इयान बेल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
इयान रोनाल्ड बेल

इयान रोनाल्ड बेल एमबीई (MBE) (जन्म 11 अप्रैल 1982 को) इंग्लैंड के एक टेस्ट क्रिकेटर हैं. वे वारविकशायर काउंटी क्रिकेट क्लब के लिए काउंटी क्रिकेट भी खेलते हैं. वे दाहिने हाथ के उच्च/मध्यम क्रम के बल्लेबाज हैं, जिन्हें द टाइम्स ने "खूबसूरत तलवार" जैसा [1] और सामयिक दाएं हाथ के मध्यम तेज गेंदबाज के रूप में वर्णित किया है. उन्हें अपनी तीक्ष्ण सजगता और मैदान पर गेंद पकड़ने के करीबी क्षेत्रों में मैदान पर डटे रहने वाले के रूप में बताया गया है.

बेल इंग्लैंड के लिए टेस्ट और एक दिवसीय अंतराष्ट्रीय दोनों मैचों में खेलते हैं और बारह टेस्ट शतक बना चुके हैं. 2006 में नए साल की सम्मान सूची में इयान बेल को 2005 में सफल एशेज दौरे में उनकी भूमिका के लिए एमबीई (MBE) से सम्मानित किया गया और नवंबर 2006 में इंटरनेशनल क्रिकेट कौंसिल ने उन्हें प्रतिष्ठित साल के उभरते हुए खिलाड़ी के रूप में सम्मानित किया. 2008 और 2009 के दौरान वे कभी-कभी ही इंग्लैंड टीम के सदस्य होते थे, लेकिन 2009 में एशेज के दौरान उन्होंने टेस्ट टीम में जगह बनाई, जिसमें इंग्लैंड जीता और उसके बाद के वर्ष में कई एकदिवसीय मैचों में खेले. 2010 के दौरान अगली सर्दियों में पहला एशेज शतक, जिसने इंग्लैंड एशेज जीतने में मदद की, लगाने के पहले उन्होंने वारविकशायर की कप्तानी की और सीबी 40 फाइनल में जीत हासिल की.

अनुक्रम

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

एक नौजवान के रूप में बेल ने प्रिसथ्रोप कॉलेज में दाखिल हुए और सात साल में पहले एकादश में शामिल हुए. वे न केवल एक प्रतिभाशाली क्रिकेटर थे, बल्कि उन्होंने एस्टन विला का समर्थक होने के बावजूद कोवेन्ट्री सिटी के स्कूल ऑफ एक्सेलेंस में शिरकत की. दो साल बाद पैदा हुए उनके भाई कीथ वारविकशायर स्टैफोर्डशायर के लिए शौकिया खेलते हैं और उन्होंने वारविकशायर द्वितीय एकादश के लिए भी सात मैच खेले हैं.

प्रारंभिक करियर[संपादित करें]

बेल 1998 में वारविकशायर की दूसरी टीम तीन बार शामिल हुए और वरिष्ठ स्तर पर उनके अगले मैच सर्दियों में इंग्लैंड अंडर-19 क्रिकेट टीम के न्यूजीलैंड दौरे में थे. पहले 'टेस्ट' की पहली पारी में उन्होंने 91 रन बनाये और तीसरे के पहली पारी में 115 रन ठोके; डेल हैडली इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने बेल को "16 साल की उम्र का अब तक दिखा सबसे अच्छा खिलाड़ी" घोषित किया [2] और उनकी अक्सर इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल आथर्टन से तुलना की जाती थी. बेल कई अंडर- 19 श्रृंखलाओं में खेले और 2000 में श्रीलंका के खिलाफ घर में हुए मैच, 2000/01 के भारत दौरे और 2001 में घर में वेस्ट इंडीज के खिलाफ टीम की कप्तानी की.

इस समय तक बेल का प्रथम श्रेणी के मैच में प्रवेश हुआ और सितम्बर 1999 में वारविकशायर की पहली टीम के एकल मैच में वे खेले, पर अपनी एकमात्र पारी में शून्य पर आउट हुए और 2000/01 तक उस स्तर पर आगे खेलने का मौका नहीं मिला, जब एंगुइला में बस्टा कप टूर्नामेंट के खेल में लीवर्ड आइलैंड के खिलाफ इंग्लैंड ए टीम के लिए खेलते हुए अंडर-19 मैचों के फार्म को जारी रखा.

2001 में बेल ने वारविकशायर की पहली टीम में धमाकेदार दस्तक दी, क्योंकि उन्होंने 16 पारियों में 836 रन बनाए, जिनमें तीन शतक और 98 रनों की दो पारियां थी. ऑक्सफोर्ड यूसीसीई (UCCE) के खिलाफ 130 के स्कोर के साथ उनके पहले शतक ने उन्हें 19 साल 56 दिनों की उम्र में देश का सबसे छोटा शतकवीर बना दिया. वे तब देश के अब तक के सबसे छोटे सम्मानित (कैप्ड) खिलाड़ी बन गये, जब वारविकशायर ने सीजन के अंतिम दिन उन्हें काउंटी कैप से सम्मानित किया.

बेल ईसीबी नेशनल एकेडमी की पहली सूची में शामिल किये गये, जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया में 2001/02 की सर्दियां बिताईं.[3] जिस दिन वे एडिलेड से घर वापस आये, उन्हें न्यूजीलैंड दौरे के लिए चोटिल मार्क बाउचर के प्रतिस्थानापन्न (कवर) खिलाड़ी के रूप में इंग्लैंड की पूर्ण टेस्ट टीम में शामिल किया गया.

2002 में बेल के चार दिवसीय प्रदर्शन में गिरावट आई, क्योंकि उन्होंने 24.37 की औसत से 658 रन बनाए, लेकिन बेन्सन एंड हेजेज कप में कामयाबी में उनका अहम योगदान था. वे क्वार्टर फाइनल में (नाबाद 85 रन), सेमी फाइनल में (46) और फाइनल में (65 नाबाद) सर्वोच्च रन लेने वाले रहे और उनके बाद के प्रदर्शन ने उन्हें अब तक के अंतिम बेंसन एंड हेजेज कप में स्वर्ण पदक दिलवाया.

