उपसहसंयोजक यौगिक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सिसप्लेटिन, PtCl2(NH3)2 इसमें एक प्लेटिनम परमाणु के साथ चार संलग्नी (लिगण्ड) हैं।

रसायन विज्ञान में उपसहसंयोजक यौगिक (coordination complex या metal complex) उन यौगिकों को कहते हैं जिनमें कोई परमाणु या आयन (प्रायः धात्विक) उसको घेरे हुए अणुओं या धनायनों के व्यूह (array ) से जुड़ा हो। बहुत से धातु-युक्त यौगिक उपसहसंयोजक यौगिक ही हैं।

'उपसहसंयोजक यौगिक' का और अधिक व्यापक परिभाषा यह है -

उपसहसंयोजक यौगिक वह है जिसमें कोई परमाणु अपने आक्सीकरण संख्या से भी अधिक संख्या वाली रासायनिक वस्तुओं (chemical species) से बन्धन बनाता है।

अनेकों प्रकार के उपसहसंयोजक यौगिक मौजूद हैं जिनमें जलीय विलयन में धातु (जल के अणुओं से उपसहसंयोजित) से लेकर विभिन्न जैवरासायनिक प्रक्रियाओं में भाग लेने वाले जटिल धात्विक एंजाइम आदि हैं।

उपसहसंयोजक बन्ध तब बनता है जब साझेदारी में जब एक ही तत्व द्वारा दोनों इलेक्ट्रान दिये जायँ। जो तत्व इलेक्ट्रान युग्म देता है वह दाता (donor) है और दूसरा वाला ग्राही (acceptor) है। इसे प्राय: तीर द्वारा (->) प्रदर्शित किया जाता है। हाइड्रोजन पराक्साइड, सल्फर डाइआक्साइड, हाइड्रोनियम आयन, फेरोसायनाइड आदि इसके कुछ उदाहरण हैं।

परिचय[संपादित करें]

ऐल्फ्रेड वेर्नर ने धातुओं की सामान्य बंधुता को 'प्राथमिक' बंधुता कहा। कुछ धातुओं में प्राथमिक बंधुता के अतिरिक्त एक और बंधुता होती है, जिसे 'द्वितीयक' बंधुता कहते हैं। इस द्वितीयक बंधुता को ही 'उपसहसंयोजकता' का और ऐसे बने यौगिकों की 'उपसहसंयोजक-यौगिक' का नाम दिया। ऐसे यौगिकों को वेर्नर ने उच्च वर्ग यौगिक कहा है।

घनात्मक आयन, विशेषत: जब वे छोटे और उच्च आवेशित होते हैं, पार्श्ववर्ती ऋणात्मक आयनों अथवा उदासीन अणुओं से, जिनमें 'असाझी' (unshared) इलेक्ट्रॉन रहते हैं, इलेक्ट्रॉन आकर्षित करते हैं। यदि आकर्षण अधिक है, तो धात्विक आयन और अन्य समूहों के बीच इलेक्ट्रॉन साझी हो जाता है। धात्विक आयन को यहाँ 'ग्राही' (acceptor) और अन्य समूह को 'दाता' (donor) कहते हैं। जब प्लैटिनिक क्लोराइड को अमोनिया के साथ उपचारित किया जाता है तब ऐसा ही यौगिक, हेक्सामिनिक प्लैटिनिक हेक्साक्लोराइड, बनता है।

रासायनिक संयोग का बनना ऐसे बने यौगिकों के रंग, विलेयता, और अन्य गुणों की विभिन्नता से जाना जाता है। ऐसे बने प्लैटिनम के यौगिक में न प्लैटिनम के और न क्लोरीन के ही परीक्षक लक्षण पाए जाते हैं। जिन समूहों में असाझी इलेक्ट्रॉन रहते हैं, वे हैं अमोनिया (NH3), जल (H2O), कार्बन मोनोऑक्साइड (CO), नाइट्रिक ऑक्साइड (NO), ऐल्किल ऐमिन (RNH2), डाइऐल्किल ऐमिन (R2NH), ट्राइऐल्किल ऐमिन (R3N), ऐल्किल सल्फाइड (RSR), साइआनाइड (CN), थायोसाइआनाइड (SCN) आदि।

उपसहसंयोजकता[संपादित करें]

