आपदा तत्परता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आपातकालीन प्रबंधन एक अंतःविषयक क्षेत्र का सामान्य नाम है जो किसी संगठन की महत्वपूर्ण आस्तियों की आपदा या विपत्ति उत्पन्न करने वाले खतरनाक जोखिमों से रक्षा करने और सुनियोजित जीवनकाल में उनकी निरंतरता सुनिश्चित करने के लिए प्रयुक्त सामरिक संगठनात्मक प्रबंधन प्रक्रियाओं से संबंधित है.[1] आस्तियां सजीव,निर्जीव,सांस्कृतिक या आर्थिक के रूप में वर्गीकृत हैं. खतरों को प्राकृतिक या मानव-निर्मित कारणों के द्वारा वर्गीकृत किया जाता है. प्रक्रियाओं की पहचान के उद्देश्य से संपूर्ण सामरिक प्रबंधन की प्रक्रिया को चार क्षेत्रों में बांटा गया है. ये चार क्षेत्र सामान्य रूप से जोखिम न्यूनीकरण,खतरे का सामना करने के लिए संसाधनों को तैयार करने, खतरे की वजह से हुए वास्तविक नुकसान का उत्तर देने और आगे के नुकसान को सीमित करने (जैसे आपातकालीन निकासी, संगरोध, जन परिशोधन आदि) और यथासंभव खतरे की घटना से यथापू्र्व स्थिति में लौटने से संबंधित हैं. क्षेत्र सार्वजनिक और निजी दोनों में होता है, प्रक्रिया एक सी सांझी होती है लेकिन ध्यान केंद्र विभिन्न होते हैं. आपातकालीन प्रबंधन प्रक्रिया एक नीतिगत प्रक्रिया न होकर एक रणनीतिक प्रक्रिया है अतः यह आमतौर पर संगठन में कार्यकारी स्तर तक ही सीमित रहती है. सामान्य रूप से इसकी कोई प्रत्यक्ष शक्ति नहीं है लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए कि एक संगठन के सभी भाग एक सांझे लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें, यह सलाहकार के रूप में या कार्यों के समन्वय के लिए कार्य करता है. प्रभावी आपात प्रबंधन संगठन के सभी स्तरों पर आपातकालीन योजनाओं के संपूर्ण एकीकरण और इस समझ पर निर्भर करता है कि संगठन के निम्नतम स्तर आपात स्थिति के प्रबंधन और ऊपरी स्तर से अतिरिक्त संसाधन और सहायता प्राप्त करने के लिए जिम्मेदार हैं.

कार्यक्रम का संचालन करने वाले संगठन के सबसे वरिष्ठ व्यक्ति को सामान्य रूप से एक आपातकालीन प्रबंधक या क्षेत्र में प्रयुक्त शब्द से व्युत्पन्न पर आधारित (अर्थात व्यापार निरंतरता प्रबंधक) कहा जाता है.

इस परिभाषा के अंतर्गत शामिल क्षेत्र हैं:

  • सिविल डिफ़ेंस (शीत युद्ध के दौरान परमाणु हमले से सुरक्षा के लिए संयुक्त राज्य द्वारा प्रयुक्त)
  • नागरिक सुरक्षा (यूरोपीय संघ द्वारा व्यापक रूप से प्रयुक्त)
  • संकट प्रबंधन (नागरिक जनसंख्या की तत्काल जरूरतों को संतुष्ट करने के उपायों की अपेक्षा राजनीतिक और सुरक्षा आयाम पर जोर देता है. )[2]
  • आपदा जोखिम न्यूनीकरण (आपात स्थिति चक्र के क्षति को कम करने और तत्परता पहलुओं पर केंद्रित.) (नीचे तत्परता को देखें)
  • होमलैंड सिक्योरिटी (आतंकवाद की रोकथाम पर ध्यान देते हुए संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रयुक्त. )
  • व्यापार निरंतरता और व्यापार निरंतरता योजना (उधोन्मुख निरंतर आय सुनिश्चित करने पर केंद्रित.) )
  • सरकार की निरंतरता

अनुक्रम

चरण और व्यावसायिक गतिविधियां[संपादित करें]

प्रबंधन की प्रकृति स्थानीय आर्थिक और सामाजिक स्थिति पर निर्भर करती है. फ्रेड कनीजैसे कुछ आपदा राहत विशेषज्ञों ने उल्लेख किया है कि एक तरह से एकमात्र असली आपदा आर्थिक होती है.[3] कनी जैसे विशेषज्ञों ने बहुत पहले नोट किया कि आपातकालीन प्रबंधन चक्र में बुनियादी ढांचे, सार्वजनिक जागरूकता और यहाँ तक कि मानव न्याय के मुद्दों पर दीर्घकालिक काम को शामिल करना चाहिए. आपातकालीन प्रबंधन की प्रक्रिया के चार चरण हैं: न्यूनीकरण, तत्परता, प्रतिक्रिया और उबरना.

चित्र:Em cycle.png
आपात प्रबंधन में चार चरणों की एक ग्राफिक प्रस्तुति.

हाल ही में होमलैंड सिक्योरिटी विभाग और फ़ेमा ने EM के प्रतिमान के भाग के रूप में "समुत्थान" और "रोकथाम" शब्दों को अपनाया है. दूसरे शब्द को PKEMA 2006 ने अक्टूबर 2006 में अधिनियम के द्वारा कानून के रूप में लागू किया और 31 मार्च, 2007 से प्रभावी बनाया है. दोनों शब्दों की परिभाषाएं अलग चरणों के रूप में सरलता से उपयुक्त नहीं होती है. परिभाषा के अनुसार रोकथाम 100% शमन है.[4] समुत्थान चार चरणों के लक्ष्य का वर्णन करता है: दुर्भाग्य से आसानी से उबरने या परिवर्तन से ताल-मेल बिठाने की क्षमता[5]

न्यूनीकरण[संपादित करें]

