इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उद्यान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उद्यान
—  national park  —
IUCN श्रेणी-II (राष्ट्रीय उद्यान)en:Category:IUCN Category II
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य तमिल नाडु
ज़िला कोयंबतूर
Established १९७६[1][2]
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)
958 km² (370 sq mi)
• 2,513 मीटर (8,245 फी॰)
मौसम
वर्षा
तापमान
• ग्रीष्म
• शीत

     4,500 mm (177.2 in)

     25 °C (77 °F)
     2 °C (36 °F)
Governing body वन एवं पर्यावरण मंत्रालय (भारत) तथा तमिल नाडु वन विभाग

Erioll world.svgनिर्देशांक: 10°25′01″N 77°03′24″E / 10.4170°N 77.0567°E / 10.4170; 77.0567 इंदिरा गांधी वन्य जीवन अभयारण्य और राष्ट्रीय उद्यान (आईजीडब्ल्यूएलएस और एनपी) एक संरक्षित क्षेत्र है जिसका नाम प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के नाम पर रखा गया है जिन्होंने 7 अक्टूबर 1961 को पार्क का दौरा किया था. इसे अक्सर टॉपस्लिप कहा जाता है जो पार्क के पूर्वोत्तर कोने में स्थित एक गांव है और आगंतुकों का मुख्य केंद्र है. यह नाम 19वीं सदी की एक स्थानीय प्रथा से उत्पन्न हुआ है जिसमें सागौन की लकड़ी के लट्ठों को पहाड़ियों से नीचे सरकाया जाता था. यह दक्षिण भारत के तमिलनाडु राज्य के कोयंबटूर जिले में पोलाची, वेलपराई और उदुमलपेट तालुकों की अनाईमलाई पहाड़ियों में स्थित है. 108 वर्ग किमी में फैला यह राष्ट्रीय उद्यान 958 वर्ग किमी के इंदिरा गांधी वन्यजीव अभयारण्य का महत्वपूर्ण क्षेत्र है जिसे पहले अनाईमलाई वन्यजीव अभयारण्य कहा जाता था. इसे 1974 में एक अभयारण्य के रूप में अधिसूचित किया गया था और 108 किमी2 क्षेत्र में तीन स्थानों - करियन शोला, ग्रास पहाड़ी और मंजमपट्टी में स्थित इसके विशिष्ट प्राकृतिक आवासों को 1989 में राष्ट्रीय उद्यान के रूप में अधिसूचित किया गया था.[1]

पार्क और अभयारण्य, पश्चिमी घाट विश्व विरासत स्थल के एक हिस्से के रूप में यूनेस्को द्वारा विचाराधीन हैं.[3] अनाईमलाई संरक्षण क्षेत्र डिंडीगुल जिले में अभयारण्य और पालनी पहाड़ी से मिलकर बना है.[4]

इंदिरा गांधी वन्य जीवन अभयारण्य और राष्ट्रीय उद्यान का मानचित्र

भौगोलिक स्थिति[संपादित करें]

जम्बू मलाई

अभयारण्य के छह प्रशासनिक रेंज हैं, पोलाची: अनाईमलाई फार्म में रेंज मुख्यालय: 109.72 वर्ग किमी, वालपाराई: जल प्रपात: 171.50 वर्ग किमी, उलंदी: टॉप स्लिप: 75.93 वर्ग किमी, अमरावती: अमरावती नगर: 172.50 वर्ग किमी, उदुमलपेट: 290.18 वर्ग किमी. आईजीडब्ल्यूएलएस पश्चिम में पराम्बिकुलम वन्यजीव अभयारण्य से सटा हुआ है. मंजमपट्टी घाटी उद्यान के पूर्वी छोर पर 110± वर्ग किमी का एक जल निकासी बेसिन है.

