इंग्लिश मास्टिफ़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
English Mastiff
EnglishMastiffChurchill.JPG
An English Mastiff.
अन्य नाम Mastiff
Old English Mastiff
मूल देश England
विशेषता
वज़न नर 150 से 250 पाउन्ड (68 से 113 किग्रा)
मादा 120 से 200 पाउन्ड (54 से 91 किग्रा)
ऊंचाई नर 30 inches (75 cm) minimum
मादा 27.5 inches (69 cm) minimum
Coat Fine, smooth
रंग apricot-fawn, silver-fawn, fawn, or dark fawn-brindle
जीवन काल 7–13 years
कुत्ता (Canis lupus familiaris)
इंग्लिश मास्टिफ़ कुत्तों की एक नस्ल

अंग्रेजी मास्टिफ , जिसे वस्तुत: ऑल केनेल क्लब (एकेसी) आम तौर पर मास्टिफ कहते हैं, कुत्तों की एक बड़ी नस्ल का नाम है, जो पगनेसेज ब्रिटानिया के माध्यम से प्राचीन अलाउंट के वंशज के रूप में संदर्भित किया जाता है. अपने विशाल आकार, बड़े सिर और रंगों के एक सीमित दायरे, लेकिन हमेशा एक काला नकाब प्रदर्शित करने के कारण अलग पहचान वाला मास्टिफ अपने विनम्र स्वभाव के लिए विख्यात है. आधुनिक कुत्तों की वंशावली को 19 वीं शताब्दी की शुरुआत से खोजा जा सकता है और और इसका आधुनिक प्रकार 1880 के दशक में स्थिर हुआ. तेजी से गिरावट के एक मास्टिफ ने दुनिया भर में अपनी लोकप्रियता बढाई.

आकार[संपादित करें]

एक विशाल शरीर, बड़ी खोपड़ी और सिर और आम तौर पर वर्गाकार आकृति वाला यह कुत्ता विशालता के मामले में कुत्तों की सबसे बड़ी नस्लों में से एक है. हालांकि आयरिश वोल्फहाउंड और ग्रेट डेन लम्बे होते हैं, पर वे इनके जितने मजबूत नहीं होते.[1]

गहराई और चौड़ाई, खासकर आगे के पैरों के बीच, के साथ इनका शरीर काफी बड़ा होता है, जिससे ये काफी जगह छेंककर खड़े होते हैं. इस नस्ल के लिए एकेसी की मानक ऊंचाई (उनके वेबसाइट के मुताबिक) पुलिंगों के लिए 30 इंच (76 सेमी) के कंधे तक और स्त्रीलिंगों के लिए (न्यूनतम) 27.5 इंच (70 सेमी) के कंधे तक होना चाहिए. एक ठेठ कुत्ते का वजन 150–250 पाउन्ड (68–113 किग्रा) होना चाहिए और एक ठेठ कुतिया का वजन 120–200 पाउन्ड (54–91 किग्रा) होना चाहिए.

बालों के रंग मानक[संपादित करें]

पूर्ववर्ती के विनिर्दिष्ट मानक कुत्तों के बाल छोटे होते हैं और घने भी (हालांकि लंबे बालों वाले मास्टिफ कुत्तों को कभी-कभी "फ्लुफीज" कहा जाता है और ये यदाकदा देखे जाते हैं) और उनका रंग नारंगी-पीला, सिल्वर फर्न, हलका भूरा, गहरा भूरा थूथन, कान, नाक और आंखों के आसपास काले बाल होते हैं.

मास्टिफ़ का विशिष्ट सिर गलकम्बल और फ्ल्युज़ के साथ होते हैं.

विभिन्न केनेल क्लबों ने मास्टिफ के बालों के अलग-अलग रंग वर्णित किये हैं, लेकिन वे अनिवार्य रूप से हलके भूरे या नारंगी-पीले या काले भूरे आधार वाले रंगों के होते हैं. सभी मामलों में एक काला नकाब पाया जाता है. हल्का भूरा रंग आम तौर पर एक हल्का "चांदी" रंग की छाया लिए हुए होता है, लेकिन उनका दायरा सुनहरे पीले रंग तक का हो सकता है. नारंगी पीला रंग हल्की लालिमा से लेकर गहरा लाल लिए हुए हो सकता है. चितकबरे निशान आदर्शत: भारी और स्पष्ट धारियों वाले होने चाहिए, लेकिन वे वास्तव में हल्के, असमान, पैच वाले, फेंट या चितकबरे हो सकते हैं. दो या दो से अधिक रंगों वाले मास्टिफ शायद ही कभी दिखते हैं. अन्य गैर मानक रंगों में काला, नीला चितकबरा और चॉकलेट की छाया वाला रंग शामिल हैं. कुछ मास्टिफ कुत्तों में पूरे शरीर के बाल काले होने के कारण या मुख्य रूप से पीठ और कंधों पर काले बालों की वजह से एक भारी शेडिंग दिखती है. ठोस रंग पर चितकबरापन हावी होता है. हल्के भूरे रंग पर नारंगी पीला हावी होता है, हालांकि इस तरह का प्रभुत्व अधूरा हो सकता है. अधिकतर रंग दोष प्रतिसरणीय होते है, हालांकि मास्टिफ में काला रंग इतना दुर्लभ होता है कि कोई यह तय नहीं कर सकता है कि जिस रंग का प्रभुत्व है, वह प्रतिसरणीय या परिवर्तनशील हो सकता है.[2]