खतरों को आपदाओं में पूरी तरह विकसित होने से रोकने या घटित होने की स्थिति में आपदाओं के प्रभाव को कम करने का प्रयास न्यूनीकरण कारर्वाई है. न्यूनीकरण चरण अन्य चरणों से भिन्न है क्योंकि यह जोखिम को कम करने या नष्ट करने के लिए दीर्घकालीन उपायों पर केंद्रित होता है.[1] आपदा घटित होने का बाद लागू करने पर, न्यूनीकरण रणनीतियों के कार्यान्वयन को उबरने की प्रक्रिया का हिस्सा माना जा सकता है.[1] न्यूनीकरण उपाय संरचनात्मक या गैर-संरचनात्मक हो सकते हैं. संरचनात्मक उपाय बाढ़ बांधों की तरह तकनीकी समाधान का उपयोग करते हैं. गैर-संरचनात्मक उपायों में शामिल हैं कानून, भूमि-उपयोग योजना (अर्थात पार्क जैसी गैर-ज़रूरी भूमि को बाढ़ क्षेत्रों के रूप में इस्तेमाल किए जाने के लिए नामोद्दिष्ट करना) और बीमा.[6] खतरों के प्रभाव को कम करने के लिए न्यूनीकरण सबसे अधिक लागत प्रभावी तरीका है लेकिन यह हमेशा उपयुक्त नहीं होता. न्यूनीकरण में शामिल हैं निकासी के संबंध में विनियमों की व्यवस्था करना, विनियमों (जैसे अनिवार्य निकासी) के पालन का विरोध करने वालों के खिलाफ़ प्रतिबंध लगाना और जनता को संभावित जोखिमों की जानकारी देना.[7] कुछ संरचनात्मक न्यूनीकरण उपायों से पारितंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है.

न्यूनीकरण की पूर्ववर्ती गतिविधि जोखिम की पहचान है. भौतिक जोखिम मूल्यांकन खतरों की पहचान और मूल्यांकन की प्रक्रिया को संदर्भित करता है.[1] खतरा-विशेष जोखिम (R_h) किसी विशिष्ट खतरे की संभावना और प्रभाव के स्तर दोनों को जोड़ता है. निम्न समीकरण के अनुसार खतरा और उस खतरे से जनसंख्या की अरक्षितता को गुणा करने से जोखिम तबाही मॉडलिंग पैदा होती है. जितना उच्च जोखिम उतना अधिक ज़रूरी है कि खतरा विशिष्ट अरक्षितताएं न्यूनीकरण और तत्परता के प्रयासों से लक्षित हैं. हालांकि, अरक्षितता नहीं तो खतरा नहीं उदाहरण के लिए निर्जन रेगिस्तान में घटनेवाला भूकंप.

\mathbf{R_h} = \mathbf{H} \times \mathbf{V_h} \,

तत्परता[संपादित करें]

प्राकृतिक आपदाओं, आतंकवादी कृत्यों और अन्य मानव निर्मित आपदाओं की रोकथाम और इनसे सुरक्षा, प्रत्युत्तर, उबरने और प्रभावों को कम करने के लिए प्रभावी समन्वय और क्षमताओं में वृद्धि सुनिश्चित करने के लिए योजना, आयोजन, प्रशिक्षण, लैस करना, अभ्यास, मूल्यांकन और सुधार गतिविधियों का सतत चक्र तत्परता है.[8]

तत्परता चरण में, आपात प्रबंधक जोखिम के प्रबंधन और उसका सामना करने के लिए कार्रवाई की योजना बनाते हैं और इस तरह की योजनाओं को लागू करने के लिए आवश्यक क्षमताओं का निर्माण करने के लिए ज़रूरी कार्रवाई करते हैं. आम तत्परता उपायों में शामिल हैं:

  • आसानी से समझ में आने वाली शब्दावली और तरीकों वाली संप्रेषण योजना.
  • सामुदायिक आपात प्रत्युत्तर टीमों जैसे बड़े पैमाने के मानव संसाधनों सहित आपात सेवाओं का उचित रखरखाव और प्रशिक्षण.
  • आपातकालीन आश्रय और निकासी योजना के साथ जनसंख्या को आपातकालीन चेतावनी देने संबंधी विधियों का विकास और अभ्यास.
  • एकत्रीकरण, सूची और आपदा आपूर्ति और उपकरणों को बनाए रखना[9]
  • नागरिक आबादी में से प्रशिक्षित स्वयंसेवकों के संगठनों का विकास करना. बड़े पैमाने पर आपातकाल में पेशेवर कार्यकर्ता तेजी से अभिभूत हो जाते हैं इसलिए प्रशिक्षित, संगठित, ज़िम्मेदार स्वयंसेवक अत्यंत मूल्यवान होते हैं. कम्युनिटी एमरजेंसी रिस्पांस टीम और रेड क्रॉस जैसे संगठन प्रशिक्षित स्वयंसेवकों के तैयार स्रोत हैं. रेड क्रॉस की आपातकालीन प्रबंधन प्रणाली को कैलिफ़ोर्निया और फ़ेडरल एमरजेंसी मेनेजमेंट एजेंसी प्रबंधन (फ़ेमा) दोनों से उच्च रेटिंग मिली है.

किसी एक घटना से होने वाली प्रत्याशित मौतों या घायलों की संख्या का अध्ययन, हताहत भविष्यवाणी तत्परता का एक अन्य पहलू है. इससे योजनाकारों को अनुमान हो जाता है कि किसी विशेष प्रकार की घटना के प्रत्युत्तर में क्या क्या संसाधन तैयार होने चाहिएं.

योजना चरण में आपातकालीन प्रबंधकों को लचीला और व्यापक होना चाहिए - वे अपने संबंधित क्षेत्रों में सावधानी से जोखिम और अरक्षितता को पहचानें और समर्थन के अपरंपरागत व असामान्य साधन नियोजित करें. नगर निगम, या निजी - क्षेत्र के अनुसार आपातकालीन सेवाओं को कम किया जा सकता है या भारी कर लगाया जा सकता है. गैर सरकारी संगठनों द्वारा प्रदत्त वांछित संसाधन जैसे कि स्थानीय जिला स्कूल बसों द्वारा विस्थापित गृहस्वामियों का परिवहन, अग्नि विभागों और बचाव दस्तों के बीच आपसी सहयोगी समझौतों द्वारा बाढ़ पीड़ितों की निकासी निष्पादित करना, की पहचान योजना चरणों में ही की जानी चाहिए और नियमित रूप से इनके साथ अभ्यास किया जाना चाहिए.


