं, स्लिप-ऑन शूज़, जिनके ऊपरी हिस्से चुस्त चमड़े से बने ऐसी डिजाइन के होते हैं कि नर्तकी के पैरों को जूते के अंदर स्थानांतरण से रोका जा सके. उनके पतले, कोमल ऊपरी चमड़े और अलग-अलग तलवों की वजह से, एक्रो जूतों में उत्कृष्ट लचीलापन होता है, इस प्रकार ये नर्तकियों को अच्छे नृत्य रूप और अक्रोबेटिक नियंत्रण पाने में सक्षम करते हैं तलवा मुलायम, ठोस रबड़ से बना होता है ताकि उच्च कर्षण और गद्देदार लचीलापन दोनों ही मिले, और चूंकि यह पैर के निचले हिस्से को पूरी तरह ढंके रखता है अतः यह त्वचा घर्षण से उत्कृष्ट संरक्षण प्रदान करता है.

फूट थोंग्स (चमड़े की पट्टी वाली हवाई चप्पलें)[संपादित करें]

आमतौर पर कम, एक्रो नर्तकियां फूट थोंग्स पहनती हैं, जिन्हें डांस पाज़ एवं फूट अनडीज़ आदि विभिन्न नामों से बुलाया जाता है, यह निर्माता पर निर्भर करता है. फूट थोंग्स (हवाई चप्पलें) - जो स्लिप-ऑन हैं, पैर को आंशिक ढंकती हैं वे पैर के केवल गद्दीदार पंजे की रक्षा करती हैं---सौंदर्य कारणों के लिए कभी कभी एक्रो जूते से अधिक पसंद की जाती हैं. विशेष रूप से, मांसल रंग वाली हवाई चप्पलें पहनने वाली को नंगे पैर होने का आभास दिलाती हैं, जबकि कर्षण, कुशनिंग, और घर्षण से संरक्षण एक्रो जूतों द्वारा ही प्रदान किये जाते हैं.

पोशाक[संपादित करें]

एक्रो पोशाक की स्कर्ट छोटी है जिससे वह सिर से संपर्क नहीं कर पाए जब नर्तकी उलटा होता है.

एक्रो नर्तकियों आमतौर पर सुरक्षा और सौंदर्य कारणों से लचीले, तन पर चुस्त वस्त्र पहनती हैं. ढीले-ढाले कपड़ों की तुलना में तन पर चुस्त कपड़े अधिक पसंद किये जाते हैं क्योंकि ढीले वस्त्र शरीर के साथ सामंजस्य नहीं रख पाते हैं और इस तरह एक नर्तकी की नियंत्रण बनाए रखने की क्षमता के साथ हस्तक्षेप कर सकते हैं. यह खासकर तब महत्वपूर्ण है जब एक नर्तकी करतबों का प्रदर्शन कर रही होती है क्योंकि नियंत्रण खो जाने से गंभीर चोट लग सकती है. सुरक्षा के पहलू के अलावा, तन पर चुस्त कपड़े एक नर्तकी के बदन की आकृति-रेखाओं को उभारते हैं, जो काफी हद तक एक एक्रो नृत्य प्रदर्शन के दृश्य को प्रभावोत्पादक बनाने में मदद करते हैं.

प्रतियोगी एक्रो नर्तकियों जब नृत्य प्रतियोगिताओं में प्रदर्शन करती हैं अक्सर वेशभूषा धारण करती हैं. एक्रो वेशभूषा में अक्सर कपड़े के ढीले छोटे टुकड़े होते हैं जैसेकि शोर्ट स्कर्ट, लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे सुरक्षा के लिए जोखिम न पैदा करें इन टुकड़ों को सावधानी पूर्वक मापा जाता है. एक अतिरिक्त सुरक्षा उपाय के रूप में, स्कर्ट्स को पीछे से कभी कभी कमर के नीचे पिन कर दिया जाता है या सिलाई कर दी जाती है ताकि नर्तकी जब उलटे लटके तब पूरी लम्बाई में ये न झूल जाएं जैसाकि हैण्डवाकिंग में यह स्कर्ट को रोकता है-- अन्यथा यह नर्तकी के बाल या टोपी से उलझ जाएगा---नर्तकी के सिर से संपर्क साधे बिना.

प्रतिस्पर्धात्मक एक्रो[संपादित करें]

प्रतिस्पर्धात्मक नृत्य उद्योग के अंतर्गत एक्रो नृत्य समान रूप से परिभाषित नहीं है.[1] कुछ नृत्य प्रतिस्पर्धा कंपनियों को एक्रो नियमावली के लिए अधिकतम पचास प्रतिशत अक्रोबेटिक सामग्री के साथ कम से कम चार या पांच करतबों की आवश्यकता होती है. अन्य कंपनियों को एक एक्रो नियमावली ठीक करने के लिए पचास प्रतिशत या तुलना में और अधिक.अक्रोबेटिक सामग्री की आवश्यकता होती है. इसके अलावा, कुछ प्रतियोगिताओं में एक एक्रो नृत्य स्पष्ट रूप से परिभाषित "एक्रो नृत्य" के प्रदर्शन की श्रेणी में फिट बैठता है, जबकि दूसरों में,यह "एक्रो/जिम," की श्रेणी में आता है या एक वैकल्पिक वर्ग, जैसेकि "ओपन" में आ सकता है. इन मतभेदों की वजह से, विभिन्न प्रतियोगिताओं में अलग-अलग प्रदर्शन श्रेणियों के लिए एक विशिष्ट एक्रो नियमावली निर्धारित करना आवश्यक हो सकता है.

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Jim Lamberson. "Acro Dance as defined by the Competitive Dance Industry". http://www.westsideacademy.com/perfco/forum/viewtopic.php?t=26. अभिगमन तिथि: 2008-04-03. 
  2. Frank Cullen, Florence Hackman, Donald McNeilly (2007). Vaudeville, Old and New: An Encyclopedia of Variety Performers in America. Routledge. pp. 239. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-415-93853-8. 
  3. Marshall Stearns, Jean Stearns (1994). Jazz Dance: The Story Of American Vernacular Dance. Da Capo Press. pp. 263. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-306-80553-7. 
  4. StreetSwing Dance History Archives. "The Crackerjacks". http://www.streetswing.com/histmai2/d2crackerjacks.htm. अभिगमन तिथि: 2008-06-06. 
  5. Carla Webber. "Acrobatic skills for acro dance". http://www.westsideacademy.com/perfco/forum/viewtopic.php?t=25. अभिगमन तिथि: 2008-04-03. 

इन्हें भी देखें[संपादित करें]