रिकॉर्ड आकार[संपादित करें]

अब तक के सबसे भारी कुत्ते का रिकार्ड 343 पाउन्ड (156 किग्रा), इंग्लैंड के ला सुसा के एकमा जोरबा नाम के कुत्ते के नाम दर्ज है, हालांकि इससे भी भारी कुत्तों के दावे मौजूद हैं.[3] रिकॉर्ड आकार के मास्टिफ कुत्ते गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड्स के 1989 के संस्करण के मुताबिक मार्च 1989 में जोरबा, जब 7 साल का था, तो वह कंधे पर खड़ा हो सकता था 35 इंच (89 सेमी) और 8.25 फ़ुट (251 सेमी) नाक के अगले सिरे से पूंछ के अंतिम छोर तक उसकी लंबाई एक छोटे गधे के आकार की थी.[4] सन 2000 के बाद गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स ने सबसे बड़े या सबसे भारी पालतू जानवरों के रिकॉर्ड के दावों को स्वीकार करना बंद कर दिया.

स्वभाव[संपादित करें]

मास्टिफ नस्ल के कुत्तों का एक वांछित स्वभाव होता है, जो सभी औपचारिक मानकों और ऐतिहासिक वर्णनों में परिलक्षित होता हैं.[5] हालांकि ये शांत और अपने मालिक के प्रति स्नेही होते हैं, पर ये सुरक्षा के लिए भी सक्षम है. यदि कोई अपरिचित व्यक्ति मास्टिफ के कथित क्षेत्र या अपने मालिक के पास पहुंचने की कोशिश करता है तो आदर्श रूप से यह तुरंत ही अपने मालिक और अजनबी के बीच आकर मोर्चा संभाल लेता है. अगर करीब आ रहा व्यक्ति एक खतरे के रूप में दिखता है तो मास्टिफ तत्काल रक्षात्मक कार्रवाई कर सकता हैं. मास्टिफ शायद ही कभी किसी आगंतुक या संभावित खतरे (जब तक उसे घेरा नहीं जाये या बुरी तरह उकसाया नहीं जाये) पर धावा बोलता है और इसके बदले वह आम तौर पर व्यक्ति को स्थिर और अचल करेगा. मास्टिफ सामान्य रूप से अच्छे स्वभाव, शांत, सहज और आकार के हिसाब से आश्चर्यजनक रूप से भद्र होता है. यह घर का एक शिष्ट पालतू है, बशर्ते इसे दैनिक व्यायाम और गतिविधि में लीन रखा जाये. मास्टिफ आम तौर पर बेहद वफादार नस्ल, अपने परिवार के लिए असाधारण रूप से समर्पित और बच्चों व छोटे कुत्तों के साथ अच्छा बर्ताव करने वाला होता है.

स्वास्थ्य[संपादित करें]

बहुत तेजी से वृद्धि के कारण मास्टिफ़ पिल्लों का ध्यान अच्छे से रखना चाहिए

मास्टिफ एक विशेष रूप से बड़ा कुत्ता है, जिसके लिए सही आहार और व्यायाम की जरूरत होती है. कुत्ते के जीवन के पहले दो वर्षों में इसे अत्यधिक दौड़ाने की सिफारिश नहीं की जाती है. तथापि कुत्ते के पूरे जीवन में नियमित व्यायाम बरकरार रखा जाना चाहिए, ताकि मंद व्यवहार को हतोत्साहित किया जा सके और ढेर सारी स्वास्थ्य समस्याओं को रोका जा सके. त्वचा के कठोर होने, गठिया और हाइग्रोमा (एक तीव्र प्रदाहात्मक सूजन) के विकास को रोकने के लिए कुत्ते के लिए एक नरम सतह की सिफारिश की जाती है. नस्ल के बड़े आकार के कारण इसके बच्चों के पालन-पोषण के दौरान दाबे या कुचले जाने की आशंका रहती है. इसके लिए एक पिल्ला बॉक्स बनाकर और सतर्क निगरानी के साथ ऐसी दुर्घटनाओं को रोका जा सकता है. इनका संभावित जीवनकाल 7 से 14 वर्ष तक होता है.

इसे लेकर होने वाली समस्याओं में हिप डिसप्लासिया (चूतड़ की कोशिकाओं में असामान्य बढोत्तरी) और गैस्ट्रिक मरोड़ को शामिल किया जा सकता है. मामूली समस्याओं में मोटापा, ऑस्टियो सार्कोमा और सिस्टीनूरिया शामिल हैं. कुछ समस्याएं कभी-कभी ही पायी जाती हैं, जिनमें शामिल हैंकार्डियोमायोपैथी (दिल की पेशियों की बीमारी), एलर्जी, योनि की हाइपरप्लेसिया, क्रूसियेट लिगमेंट का टूटना, हाइपोथायरायडिज्म, ओसीडी (OCD), इंट्रोपियन, प्रोग्रेसिव रेटिनल एट्रोफी (पीआरए (PRA)) और परसिस्टेंट प्यूपिलरी मेंबरेंस (पीपीएम (PPM)) हैं.