प्रतिक्रिया[संपादित करें]

प्रतिक्रिया चरण में आपदा क्षेत्र में आवश्यक आपातकालीन सेवाओं और पहले उत्तर देने वाले का जुगाड़ करना शामिल है. इसमें अग्निशामक, पुलिस और एम्बुलेंस दल जैसी पहले स्तर की कोर आपातकालीन सेवाओं को शामिल करने की संभावना है. सैन्य अभियान के तौर पर किए जाने पर इसे आपदा राहत अभियान (DRO) कहा जाता है और यह बिना लड़ाई के निकासी अभियान का अनुवर्ती हो सकता है. इन्हें विशेषज्ञ बचाव दल जैसी अनेक गौण आपातकालीन सेवाओं का समर्थन मिल सकता है.

एक अच्छी तरह से दोहरायी गयी आपातकालीन योजना को तत्परता चरण के भाग के रूप में विकसित करने से बचाव का कुशल समन्वयन होता है. आवश्यकता पड़ने पर खोज और बचाव को प्रयास की प्रारम्भिक अवस्था में ही शुरू किया जा सकता है. घायलों के जख्म, बाहरी तापमान, पीड़ितों को हवा और पानी की सुलभता के दृष्टिगत आपदा के अधिकांश शिकार संघात के बाद 72 घंटे के भीतर मर जाएंगे.[10]

किसी भी संगीन आपदा - प्राकृतिक या आतंकवादी जनित - के लिए संगठनात्मक प्रतिक्रिया मौजूदा आपातकालीन प्रबंधन संगठनात्मक प्रणालियों और प्रक्रियाओं: फ़ेडरल रिस्पांस प्लान (FRP) और इंसीडेंस कमांड सिस्टम (आईसीएस) पर आधारित होता है. इन प्रणालियों को एकीकृत कमान (UC) और आपसी सहायता (एमए) के सिद्धांतों के माध्यम से सशक्त किया जाता है.

किसी भी आपदा का जवाब देने के लिए अनुशासन (संरचना, सिद्धांत, प्रक्रिया) और चपलता (रचनात्मकता, आशुरचना, अनुकूलनशीलता) दोनों की जरूरत होती है.[11] पहले उत्तरदाता के नियंत्रण से परे बढ़ने वाले प्रयासों का शीघ्रता से समन्वय और प्रबंधन करने के लिए उच्च कामकाजी नेतृत्व टीम को शामिल करने और बनाने की आवश्यकता, एक अनुशासित, पारस्परिक प्रतिक्रिया वाले योजनाओं के सेट को बनाने और लागू करने के लिए एक नेता और उसके दल की आवश्यकता को इंगित करती है. इससे टीम समन्वित, अनुशासित प्रतिक्रियाओं के साथ आगे बढ़ सकती है जो कमोबेश सही हों और नई जानकारी व बदलती परिस्थितियों के अनुसार ढल सकें.[12]

उबरना[संपादित करें]

उबरने वाले चरण का उद्देश्य प्रभावित क्षेत्र को यथापूर्व स्थिति में बहाल करना है. इसका लक्ष्य प्रतिक्रिया चरण से भिन्न है, उबरने के प्रयास उन मुद्दों और निर्णयों से संबंधित हैं जो तत्काल आवश्यकताओं की पूर्ति के बाद किए जाने चाहिए.[1] उबरने के प्रयास मुख्य रूप से नष्ट संपत्ति, पुनर्रोजगार और अन्य आवश्यक बुनियादी ढांचे की मरम्मत संबंधी कार्य हैं.[1] समुदाय और बुनियादी ढांचे में आपदा पूर्व निहित जोखिम को कम करने के उद्देश्य से "वापस बेहतर बनाने" के प्रयास किए जाने चाहिए.[3] अन्यथा अलोकप्रिय न्यूनीकरण उपायों के कार्यान्वयन के लिए 'अल्पकालीन अवसर'[13] का लाभ उठाना, उबरने के प्रभावी प्रयासों का एक महत्वपूर्ण पहलू है. आपदा की स्मृति ताज़ा रहने पर प्रभावित क्षेत्र के नागरिकों द्वारा अधिक न्यूनीकरण परिवर्तनों को स्वीकार किए जाने की अधिक संभावना है.

संयुक्त राज्य अमेरिका में, नेशनल रिस्पांस प्लान दर्शाता है कि कैसे 2002 के होमलैंड सिक्योरिटी अधिनियम द्वारा प्रावधान किए गए संसाधनों का उपयोग उबरने के प्रयासों में किया जाएगा.[1] अमेरिका में उबरने के प्रयासों में अत्याधिक तकनीकी और वित्तीय सहायता अधिकतर संघीय सरकार द्वारा प्रदान की जाती है.[1]

चरण और व्यक्तिगत गतिविधियां[संपादित करें]

न्यूनीकरण[संपादित करें]

अनावश्यक जोखिम की जानकारी और उससे परहेज ही मुख्य रूप से व्यक्तिगत न्यूनीकरण है. निजी/पारिवारिक स्वास्थ्य और निजी संपत्ति को संभव जोखिम का मूल्यांकन इसमें शामिल है.

न्यूनीकरण का एक उदाहरण यह होगा कि खतरे वाली जगह जैसे बाढ़ वाले मैदान, अवतलन या भूस्खलन वाले क्षेत्रों में संपत्ति न खरीदना. हो सकता है कि घटित होने तक घर के मालिक को संपत्ति को होने वाले खतरे के बारे में पता न हो. हालांकि, जोखिम की पहचान और मूल्यांकन सर्वेक्षण के लिए विशेषज्ञों को काम पर रखा जा सकता है. प्रमुख रूप से अवगत जोखिम के लिए बीमा खरीदना एक आम उपाय है.

भूकंप प्रवण क्षेत्रों में निजी संरचनात्मक न्यूनीकरण में शामिल हैं किसी संपत्ति में प्राकृतिक गैस की आपूर्ति को तुरन्त बंद करने के लिए एक भूकंप वाल्व लगाना, संपत्ति में पुराने भूकंपीय उपकरणों के स्थान पर नए लगाना और घरेलू भूकंपीय सुरक्षा बढ़ाने के लिए इमारत के अंदर के सामान की रक्षा करना. सामान की रक्षा में फ़र्नीचर, रेफ्रिजरेटर, पानी के हीटर और भंजनीय सामान को दीवारों पर लगाने के अलावा कैबिनेट में और सिटकनियां लगवाना शामिल हो सकता है. बाढ़ प्रवण क्षेत्रों में दक्षिणी एशिया की तरह मकान खंभे /बांसों पर बनाए जा सकते हैं. जिन क्षेत्रों में बिजली लंबे समय तक गुल रहती है वहां जनरेटर का लगाया जाना इष्टतम संरचनात्मक न्यूनीकरण का उदाहरण होगा. तूफ़ान तहखाने और भूमिगत आश्रय का निर्माण ऐसे ही और उदाहरण है.