ऊँचाई (पर्वतमाला) का विस्तार समुद्रतल के ऊपर 340 मीटर (1,120 फ़ुट) से 2,513 मीटर (8,245 फ़ुट) के बीच है. उद्यान में 12 प्रमुख चोटियां स्थित हैं जिनमें शामिल हैं:

स्थानीय नाम लम्बाई अंग्रेजी नाम स्थान
अक्कामलाई 2,483 मीटर (8,146 फ़ुट)
जम्बू मलाई 1,395 मीटर (4,577 फी॰) 10°15′51″N 77°15′48″E / 10.26417°N 77.26333°E / 10.26417; 77.26333
पाप्पलाम्मान मलाई 2,201 मीटर (7,221 फी॰) 10°17′29″N 77°21′04″E / 10.29139°N 77.35111°E / 10.29139; 77.35111
वेल्लारी मलाई 2,219 मीटर (7,280 फी॰) 10°15′46″N 77°20′56″E / 10.26278°N 77.34889°E / 10.26278; 77.34889
कीलानावयल में अनामित 2,350 मीटर (7,710 फी॰) 10°14′55″N 77°21′22″E / 10.24861°N 77.35611°E / 10.24861; 77.35611
परातुम्बा 2,370 मीटर (7,776 फी॰) 10°13′39″N 77°17′24″E / 10.2275°N 77.29°E / 10.2275; 77.29
कालाभाथुर मलाई 2,066 मीटर (6,778 फी॰) 10°14′09″N 77°16′13″E / 10.23583°N 77.27028°E / 10.23583; 77.27028
कदावारी 2,112 मीटर (6,929 फी॰) 10°13′40″N 77°17′24″E / 10.22778°N 77.29°E / 10.22778; 77.29

औसत वार्षिक वर्षा दक्षिण पश्चिमी क्षेत्र में 500 मिलीमीटर (20 इंच) से लेकर उत्तर पूर्व में 4,500 मिलीमीटर (180 इंच) तक होती है.

आदिवासी समुदाय[संपादित करें]

आईजीडब्ल्यूएस में काफी मानविकीय विविधता है जहां 34 बस्तियों में छः स्वदेशी निवासियों की जनजातियों के 4600 से अधिक आदिवासी लोग रहते हैं. ये जनजातियां हैं कदार, मालासर, मलयमालासर, पुलैयर, मुदुवर और एरावलर.[5][6]

जीव-जंतु[संपादित करें]

पार्क में एथिओडा स्ट्रीम

अभयारण्य में स्तनधारियों की संकट ग्रस्त प्रजातियों में शामिल हैं:

सबसे सुरक्षित पशुओं में शामिल हैं: गोल्डन सियार, तेंदुए बिल्ली, जंगली बिल्ली, चीतल, काकड़, मूषक मृग, जंगली सूअर, सामान्य लंगूर, बोनेट मकाक, एशियाई पाम सीविट, छोटा भारतीय सीविट, भारतीय ग्रे नेवला, धारीदार-गलेवाला नेवला, सुर्ख नेवला, ग्रे पतला लाउरिस, भारतीय बड़ी गिलहरी, सेही, भारतीय छिपकली, भारतीय साही और तीन धारीदार पाम गिलहरी.

पार्क में २५० से अधिक पक्षियों की प्रजातियों की पहचान की गई है. कुछ महत्वपूर्ण समूहों में शामिल हैं, जलकाग, बतख, छोटी बत्तख, बानकर (डार्टर), तीतर, बटेर, जंगली मुर्गी, स्पोरफॉल, मोर, तोता, धनेश, बार्बिट्स, ड्रोंगो, ओरिओल्स, श्रीक्स, वार्बलर्स, फ्लाईकैचर्स, कठफोड़वा, क्लोरोप्सिस, ट्रोगोन्स, किंगफिशर्स, सारस, सफ़ेद बगुला, मछली, ईगल, बाज़ चील, हैरियर, बाज़, चील, उल्लू और नाईटजार्स.

यह पश्चिमी घाट के लिए स्थानिक पक्षियों की 16 प्रजातियों में से 15 का केंद्र है.

सरीसृपों में शामिल हैं टोड, धब्बेदार छलांग मारने वाला मेंढक और लीथ का छलांग मारने वाला मेंढक, काला टॉरेंट मेंढक, पेड़ पर रहने वाले मेंढक, अजगर, कोबरा, करैत, वाइपर, ग्रास स्नेक, जंगली केन कछुआ, त्रावणकोर कछुआ, फ्लैपशेल कछुआ, सितारों वाला कछुआ, उड़ने वाली छिपकली, गिरगिट और जंगली छिपकली.