एक खांटी नस्ल के मास्टिफ की खरीद के समय विशेषज्ञों का अक्सर यह सुझाव होता है कि कुत्ते का हिप डिसप्लासिया, एलबो डिसप्लासिया, थायराइड और पीआरए (PRA) के लिए डीएनए (DNA) कराना चाहिए.

प्रथम विश्व युद्ध से पहले का इतिहास[संपादित करें]

रोमनों ने मूल अंग्रेजी मास्टिफ का नाम पगनेसेज ब्रिटानिया (लैटिन) के रूप में दिया था.[6]

कुछ के लिए, मास्टिफ नाम शायद एंग्लो-सक्सोन शब्द "मास्टी" से निकला है, जिसका अर्थ है "शक्तिशाली".[7] अन्य स्रोतों, जैसे ऑक्सफोर्ड अंग्रेजी शब्दकोश बताता है कि यह फ्रेंच के पुराने शब्द मास्तीन (आधुनिक फ्रेंच में मैटिन ) से उत्पन्न है, जो खुद लैटिन के भोंड़े शब्द *मै(न)सुएटिनस "टेम" से व्युत्पतित हुआ है. इसी अर्थ के साथ शास्त्रीय लैटिन शब्द मैनसुएटस देखें.

1570 में, कॉनरैड हियर्सबैच ने "मास्टिफ, जो घर की रक्षा करता है" के रूप में संदर्भित किया.[8][9] मास्टिफ प्राचीन व्यापारियों द्वारा ब्रिटेन में लाये गये प्राचीन कुत्तों का वंशज है और इसे सबसे पुराने ब्रिटिश नस्ल के रूप में मान्यता दी गयी है. यह अनुमान लगाया जाता रहा है कि मास्टिफ ईसा पूर्व छठीं सदी में फोएनिशियन्स द्वारा ब्रिटेन लाया गया हो सकता है.[10] इसका उपयोग भालू-उत्पीड़न, सांढ-उत्पीड़न, कुत्तों की लड़ाई और शेर-उत्पीड़न जैसे खूनी खेलों के लिए किया जाता था. बैडॉग्स (लड़ाकू कुत्ते) के रूप में पहचान वाले ये कुत्ते, जो घर के पास बंधे (परिबद्ध) होते थे, मास्टिफ प्रकार के थे. 1570 में जॉन कायस[11] ने इन कुत्तों को बहुत बड़े, विशालकाय, जिद्दी, बदसूरत, उत्सुक व भारी शरीर वाले के रूप में वर्णित किया है. इसके पूरे इतिहास के दौरान मास्टिफ ने कुत्तों की कई नस्लों के विकास में योगदान दिया है.

ल्युकी के राज्यपाल

जब 1415 में सर पीयर्स लेघ एगिनकोर्ट की लड़ाई में घायल हो गये थे, उनका मास्टिफ वहां खड़ा रहा और उसने युद्ध के दौरान कई घंटों तक उनकी रक्षा की. बाद में मास्टिफ लेघ के घर लौट आया गया था और उसने लाइम हॉल मास्टिफ कुत्तों की बुनियाद रखी. पांच शताब्दियों के बाद इस नस्ल आधुनिक वंशावली की स्थापना में प्रमुखता से चित्रित हुआ.[12] अन्य कुलीन स्थानों, जहां मास्टिफ को रखे जाने का पता चला, वे हैं इल्वेशन कैसल चार्ल्स स्टैनहोप, फोर्थ अर्ल ऑफ हैरिंग्टन और उनके पूर्वज) और चैट्सवर्थ हाउस. चैट्सवर्थ मास्टिफ कुत्तों के स्वामी (जिन्हें अल्पाइन संग्रह का कहा जाता है) डेवोनसायर के पांचवें ड्यूक विलियम केवेनडिश थे, जो अपने परिवार में कैनिस के रूप जाने जाते थे.[13] मास्टिफ कुत्ते हैडजार हॉल, जो गैलटॉन परिवार के सदस्यों का था, में रखे जाते थे, जो चार्ल्स डार्विन सहित कई उद्योगपतियों और वैज्ञानिकों के लिए प्रसिद्ध था.

इस बात के भी कुछ सबूत मौजूद है कि मास्टिफ पहले मेंफ्लावर पर अमेरिका आये, लेकिन नस्ल के अमेरिका में दस्तावेज प्रवेश 19 वीं शताब्दी के अंत तक नहीं दिखते.

1835 में, यूनाइटेड किंगडम की संसद ने जानवरों के प्रति क्रूरता अधिनियम 1835 के नाम से एक कानून पारित किया, जिसमें पशुओं के साथ क्रूरता को निषिद्ध किया गया. संभव है, इससे इस उद्देश्य के लिए मास्टिफ के इस्तेमाल में गिरावट आयी, लेकिन मास्टिफ कुत्तों का देश के एस्टेट और कारोबारी शहरों के लिए प्रहरी के रूप में इस्तेमाल किया जाना जारी रहा. संगठित प्रजनन 19 वीं सदी में शुरू हुआ[14], जब जे.डब्ल्यू.(जॉन विगल्सवर्थ) थॉम्पसन ने किरक्लीज हॉल के मुख्य द्वाररक्षक जॉन क्रैबट्री, जिनके कुत्तों का नाम अक्सर उनके नियोक्ता सर जार्ज आर्मिटेज के नाम पर रखे जाते थे, से दोराह नाम की एक कुतिया मांगी. दोराह सदी की शुरुआत में थॉम्पसन के दादा कमिश्नर थॉम्पसन के स्वामित्व वाले पशुओं के एक हिस्से की वंशज थी, इसके साथ ही 1705 में दर्ज किया गया मास्टिफ बोल्ड हॉल लाइन का था, एक को एक नाविक से खरीदा गया था, जबकि दूसरे को एक क्रैबट्री द्वारा फॉक्स जाल बिछाकर पकड़ा गया था. जे.डब्ल्यू थॉम्पसन का पहला संर्वद्धित कुत्ता हेक्टर पशुओं के कारोबारी बिल जार्ज से खरीदी गयी कुतिया जुनो और कैप्टन फैंटन के टाइगर नाम के कुत्ते के यौन संयोग से पैदा हुआ.

