ऊनविम पृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज्यामिति में ऊनविम पृष्ठ, ऊनविम समतल (अधिसमतल) की अवधारणा का व्यापकीकरण है। माना एक आच्छदक बहुमुख M , n-विमिय है तब M का कोई भी n-1 विमिय उपबहुमुख एक ऊनविम समतल है। समान रूप से ऊनविम समतल की न्यूनता एक है। उदाहरण के लिए Rn + 1 में n-विमिय गोले को ऊनविम गोलक (अधिगोलक) कहा जाता है।

ये भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]