अनाईमलाई पहाड़ियों में पांच परिवारों से संबंधित तितलियों की 315 प्रजातियों की पहचान की गई है. इनमे से 44 पश्चिमी घाट के लिए स्थानिक हैं.[7]

अनाईमलाई टाइगर रिजर्व[संपादित करें]

प्रोजेक्ट टाइगर की संचालन समिति ने 2005 में इंदिरा गांधी डब्ल्यूएलएस और एनपी को प्रोजेक्ट टाइगर में शामिल करने की सैद्धांतिक रूप से मंजूरी दी थी.[8]

आईजीडब्ल्यूएस को 2008 में एक प्रोजेक्ट टाइगर अभयारण्य घोषित किया गया था.[9]

235.47 लाख रुपये की लागत से वित्तीय वर्ष 2010/11 के लिए अनामलाई टाइगर रिजर्व में प्रोजेक्ट टाइगर की निरंतरता को राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण द्वारा 31 अगस्त 2010 को अनुमोदित किया गया था.[10]

वनस्पतियां[संपादित करें]

यह उद्यान विशेष रूप से दक्षिण पश्चिमी घाटों की वनस्पतियों और जीव-जंतुओं की व्यापक विविधता का केंद्र है. यहां पौधों की 2000 से अधिक प्रजातियां मौजूद हैं जिनमें से लगभग 400 प्रजातियां प्रमुख औषधीय महत्त्व की हैं. यहां की विविध स्थलाकृति और वर्षा का अनुपात प्राकृतिक और मानव निर्मित आवासों के मिश्रण से बनी विविध प्रकार की वनस्पतियों के लिए अनुकूल है. प्राकृतिक आवासों में नम सदाबहार वन और अर्द्ध-सदाबहार वन, मोन्टेन शोला-चरागाह, नम पर्णपाती और शुष्क पर्णपाती, कांटेदार वन और दलदल शामिल हैं. उष्णकटिबंधीय नम सदाबहार वन 600 मीटर से लेकर 1600 मीटर की ऊंचाई पर पाये जाते हैं. उष्णकटिबंधीय मोन्टेन वन अधिक ऊंचाई पर होते हैं और पर्वतीय चारागाहों के साथ बीच-बीच में फैले हुए होते हैं जो शोला-चरागाह कॉम्प्लेक्स का निर्माण करते हैं. वास्तविक सदाबहार वन के ज्यादातर हिस्से में अब नए सिरे से किया गया सागौन का वृक्षारोपण शामिल है. बांस के स्टैंड और सरकंडे प्राकृतिक वनों में मौजूद होते हैं. पेड़ों का कवरेज होपिया पर्विफ्लोरा, मेसुआ फेरिया, कैलोफाइलम टोमेंटोसम, वेटेरिया इंडिका, कुलेनिया एक्सेलसा और मेंगिफेरा इंडिका, मैचिलस मैक्रान्था, अल्स्टोनिया स्कोलेरिस, एवोडिया मेलीफोलिया, ऐलान्थस और मलाबारिकम और युक्लिप्टस ग्रैन्डिस द्वारा प्रदान किया जाता है. यह क्षेत्र शंकुवृक्ष की एक दुर्लभ दक्षिण भारतीय प्रजाति, पोडोकार्पस वल्लीचियानस का ग्रह है.

पर्यटक सूचना[संपादित करें]

आईजीडब्ल्यूएस और एनपी (IGWS&NP)

आईजीडब्ल्यूएलएस का प्रबंधन वन्यजीव वार्डन (वन्यजीव वार्डन कार्यालय, 178 मीनकराई रोड, पोलाची, फोन: 04259-225356) द्वारा किया जाता है और यह कोयंबटूर फोरेस्ट सर्किल के प्रशासनिक नियंत्रण के भीतर आता है जिसका नेतृत्व कोयंबटूर के वन संरक्षक करते हैं.