दो मास्टिफ़

इनमें से किसी की वंशावली नहीं थी, जो कि उस अवधि में सामान्य बात थी. 1830 और 1850 के बीच उन्होंने अपनी इच्छा के मुताबिक इन कुत्तों और कुछ अन्य के ऐसे बच्चे पैदा करवाये, जो छोटे, बड़े सिर वाले और भारी बनावट वाले थे. 1835 में, टी.वी.एच. लुके ने ओल्ड बॉब-टेल काउंटेस के चैट्सवर्थ लाइन की अल्पाइन मास्टिफ (कुत्ता व्यवसायी बिल ह्वाइट से खरीदा हुआ.) कुतिया और मर्कक्वीस ऑफ हर्टफोर्ड के अज्ञात मूल वाले बड़े काले मास्टिफ प्लूटो के संयोग से प्रजनन शुरू करवाया. इसका परिणाम येरो नाम की एक कुतिया के रूप में आया, जो व्हाइट के एक दूसरे अल्पाइन मास्टिफ काउचेज (उस समय) के यौन संपर्क में आयी और बाद में व्हाइट के पास के एक चितकबरे कुत्ते से भी उसका यौन संपर्क कराया गया. ल्यूकी ने वैसे जानवरों को पैदा कराया, जो लम्बे तो थे, लेकिन थॉम्पसन की तुलना में कम बड़े थे. 1850 के बाद, थॉमसन और ल्यूकी ने आपस में सहयोग किया और तब आधुनिक मास्टिफ पैदा हुए, हालांकि 20 वीं सदी से ही बिना वंशावली वाले या संदिग्ध वंशावली वाले पशुओं का प्रजनन जारी रहा. इस नस्ल के प्रजनन में एक अन्य महत्वपूर्ण योगदान कप्तान गार्नियर के स्वामित्व वाले कुत्ते लॉयन का रहा. उन्होंने पहले उल्ले‍िखत व्यापारी बिल जॉर्ज से दो मास्टिफ खरीदे. कुतिया, ईव लीडेनहार्ट बाजार से जॉर्ज द्वारा खरीदी गयी और वह भूरे चेहरे वाली बनने के लिए पर्याप्त उम्रदराज थी, मगर अच्छी श्रेणी की थी, जबकि एडम नाम का कुत्ता प्रतिष्ठित लाइम हॉल मूल का था, पर इसे टैटरसाल्स से खरीदा गया और गार्नियर को संदेह था कि वह महान डेन प्रजाति का वंशज "बोअरहाउंड की झलक" वाला था. गार्नियर उन्हें अपने साथ संयुक्त राज्य अमेरिका ले गये और वापस उनके पिल्ले लॉयन को लाया. उसका ल्यूकी के काउंटेस से यौन संयोग हुआ और इस तरह गवर्नर पैदा हुआ, जो सभी मौजूदा मास्टिफ कुत्तों का प्रजनक बना. (लॉयन का यौन संपर्क स्कॉटलैंड की डीयरहाउंड लुफग्रा से भी हुआ और उनके मरक्वायस पिल्लों में डीयरहाउंड्स और आयरिस वोल्फहाउंड दोनों तरह के कुत्तों का वंशज होना प्रकट होता है.)

विवादास्पद चैप्टर प्रिंस क्राउन का बुढ़ापे में लिया गया चित्र.

1880 के दशक के बेहतर हालात को श्रेणी के लिए बलिदान देना पड़ा (व्यापक रूप से इसे छोटे सिर वाला, पर सीधे पैरों वाले क्राउन प्रिंस कहा गया.) और इसके बाद मास्टिफ ने भले ही लोकप्रियता खो दी, पर उसकी श्रेणी में निरंतरता हासिल हुई. विशेष रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका में 1890 के दशक में और 20 वीं सदी के प्रारंभ में मास्टिफ के प्रजनन में तेज गिरावट देखी गयी. 1906 से 1918 तक, केवल 24 मास्टिफ संयुक्त राज्य अमेरिका में दर्ज किए गए थे, 1910 के बाद कोई भी अमेरिकी नस्ल नहीं जन्मा. पहले विश्व युद्ध के समाप्त होने तक कुछ आयात किये गये कुत्तों को छोड़कर यह नस्ल ग्रेट ब्रिटेन के बाहर विलुप्त ही रही.

