इकोकार्डियोग्राफी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
एक असामान्य इकोकार्डियोग्राम.छवि एक मध्य पेशी वेंट्रिकुलर सेप्टल दोष को दिखाता है।निचले बाएं में ट्रेस हृदय चक्र और लाल निशान हृदय चक्र में कितनी बार छवि ली गई वह दिखाता है।रक्त प्रवाह के दिशा और गति को रंग प्रतिनिधित्व करते हैं।
बाल इकोकार्डियोग्राफी करते हुए सोनोग्राफर
पैरसटर्नल लंबे अक्ष दृश्य में इकोकार्डियोग्राम, हृदय के बाएं वेंट्रिकल की माप दिखाते हुए.
वेंट्रिक्लयूर सेपटल डिफ़ेक्ट

इकोकार्डियोग्राम, चिकित्सकीय समुदाय में अक्सर हृदयीय अनुनाद कार्दियाक इको (ECHO) या बस इको के रूप में जाना जाता है, जो हृदय का सोनोग्राम है (इसे संक्षिप्त रूप में ईसीजी नहीं कहा जा सकता है, आमतौर पर चिकित्सा शास्त्र में जिसे इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम कहकर संदर्भित किया जाता है). इसके अलावा यह हृदयीय अल्ट्रासाउंड के रूप में भी जाना जाता है, यह ह्रदय के दो आयामी छोटे-छोटे हिस्सों (स्लाइसेज) की छवि के लिए मानक अल्ट्रासाउंड तकनीकों का उपयोग करता है। नवीनतम अल्ट्रासाउंड सिस्टम अब 3 डी वास्तविक समय प्रतिछवि (रियल-टाइम इमाजिंग) का इस्तेमाल करता है।

इसके अतिरिक्त हृदयवाहिनी प्रणाली के दो-आयामी छवियों के सर्जन में, एक इकोकार्डियोग्राम भी रक्त के गतिवेग का और स्पंदित बिंदु पर हृदय के ऊतक का सटीक आकलन किसी भी मनमानी विन्दु पर स्पंदित अथवा डॉपलर अल्ट्रासाउंड के निरंतर लहर का उपयोग कर किया जा सकता है। इससे के वाल्व क्षेत्रों और गतिविधियों के मूल्यांकन की, हृदय के दाईं ओर बाईं हिस्से के बीच किसी भी असामान्य संचार, वाल्व से होकर रक्त की किसी भी क्षरण (लीक) (वाल्व के कपाटों से रक्त की उल्टी), तथा हृदय की उत्पादन क्षमता साथ ही उत्क्षेपण विखंडन (एजेक्सन फ्राक्सन) की अनुमति देता है। अन्य मापदंडों के मापों में हृदय के आयाम (लुमिनल ((luminal) व्यास और पटीय (septal) सघनता तथा ई/ए के अनुपात शामिल हैं।

इकोकार्डियोग्राफी अल्ट्रासाउंड का एक प्रारंभिक चिकित्सकीय अनुप्रयोग था। सर्वप्रथम विपरीत-उन्नत (अन्तः शिरा) इंट्रावेनस अल्ट्रासाउंड का अनुप्रयोग इकोकार्डियोग्राफी में किया गया था। इस तकनीक में ऊतक और रक्त निरूपण में सुधार हेतु गैस से भरे सूक्ष्म बुलबुले (माईक्रोबब्बलस) शिरापरक प्रणाली में इंजेक्ट किये जाते हैं। इसके विपरीत भी फिलहाल हृत्पेशीय आप्लावन (myocardial perfusion) की प्रभावोत्पादकता का मूल्यांकन करने में भी इसका मूल्यांकन किया जा रहा है। सुधार प्रवाह से संबंधित माप में डॉपलर अल्ट्रासाउंड के साथ भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं (देखें डॉपलर इकोकार्डियोग्राफी).