आपदाओं के प्रभाव को सीमित करने के लिए किए गए संरचनात्मक और गैर संरचनात्मक उपाय न्यूनीकरण के तहत आते हैं.

संरचनात्मक न्यूनीकरण: -

इसमें विशेष रूप से इसे आपदा-प्रतिरोधी बनाने के लिए भवन का उचित अभिन्यास शामिल है.

गैर संरचनात्मक न्यूनीकरण: -

इसमें भवन की संरचना में सुधार के अलावा अन्य उपाय शामिल है.

तत्परता[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Hurricane preparedness, Earthquake preparedness, एवं Category:Disaster preparedness
हवाई अड्डे में आपातकालीन तत्परता अभ्यास.

तत्परता का उद्देश्य आपदा को रोकना है जबकि व्यक्तिगत तत्परता आपदा घटित होने पर उपकरण और प्रक्रियाओं की तैयारी अर्थात् योजना पर केंद्रित है. आश्रयों के निर्माण, चेतावनी उपकरणों की स्थापना, समर्थक जीवन-रेखा सेवाओं (जैसे बिजली, पानी, सीवेज) के निर्माण और निकासी योजनाओं के पूर्वाभ्यास सहित तत्परता उपायों के कई रूप हो सकते हैं. दो सरल उपाय आवश्यकतानुसार घटना से निपटने या निकासी में मदद कर सकते हैं. निकासी के लिए, एक आपदा आपूर्ति किट तैयार की जा सकती है और आश्रय उद्देश्यों के लिए आपूर्ति का भंडार बनाया जा सकता है. अधिकारी उत्तरजीविता किट जैसे "72 -घंटे की किट" तैयार करने की अक्सर वकालत करते हैं. इस किट में भोजन, दवाइयां, टॉर्च, मोमबत्तियां और धन हो सकते हैं. इसके अलावा, मूल्यवान वस्तुओं को सुरक्षित स्थान पर रखने की भी सिफ़ारिश की जाती है.

प्रतिक्रिया[संपादित करें]

किसी आपातकाल का प्रतिक्रिया चरण खोज और बचाव से शुरू हो सकता है लेकिन सभी मामलों में ध्यान जल्दी से प्रभावित आबादी की बुनियादी मानवीय ज़रूरतें पूरा करने की ओर पलट जाएगा. यह सहायता राष्ट्रीय या अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों और संगठनों द्वारा प्रदान की जा सकती है. आपदा सहायता का प्रभावी समन्वयन अक्सर महत्वपूर्ण होता है, खासकर जब अनेक संगठन जवाब दें और स्थानीय आपातकालीन प्रबंधन एजेंसी (LEMA) की क्षमता ज़रूरत से परे या आपदा के कारण कम हो गई हो.

निजी स्तर पर प्रतिक्रिया किसी जगह पर आश्रय या निकासी का रूप ले सकती है. जगह-में-आश्रय परिदृश्य में, एक परिवार को उनके ही घर में किसी भी रूप में बाहरी समर्थन के बिना कई दिनों तक रहने के लिए तैयार किया जाएगा. निकासी में, एक परिवार ऑटोमोबाइल या परिवहन के अन्य साधन द्वारा क्षेत्र छोड़ देता है और जितना सामान ले जा सकता है संभवतः. आश्रय के लिए एक तम्बू सहित, अपने साथ ले लेता है. अगर यांत्रिक परिवहन उपलब्ध नहीं है तो पैदल निकासी में आम तौर पर कम से कम तीन दिन की आपूर्ति और बारिश-प्रतिरोधी बिस्तर होगा, तिरपाल और कंबल तो अवश्य ही होंगे.

उबरना[संपादित करें]

मनुष्य के जीवन को तत्काल खतरा कम हो जाने पर उबरने का चरण शुरू होता है. पुनर्निर्माण के दौरान संपत्ति का स्थान या निर्माण सामग्री पर विचार करने की सिफ़ारिश की जाती है.

सबसे चरम गृह कारावास परिदृश्यों में शामिल हैं युद्ध, अकाल और महामारी और यह एक साल या अधिक के लिए हो सकता है. तब घर के भीतर ही उबरना होगा. इन घटनाओं के योजनाकार आमतौर पर थोक में खाद्य पदार्थ, उचित भंडारण और तैयारी के उपकरण खरीदते हैं और सामान्य जीवन की तरह खाना खाते हैं. विटामिन की गोलियाँ, गेहूं, सेम, सूखे दूध, मक्का और खाना पकाने का तेल से एक साधारण संतुलित आहार तैयार किया जा सकता है.[14] जब भी संभव हो सब्जियां, फल, मसाले और मांस, तैयार और ताज़ा दोनों ही शामिल करने चाहिएं.

एक पेशे के रूप में[संपादित करें]

आपातकालीन प्रबंधकों को विविध क्षेत्रों में प्रशिक्षित किया जाता है जिससे उन्हें पूरे आपातकालीन जीवन-चक्र में सहायता मिलती है. पेशेवर आपातकालीन प्रबंधक सरकारी और सामुदायिक तैयारियों (अभियान की निरंतरता/ सरकारी योजना की निरंतरता), या निजी व्यापार तत्परता (व्यापार निरंतरता प्रबंधन योजना) पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं. प्रशिक्षण स्थानीय, राज्य, संघीय और निजी संगठनों द्वारा प्रदान किया जाता है और इसमें सार्वजनिक सूचना और मीडिया संबंधों से लेकर उच्च स्तर की घटना होने पर आदेश देने और रणनीतिक कौशल जैसे आतंकवाद बम विस्फोट स्थल का अध्ययन या एक आपात स्थिति के दृश्य को नियंत्रित करना, तक शामिल होता है.