प्रथम विश्व युद्ध के बाद का इतिहास[संपादित करें]

1918 में, कनाडा में ब्रिटेन से आया‍तित विंगफेड के प्रियम और पार्कगेट के डचेस जोड़े से जन्मा बीओवूल्फ नाम का एक कुत्ता एकेसी (AKC) द्वारा पंजीकृत किया गया और इससे उत्तर अमेरिका में नस्ल की धीमी पुन:स्थापना शुरू हुई. प्रियम और डचेस के साथ आयात किये गये सीएच वीलैंड, इस्लेस के थोर, हेरिंग्ली के कैराकटाकस और सैक्सोनडेल के ब्रुटुश के जरिये अंतत: केवल दो वंशज जन्मे, जिन्होंने सैक्सोनडेल के बस्टर और बड्डी के रूप में आगे वंश बढ़ाने की जिम्मेवारी निभायी. हालांकि, युद्धों के बीच की अवधि और द्वितीय विश्व युद्ध के शुरुआती दिनों में कई अन्य आयात भी हुए, और जो वंशज जीवित थे, उनकी संख्या 12 थी, जिसका मतलब यह निकला कि 1945 के बाद इस जीन पुल में उत्तर अमेरिकी योगदान 14 मास्टिफ कुत्तों का था. ब्रिटिश इस्लेस में मांस की राश‍िनंग के लिए लगभग सभी प्रजनन को रोक दिया गया. युद्ध के बाद, इस तरह के जो भी पिल्ले पैदा हुए, वे कैनाइन डिस्टेंपर के शिकार हो गये, क्योंकि 1950 तक इसका टीका नहीं विकसित किया गया था.[15] युद्ध के निर्णय होने तक बुजुर्ग हो चुके कुत्तों के समूह के जरिये केवल फ्रीथेंड के नाडिया नाम की एक कुतिया का प्रजनन हुआ और केनेल क्लब को एक मास्टिफ को उसका पिता घोषित करना पड़ा, क्योंकि उसका पितृत्व अज्ञात था और कुछ लोगों ने माना कि उसका पिता बुलमास्टिफ था. युद्ध के बाद, उत्तर अमेरिका, खास तौर पर कनाडा से जानवरों का आयात किया गया. इस तरह 1950 के दशक के आखिर में सभी मास्टिफ नाडिया पहले उल्लेख किये गये 14 मास्टिफ कुत्तों के जरिये पैदा हुए. यह आरोप लगाया गया कि मास्टिफ कुत्तों का यौन संपर्क बुलमास्टिफ और सेंट बर्नार्ड जैसे कई बड़े नस्ल के साथ कराया गया, क्योंकि ये मास्टिफ के लिए करीबी रिश्तेदार माने जाते हैं. 1959 में, एक डॉग डे बोर्डीयोक्स, फीडेल डे फेनेलोन को फ्रांस से अमरीका आयात किया गया और इसे एक मास्टिफ के रूप में पंजीकृत किया गया और इसने जीन पूल में प्रवेश किया[16] उस समय से ब्रिटेन मे धीरे-धीरे बहाल की गयी यह नस्ल संयुक्त राज्य अमेरिका[17] की 28 वीं सबसे लोकप्रिय नस्ल की सूची में आ गयी है और अब दुनिया भर में पायी जाती है.

अन्य[संपादित करें]

जॉन सायरस के "मास्टिक ऑर बैंडोगे" के वर्णन, दिनांकित 1570, के अब्राहम फ्लेमिंग के अनुवाद के अंश

"मास्टिक या बैंडोगे कहे जाने वाले इस प्रकार के कुत्ते बड़े, विशालकाय, भारी, कुरुप, उत्सुक और वजनी व बोझिल शरीर वाले होते हैं और इसलिए कम फुर्तीले, भयानक और देखने के बाद आतंकित करने वाले और किसी भी अर्काडियन नस्ल से ज्यादा भयावह (हालांकि उन्हें हिंसक लियोन की पीढ़ी का कहा जाता हैं.) उन्हें विलाटिकी कहा जाता है, क्योंकि उन्हें खेती के स्थानों और सामान्य आश्रयस्थल से दूर स्थित कांउंट्री कॉटेजों और दूरी के कारण जिन घरों में लोग नहीं रहते हैं, उनकी रक्षा करने व चोरों, लुटेरों, नुकसान पहुंचानेवालों तथा रात में आवारा घूमने वालों से बचाने व पहरा देने के लिए बहाल किया जाता है. वे लोमड़ियों व बिज्जुओं को रोकने और मिडोज, चरने के मैदानों, ग्लीबेलैंड्स (चर्च के स्थानों) और फल के बगीचों में जंगली जानवरों को डराने और भगाने व जब जैसी जरूरत हो, उन्हें काट लेने या भगाने में सक्षम होते हैं. इन स्थानों पर एक या दो कुत्ते इस उद्देश्य के लिए पर्याप्त होते हैं, भले ही वहां आने वाले जानवर कितने ही दैत्याकार, उग्र, शक्तिशाली, क्रोधित और वंटमीयेबल क्यों न हों. क्योंकि यह इस तरह का कुत्ता है साहसी, हिंसक व जिद्दी और आदमी में डर पैदा करने वाला होता है, लेकिन आदमी से नहीं डरने वाला यह कुत्ता किसी भी हथियार से नहीं डराया जा सकता या इसके साहस को कम नहीं किया जा सकता. हमारे अंग्रेज लोग (इस इरादे से कि उनके कुत्ते ज्यादा डरावने और खतरनाक होंगे) कला, बुनियाद और प्रथागत रूप से प्रकृति की रक्षा करते हैं और इसलिए वे अपने कुत्तों को गले की रक्षा के लिए बिना कॉलर लगाये भालुओं को काटने, सांढों को काटने और ऐसे ही क्रूर और हिंसक जानवरों (उन्हें खेल का एक प्रतियोगी भी नियुक्त किया जाता है) को काटने का प्रशिक्षण देते हैं और अक्सर उन्हें आदमी से लड़ने व कुश्ती करने का प्रशिक्षण दिया जाता है और इसमें आदमी भाले, क्लबी या तलवार से उस पर हमला करता है, ताकि उनके कुत्तों की कसरत हो और वे ज्यादा फुर्तीले और मजबूत हो सकें व अपने जीवन की रक्षा कर सकें. उनमें इतनी ताकत होती है और जितनी तेजी से ये अपने शिकार को दांतों से पकड़ लेते हैं, उसपर सभी को विश्वास नहीं हो सकता, इस तरह एक भालू के मुकाबले तीन और एक शेर के खिलाफ चार कुत्ते पर्याप्त हैं और दोनों समूह बिना डरे अपने दुश्मनों को हराने की कोशिश करते हैं."

