उदित नारायण सिंह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

महाराजा उदित नारायण सिंह (१७७० - ४ अप्रैल, १८३५), वाराणसी के राजघराने से काशी नरेश थे। इनका राज्यकाल १२ सितंबर, १७९५ से ४ अप्रैल, १८३५ तक रहा। ये महिप नारायण सिंह के ज्येष्ठतम जीब्वित पुत्र थे। इनका वाराणसी की संस्कृति में बड़ा योगदान रहा।[1]. इन्होंने रामनगर, वाराणसी की प्रसिद्ध रामलीला १८३० में आरंभ की, जो अब तक चली आ रही है और प्रत्येक वर्ष आयोजित होती है।[1][2][3].

इनकी मृत्यु १८३५ में होने पर राज्य इनके उत्तराधिकारी भतीजे ईश्वरी प्रसाद नारायण सिंह, झी.सी.एस.आई, केसर-ए-हिन्द (१८२२-जून १८८९) को मिला था।

उत्तराधिकारी[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Mitra, Swati (2002). Good Earth Varanasi city guide. Eicher Goodearth Limited. प॰ 126. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788187780045. 
  2. Ramleela - Ramnagar Varanasi Official website.
  3. Ramlila: The Performance in Ramnagar University of North Texas.