अतीत में, आपातकालीन प्रबंधन के क्षेत्र में सेना या प्रथम रिस्पॉन्डर की पृष्ठभूमि वाले लोगों की भरमार रही है. वर्तमान में, इस क्षेत्र में अधिक विविध जनसंख्या है अनेक विशेषज्ञ सेना या प्रथम रिस्पॉन्डर इतिहास से इतर विभिन्न प्रकार की पृष्ठभूमि से हैं. आपातकालीन प्रबंधन या इससे संबंधित क्षेत्र में स्नातकपूर्व और स्नातक डिग्री प्राप्त करने वालों के लिए शिक्षा के अवसर बढ़ रहे हैं. अमेरिका के 180 से अधिक स्कूलों में आपात प्रबंधन से संबंधित कार्यक्रम हैं लेकिन विशिष्ट रूप से आपात प्रबंधन में डॉक्टरेट का एक ही कार्यक्रम है.[15]

जैसे जैसे आपात प्रबंधन समुदाय द्वारा विशेष रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका में, उच्च पेशेवर मानकों की आवश्यकता को मान्यता दी जाने लगी है, प्रमाणित आपात प्रबंधक (CEM) और प्रमाणित व्यापार निरंतरता प्रोफ़ेशनल (CBCP) जैसे व्यावसायिक प्रमाणपत्र आम बनते जा रहे हैं.

आपातकालीन प्रबंधन के सिद्धांत[संपादित करें]

2007 में फ़ेमा आपातकालीन प्रबंधन उच्च शिक्षा परियोजना के डा. वेन ब्लोन्शॉ ने आपात प्रबंधन के सिद्धांतों पर विचार करने के लिए फ़ेमा आपातकालीन प्रबंधन संस्थान के अधीक्षक, डा. कोरतेज़ लॉरेंस के निर्देशन में आपात प्रबंधन वृत्तिकों और शिक्षाविदों का एक कार्यदल बुलाया. यह परियोजना इस बोध से प्रेरित हुई कि "आपातकालीन प्रबंधन के सिद्धांतों" पर असंख्य किताबें, लेख और निबन्ध उपलब्ध तो हैं लेकिन साहित्य की इतनी विशाल सारणी में इन सिद्धांतों की सर्वमान्य परिभाषा कहीं नहीं है. समूह आठ सिद्धांतों पर सहमत हुआ जो आपातकालीन प्रबंधन के सिद्धांत के विकास के लिए एक मार्गदर्शी के तौर पर प्रयुक्त होंगे. नीचे दिया गया सारांश इन आठ सिद्धांतों की सूची है और प्रत्येक का संक्षिप्त विवरण दिया गया है.

सिद्धांत: आपातकालीन प्रबंधन होना चाहिए:

  1. व्यापक - आपातकालीन प्रबंधक आपदाओं से संबंधित सभी खतरों, सभी चरणों, सभी हितधारकों और सब प्रभावों पर विचार करते हैं और ध्यान में रखते हैं.
  2. प्रगतिशील - आपातकालीन प्रबंधक भावी आपदाओं का पूर्वानुमान लगाते हैं और आपदा-प्रतिरोधी और आपदा-समुत्थान समुदायों के निर्माण के लिए निवारक और तत्परता उपाय करते हैं.
  3. जोखिम उन्मुख - प्राथमिकताओं और संसाधनों के समनुदेशन में आपातकालीन प्रबंधक उपयुक्त जोखिम प्रबंधन के सिद्धांतों (खतरे की पहचान, जोखिम विश्लेषण और प्रभाव विश्लेषण) का उपयोग करते हैं.
  4. एकीकृत - आपातकालीन प्रबंधक सरकार के सभी स्तरों और एक समुदाय के सभी तत्वों के बीच में प्रयास की एकता सुनिश्चित करते हैं.
  5. सहयोगी - आपातकालीन प्रबंधक व्यक्तियों और संगठनों के बीच व्यापक और सत्यनिष्ठ संबंध बनाते हैं ताकि विश्वास, एक टीम के वातावरण, आम सहमति और संप्रेषण को प्रोत्साहन मिले.
  6. समन्वित - एक आम उद्देश्य की प्राप्ति के लिए आपातकालीन प्रबंधक सभी सम्बद्ध हितधारकों की गतिविधियों को समकालिक बनाते हैं.
  7. लचीला - आपदा चुनौतियों को हल करने में आपातकालीन प्रबंधक रचनात्मक और नवीन उपायों का उपयोग करते हैं.
  8. पेशेवर - आपातकालीन प्रबंधक शिक्षा, प्रशिक्षण, अनुभव, नैतिक आचरण, सार्वजनिक नेतृत्व और सतत सुधार पर आधारित विज्ञान और ज्ञान-आधारित उपाय को महत्व देते हैं.

इन सिद्धांतों का विस्तृत वर्णन आपातकालीन प्रबंधन के सिद्धांत पर उपलब्ध है.

उपकरण[संपादित करें]

हाल के वर्षों में आपातकालीन प्रबंधन की निरंतरता की विशेषता के परिणामस्वरूप आपातकालीन प्रबंधन सूचना सिस्टम (EMIS) की नई अवधारणा ने जन्म लिया है. आपातकालीन प्रबंधन हितधारकों के बीच निरंतरता और अन्तरसंक्रियता के लिए, सरकारी और गैर सरकारी भागीदारी के सभी स्तरों पर आपात योजना को एकीकृत करने वाली संरचना प्रदान करके और आपात स्थितियों के सभी चार चरणों के लिए सभी संबंधित संसाधनों (मानव और अन्य संसाधनों सहित) का उपयोग करके EMIS आपातकालीन प्रबंधन प्रक्रिया का समर्थन करता है. स्वास्थ्य देखभाल के क्षेत्र में, अस्पताल HICS (अस्पताल हादसा कमान प्रणाली) का उपयोग करते हैं जो प्रत्येक प्रभाग के लिए ज़िम्मेदारियों के सेट के साथ स्पष्ट रूप से परिभाषित कमान श्रृंखला में संरचना और संगठन प्रदान करती है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

अन्य व्यवसायों के भीतर[संपादित करें]

क्षेत्र की परिपक्वता के साथ साथ आपात प्रबंधन (आपदा तत्परता) के वृत्तिक विविध पृष्ठभूमि से आने लगे हैं. स्मृति संस्थानों (जैसे संग्रहालय, ऐतिहासिक समाज, पुस्तकालय और अभिलेखागार) के पेशेवर सांस्कृतिक विरासत - अपने संग्रह में रखी वस्तुओं और रिकॉर्ड के संरक्षण के प्रति समर्पित हैं. 2001 में सितंबर 11 के हमलों, 2005 के तूफ़ान और कोलोन अभिलेखागार के पतन के बाद आई उच्च जागरूकता के परिणामस्वरूप यह इन क्षेत्रों के भीतर तेजी से बढ़ता प्रमुख घटक है.