बेल ने 2003 में एक दिवसीय प्रारूप में बार फिर सर्वश्रेष्ठ फार्म हासिल किया और उन्होंने नेशनल लीग में 43.07 के औसत से 560 रन की तुलना में काउंटी चैम्पियनशिप में 28.85 के औसत से 658 रन बनाये, हालांकि उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन चेम्सफोर्ड में हुआ, जिसमें उन्होंने 113 गेंदों पर 125 रन के साथ पहला शतक लगाया और साथ ही 41 रन देकर 5 विकेट लिये, जो उनका सबसे अच्छा एक दिवसीय गेंदबाजी आंकड़ा था. किसी वारविकशायर खिलाड़ी द्वारा इस तरह की उपलब्धि हासिल करने का यह दूसरा अवसर था.[4]

दो खराब सीजनों के बाद 2004 में बेल का वापस सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दिखा और उन्होंने 1498 चैम्पियनशिप रन बनाये, जिनमें छह शतक शामिल थे. उनकी छह में से एक करियर की वह पारी थी, जिसमें उन्होंने सुसेक्स के खिलाफ अविजित 262 रन बनाये, यह पारी दस घंटे से केवल दस मिनट कम की थी, जिसने उन्हें देश का सबसे कम उम्र का दोहरा शतकवीर बना दिया. जुलाई के आखिर में उन्होंने पांच प्रथम श्रेणी की पारियों में चार शतकों का एक प्रभावशाली क्रम शुरू किया और दूसरी नाबाद 96 रन की पारी थी. लंकाशायर के खिलाफ दोनों पारियों में उनके शतक 1994 में ब्रायन लारा के बाद से एक प्रामाणिक आक्रमण (डेविड हैंप ने डिक्लेरेशन बॉलिंग के खिलाफ यह उपलब्धि हासिल की थी) के खिलाफ एक वारविकशायर बल्लेबाज द्वारा बनाये गये पहले शतक थे.[5] रनों के इस प्रदर्शन के कारण उन्हें तब इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लाया गया, जब ग्राहम थोर्प उंगली में चोट के कारण खेलने के लिए संदिग्ध हो गये थे.[6]

अंतर्राष्ट्रीय करियर[संपादित करें]

2004 - वेस्टइंडीज[संपादित करें]

बेल ने द ओवल में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला के अंतिम मैच में अंतराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की. इंग्लैंड की पहली वह पारी में उन्होंने पांच नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 70 रन बनाये, हालांकि बाद में उन्हें फिर बल्लेबाजी करने की जरूरत नहीं पड़ी, क्योंकि इंग्लैंड ने वेस्ट इंडीज को फॉलो ऑन के लिए मजबूर किया और मैच दस विकेट से जीत गया.[7]

2004/5 - जिम्बाब्वे और दक्षिण अफ्रीका[संपादित करें]

बेल जिम्बाब्वे और दक्षिण अफ्रीका के दौरे करने वाली टीम में चुने गये और एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय करियर की शुरूआत उन्होंने केविन पीटरसन के साथ हरारे में जिम्बाब्वे टीम के के खिलाफ शुरू की. बेल ने पारी की शुरुआत की और 75 रन ठोंके, जिससे उन्हें पहला एकदिवसीय मैन ऑफ द मैच पुरस्कार मिला.[8] उन्होंने 40.75 की औसत से श्रृंखला के सभी चार मैच खेले. हालांकि उन्हें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ किसी टेस्ट मैच के लिए नहीं चुना गया, पर सात वनडे मैचों में पहले चार के लिए उनका चुनाव हुआ, पर वे संघर्ष करते दिखे और तीन पारियों में 26 रन ही बना सके.

2005 - बांग्लादेश और एशेज[संपादित करें]

2005 में बेल ने सीजन की शानदार शुरूआत की और ग्रीम हिक के 17 साल पुराने रिकार्ड को तोड़ते हुए केवल अप्रैल में 480 प्रथम श्रेणी के रन बनाये. उन्हें बांग्लादेश के खिलाफ दो टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए इंग्लैंड टीम में वापस बुलाया गया, लेकिन दोनों टेस्ट मैचों में इंग्लैंड की पारियों से जीत की वजह से वे केवल दो परियां ही खेल सके. लार्ड्स में पहले टेस्ट में बेल ने नाबाद 65 रन और चेस्टर-ली-स्ट्रीट में हुए दूसरे मैच में नाबाद 162 रन बनाये और इस प्रक्रिया में वे 1935 में लेस्ली एम्स के बाद से एक टेस्ट मैच में दोपहर के भोजन से पहले 100 से अधिक रन बनाने वाले पहले अंग्रेज बल्लेबाज बन गये.[9]

2005 की एशेज श्रृंखला के लिए तीन खिलाड़ी - बेल, ग्राहम थोर्प और केविन पीटरसन - टीम में दो स्थानों के लिए सोचे जा रहे थे और थोर्प के मुकाबले बेल और पीटरसन को पसंद किया गया. लॉर्ड्स में पहले टेस्ट के पहले बेल का टेस्ट औसत 303 था, जो किसी भी काल में किसी भी खिलाड़ी के करियर के किसी बिंदु पर उच्चतम पांचवां औसत था.[10] लार्ड्स और एजबेस्टन में हुए पहले दो मैचों में बेल असफल रहे, लेकिन ओल्ड ट्राफोर्ड में हुए तीसरे टेस्ट में शेन वार्न के खिलाफ शुरूआती संघर्ष से उबर गये और हर पारी में उन्होंने अर्द्ध शतक लगाये. हालांकि, चौथे और पांचवें टेस्ट में उन्होंने चार पारियों में केवल छह रन बनाए, जिसमें ओवल में दो रन थे और इस तरह श्रृंखला में केवल 17.10 की बल्लेबाजी औसत वाले इंग्लैंड के सबसे निम्नतम बल्लेबाज बने. इंग्लैंड के वापस एशेज जीतने और एमबीई प्राप्त करने के बावजूद बेल ने 2005 के एशेज को एक ऐसे निम्न बिंदु के रूप में वर्णित किया है, जिसके दौरान उन्होंने खुद पर शक किया.[2]