यौगिकों में दो, या दो से अधिक, किस्म के दाता रह सकते हैं। केंद्र स्थित धात्विक आयनों में दाता समूहों की संख्या प्रत्येक धात्विक आयन के लिए निश्चित रहती है। ऐसी संख्या को उपसहसंयोजकता-संख्या (Coordination Number) कहते हैं। सिजविक (Sidgwick) के अनुसार यह संख्या तत्वों की परमाणु संख्या पर निर्भर करती है। यह दो से आठ तक हो सकती है। हाइड्रोजन की उपसहसंयोजकता संख्या दो है और भारी धातुओं की आठ। यदि दाता समूह या परमाणु में एक जोड़े से अधिक असाझी इलेक्ट्रॉन विद्यमान हों, तो ऐसे समूह या परमाणु दो धात्विक आयनों से संयुक्त हो सकते हैं। इस रीति से द्विनाभिक संमिश्र (dinuclear complex) बनते हैं। ऐसा ही एक द्विनाभिक संमिश्र डाइओल ऑवटेमिन डाइकोबाल्टिक सल्फेट (di-ol octamin dicobaltic sulphate) है:

यदि दाता परमाणु एक ही अणु में विद्यमान हैं पर कम-से-कम एक-दूसरे परमाणु से उनमें अलगाव है, तो इस प्रकार के बने वलय को 'कीलेट वलय' (Chelate ring) कहते हैं। कीलेटी करण से यौगिकों का स्थायित्व बहुत बढ़ जाता है। पाँच सदस्य वाले कीलेट वलय सबसे अधिक स्थायी होते हैं। चार या छ: सदस्य वाले कीलेट वलय भी सरलता से बन जाते हैं। यह प्रभाव कार्बनिक ऐमिनो-यौगिकों में स्पष्ट रूप से देखा जाता है। मोनोमेथिल ऐमिन कदाचित्‌ ही उपसहसंयोजक-योगिक बनता है, पर एथिलीन डाइऔमिन बड़ी सरलता से उपसहसंयोजक-यौगिक बनता है, जो बहुत स्थायी होता है। सामान्य द्वितीयक ऐमिन कदाचित्‌ ही उपसहसंयोजक-यौगिक बनता है, पर डाइएथिलीन ट्राइऐमिन (H2NCH2CH2NHCH2CH2NH2) बड़ी सरलता से भारी घात्विक आयनों के साथ दोनों नाइट्रोजनों से संयुक्त हो, बहुत स्थायी द्विक्‌ कीलेट वलय बनाता है।

ऐल्फा-ऐमिना अम्ल अनेक धातुओं के हाइड्रॉक्साइडों से अधिक क्रिया कर बहुत स्थायी योगिक बनाता है। इनमें अम्ल और ऐमिनो दोनों समूह धातु से संयुक्त होकर, कीलेट वलय बनाते हैं। यदि उपसहसंयोजकता-संख्या बंधुता से दुगुनी है, तो ऐसे यौगिक अनायनित (non-ionic) होते हैं और इन्हें 'आंतर लवण' (Inner salt) कहते हैं। ऐसे आंतर लवण कुछ हाइड्रॉक्सी अम्लों और डाइकीटोनों से भी बनते हैं। ऐसे यौगिक जल में अविलेय होने पर, कार्बनिक विलायकों में विलेय होते हैं। ये भाप में वाष्पशील भी होते हैं। कच्चे चमड़े पर क्रोमियम लवणों से चर्मशोधन में कुछ ऐसी ही क्रिया क्रोमियम लवण और चमड़े के पॉलिपेप्टाइडों के बीच होती है। चर्म का शोधन होना ऐसे ही आंतर लवण बनने के कारण समझा जाता है।

संरचना[संपादित करें]

उपसहसंयोजतओं
की संख्या
स्वरूप ज्यमिति उदाहरण एवं टीका
2 रैखिक Linear-3D-balls.png [CuCl2], [Ag(NH3)2]+
3 एकतलीय त्रिभुजाकार Trigonal-3D-balls.png molto rara

[HgI3]
4 चतुष्फलकीय Tetrahedral-3D-balls.png piuttosto comune

[ReO4]2–, Ni(CO)4
4 एकतलीय चतुर्भुजाकार Square-planar-3D-balls.png XeF4, [AuCl4], [PtCl4]2–
5 त्रिभुजीय द्विकपिरैमिडाकार Trigonal-bipyramidal-3D-balls.png [CdCl5]3–, Fe(CO)5
5 चतुर्भुजीय पिरैमिड Square-pyramidal-3D-balls.png [NbCl4(O)], [V(acac)2(O)]
6 अष्टफलकी Octahedral-3D-balls.png la più comune

[Cr(H2O)6]3+, [Fe(CN)6]3–
7 पंचभुजीय द्विकपिरैमिड Pentagonal-bipyramidal-3D-balls.png rara

[Nb(O)(ox)3]3–
8 चतुर्भुजीय एंटिप्रिज्मैटिक [Mo(CN)8]4–, [ReF8]2–


समावयवता (Isomerism)[संपादित करें]