बहुमूल्य अभिलेखों की सफल पुनः प्राप्ति के अवसर बढ़ाने के लिए, एक सुस्थापित और अच्छी तरह से परीक्षित योजना विकसित किया जाना चाहिए. योजना बहुत जटिल नहीं होनी चाहिए बल्कि प्रतिक्रिया और बहाली में सहायता करने के लिए सादगी पर ज़ोर दिया जाना चाहिए. सादगी के एक उदाहरण के रूप में, प्रतिक्रिया और बहाली चरण में कर्मचारियों को उसी तरह के कार्य करने चाहिए जो वे सामान्य परिस्थितियों में करते हैं. इसमें न्यूनीकरण रणनीतियों जैसे संस्था में छिड़काव यंत्रों की स्थापना, को भी शामिल करना चाहिए. इस कार्य के लिए अनुभवी अध्यक्ष के नेतृत्व वाली सुगठित समिति के सहयोग की आवश्यकता होती है.[16] जोखिम को कम करने और अधिकतम पुनः प्राप्ति के लिए व्यक्तियों को प्रचलित उपकरणों और संसाधनों की अद्यतन जानकारी देने के लिए पेशेवर संगठन नियमित कार्यशालाएं और वार्षिक सम्मेलनों में ध्यान सत्र आयोजित करते हैं.

उपकरण[संपादित करें]

आपदा तैयारी और बहाली योजनाओं में पेशेवरों की सहायता के लिए पेशेवर एसोसिएशन और सांस्कृतिक विरासत संस्थाओं के संयुक्त प्रयासों के परिणामस्वरूप कई विभिन्न प्रकार के उपकरणों का विकास हुआ है. कई मामलों में, ये उपकरण बाहरी उपयोगकर्ताओं को उपलब्ध कराए जाते हैं. इसके अतिरिक्त मौजूदा संगठनों द्वारा रचित योजना नमूने भी अक्सर वेबसाइटों पर उपलब्ध होते हैं जो आपदा योजना तैयार करने वाली या एक मौजूदा योजना को अद्यतन कर रही किसी भी समिति या समूह के लिए सहायक हो सकते हैं. जबकि प्रत्येक संगठन को अपनी विशेष ज़रूरतों को पूरा करने वाली योजना और उपकरण बनाने की ज़रूरत होगी फिर भी ऐसे उपकरणों के कुछ उदाहरण हैं जो संभवतः योजना प्रक्रिया में उपयोगी प्रारंभिक बिंदुओं का प्रतिनिधित्व करे. इन्हें बाह्य कड़ियां अनुभाग में शामिल किया गया है.

2009 में, आपदाओं से प्रभावित आबादी के आकलन के लिए अंतर्राष्ट्रीय विकास एजेंसी अमेरिका ने वेब-आधारित एक उपकरण बनाया. पॉपुलेशन एक्सप्लोरर के नाम से विख्यात यह उपकरण विश्व के सभी देशों में 1 km2 के रेज़्युलेशन में जनसंख्या को वितरित करने के लिए ओक रिज राष्ट्रीय प्रयोगशाला द्वारा विकसित Landscan आबादी डेटा का उपयोग करता है. आबादी की अतिसंवेदनशीलता और या भोजन की असुरक्षा के प्रभाव का अनुमान लगाने के लिए यूएसएड की FEWS NET परियोजना द्वारा प्रयुक्त पॉपुलेशन एक्सप्लोरर का आपातकालीन विश्लेषण और प्रतिक्रिया कार्रवाई में व्यापक प्रयोग बढ़ता जा रहा है, इसमें मध्य अमेरिका में बाढ़ और प्रशांत महासागर में 2009 में सुनामी घटना से प्रभावित आबादी का आकलन भी शामिल है.

2007 में, आपातकालीन प्रतिक्रिया में भाग लेने पर विचार कर रहे पशु चिकित्सकों के लिए एक जांचसूची अमेरिकन वेटरनरी मेडिकल एसोसिएशन के जर्नल में प्रकाशित हुई थी, इसमें सवालों के दो खंड थे जो आपात स्थिति में सहायता करने से पहले किसी पेशेवर को स्वयं से पूछने थे: भागीदारी के लिए निरपेक्ष अपेक्षाएं: क्या मैंने भाग के लिए चुना है?, क्या मैंने आईसीएस प्रशिक्षण लिया है?, क्या मैंने अन्य आवश्यक पृष्ठभूमि पाठ्यक्रम लिए हैं?, क्या मैंने अपने तैनाती के अभ्यास की तैयारी कर ली है?, क्या मैंने अपने परिवार के साथ व्यवस्था कर ली है?

घटना भागीदारी:? क्या मुझे भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया है?, क्या मेरे कौशल मिशन के लिए उपयुक्त हैं?, क्या मैं कौशल को ताज़ा करने या आवश्यक नए कौशल पाने के लिए यथासमय प्रशिक्षण ले सकता हूं? क्या यह एक स्वतः-सहायता मिशन है? क्या अपने स्वयं के समर्थन के लिए मेरे पास तीन से पांच दिनों तक की आवश्यक आपूर्ति है?

जबकि यह लिखा हुआ है कि यह पशु चिकित्सकों के लिए है लेकिन किसी भी आपात स्थिति में सहायता करने से पहले हर पेशेवर को इस सूची पर गौर करना चाहिए.[17]

अंतर्राष्ट्रीय संगठन[संपादित करें]

आपातकालीन प्रबंधकों की अंतर्राष्ट्रीय एसोसिएशन[संपादित करें]

आपातकालीन प्रबंधकों की अंतर्राष्ट्रीय एसोसिएशन (IAEM) आपात स्थिति और आपदाओं के दौरान जान और माल की सुरक्षा को बढ़ावा देने के लक्ष्यों को समर्पित लाभ रहित शैक्षिक संगठन है. IAEM का उद्देश्य जानकारी, नेटवर्किंग और पेशेवर अवसर प्रदान करके अपने सदस्यों की सेवा करना और आपातकालीन प्रबंधन पेशे को उन्नत बनाना है.