कॉनरोड हियर्सबैच के बैनडॉग फॉर द हाउस, दिनांकित 1631, के बार्नेबी गूज के अनुवाद के अंश

"सबसे पहले, मास्टी घर की रखवाली करता है. इस प्रयोजन के लिए आपको एक ऐसे (कुत्ते) को जिम्मा देना चाहिए, जो बड़ा हो और शक्तिशाली शरीर वाला हो, उसकी आवाज तेज हो और दोनों के साथ भौंकने से वह चोर का पता लगा सके और उसे देख सके तथा वह खुद न दिखे और अपनी आवाज के डरावनेपन से जोरदार मुकाबला दे सके. उसका कद न तो बहुत लंबा और न ही छोटा हो, बल्कि अच्छीतरह गठित हो; उसका सिर शानदार हो, उसकी आँखें तेज और चमकदार हों, भले ही वे भूरी हों या मटमैली, उसके होठ कालिमा लिये हुए हों, जो न ऊपर उठी हुईं हों और न ही बहुत ज्यादा नीचे लटकी हुईं, उसका मुंह काला और चौड़ा हो, उसका जबड़ा मोटा हो और इसके होठ के किनारे दोनों तरफ अपने दूसरे दांतों को ढंके हुए हों, उसके ऊपरी दांत नुकीले, होठों के भीतर छिपे हुए और निचले दांतों पर ज्यादा चढ़े हुए नहीं होने चाहिए. उसकी मुखाकृति तरह एक शेर की तरह हों, उसकी छाती शानदार और बालों से ढंकी होनी चाहिए; उसके कंधे चौड़े हों; पैर बड़े हों, उसकी पूंछ छोटी और उसके पैर शानदार होने चाहिए. उसका व्यक्तित्व न तो बहुत नम्र हो और न ज्यादा उग्र, वह न तो चोरों पर एकदम चढ़ बैठे और न अपने दोस्तों को देख भागे, वह बहुत हल्की नींद वाला हो, बाहर भटकने वाला न हो, मुंह का उदार यानी जब-तब बिना कारण भौंकने वाला न हो, न तो किसी भी बात पर इसे कहा जा सके कि यह चुस्त नहीं है, वह घर पर लड़ने के लिए तैयार रहे और दुश्मनों को चेतावनी दे."

सिडेन्हम एडवर्ड्स (1800) ने साइनोग्राफिया ब्रिटानिका , लंदन: ह्वीटिंघम में लिखा है:

"बिल्ली की प्रजाति में जिस तरह शेर होता है, उसी तरह कुत्ते में मास्टिफ होता है, जो परिवार में सबसे भद्र होता है, जब सब सभी उसके आगे पस्त हो जाते हैं, वह अकेला खड़ा रहता है. उसकी हिम्मत उसके गुस्से और उदारता को बढा़ती नहीं और लगाव के मामले में यह अपनी जाति सबसे भद्र प्रजाति के बराबर है. उसकी अधीनता बिल्कुल सही है; छोटी-छोटी हरकतों से उसे क्रोधित होने के लिए नहीं उकसाया नहीं जा सकता और मैंने उसे देखा है कि टेरियर या कर प्रजाति के कुत्तों को काटने पर वह अपना पंजा नीचे कर लेता है और उन्हें और ज्यादा चोट नहीं पहुंचाता. एक परिवार में वह अपने साथ बच्चों को खेलने की अनुमति देता है और बगैर प्रतिरोध के वह उनकी छोटी-छोटी मज़ा‍किया हरकतें झेलता है. अंध क्रूरता की वजह से बुलडॉग मुकाबले में उसकी मदद कर रहे अपने मालिक का अक्सर हाथ काट लेता है, लेकिन मास्टिफ इनसे बिल्कुल अलग होता है और मैदान में गुस्से के साथ प्रवेश करता है और हमला करता है, जैसे उसको विश्वास हो कि जीत उसकी ही होगी. इस तरह अगर उसका प्रतिद्वंद्वी दबोच लेता है या काट लेता है तो उसका स्वामी बिना डरे उसे गोद में ले सकते हैं. यह प्राचीन और घरेलू वफादार हमारे द्वीप का गौरव है और इसमें उपयो‍गिता, बहादुरी और विनम्रता का समाहार है, हालांकि विदेशों और महाद्वीप में बढ़ती मांग के बावजूद यह नस्ल लगभग विलुप्त होने के कगार पर है, जहां इसे शायद असंख्य यौन संपर्कों द्वारा संकर या दोगला बना दिया गया है, जिनमें से प्रत्येक अपने माता-पिता की अमूल्य विशेषताओं से आनुवांशिक रूप से पतित हो रहा है और जो ऐसा लगता है कि रोमन एंफीथियेटर (खेल के स्टेडियम) में प्रवेश करने के काबिल है और इस दुनिया के मालिकों की मौजूदगी में चीते से भी मुकाबला कर सकता है. यहां तक कि यह हिंसक आदिवासियों के देवता पर भी आक्रमण कर सकता है, जिनका साहस सूर्य की उष्ण किरणों से और प्रखर होता है तथा और कोई ऐसा साहसी नहीं दिखता, जो जारा के रेगिस्तान और और नुमीडिया के मैदानों में उसकी खिलाफत कर सके."
वेस्टगोर्ट प्रत्याशा