उपसहसंयोजकता-यौगिकों में कई किस्म की समावयवता पाई गई है। इनमें अधिक महत्व की समावयवता निम्नलिखित प्रकार की है:

बहुलकीकरण (Polymerisation) समावयवता[संपादित करें]

इसकी आणविक संरचना में सरलतम संरचना के गुणक होते हैं। हेक्सामिन कोबाल्टिक हेक्सानाइट्रो कोबाल्टेड [Co(NH3)6] [Co(NO2)6] अनायनित ट्राइनाइट्रो ऐमिन कोबाल्ट [Co(NH3)3 (NO2)3] का बहुलक है।

संरचना (Structural) समावयवता[संपादित करें]

नाइट्राइट आयन के नाइट्रोजन और ऑक्सीजन दोनों के परमाणुओं में असाझी इलेक्ट्रॉन होते हैं, अत: ये कोबाल्टिक आयन से दो रीतियों से, एक ऑक्सीजन द्वारा और दूसरा नाइट्रोजन द्वारा, संबद्ध हो सकते हैं। इससे दो समावयव

(1) नाइट्रिटो-पेंटामिन कोबाल्टिक क्लोराइड

[Co (NH3)5 ONO] CI2 और

(2) नाइट्रो-पेंटामिन कोबाल्टिक क्लोराइड

[Co (NH3)5 NO2] Cl2

प्राप्त होते हैं।

उपसहसंयोजकता (Coordination) समावयवता[संपादित करें]

इसमें घनात्मक और ऋणात्मक दोनों आयन होते हैं, पर उनका वितरण विभिन्न प्रकार का होता है, जैसे

[Co (NH3)6] [Cr (CN)6] और [Cr (NH3)6] [Co (CN)6]

आयनन (Ionisation) समावयवता[संपादित करें]

इसमें दोनों के संघटन एक से होते हैं, पर विलयन में ये विभिन्न आयनों में वियोजित होते हैं। कोबाल्टिक ब्रोमोपेंटामिन सल्फेट

[Co(NH3)5 Br] SO4, सल्फेट आयन के और कोबाल्टिक सल्फेटो पेंटामिन ब्रोमाइड, [Co (HN3)3SO4]Br, ब्रोमीन आयन की अधिक्रिया देते हैं।

हाइड्रेट (Hydrate) समावयवता[संपादित करें]

यह समावयवता क्रोमिक क्लोराइड के हेक्सा-हाइड्रेट में देखी जाती है। एक समावयव धूसर बैंगनी रंग का और दो हरे रंग के होते हैं। एक से सिल्वर नाइट्रेट विलयन द्वारा क्लोरीन तीनों परमाणु का, दूसरे से केवल दो क्लोरीन परमाणु का और तीसरे से केवल एक क्लोरीन परमाणु का, तत्काल अवक्षेपण होता है। इन तीनों के सूत्र इस प्रकार हैं:

[Cr(H2O)6] Cl3; [Cr (H2O)5Cl2H2O और [Cr (OH2)4 Cl2] Cl2 H2O*

त्रिविम समावयता (Stereo-isomerism)[संपादित करें]

उपसहसंयोजकता बंध सदिश (directional) होते हैं। इसकारण उपसहसंयोजकता समूह केंद्र स्थित होते हैं। प्लैटिनम आयन की चारों संयोजकताएँ (convalences) एक तल पर होती है। अत: इसके यौगिक प्लैटिनम डाइऐमिन डाइक्लोराइड दो रूप में, सिस रूप और ट्रैंस रूप में, प्राप्त हुए हैं।

इन दोनों के रंग, विलेयता और रासायनिक व्यवहार में भिन्नता होती है। ऐसा केवल प्लैटिनम के साथ ही नहीं होता, अन्य धातुओं, जैसे पेलैडियम, निकल, कैडमियम, पारद आदि के साथ भी ऐसा देखा जाता है। यदि उपसहसंयोजकता समूह छह हैं और उनमें दो अन्य चार समूहों से भिन्न हैं, तो उनके भी दो रूप, सिस और ट्रैंस हो सकते हैं। डाइक्लोरो-टेट्रामिन कोबाल्टिक क्लोराइड दो रूपों में पाया गया है। एक का रंग बैंगनी और दूसरे का हरा होता है।

प्रकाशिक (optical) समावयवता[संपादित करें]

जब केंद्रित घात्विक आयन पर उपसहसंयोजक समूह चार, छह या अधिक असममित रूप से व्यवस्थित रहें, तो ऐसी संरचनाएँ प्राप्त हो सकती हैं जिनमें एक-दूसरे का दर्पण प्रतिबिंब हो। यदि धात्विक आयन कीलेट वलय बनाता है, तो ऐसा सरलता से संपन्न होता है। ऐसे यौगिकों में प्रकाशिक समावयवता हो सकती है। कुछ यौगिकों में ऐसी प्रकाशिक सक्रियता निश्चित रूप से पाई गई है।