इस समय दुनिया भर में इसकी सात परिषदें है:एशिया, कनाडा, यूरोप, इंटरनेशनल, ओशिनिया, स्टूडेंट और संयुक्त राज्य अमेरिका

व्यवसाय की ओर से IAEM निम्नलिखित प्रोग्राम का भी प्रबंधन करती है: प्रमाणित आपातकालीन प्रबंधक (CEM) छात्रवृत्ति कार्यक्रम

वायु सेना की आपातकालीन प्रबंधन एसोसिएशन (www.af-em.org और www.3e9x1.com), सदस्यता के द्वारा IAEM से अस्पष्ट रूप से संबद्ध है और यह अमेरिकी वायु सेना आपातकालीन प्रबंधकों को आपातकालीन प्रबंधन की जानकारी और नेटवर्किंग प्रदान करती है.

रेड क्रॉस/रेड क्रेसन्ट[संपादित करें]

आपात स्थिति का जवाब देने में राष्ट्रीय रेड क्रॉस/रेड क्रेसन्ट सोसायटी ने अक्सर निर्णायक भूमिका निभायी है. इसके अतिरिक्त, राष्ट्रीय रेड क्रॉस या रेड क्रेसन्ट सोसायटी द्वारा अनुरोध किए जाने पर रेड क्रॉस और रेड क्रेसन्ट सोसायटी की इंटरनेशनल फ़ेडरेशन (IFRC, या "द फ़ेडरेशन") प्रभावित देश को मूल्यांकन टीमें (अर्थात फ़ील्ड मूल्यांकन और समन्वय टीम - FACT) तैनात कर सकते हैं. आवश्यकता का मूल्यांकन करने के बाद प्रभावित देश या क्षेत्र में एमरजेंसी रिस्पांस यूनिटें (ERUs) तैनात की जा सकती हैं. वे आपातकालीन प्रबंधन ढांचे के प्रतिक्रिया घटक के विशेषज्ञ हैं.

संयुक्त राष्ट्र[संपादित करें]

संयुक्त राष्ट्रसंयुक्त राष्ट्र/0} तंत्र में आपातकालीन प्रतिक्रिया की ज़िम्मेदारी प्रभावित देश में रेज़िडेंट समन्वयक की है. हालांकि प्रभावित देश के अनुरोध पर अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया का समन्वयन व्यावहारिक तौर पर, संयुक्त राष्ट्र के मानवीय मामलों के समन्वयन कार्यालय (संयुक्त राष्ट्र-OCHA) द्वारा संयुक्त राष्ट्र आपदा आकलन और समन्वयन (UNDAC) टीम तैनात करके किया जाता है.

विश्व बैंक[संपादित करें]

1980 के बाद से, विश्व बैंक ने आपदा प्रबंधन से संबंधित अमेरिकी $40 बिलियन से अधिक की राशि के 500 से अधिक प्रचालनों को मंज़ूरी दी है. इनमें शामिल हैं आपदा के बाद पुनर्निर्माण परियोजनाएं, साथ ही अर्जेन्टीना, बांग्लादेश, कोलंबिया, हैती, भारत, मेक्सिको, तुर्की और वियतनाम जैसे कुछेक देशों में आपदा प्रभावों की रोकथाम और न्यूनीकरण के उद्देश्य वाले घटकों की परियोजनाएं.[18]

दावानल की रोकथाम के उपाय, जैसे कि पूर्व चेतावनी उपाय और किसानों को हतोत्साहित करना कि वे कृषिभूमि के लिए जंगल को न जलाएं जिससे दावानल शुरू होती है, तूफ़ान के आगमन की पूर्व चेतावनी प्रणाली, बाढ़ की रोकथाम के तंत्र, ग्रामीण क्षेत्रों में तटीय सुरक्षा और टेरसिंग से लेकर उत्पादन के अनुकूलन तक और भूकंप के अनुकूल निर्माण, रोकथाम और न्यूनीकरण परियोजनाओं के सामान्य केंद्रबिंदु हैं.[19]

प्रोवेन्शन कंसोर्टियम के संरक्षण में विश्व बैंक ने कोलंबिया विश्वविद्यालय के साथ एक संयुक्त उद्यम प्राकृतिक आपदा के आकर्षण-केंद्रों का विश्वव्यापी जोखिम विश्लेषण की स्थापना की है.[20]

जून 2006 में विश्व बैंक ने विकास में आपदा जोखिम न्यूनीकरण को मुख्य धारा से जोड़कर आपदा हानि को कम करने के लिए हयोगो फ़्रेमवर्क ऑफ़ एक्शन के समर्थन में अन्य दाताओं के साथ एक दीर्घकालिक साझेदारी, आपदा न्यूनीकरण और बहाली (GFDRR) के लिए विश्वव्यापी सुविधा की स्थापना की. यह सुविधा उन विकास परियोजनाओं और कार्यक्रमों के वित्तपोषण में विकासशील देशों की मदद करती है जो आपदा रोकथाम और आपातकालीन तत्परता के लिए स्थानीय क्षमता बढ़ाने के लिए हों.[21]

यूरोपीय संघ[संपादित करें]

2001 के बाद से यूरोपीय संघ ने नागरिक सुरक्षा के लिए सामुदायिक प्रक्रिया को अपनाया है जिसने वैश्विक परिदृश्य में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभानी शुरू कर दी है. प्रमुख आपात स्थितियां जिनके लिए तत्काल प्रतिक्रिया की आवश्यकता हो, घटित होने पर नागरिक सुरक्षा सहायता उपायों को सुसाध्य बनाना इस प्रक्रिया की मुख्य भूमिका है. यह उन परिस्थितियों के लिए भी लागू होती है जहां ऐसी प्रमुख आपात स्थितियों का आसन्न खतरा हो सकता है.

