आर्थिक सुधार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आर्थिक सुधार एक वृहद अर्थ वाला शब्द है। प्रायः इसका उपयोग अल्पतर सरकारी नियंत्रण, अल्पतर सरकारी निषेध, निजी कम्पनियों की अधिक भागीदारी, करों की अल्पतर दर आदि के सन्दर्भ में किया जाता है।

उदारीकरण के पक्ष में मुख्य तर्क यह दिया जाता ह कि इससे दक्षता आती है और हरेक को कुछ अधिक प्राप्त होता है।

भारत मे आर्थिक सुधारों की शुरूआत सन 1990 से हुई । 1990 के पहले भारत मे आर्थिक विकास बहुत ही धीमी गति से हो रहा था। भारतीय अर्थव्यवस्था में विकास काफी धीमा था ।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]