प्रसिद्ध अंग्रेजी मास्टिफ़[संपादित करें]

  • "क्राउन प्रिंस", आधुनिक नस्ल के प्रजनक, मनोचिकित्सक एल. फोर्ब्स विंस्लो द्वारा स्वामित्व
  • "कैश", ट्रेवर डाइयर-लिंच ("कोरोनेशन स्ट्रीट से "पैट्रिक"), दर्शन के एक प्रकरण में भी प्रकाशित हुआ.
  • द सैंडलोट फिल्म से "हर्क्युलेस" (उर्फ "द बीस्ट"), च.एमटीएन द्वारा अभिनयओक्स गनर)
  • द सैंडलोट 2 फिल्म से "गोलिअथ" (उर्फ "द ग्रेट फियर")
  • द ऐडवेंचर ऑफ़ द कूपर बिचेस, एक शर्लक होम्स की कहानी से "कार्लो"
  • "ज़ीअस", मार्क कालावे (द अंडरटेकर) द्वारा स्वामित्व
  • "ब्लुटो", पॉल लेवेस्क (ट्रिपल एच) और स्टेफ़नी मैकमैन द्वारा स्वामित्व
  • कुर्ट वोनेगट के उपन्यास द सेरेन ऑफ़ टाइटन विंस्टन नेल्स रमफूर्ड, एक अमीर अंतरिक्ष यात्री द्वारा स्वामित्व "कज़ाक"
  • जापानी श्रृंखला और इसकी अगली कड़ी Ginga: Nagareboshi Gin गिंगा देंसेत्सू वीड के "मॉस" और "जगुआर"
  • 2007 फिल्म ट्रांसफार्मर में "मेसन द मास्टिफ़"
  • "लियो", रिचर्ड ऐन्स्डेल, आर.ए. और अपने चित्र "द पोचर", उर्फ़ "द पोचर एट बे" के लिए मॉडल द्वारा स्वामित्व
  • टीवी श्रृंखला डर्टी जॉब्स के प्रकरण "लीच ट्रैपर" में "रॉकी" (च स्टर्लिंग अगेंस्ट ऑल ऑड्स) प्रकाशित
  • "लेडी मार्टोन", विक्टोरियन उद्योगपति हेनरी बोलको द्वारा स्वामित्व है और सेंट बर्नार्ड द्वारा अधिकार प्रतिपादन
  • "चुपादोग्रा" ए.के.ए "बस्टर" एक बुजुर्ग इंग्लिश मास्टिफ़, सैम इलीयोट द्वारा 2010 फिल्म मार्माड्यूक में आवाज उठाई.
  • 2009 की फिल्म होटल फॉर डॉग्स के लिए "लेन्नी" एक ब्रिंडद्ल्ड इंग्लिश मास्टिफ़ है.

देश से क्लब[संपादित करें]

देश क्लब का नाम
ऑस्ट्रेलिया विक्टोरिया इंक के सभी मास्टिफ नस्लों की एसोसिएशन
ऑस्ट्रेलिया विक्टोरिया इंक के मास्टिफ क्लब
ऑस्ट्रिया मोलोसर क्लब ऑस्ट्रिया
बेल्जियम मास्टिफ क्लब बेल्जियम
कनाडा कनाडा मास्टिफ क्लब
कनाडा वेस्टर्न कनाडा के मास्टिफ फैन्सियर्स
चेक रिपब्लिक मोलोस क्लब सीज़ेड
डेनमार्क डान्स्क मास्टिफ क्लब
फ्रांस क्लब फ्रंकैस डु बुलमास्टिफ एट डू मास्टिफ
जर्मनी ओल्ड इंग्लिश मास्टिफ क्लब ड्यूशलैंड इ.वी.
न्यूजीलैंड न्यूजीलैंड क्लब मास्टिफ क्लब
नॉर्वे नार्वेजियन अंग्रेजी मास्टिफ क्लब
स्पेन क्लब एस्पैनोल डे लोस मोलोसोस डे अरेना
स्वीडन स्वेन्स्का मास्टिफक्लबेन
यूनाइटेड किंगडम ओल्ड इंग्लिश मास्टिफ क्लब
यूनाइटेड किंगडम मास्टिफ एसोसिएशन
संयुक्त राज्य अमेरिका गार्डन स्टेट मास्टिफ फैन्सियर्स
संयुक्त राज्य अमेरिका अमेरिका के मास्टिफ क्लब
संयुक्त राज्य अमेरिका मध्य-पश्चिम मास्टिफ फैन्सियर्स
संयुक्त राज्य अमेरिका प्रशांत नॉर्थवेस्ट मास्टिफ फैन्सियर्स
संयुक्त राज्य अमेरिका लोन स्टार मास्टिफ फैन्सियर्स
संयुक्त राज्य अमेरिका रैडवुड साम्राज्य मास्टिफ क्लब