2005/6 - पाकिस्तान और भारत[संपादित करें]

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ असफल होने के बावजूद उन्हें सर्दियों में पाकिस्तान के दौरे के लिए 17 सदस्यीय टीम में शामिल किया गया था. प्रेस में इस तरह की अटकलें थीं कि उन्हें टेस्ट टीम में नहीं शामिल किया जा सकता है, लेकिन जब पहले टेस्ट से पहले माइकल वॉन घायल हो गये तो बेल को मौका मिला. उन्होंने मौके को भुनाया और तीन मैचों की श्रृंखला में एक शतक और दो अर्द्ध शतक लगाये और श्रृंखला में 52.16 की औसत से 313 रन बनाकर इंग्लैंड के शीर्ष स्कोरर बन गये. अपने अंशकालिक गेंदबाजी के साथ उन्होंने अपना पहला टेस्ट विकेट लिया.

उपमहाद्वीप में उनका यह फार्म 18 फरवरी 2006 को भारत के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला से पहले इंग्लैंड के वार्म अप या अभ्यास मैच में जारी रहा, जब उन्होंने मुंबई में सबसे ज्यादा 78 रन बनाये. टेस्ट श्रृंखला में वे यह फार्म जारी नहीं रख सके, जहां उन्होंने 6 पारियों में 22 के नीचे की औसत से केवल 131 रन बनाए.

2006 - श्रीलंका और पाकिस्तान[संपादित करें]

भारत से लौटने के बाद बेल वारविकशायर के साथ सीजन की एक औसत शुरूआत की. श्रीलंका के खिलाफ ग्रीष्म में पहले घरेलू टेस्ट में 13 खिलाड़ियों में उनका चयन हुआ, लेकिन मार्कस ट्रेस्कोथिक की वापसी, पॉल कोलिंगवुड, के अच्छे फार्म में होने और एलेस्टर कुक के उदय जैसे दो कारणों से बेल को प्लेइंग 11 से निकाल दिया गया. बेल श्रीलंका के खिलाफ 5 मैचों वाली वनडे सीरीज के लिए टीम में चुने गये और श्रृंखला में कुछ अच्छा करने वाले एक जोड़ा खिलाड़ियों में वे शामिल थे.

इसके परिणामस्वरूप और एंड्रयू फ्लिंटॉफ के चोटिल होने कारण बेल को पाकिस्तान के खिलाफ पहले टेस्ट के लिए टेस्ट मैच में वापस बुला गया. अपने करियर के ज्यादातर हिस्से में शीर्ष चार क्रम में बल्लेबाजी करने के बाद, उन्हें छठे नंबर पर बल्लेबाजी करने को कहा गया. पहले तीन टेस्ट मैचों में प्रत्येक में उन्होंने शतक बनाये और ग्राहम गूच के बाद वे लगातार तीन टेस्ट मैचों में शतक बनाने वाले पहले अंग्रेज बन गये, लेकिन यह आंकड़ा चार तक पहुंचाने का मौका चूक गये और पहली पारी में 9 रन ही बना सके और उतने ही पर अविजित रहे, क्योंकि चौथा टेस्ट अप्रत्याशित रूप से एक दिन पहले ही समाप्त हो गया, जब पाकिस्तानी टीम ने गेंद से छेड़छाड़ की. उन्होंने 93.75 की औसत से श्रृंखला की समाप्ति की, लेकिन आश्चर्यजनक रूप से इंग्लैंड के लिए उन्हें मैन ऑफ सीरीज अवार्ड से नहीं नवाजा गया और यह सम्मान एंड्रयू स्ट्रास को मिला, जिनका औसत 63.42 था. उनके रनों के फार्म (100*, 28, 106*, 119, 4, 9, 9*) ने उन्हें कुल मिलाकर लगभग 48 का टेस्ट औसत दिया. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उनका औसत केवल 17 था, जबकि अन्य सभी पक्षों के खिलाफ उनका औसत 68 के आसपास था. वे पाकिस्तान के खिलाफ भी एकदिवसीय श्रृंखला में खेले और उस समय उनके दो सर्वोच्च स्कोर थे: सोफिया गार्डन्स में 88 और ट्रेंट ब्रिज में 86*, जिसमें बाद वाली पारी में इंग्लैंड की जीत के बाद कारण उन्हें मैन ऑफ द मैच पुरस्कार मिला.

2006 - चैंपियंस ट्राफी[संपादित करें]

सितम्बर 2006 में बेल का नाम भारत में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के लिए टीम में नामित किया गया था और एशेज को बरकरार रखने के प्रयास में ऑस्ट्रेलिया का दौरा करने वाली टीम में शामिल हुए. मार्कस ट्रेस्कोथिक की अनुपस्थिति में एकदिवसीय पक्ष के लिए बैटिंग की शुरुआत के लिए उन्हें प्रोमोट किया गया. इंग्लैंड के तीन मैचों में उन्होंने 32.33 की औसत से 97 रन बनाए. इंग्लैंड अपने पहले दो मैच हार (भारत और ऑस्ट्रेलिया से) गया और अंतिम रनर अप वेस्ट इंडीज पर अंतिम समूह चरण में जीत के बावजूद टूर्नामेंट से बाहर हो गया.

2006/7 एशेज[संपादित करें]

एशेज श्रृंखला, जिसमें दौरे के लिए एंड्रयू फ्लिंटॉफ को कप्तान के रूप में नामित किया गया और बल्लेबाजी क्रम में छठे नंबर पर उनकी जगह फिर बहाल हो गई, के लिए बेल को शुरुआती ग्यारह में दो स्थानों के लिए एलेस्टर कूक और पॉल कॉलिंगवुड के प्रतिस्पर्द्धी के रूप में देखा गया. हालांकि, पहले टेस्ट के पहले मार्कस ट्रेस्कोथिक के इंग्लैंड लौट आने के कारण बेल, कुक और कॉलिंगवुड पूरी श्रृंखला में खेलते रहे. चार अर्द्धशतकों सहित कुल 331 रन बनाने वाले बेल का श्रृंखला के लिए औसत 33.10 रहा. वे एक अच्छी शुरुआत को एक बड़े स्कोर में बदलने में विफल रहे और इंग्लैंड का टेस्ट श्रृंखला में 5-0 से सफाया हो गया. खराब परिणामों का यह सिलसिला एकदिवसीय श्रृंखला में भी जारी रहा: इंग्लैंड ट्वंटी 20 मैच और पहला वन डे भी हार गया. हालांकि, इंग्लैंड धमाके के साथ कॉमनवेल्थ बैंक श्रृंखला के फाइनल में पहुंचा और दो सीधे खेलों में फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को रवाना कर दिया, जिसमें से एक में बेल ने 65 रन बनाये.