इकोकार्डियोग्राफी या तो कार्डियाक सोनोग्राफर, या फिर कार्डियाक फिजियोलोजिस्ट (यूके) अथवा कार्डियोलॉजी में प्रशिक्षित डॉक्टरों द्वारा निष्पादित की जाती है।

प्रयोजन[संपादित करें]

इकोकार्डियोग्राफी का इस्तेमाल हृदय रोगों के निदान में किया जाता है। वास्तव में, यह एक दिल की बीमारी के लिए सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल किये जाने वाले नैदानिक परीक्षणों में से एक है। ह्रदय, उसकी शक्ल, उसका आकार, उसकी पम्पिंग क्षमता और स्थान तथा इसके ऊतकों के लिए किसी भी सीमा तक क्षति, सहित यह उपयोगी जानकारी की बहुलता प्रदान कर सकता है। यह विशेष रूप से हृदय वाल्व के रोगों का आकलन करने के लिए उपयोगी है। यह न केवल डॉक्टरों को दिल के वाल्व का मूल्यांकन करने की अनुमति देता है, बल्कि यह आंशिक रूप से बंद हृदय वाल्व के माध्यम से रक्त के पश्चगामी प्रवाह, जिसे कपाटों से रक्तवमन (regurgitation) के रूप में जाना जाता है, के रूप में रक्त के प्रवाह के पैटर्न में असामान्यताएं भी पहचान सकता है। दिल की दीवार की गति का आकलन करके, इकोकार्डियोग्राफी हृद्धमनी (कोरोनरी) की बीमारी की उपस्थिति का पता लगाने और गंभीरता का आकलन करने में मदद कर सकती हैं, साथ ही सीने में कोई भी दर्द का दिल की बीमारी से संबंधित है इसका भी पता लगाने में मदद करती है। इकोकार्डियोग्राफी हाइपरट्रोफिक कार्डियोमायोपैथी का पता लगाने में पता भी मदद कर सकती है। इकोकार्डियोग्राफी से सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह अनाक्रामक (noninvasive) है, इसमें (शामिल नहीं है) त्वचा को तोड़ने या शरीर के क्षिद्रों में प्रवेश) और कोई ज्ञात जोखिम या साइड इफेक्ट भी नहीं है।

ट्रांसथोरासिक (परावक्षीय) इकोकार्डियोग्राम[संपादित करें]

एक मानक इकोकार्डियोग्राम ट्रांसथोरासिक इकोकार्डियोग्राम (TTE), या कार्डियाक अल्ट्रासाउंड के रूप में भी जाना जाता है। इस मामले में, इकोकार्डियोग्राफी ट्रांसडूसर (या जांच-यंत्र) को सीने की दीवार (या सीने पर स्थापित किया जाता है और सीने की दीवार के माध्यम से छवियां ली जाती हैं। यह दिल के समग्र स्वास्थ्य के लिए एक गैर-नुकसानदेह (नॉन-इनवेसिव), बेहद सटीक और त्वरित आकलन है।

ट्रन्सेसोफेगेयल इकोकार्डियोग्राफी[संपादित करें]

यह इकोकार्डियोग्राम के निष्पादन का एक विकल्प तरीका है। एक विशेष जांच युक्त अल्ट्रासाउंड (transducer) टिप मरीज की घुटकी में पारित किया जाता है। इससे छवि और डॉपलर मूल्यांकन को दर्ज किया जा सकता है। इसे ट्रन्सेसोफेगेयल (transesophageal) इकोकार्डियोग्राम या टीओई (TOE) (संयुक्त राज्य अमेरिका में टीईई (TEE)) के रूप में जाना जाता है।

3 आयामी इकोकार्डियोग्राफी[संपादित करें]

हृदय की 3डी इकोकार्डियोग्राम शीर्ष से देखा गया

अब 3-D इकोकार्डियोग्राफी संभव है, जिसमे और अल्ट्रासाउंड जांच के प्रयोग के साथ ट्रांसड्यूसर्स की एक सरणी के साथ एक उचित प्रसंस्करण प्रणाली प्रयुक्त होती है। यह, हृदय विकृतिविज्ञान के संरचनात्मक मूल्यांकन को विस्तृत तरीके से सक्षम बनाता है, विशेष रूप से वाल्वुलर दोष[1] और कार्डियोमायोपैथीज को.[2] 3 डी इकोकार्डियोग्राफी अनंत सतहों (infinite planes) पर आभासी ह्रदय की शारीरिक संरचना को खण्डों में उपयुक्त ढंग से विभक्त करने और शारीरिक संरचनाओं की 3-आयामी छवियों के जरिये जन्मजात विकृत दिल को समझने की अद्वितीय क्षमता प्रदान करती है।[3] रीयल टाइम 3 आयामी इकोकार्डियोग्राफी का इस्तेमाल दाहिनी वेंट्रिकुलर इंडोमायोकर्दिअल बायोप्सी के दौरान बायोप्पटोम्स के सही स्थान का मार्गदर्शन करने के लिए किया जा सकता.[4]