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • मोलोसेर
  • मोलोसस
  • अलौन्ट
  • पग्नेसेस ब्रिटैनी
  • बैनडॉग
  • अल्पाइन मास्टिफ़
  • बुलमास्टिफ़
  • स्पैनिश मास्टिफ़
  • पिरेनियन मास्टिफ़
  • नियपोलिटन मास्टिफ़
  • तिब्बती मास्टिफ़
  • डोगु डे बॉरडिओक्स (फ्रेंच मास्टिफ़)
  • ब्रोहोल्मर (डेनमार्क मास्टिफ़)
  • जर्मन मास्टिफ़ (ग्रेट डेन)
  • बोर्बोएल (दक्षिण अफ्रीकी मास्टिफ़)
  • फिला ब्रेसिलिएरो
  • अलंगु मास्टिफ़ (भारतीय मास्टिफ़)
  • बुली कुत्ता (पाकिस्तानी मास्टिफ़, सिंध मास्टिफ़)
  • तिब्बती मास्टिफ़
  • केन कोर्सो
  • जापानी मास्टिफ़
  • कॉकेशियन शेफ़र्ड डॉग
  • मध्य एशियाई ओव्चार्का
  • अमेरिकन मास्टिफ़
  • कोरियन मास्टिफ़
  • चीन में उद्भव, मिनिअच्युर ब्रीड ऑफ़ मास्टिफ़ द्वारा पग अ डॉग ऑफ़ द टॉय ग्रुप कंसीडरर्ड.
  • मास्टिफ़ प्रकार के नस्लें की सूची

संदर्भ[संपादित करें]

  1. बड़ी डॉग नस्ल
  2. क्लैरेंस सी. लिटिल, द इन्हेरिटेंस ऑफ़ कोट कलर इन डॉग्स , हॉवेल बुक हॉउस, 1957
  3. गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स 2000 - मिलेनियम संस्करण, पृष्ठ 106, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स लिमिटेड, 2000, ISBN 0-85112-098-9
  4. http://www.ansi.okstate.edu/breeds/other/donkey/mini/index.htm
  5. सिडनहम एडवर्ड्स सीनोंग्राफिया ब्रिटानिका , 1800 लंदन: सी. व्हिटिंघम
  6. फ्लिग़, डी. (1996). फाइटिंग डॉग नस्लें. (पृष्ठ. 26-27) . नेप्च्यून, एनजे: टीएफएच (TFH) प्रकाशन. ISBN 0-7938-0499-X
  7. http://www.mastiffclub.com/club/breed-standard.htm
  8. एंडरसन, डी. डी. (1999). द मास्टिफ़: एरिस्टोक्रैटिक गार्जियन . डोरल प्रकाशन. ISBN 978-0-944875-51-3
  9. हेरेसबैक लैटिन में लिख रहा था, उसका काम अंग्रेजी में कुछ वर्षों के बाद बार्नेब गूग द्वारा अनुवादित हुआ.
  10. लिटन, आर. (1907). द न्यू बुक ऑफ़ द डॉग . कैसेल.
  11. http://www.gis.net/~shepdog/BC_Museum/Permanent/Caius/Caius.html
  12. होमन, एम. (2000). अ कम्प्लीट हिस्ट्री ऑफ़ फाइटिंग डॉग्स (पृष्ठ 10) होवेल बुक्स हॉउस इंक. ISBN 1-58245-128-1
  13. http://homepages.ihug.co.nz/~awoodley/regency/devon.html
  14. द हिस्ट्री ऑफ़ मास्टिफ़ , एम.बी.विन, 1885. विलियम लौक्सली.
  15. Pomeroy, L.W.; Bj{o}rnstad, O.N; Holmes, E.C. (2008). "The Evolutionary and Epidemiological Dynamics of the Paramyxoviridae". Journal of Molecular Evolution 66 (2): 98–106. http://www.springerlink.com/index/NN32M04267142429.pdf. अभिगमन तिथि: 2008-06-02. 
  16. द हिस्ट्री एंड मैनेजमेंट ऑफ़ द मास्टिफ़ , ऑथर्स: बैक्सटर, एलिज़ाबेथ जे; हॉफमैन, पैट्रीसिया बी., डॉगवाइस 2004 ISBN 1-929242-11-5
  17. http://www.akc.org/reg/dogreg_stats.cfm

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]