विश्व कप 2007[संपादित करें]

बेल वेस्ट इंडीज में विश्व कप के लिए इंग्लैंड की 15 सदस्यीय टीम का हिस्से के रूप में चुने गये थे. इंग्लैंड के लिए काफी हद तक टूर्नामेंट निराशाजनक था और बेल का प्रदर्शन समग्र रूप में टीम जैसा ही था. टूर्नामेंट की शुरुआत के समय उन्‍हें नंबर तीन पर बल्लेबाजी के लिए चुना गया, क्योंकि इंग्लैंड न्यूजीलैंड से हार गया और केन्या, कनाडा, और आयरलैंड पर भ्री लड़खड़ाते हुए ही जीत हासिल की. इन मैचों में बेल का फार्म औसत ही रहा और उन्होंने 5, 28, 16 और 31 रन ही बनाये. अंतिम रनर अप श्रीलंका से हार के बाद, जिसमें बेल ने 47 रन बनाये, इंग्लैंड ने ऊपर के क्रम से एड जॉइस को नीचे कर दिया और बेल को कप्तान माइकल वॉन के साथ पारी की शुरुआत के लिए पदोन्नत किया गया. शुरु में क्रम में बदलाव ने अच्छा काम किया और बेल ने 77 रन बनाये, हालांकि इंग्लैंड ऑस्ट्रेलिया से हार गया. लेकिन बांग्लादेश और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अगले दो मैचों में वे केवल 0 और 7 रन ही बनाये और वेस्ट इंडीज के खिलाफ इंग्लैंड के अंतिम मैच से उन्हें बाहर कर दिया गया, जिसमें इंग्लैंड जीता. इंग्लैंड टूर्नामेंट के सुपर 8 चरण में पांचवें स्थान पर रहा और सेमीफाइनल के लिए अर्हता प्राप्त करने विफल रहा.

2007 - वेस्टइंडीज और भारत[संपादित करें]

मई में लॉर्ड्स में हुए पहले टेस्ट में वेस्ट इंडीज के खिलाफ इयान बेल ने इंग्लैंड का चौथा शतक लगाया. एलेस्टर कुक, पॉल कॉलिंगवुड और मैट प्रियर के साथ वे 1938 के बाद इंग्लैंड के चौथे बल्लेबाज बन गये, जिसमें एक ही टेस्ट मैच प्रत्येक ने एक शतक बनाया. बल्लेबाजी क्रम में बेल 6 नंबर पर आये और उसके बाद इंग्लैंड के पारी घोषित करने के बाद उनका उस क्रम में 121.00 के औसत से 484 रन का शानदार रिकॉर्ड रहा.

21 अगस्त 2007 को बेल ने भारत के ख्निलाफ सात एक दिवसीय अंतराष्ट्रीय मैचों के पहले मैच में अपना पहला एकदिवसीय शतक बनाया, जिसमें उन्होंने 118 गेंदों में 126 रन (106.8 की स्ट्राइक रेट से) बनाये. बेल ने अगले दो मैचों में और दो अर्द्धशतक बनाये, जिसमें एजबैस्टन में 79 रनों के साथ प्लेयर ऑफ द मैच हासिल करने वाली पारी शामिल थी, जिसमें इंग्लैंड ने श्रृंखला में 2-1 से बढत ले ली. बेल ने अंततः सात मैचों में 70.33 का औसत हासिल किया और इंग्लैंड ने लार्ड्स में हुए निर्णायक मैच में 7 विकेट से ठोस जीत के साथ श्रृंखला 4-3 से जीत ली और बेल मैन ऑफ द सीरीज नामित किये गये.[11]

2007/8 - श्रीलंका[संपादित करें]

सितंबर 2007 के आखिर में टीम के साथ श्रीलंका दौरे में बेल ने पहली बार अपना प्रभावशाली एक दिवसीय फार्म जारी रखा और श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड एकादश के खिलाफ इंग्लैंड के एकमात्र अभ्यास मैच में 121 गेंदों में 131 रन बनाये.[12] हालांकि, बाद में बेल ने 5 वनडे सीरीज में बल्ले के साथ संघर्ष किया और 14.00 की औसत से सिर्फ 70 रन ही बनाए.

पहले टेस्ट मैच में 83 और 74 रन बनाकर बेल ने अपना फार्म फिर हासिल किया, पर यह बेकार गया, क्योंकि इंग्लैंड को 88 रनों से हार मिली.[13] दूसरे और तीसरे मैच के ड्रा होने के बाद श्रीलंका ने 1-0 से टेस्ट श्रृंखला जीत ली और बेल ने 43.50 की औसत से बल्लेबाजी कर श्रृंखला खत्म की.[14]

2007/8 - न्यूजीलैंड[संपादित करें]

बेल ने शुरू में फार्म के लिए संघर्ष किया, क्योंकि इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड के खिलाफ पांच मैचों वाली एकदिवसीय सिरीज की शुरुआत दो भारी पराजयों के साथ की और उन्होंने सिर्फ 5 और 0 रन बनाये. हालांकि, टीम में अपनी जगह तयशुदा करने के दबाव के बीच बेल ने सीरीज के ऑकलैंड में हुए तीसरे मैच में हुई जीत में 73 रनों का सर्वोच्च स्कोर किया और नेपियर में हुए चौथे मैच में 41 गेंदों में 43 रन बनाए, जो टाई हो गया. अंतिम मैच में बेल 24 रन बनाने में सफल हुए और न्यूजीलैंड ने श्रृंखला 3-1 से जीत ली.