मान्यता[संपादित करें]

  • संयुक्त राज्य अमेरिका: (ICAEL) "इकोकार्डियोग्राफी प्रयोगशालाओं के प्रत्यायन के लिए आन्तःसामाजिक (Intersocietal) आयोग" ईको-प्रयोगशालाओं, हृदय रोग विशेषज्ञों और प्रौद्योगिकीविदों के अनुपालन के लिए अमेरिका में मानकों का निर्धारण करता है। एक बार सभी आवश्यक शर्तें पूरी हो जाने पर ही, प्रयोगशाला को ICAEL प्रमाणन प्राप्त होगा. प्रयोगशाला जिसे प्रमाण पत्र प्राप्त हुआ है, वह भी चिकित्सा और संयुक्त स्वास्थ्य के रूप में बीमा कंपनियों से उच्च प्रतिपूर्ति प्राप्त कर सकते हैं। http://www.icael.org/icael/index.htm
  • ब्रिटेन: ब्रिटेन में, ब्रिटिश सोसायटी ऑफ़ इकोकार्डियोग्राफी के द्वारा मान्यता दी जाती है। मान्यता प्राप्त प्रौद्योगिकीविदों या इकोकार्डियोग्राफी क्षेत्र के अन्य पेशेवरों की कार्यपंजी एक परीक्षा द्वारा पूरी और पारित होती है।
  • यूरोप: में एक यूरोपीय स्तर पर व्यक्तिगत और प्रयोगशाला प्रत्यायन यूरोपीय संघ के इकोकार्डियोग्राफी (EAE) द्वारा प्रदान की गई है। व्यक्तिगत मान्यता के लिए तीन उप-विशेषताएं (subspecialties): वयस्क ट्रांसथोरासिक (TTE), इकोकार्डियोग्राफी, वयस्क ट्रांसेसोफागेअल इकोकार्डियोग्राफी (TEE)(टी) और जन्मजात हृदय रोग इकोकार्डियोग्राफी (CHD).

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • एंजियोग्राम
  • महाधमनी वाल्व क्षेत्र गणना
  • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम
  • भ्रूण इकोकार्डियोग्राफी

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Poh KK, Levine RA, Solis J, Shen L, Flaherty M, Kang YJ, Guerrero JL, Hung J. (2008). "Assessing aortic valve area in aortic stenosis by continuity equation: a novel approach using real-time three-dimensional echocardiography". Eur Heart J 29 (20): 2526. doi:10.1093/eurheartj/ehn022. PMC 2721715. PMID 18263866. 
  2. Goland S, Czer LS, Luthringer D, Siegel RJ. (2008). "A case of arrhythmogenic right ventricular cardiomyopathy". Can J Cardiol 24 (1): 61–2. PMC 2631252. PMID 18209772. 
  3. जन्मजात हृदय रोग के प्रबंधन पर तीन-विमिय इकोकार्डियोग्राफिक डेटा के मल्टीप्लानर रिव्यू के प्रभाव. एन. थोरैक. सर्जन, सितंबर 2008; 86: 875-881)
  4. फ्लोरोस्कोपिक बनाम एंडोम्यो बायोप्सी के रियल तिन-विमिय ट्रांस्थोरैसिक इकोकार्डियोग्राफिक की तुलना. डी प्लेट्स, एम ब्राउन, जी जैवोर्सकी, सी वेस्ट, एन केली, डी बर्सटो. इकोकार्डियोग्राफी के यूरोपीय जर्नल (2010) doi: 10.1093/ejechocard/jeq036

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]