रंग[संपादित करें]

उपसहसंयोजक यौगिक भांति-भांति के रंगों वाले हैं। इसी कारण वे प्रायः वर्णकों (pigments) के रूप में प्रयोग किए जाते हैं।

उपसहसंयोजक यौगिकों के कुछ उदाहरण तथा उनके रंग
  FeII FeIII CoII CuII AlIII CrIII
Hydrated Ion [Fe(H2O)6]2+
Pale green
Soln
[Fe(H2O)6]3+
Yellow/brown
Soln
[Co(H2O)6]2+
Pink
Soln
[Cu(H2O)6]2+
Blue
Soln
[Al(H2O)6]3+
Colourless
Soln
[Cr(H2O)6]3+
Green
Soln
OH, dilute [Fe(H2O)4(OH)2]
Dark green
Ppt
[Fe(H2O)3(OH)3]
Brown
Ppt
[Co(H2O)4(OH)2]
Blue/green
Ppt
[Cu(H2O)4(OH)2]
Blue
Ppt
[Al(H2O)3(OH)3]
White
Ppt
[Cr(H2O)3(OH)3]
Green
Ppt
OH, concentrated [Fe(H2O)4(OH)2]
Dark green
Ppt
[Fe(H2O)3(OH)3]
Brown
Ppt
[Co(H2O)4(OH)2]
Blue/green
Ppt
[Cu(H2O)4(OH)2]
Blue
Ppt
[Al(OH)4]
Colourless
Soln
[Cr(OH)6]3–
Green
Soln
NH3, dilute [Fe(H2O)4(OH)2]
Dark green
Ppt
[Fe(H2O)3(OH)3]
Brown
Ppt
[Co(H2O)4(OH)2]
Blue/green
Ppt
[Cu(H2O)4(OH)2]
Blue
Ppt
[Al(H2O)3(OH)3]
White
Ppt
[Cr(H2O)3(OH)3]
Green
Ppt
NH3, concentrated [Fe(H2O)4(OH)2]
Dark green
Ppt
[Fe(H2O)3(OH)3]
Brown
Ppt
[Co(NH3)6]2+
Straw coloured
Soln
[Cu(NH3)4(H2O)2]2+
Deep blue
Soln
[Al(H2O)3(OH)3]
White
Ppt
[Cr(NH3)6]3+
Green
Soln
CO32– FeCO3
Dark green
Ppt
[Fe(H2O)3(OH)3]
Brown
Ppt + bubbles
CoCO3
Pink
Ppt
CuCO3
Blue/green
Ppt

वियोजन[संपादित करें]

उपसहसंयोजक यौगिक प्रायः जटिल आयन होते हैं। इनमें से अधिकांश के जलीय विलयन आयनित नहीं होते और इस कारण विद्युत-अपघट्य नहीं होते। किन्तु इसके विपरीत, प्लेटिनम के निम्नलिखित उपसहसंयोजक यौगिक जल में वियोजित होकर जटिल आयन उत्पन्न करते हैं।

[Pt(NH3)6]Cl4 → [Pt(NH3)6]4+ + 4 Cl

[Pt(NH3)5Cl]Cl3 → [Pt(NH3)5Cl]3+ + 3 Cl

[Pt(NH3)4Cl2]Cl2 → [Pt(NH3)4Cl2]2+ + 2 Cl

[Pt(NH3)3Cl3]Cl → [Pt(NH3)3Cl3]+ + Cl

K[Pt(NH3)Cl5] → K+ + [Pt(NH3)Cl5]

K2[PtCl6] → 2 K+ + [PtCl6]2–

उपयोग[संपादित करें]

उपसहसंयोजक-यौगिक अनेक प्रकार के होते हैं। इनमें से कुछ बड़े उपयोगी सिद्ध हुए हैं। इनका उपयोग उत्तरोत्तर बढ़ रहा है। भारी धातुओं के ऐसे ही संमिश्र साइआनाइड विद्युत लेपन में काम आते हैं। अनेक ऐसे यौगिक महत्व के वर्णक हैं। प्रशीयन ब्ल्यू, हीमोग्लोबिन, क्लोरोफिल आदि ऐसे ही वर्णक हैं। कुछ यौगिक, विशेषत: अंतराल लवण, धातुओं को पहचानने, पृथक्‌ करने तथा उनकी मात्रा निर्धारित करने आदि में काम आते हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]