हैमिल्टन में पहले टेस्ट मैच में बेल को न्यूजीलैंड की पहली पारी के दौरान शार्ट लेग पर क्षेत्ररक्षण के दौरान कलाई में गहरी चोट लगी. उनकी कलाई टूटने और उनका दौरा खत्म होने की प्रारंभिक आशंका के बावजूद यह झटका केवल सूजन और हल्की चोट ही साबित हुआ. इंग्लैंड की पहली पारी में बेल ने 25 रन बनाये और दूसरी पारी में नाबाद रहकर सर्वोच्च 54 रन बना डाले और इंग्लैंड 110 रनों पर ही आल आउट हो गया और मैच 189 रनों से हार गया. इस पारी में अगला सर्वाधिक स्कोर एलिस्टेयर कुक का 13 रनों का था.[15] दूसरे टेस्ट में बेल ने 11 और 41 रन बनाये और इंग्लैंड ने मैच जीतकर श्रृंखला बराबर कर ली.[16] दौरे के उनकी बेहतरीन पारी अंतिम टेस्ट में दिखी. पहली पारी में 9 रन बनाने के बाद बेल एक बड़ा स्कोर बनाने के दबाव में थे. इंग्लैंड जब 140/3 था, वे एंड्रयू स्ट्रॉस के साथ क्रीज पर आये और इस जोड़ी ने 187 रन जोड़े और मैच को प्रभावी ढंग से न्यूजीलैंड की पहुंच से बाहर कर दिया.[17] इस प्रक्रिया में बेल ने अपना 7 वां टेस्ट शतक जमाया और दो से अधिक सालों में विदेशी धरती पर उनका पहला शतक था. उन्होंने 50.00 की औसत बल्लेबाजी से श्रृंखला खत्म की और 2500 रनों तक पहुंचने वाले इंग्लैंड के दूसरे सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बन गये.[18]

बेल घरेलू टेस्ट श्रृंखला में संघर्षरत रहे, तथापि, चार पारियों में उन्होंने 45 रन बनाये, जिसमें उच्च स्कोर 21* था.[19] उसके बाद ट्वेंटी -20 मैच में उन्होंने थोड़ा फार्म हासिल किया और इस प्रारूप में सर्वोच्च 60* रन बनाये, जिसमें इंग्लैंड 9 विकेट से मैच जीत गया.[20] इसके उपरांत, बाद की एकदिवसीय श्रृंखला के लिए वे पारियों की शुरुआत करते रहे, हालांकि 46,[21] 0,[22] 20,[23] और 46[24] रनों के साथ उनका फार्म अनियमित ही रहा.

2008 - दक्षिण अफ्रीका, भारत और वेस्ट इंडीज[संपादित करें]

पॉल हैरिस द्वारा आउट किये जाने से पहले बेल ने श्रृंखला की शुरूआत 199 रन ठोंककर की, जो उनके पहले दोहरे शतक से एक रन कम था और इस तरह वे 199 रन पर आउट होने वाले पहले अंग्रेज खिलाड़ी बने.[25] दौरे में प्रारंभिक अच्छी शुरूआत के बाद हालांकि बेल तीसरे टेस्ट की पहली पारी[26] में 50 रन बनाने के बाद भी फार्म के लिए संघर्ष करते रहे और 20 या 30 रन से आगे बढ़ने में नाकाम रहे. वेस्ट इंडीज और भारत में भी उन्हें ऐसी ही स्थिति का सामना करना पड़ा और पहले टेस्ट में 51 रन पर इंग्लैंड के आउट होने के बाद ओवैस शाह को लेने के लिए बेल को बाहर कर दिया गया.

2009 - द एशेज[संपादित करें]

बाहर किये जाने को बेल ने अच्छे तरीके से लिया और उन्होंने काउंटी चैम्पियनशिप में लगातार रन बनाना शुरू किया, जिसकी वजह से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट मैचों और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ही कैप्टन ऑफ द इंग्लैंड लायंस के मैच के लिए 16 सदस्यीय प्रशिक्षण दल के लिए उन्हें नामित किया गया, हालांकि वे उस मैच में विफल हो गये और 0 (एक सुनहरा शून्य), और 20[27] रन ही बना सके और श्रृंखला के पहले दो टेस्ट मैचों के लिए हाशिये पर ही रहे.

बेल को एजबेस्टन में उनके घरेलू मैदान में तीसरे टेस्ट में घायल केविन पीटरसन की जगह खेलने के लिए चयनित किया गया. टेस्ट टीम में वापसी और नंबर तीन पर बल्लेबाजी करते हुए ड्रा हुए मैच में इंग्लैंड की एकमात्र पारी में बेल ने 53 रन बनाए. हेडिंग्ले में हुए चौथे टेस्ट मैच, जिसमें दो बार मिशेल जॉनसन की गेंदों से बल्ले का बाहरी किनारा लगने के कारण वे आउट हुए और 8 और 3 रन ही बना सके, में बेल एक टेस्ट रिकॉर्ड का हिस्सा बने, क्योंकि टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि किसी भी पारी में समान मध्यक्रम ने तीन (रवि बोपारा), चार (बेल) और पांच (पॉल कोलिंगवुड) रन बनाये और किसी भी पारी में दो अंकों के आंकड़े तक नहीं पहुंच सके और उनका कुल योगदान 16 रनों का रहा.[28]

फिर भी बेल ने अगले सप्ताह ट्रेंट ब्रिज में नॉटिंघमशायर के खिलाफ 126 रन बनाये. वे ओवल में अंतिम टेस्ट में खेलने के लिए चयनित किये गये और इंग्लैंड की पहली पारी में 172 रनों की बढ़त की नींव रखने के लिए 72 रनों की पारी खेली. हालांकि दूसरी पारी में वे चार रन पर आउट हो गये, वारविकशायर के साथी जोनाथन ट्रोट के पहले शतक की वजह से इंग्लैंड की 197 रनों से जीत हुई और इस तरह 2-1 से एशेज श्रृंखला में जीत मिली. बेल श्रृंखला में अपनी पांच पारियों में चार बार मिशेल जॉनसन द्वारा आउट किये गये और केवल 28 की औसत से 140 रन बनाए, हालांकि इसमें दो अर्द्धशतक भी थे.[29]

