उर्दू शब्द कोश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उर्दू शब्द कोष[संपादित करें]

उर्दू (फ़ारसी/अरबी/तुर्की) के अल्फ़ाज़ जो हिंदी में इस्तेमाल होते हैं उनका मतलब और सही तलफ़्फ़ुज़ (उच्चारण)| जिन शब्दों का अर्थ सभी जानते हैं, उनका अर्थ नहीं दिया गया है|


ख़िलाफ़ : विरोध

मुख़ालीफ़: विरोध करने वाला/ वाली

मुख़ालीफ़त : विरोध

लफ़्ज़: शब्द

अल्फ़ाज़: शब्द(बहुवचन)

ख़ुदा: भगवान

खुदा: खोदा हुआ (नुक़्ता नहीं है)

सफ़ेद

जज़्बा: भाव

काग़ज़

तावीज़

ज़िम्मा

ज़रा

ज़ौक़: स्वाद

फ़र्क़

अर्ज़: अनुरोध

वज़ीर: मंत्री

रोज़

इर्शाद: आज्ञा

नज़दीक

मज़ा

सब्ज़: हरा

चीज़

ज़ोर

ज़्यादा

ज़मीन

ज़बान

बाज़ू

आवाज़

अन्दाज़: हाव-भाव

फ़ौज

मौक़ा

वक़्त

वजा: कारण

आवाज़

ख़बर

जनाब: श्रीमान (नुक़्ता नहीं है)

ख़ून

ख़ैर: कुशलता

क़ै

दर्जा: वर्ग (नुक़्ता नहीं है)

वजह: कारण (नुक़्ता नहीं है)

रंज: दुख (नुक़्ता नहीं है)

ख़र्च

फ़तेह: विजय

रूह: आत्मा

ख़ास

अख़बार

नाख़ून

आख़िर

ज़ख़्म

बुख़ार

सख़्त

मख़मल

तारीख़

शेख़

ख़ूब

जंग: युद्ध (नुक़्ता नहीं है)

ज़ंग: लोहे में लगा मोर्चा

ख़ुलासा: सार

ख़िलाफ़त: प्रतिनिधित्व

ज़लील: गिरा हुआ

जलील: प्रतिष्ठित (नुक़्ता नहीं है)

ज़ीना: सीढियाँ

ज़र: सोना

जर: आकर्षण (नुक़्ता नहीं है)

ज़माँ, ज़माना: समय

आफ़ताब: सूरज

अफ़साना: कहानी

अन्दाज़: तरीका

फ़िलहाल: अस्थायी तौर पर

ग़रीब: दरिद्र

ग़ज़ल: कविता

ग़म: दुख

ग़लत

ख़ूबसुरत: सुन्दर

क़दम: पद

ख़ज़ाना

क़ाफ़िला

ख़याल

ख़ाक: धूल

ख़िज़ाँ (ख़ज़ाँ): पतझड़, ठंड

ख़त्म

क़रीब: निकट

ज़ख़्म: घाव

दिलनवाज़ी: हृदय की कृपा

तरफ़: ओर

नज़र

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]