पर्यटक के आज्ञापत्र के लिए वन्यजीव वार्डन के कार्यालय तक कोयंबटूर से पोलाची (40 किमी) की यात्रा सड़क मार्ग से और उसके बाद टॉप स्लिप तक (35 किमी), या उदुमलपेट तक (40 किमी - अमरावती और उदुमलपेट पर्वत श्रेणी) या वाल पराई तक (65 किमी - वाल पराई और मानाम्बोली पर्वत श्रेणी) की यात्रा सड़क मार्ग से की जाती है.

उद्यान की यात्रा के लिए आदर्श महीने मई से लेकर जनवरी तक हैं. प्रवेश का समय प्रातः 6 बजे से लेकर शाम 6 बजे के बीच है. उद्यान में टॉप स्लिप पर एक विशाल पर्यटक परिसर मौजूद है जहां पर्यटकों के लिए कई कॉटेज, कमरे और शयनगृह बने हुए हैं. पर्यटक पैदल यात्रा और सफारी वैन द्वारा उद्यान के आसपास पहुंच सकते हैं.[1][11]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Indira Gandhi Wildlife Sanctuary & National Park". Tamil Nadu Forest Department. http://www.forests.tn.nic.in/WildBiodiversity/np_ignp.html. अभिगमन तिथि: 2007-09-06. 
  2. Sen, Sumit K. "Top Slip Indira Gandhi National Park". Birds of India. Kolkata: Sumit K Sen. http://www.kolkatabirds.com/south/topslip.htm. अभिगमन तिथि: 4 December 2009. 
  3. यूनेस्को, विश्व धरोहर स्थल, अंतरिम सूची, पश्चिमी घाट उप क्लस्टर, अनामलाई, 2007. [1]
  4. सजीव टी.के. आदि, जैव विविधता और वन उत्पादकता के लिए भारत में वन प्रबंधन- एक नया परिप्रेक्ष्य डब्ल्यूII-यूएसडीए वन सेवा सहयोगात्मक परियोजना अनुदान संख्या FG-In-780 (In-FS-120), वॉल्यूम III, अनामलाई संरक्षण क्षेत्र (एसीए) पीपी 169 - 190.[2]
  5. डिस्कवर वाइल्ड - केयर फॉर दी अनामलाई, 5/14/2007 को प्राप्त किया गया ट्राइब्स ऑफ दी अनामलाई
  6. सजीव टी.के. आदि, जैव विविधता और वन उत्पादकता के लिए भारत में वन प्रबंधन- एक नया परिप्रेक्ष्य डब्ल्यूII-यूएसडीए वन सेवा सहयोगात्मक परियोजना अनुदान संख्या FG-In-780 (In-FS-120), वॉल्यूम III, अनामलाई संरक्षण क्षेत्र (एसीए) पीपी 169 - 190.अनामलाई संरक्षण क्षेत्र
  7. डिस्कवर वाइल्ड - केयर ऑफ दी अनामलाई, 5/14/2007 को प्राप्त किया गया दी इंदिरा गांधी वाइल्डलाइफ सैंगक्चूएरी एंड नेशनल पार्क
  8. प्रोटेडेड एरिया अपडेट (अक्टूबर 2005) "न्यू टाइगर रिज़र्व्स " (संख्या 57) पी.17 [3]
  9. "Eight New Tiger Reserves". Press Release. Ministry of Environment and Forests, Press Information Bureau, Govt. of India. November 13, 2008. http://pib.nic.in/release/release.asp?relid=44799. अभिगमन तिथि: 2009-10-31. 
  10. Dr. Rajesh Gopal, APCCF (PT) and Member Secretary (NTCA), Centrally Sponsored Plan Scheme ‘Project Tiger’ Administrative Approval for funds release to Anamalai Tiger Reserve, Tamil Nadu during 2010-11., National Tiger Conservation Authority, 2010-8-31.
  11. नेशनल ज्योग्राफिक चैनल, ऑफ दी बिटेन ट्रैक पीटा (OFF THE BEATEN TRACK), इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय उद्यान [4]