2009/10 - दक्षिण अफ्रीका और बांग्लादेश[संपादित करें]

इंग्लैंड के लिए पहले खराब टेस्ट, जो सेंचुरियन में ड्रा पर खत्म हुआ, के बाद 5 और 2 के स्कोर के साथ बेल की टीम में जगह को लेकर आलोचना होने लगी. इंग्लैंड टीम के निदेशक एंडी फ्लावर ने बेल में आत्मविश्वास[30] पैदा करने के पक्ष में अपनी राय दी और इसका नतीजा यह हुआ कि बेल ने जुलाई 2008 में दक्षिण अफ्रीका के साथ हुए मैच में 199 रन बनाने के बाद अपनी पहली टेस्ट सेंचुरी बनाई. डरबन में अपने दूसरे टेस्ट में बेल ने अपने आलोचकों को चुप कराने के लिए पहली पारी में 140 रन बनाए. अंतिम दो टेस्ट बेल के लिए औसत रहे, जिन्होंने चार पारियों में 41.50 की औसत से 166 रन बनाये.

बांग्लादेश के दौरे पर, बेल ने चटगांव में हुए पहले टेस्ट में इंग्लैंड की पहली पारी में त्वरित और आश्वस्त रूप से 105 गेंदों पर 84 रन बनाये और दूसरी पारी 39 रन पर नाबाद रहे. निचले क्रम की बल्लेबाजी, आम तौर पर नंबर 6 पर बेल के स्कोर में सुधार देखा गया और नंबर 6 पर ही अपने दस टेस्ट शतकों में से पांच शतक बनाये. मीरपुर में हुए दूसरे टेस्ट में इंग्लैंड 107-3 पर गति के लिए संघर्ष कर रहा था, बेल पांचवे नंबर पर क्रीज पर आये और जोनाथन ट्रोट (67 रन की साझेदारी) मैट प्रियर (98 रन की साझेदारी) और छठें विकेट के लिए टिम ब्रेसनन के साथ 143 रन की अहम साझेदारियां की और अपना 10 वां टेस्ट शतक लगाया और अंत में वे 138 रन पर आउट हुए. शतक के दौरान बांग्लादेश के खिलाफ बेल का औसत 488 तक पहुंचा, जो टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में किसी एक खास देश के खिलाफ किसी भी बल्लेबाज के लिए सर्वोच्च है.[31]

2010 - बांग्लादेश और चोट के कारण गैरहाजिरी[संपादित करें]

बेल सीजन की शुरुआत में बांग्लादेश के साथ घरेलू टेस्ट श्रृंखला में शामिल हुए और दूसरे टेस्ट में शतक बनाया. हालांकि पैर ही हड्डी टूटने के कारण उसके बाद पाकिस्तान के खिलाफ एक दिवसीय ग्रीष्मकालीन मुख्य श्रृंखला के लिए उन्हें बाहर कर दिया गया. सीजन के अंत में अपने काउंटी वारविकशायर की ओर उन्होंने वापसी की और सोमरसेट के खिलाफ सीबी40 फाइनल में कार्यकारी कप्तान के रूप में मैच जिताऊ शतक बनाया.

2010/11 - ऑस्ट्रेलिया में एशेज[संपादित करें]

एशेज के करीब आने के समय बेल की टीम में 6 वें नंबर पर नियमित जगह बन गई थी. पूरी श्रृंखला के दौरान यह चर्चा होती रही कि पॉल कॉलिंगवुड के ख्नराब फार्म के मुकाबले उनके क्रम को ऊपर लाया जा सकता है. उन्होंने श्रृंखला की अच्छी शुरुआत की और पूरी सिरीज में कई बेहतर ड्राइव, पुल और कट के साथ वे आगे बढ़ते रहे. हालांकि, अपने ग्यारह 50 अर्द्धशतकों के बाद सिडनी में ही 5 वें टेस्ट तक वे अपना पहला एशेज शतक लगा सके. बेल इंग्लैंड के बेहतरीन बल्लेबाज रहे और सिरीज 3-1 से जीतने में अपना योगदान दिया, जो पहले 1986-1987 में गैटिंग की टीम की कामयाबी के बाद से पहला था.

2003 आईसीसी (ICC) क्रिकेट विश्व कप[संपादित करें]

फरवरी और मार्च में बांग्लादेश, भारत और पाकिस्तान ने 2011 विश्व कप की मेजबानी की. इंग्लैंड में पहले मैच टीम ने नीदरलैंड्स के बड़े टोटल का सफलतापूर्वक पीछा किया, जिसमें बेल ने 33 रनों का योगदान दिया. उसके बाद इंग्लैंड टीम भारत के साथ खेली और 338 की एक चुनौतीपूर्ण टोटल खड़ा किया. बेल और कप्तान स्ट्रॉस ने इंग्लैंड की स्थिति मजबूत कर दी, जबकि बेल बांए हाथ के स्पिनर युवराज सिंह की गेंद पर एलबीडब्ल्यू फैसले से बच गये. विपक्षी कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने पुनर्विचार के लिए कहा. टीवी रिप्ले और हॉक आई से पता चला कि बेल वास्तव में साहुल पट्टी में थे. हालांकि, एक नियम है, जिसके तहत मैदान पर खड़े अंपायर (बिली बोडेन) ही तब अंतिम निर्णय कर सकते हैं, जब बल्लेबाज स्टंप से 2.5 मीटर आगे खड़ा हो और अंपायर ने नॉट आउट का निर्णय दिया. बेल ने 69 रन बनाये और जिससे इंग्लैंड को मैच जीतने की पूरी संभावना लगी. यह मैच अंततः टाई में समाप्त हो गया.

सांख्यिकी[संपादित करें]

परीक्षण सांख्यिकी[संपादित करें]

बेल के टेस्ट मैच बल्लेबाजी करियर में पारी-दर-पारी गिरावट ग्राफ में बनाये गये रन (लाल बार) और आखिरी दस परियों का औसत (नीली रेखा) दिखायी गयी है.

टेस्ट शतक

इयान बेल का टेस्ट शतक
रन मैच के विरुद्ध शहर/देश स्थान वर्ष
[1] 162* 3  बांग्लादेश चेस्टर-ले-स्ट्रीट, इंग्लैंड रिवरसाइड ग्राउंड 2005
[2] 115 10  पाकिस्तान फैसलाबाद, पाकिस्तान इकबाल स्टेडियम 2005
[3] 100* 15  पाकिस्तान लंदन, इंग्लैंड लॉर्ड्स 2006
[4] 106* 16  पाकिस्तान मैनचेस्टर, इंग्लैंड ओल्ड ट्रैफोर्ड 2006
[5] 119 17  पाकिस्तान लीड्स, इंग्लैंड हेडिंग्ले कार्नेगी स्टेडियम 2006
[6] 109* 24  वेस्ट इंडीज़ लंदन, इंग्लैंड लॉर्ड्स 2007
[7] 110 36  न्यूज़ीलैंड नेपियर, न्यूजीलैंड मैकलीन पार्क 2008
[8] 199 40  दक्षिण अफ़्रीका लंदन, इंग्लैंड लॉर्ड्स 2008
[9] 140 51  दक्षिण अफ़्रीका डरबन, दक्षिण अफ्रीका सहारा स्टेडियम किंग्समीड 2009
[10] 138 55  बांग्लादेश ढाका, बांग्लादेश शेर-ए-बांग्ला क्रिकेट स्टेडियम 2010
[11] 128 57  बांग्लादेश मैनचेस्टर, इंग्लैंड ओल्ड ट्रैफोर्ड 2010
[12] 115 61  ऑस्ट्रेलिया सिडनी, ऑस्ट्रेलिया सिडनी क्रिकेट ग्राउंड 2011

करियर प्रदर्शन

  बल्लेबाजी[32] गेंदबाजी[33]
विरोध मैच रन औसत उच्च स्कोर 100 / 50 रन विकेट औसत सर्वोत्तम
 ऑस्ट्रेलिया 18 971 32.36 115 1/11 32 0
 बांग्लादेश 6 633 158.25 162* 3/2
 भारत 8 370 24.66 67 0/3 2 0
 न्यूज़ीलैंड 6 295 36.87 110 1/1
 पाकिस्तान 7 688 68.80 119 4/2 42 1 42.00 1/33
 दक्षिण अफ़्रीका 8 645 46.07 199 2/2
 श्रीलंका 3 261 43.50 83 0/3
 वेस्ट इंडीज़ 6 329 41.12 109* 1/2
समस्त 62 4192 44.12 199* 12/26 76 1 76.00 1/33

एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सांख्यिकी[संपादित करें]

शतक

इयान बेल का एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय शतक
रन मैच के विरुद्ध शहर/देश स्थान वर्ष
[1] 126* 48  भारत साउथम्पटन, इंग्लैंड रोज़ बाउल 2007

करियर प्रदर्शन

  बल्लेबाजी[34] गेंदबाजी[35]
विरोध मैच रन औसत उच्च स्कोर 100 / 50 रन विकेट औसत सर्वोत्तम
 ऑस्ट्रेलिया 15 476 31.73 77 0/3
 बांग्लादेश 3 84 84.00 84* 0/1
 कनाडा 1 28 28.00 28 0/0
 भारत 14 588 45.23 126* 1/2
 आयरलैंड 2 111 55.50 80 0/1 39 2 19.50 2/39
 केन्या 1 16 16.00 16 0/0
 न्यूज़ीलैंड 15 379 25.26 73 0/1
 पाकिस्तान 9 319 53.16 88 0/2 10 0
 स्कॉटलैण्ड 1 6 6* 0/0
 दक्षिण अफ़्रीका 10 182 30.33 73 0/1
 श्रीलंका 11 289 26.27 77 0/1 30 1 30 1/13
 वेस्ट इंडीज़ 4 135 33.75 56 0/2
 ज़िम्बाब्वे 4 163 40.75 75 0/2 9 3 3.00 3/9
समस्त 90 2,776 35.13 126* 1/16 88 6 14.66 3/9

पुरस्कार[संपादित करें]

मैन ऑफ़ द मैच अवॉर्ड्स:
दिनांक प्रतिद्वंद्वी मैदान रिकॉर्ड/स्कोरकार्ड्स
28 नवंबर 2004  ज़िम्बाब्वे हरारे स्पोर्ट्स क्लब, हरारे बल्लेबाजी: 75
8 सितंबर 2006  पाकिस्तान ट्रेंट ब्रिज, नॉटिंघम बल्लेबाजी: 86*
21 अगस्त 2007  भारत रोज़ बाउल, साउथेम्प्टन बल्लेबाजी: 126*
27 अगस्त 2007  भारत एड्गबेड्सटन, बर्मिंघम बल्लेबाजी: 79

नोट्स[संपादित करें]

  1. Westerby, John (14 June 2008). "Bell puts himself in contention for pot of gold". The Times (London). http://www.timesonline.co.uk/tol/sport/cricket/article4133951.ece. अभिगमन तिथि: 4 मई 2010. 
  2. John Stern (March 2008). "Waiting for the punchline". Cricinfo.com. http://content-uk.cricinfo.com/magazine/content/current/story/337735.html. अभिगमन तिथि: 2008-02-23. 
  3. इंग्लैंड परफॉर्मेंस प्रोग्रैम इंटेक्स, ईसीबी (ECB), 9 अक्टूबर 2008 को पुनःप्राप्त
  4. वार्विकशायर के लिए पारी में शतक और 5 विकेट, क्रिकेटआर्चिव, 9 अक्टूबर 2008 को पुनःप्राप्त
  5. वार्विकशायर के लिए मैच के प्रति पारी में सौ, क्रिकेटआर्चिव, 9 अक्टूबर 2008 को पुनःप्राप्त
  6. इयान बेल को चौथे टेस्ट के लिए बुलाया गया, क्रिकइन्फो, 9 अक्टूबर 2008 को पुनःप्राप्त
  7. इंग्लैंड बनाम वेस्टइंडीज चौथा टेस्ट क्रिकइन्फो 11 मार्च 2008 को पुनःप्राप्त
  8. जिम्बाब्वे बनाम इंग्लैंड प्रथम ओडीआइज़ (ODIs) क्रिकइन्फो, 11 मार्च 2008 को पुनःप्राप्त
  9. Andrew Miller (2005-06-04). "Bell relieved to reach first Test century". Cricinfo.com. http://content-uk.cricinfo.com/ci/content/story/210516.html. अभिगमन तिथि: 2008-02-23. 
  10. "Highest averages at any point of time". Cricinfo.com. http://www.cricinfo.com/ci/content/story/454969.html#table6. अभिगमन तिथि: 17 June 2010. 
  11. 7 वीं ओडीआई (ODI) बनाम भारत (स्कोरकार्ड और पुरस्कार) क्रिकइन्फो, 9 सितंबर 2007 को पुनःप्राप्त
  12. टूर मैच: श्रीलंका क्रिकेट XI बनाम इंग्लैंड बीबीसी (BBC) समाचार, 28 सितंबर 2007 को पुनःप्राप्त
  13. श्रीलंका बनाम इंग्लैंड प्रथम टेस्ट बीबीसी (BBC) समाचार 5 दिसंबर 2007 को पुनःप्राप्त
  14. श्रीलंका में टेस्ट सीरीज, औसत बीबीसी (BBC) समाचार 22 दिसंबर 2007 को पुनःप्राप्त
  15. न्यूजीलैंड बनाम इंग्लैंड का प्रथम टेस्ट क्रिकइन्फो 11 मार्च 2008 को पुनःप्राप्त
  16. न्यूजीलैंड बनाम इंग्लैंड द्वितीय टेस्ट क्रिकइन्फो 24 मार्च 2008 को पुनःप्राप्त
  17. स्ट्रॉस और बेल ने न्यूजीलैंड को हरा दिया क्रिकइन्फो, 24 मार्च 2008 को पुनःप्राप्त
  18. न्यूज़ीलैंड बनाम इंग्लैंड - 3 वीं टेस्ट बीबीसी (BBC) समाचार 24 मार्च 2008 को पुनःप्राप्त
  19. बीबीसी (BBC) समाचार से औसत बनाम न्यूजीलैंड (एच) 2008 13 जून 2008 को पुनःप्राप्त
  20. बीबीसी (BBC) समाचार से बेल इंग्लैंड को विशाल जीत से प्रेरित करता है 13 जून 2008 को पुनःप्राप्त
  21. बीबीसी (BBC) समाचार से नैटवेस्ट एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सीरीज: इंग्लैंड बनाम न्यूजीलैंड - रिवरसाइड में 15-06-2008 25 जून 2008 को पुनःप्राप्त
  22. बीबीसी (BBC) समाचार से नैटवेस्ट एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सीरीज: इंग्लैंड बनाम न्यूजीलैंड - एजबैस्टन में 18-06-2008 25 जून 2008 को पुनःप्राप्त
  23. बीबीसी (BBC) समाचार से नैटवेस्ट एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सीरीज: इंग्लैंड बनाम न्यूजीलैंड - ब्रिस्टल में 21-06-2008 25 जून 2008 को पुनःप्राप्त
  24. बीबीसी (BBC) समाचार से नैटवेस्ट एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सीरीज: इंग्लैंड बनाम न्यूजीलैंड - ब्रिट ओवल में 25-06-2008 25 जून 2008 को पुनःप्राप्त
  25. बीबीसी (BBC) समाचार से इंग्लैंड बनाम दक्षिण अफ्रीका 1 टेस्ट: दक्षिण अफ्रीका पर सुप्रीम बेल ने दबाव डाला 11 जुलाई 2008 को पुनःप्राप्त
  26. क्रिकइन्फो से क्रिकइन्फो - 3 टेस्ट: बर्मिंघम में इंग्लैंड बनाम दक्षिण अफ्रीका, 30 जुलाई-2 अगस्त 2008 18 अगस्त 2008 को पुनःप्राप्त
  27. क्रिकइन्फो से - वॉघन और हार्मिसन ऐशेज़ प्रशिक्षण समूह से बाहर चले गए, 22 जून 2009 22 जून 2009 को पुनःप्राप्त.
  28. Selvey, Mike (9 August 2009). "Incompetent England cannot hide behind the camouflage against". The Guardian (London). http://www.guardian.co.uk/sport/2009/aug/09/ashes-australia-win-fourth-test-england. अभिगमन तिथि: 17 June 2010. 
  29. "Australia in the British Isles 2009". Cricket Archive. http://www.cricketarchive.com/Archive/Events/ENG/Australia_in_British_Isles_2009/t_England_Batting.html. अभिगमन तिथि: 17 June 2010. 
  30. "Vote of confidence for Bell". Sky Sports. http://www.skysports.com/story/0,19528,12052_5793252,00.html. अभिगमन तिथि: 17 June 2010. 
  31. "The List: The highest batting average against a particular team or at a particular venue". Cricinfo.com. http://www.cricinfo.com/magazine/content/story/454970.html. अभिगमन तिथि: 17 June 2010. 
  32. "Statsguru - IR Bell - Test Batting - Career summary". Cricinfo. http://stats.cricinfo.com/statsguru/engine/player/9062.html?class=1;template=results;type=batting. अभिगमन तिथि: 2009-12-18. 
  33. "Statsguru - IR Bell - Test Bowling - Career summary". Cricinfo. http://stats.cricinfo.com/statsguru/engine/player/9062.html?class=1;template=results;type=bowling. अभिगमन तिथि: 2009-12-18. 
  34. "Statsguru - IR Bell - ODI Batting - Career summary". Cricinfo. http://stats.cricinfo.com/statsguru/engine/player/9062.html?class=2;template=results;type=batting. अभिगमन तिथि: 2011-02-09. 
  35. "Statsguru - IR Bell - ODI Bowling - Career summary". Cricinfo. http://stats.cricinfo.com/statsguru/engine/player/9062.html?class=2;template=results;type=bowling. अभिगमन तिथि: 2010-03-26. 

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]