इस प्रक्रिया का मूल निगरानी और सूचना केन्द्र है. यह यूरोपीय आयोग के मानवीय सहायता एवं नागरिक सुरक्षा के महानिदेशालय का हिस्सा है और दिन में 24 घंटे सुलभ है. यह देशों को एक मंच उपलब्ध करवाता है, भाग लेने वाली सभी सरकारों को एक जगह सुलभ नागरिक सुरक्षा के साधनों का केंद्र है. एक बड़ी आपदा से प्रभावित संघ के अंदर या बाहर का कोई भी देश के MIC के माध्यम से सहायता के लिए अपील कर सकता है. यह भाग लेने वाली सरकारों, प्रभावित देश और भेजे गए क्षेत्रीय विशेषज्ञों के बीच मुख्यालय स्तर पर संचार केन्द्र के रूप में कार्य करता है. यह चल रही आपात स्थिति की वास्तविक स्थिति पर उपयोगी और अद्यतन जानकारी भी प्रदान करता है.[22]

अंतर्राष्ट्रीय बहाली मंच[संपादित करें]

अंतर्राष्ट्रीय बहाली मंच (IRP) की स्थापना जनवरी 2005 में कोबे, हयोगे, जापान में आपदा न्यूनीकरण (WCDR) पर विश्व सम्मेलन में की गई थी. आपदा न्यूनीकरण प्रणाली (ISDR) के लिए अंतर्राष्ट्रीय नीति के एक विषयगत मंच के रूप में, IRP हयोगे फ़्रेमवर्क फ़ॉर एक्शन (HFA) 2005-2015 के लिए एक महत्वपूर्ण स्तंभ है: आपदा के प्रति राष्ट्रों और समुदायों के समुत्थान का निर्माण, एक दशक के लिए आपदा जोखिम कम करने के लिए WCDR में 168 सरकारों द्वारा अपनाई गई एक वैश्विक योजना.


आपदा के बाद बहाली में आए अंतराल और बाधाओं को पहचानना और समुत्थान बहाली के लिए उपकरणों, संसाधनों और क्षमता के विकास के लिए उत्प्रेरक के रूप में कार्य करना IRP की महत्वपूर्ण भूमिका है. IRP का उद्देश्य अच्छी बहाली प्रक्रिया के लिए ज्ञान का अंतर्राष्ट्रीय स्रोत बनना है.[4]

राष्ट्रीय संगठन[संपादित करें]

ऑस्ट्रेलिया[संपादित करें]

ऑस्ट्रेलिया में आपातकालीन प्रबंधन ऑस्ट्रेलिया (EMA) आपात स्थिति प्रबंधन के लिए मुख्य संघीय समन्वय और सलाहकार निकाय है. पांच राज्यों और दो प्रदेशों की अपनी अपनी राज्य आपातकालीन सेवा है. आपातकालीन फ़ोन सेवा राज्य पुलिस, अग्निशमन और एम्बुलेंस सेवाओं से संपर्क करने के लिए एक राष्ट्रीय 000 आपातकालीन टेलीफोन नंबर प्रदान करता है. राज्य और संघीय सहयोग के लिए व्यवस्था है.

कनाडा[संपादित करें]

कनाडा सार्वजनिक सुरक्षा कनाडा की राष्ट्रीय आपात प्रबंधन एजेंसी है. प्रत्येक प्रांत से अपेक्षित है कि आपात स्थिति से निपटने के लिए कानून बनाए और साथ ही अपनी स्वयं की आपातकालीन प्रबंधन एजेंसियों की स्थापना करे जिन्हें आमतौर पर "आपातकालीन उपाय संगठन" (ईएमओ) कहा जाता है और जो नगर निगम और संघीय स्तर से प्राथमिक संपर्क के रूप कार्य करती हैं.

कनाडा जन सुरक्षा राष्ट्रीय सुरक्षा और कनाडावासियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने वाले संघीय संगठनों के प्रयासों का समन्वयन और समर्थन करती है. वे सरकार के अन्य स्तरों, पहले रिस्पॉन्डर्स, सामुदायिक समूहों, निजी क्षेत्र (महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे के ऑपरेटर) और अन्य राष्ट्रों के साथ भी काम करती हैं.

पीएस की शक्तियां, कर्त्तव्य और कार्य परिभाषित करने वाले जन सुरक्षा और आपातकालीन तत्परता अधिनियम के माध्यम से कनाडा जन सुरक्षा का काम नीतियों और कानून की व्यापक रेंज पर आधारित है. अन्य अधिनियम सुधार, आपातकालीन प्रबंधन, कानून प्रवर्तन और राष्ट्रीय सुरक्षा जैसे क्षेत्रों के लिए विशिष्ट हैं.

जर्मनी[संपादित करें]

जर्मनी में जर्मन Katastrophenschutz (आपदा राहत) और Zivilschutz (नागरिक सुरक्षा) कार्यक्रम संघीय सरकार के नियंत्रणाधीन हैं. जर्मन अग्नि विभाग की स्थानीय इकाइयां और Technisches Hilfswerk (तकनीकी राहत के लिए संघीय एजेंसी,Thw ) इन कार्यक्रमों का हिस्सा हैं. जर्मन सशस्त्र बल (बुंडेसवेह्) जर्मन संघीय पुलिस और 16 राज्य पुलिस बल (Länderpolizei) सभी को आपदा राहत अभियानों के लिए तैनात किया गया है. जर्मन रेड क्रॉस[कृपया उद्धरण जोड़ें] के अलावा Johanniter-Unfallhilfe,[कृपया उद्धरण जोड़ें] सेंट जॉन एम्बुलेंस का जर्मन पर्याय, Malteser-Hilfsdienst,[कृपया उद्धरण जोड़ें] Arbeiter-Samariter-Bund,[कृपया उद्धरण जोड़ें] और अन्य निजी संगठनों द्वारा मानवीय सहायता सुलभ करायी जाती है जो बड़े पैमाने पर आपात स्थिति से निपटने के लिए सक्षम सबसे बड़ा राहत संगठन है. 2006 की स्थिति के अनुसार बॉन विश्वविद्यालय में एक संयुक्त पाठ्यक्रम है जिसके बाद "आपदा रोकथाम और जोखिम संचालन में मास्टर" डिग्री ली जा सकती है.[23]

भारत[संपादित करें]

भारत में आपातकाल प्रबंधन की भूमिका गृह मंत्रालय के अधीनस्थ सरकारी एजेंसी भारतीय राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के कंधों पर आती है. हाल के वर्षों में महत्व में बदलाव आया है, प्रतिक्रिया और उबरने से रणनीतिक जोखिम प्रबंधन और न्यूनीकरण तथा सरकारी केंद्रित दृष्टिकोण से विकेन्द्रीकृत समुदाय की भागीदारी की ओर. विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय एक आंतरिक एजेंसी का समर्थन करता है जो आपात प्रबंधन की प्रक्रिया में भू वैज्ञानिकों के शैक्षणिक ज्ञान और विशेषज्ञता को शामिल कर अनुसंधान को सुसाध्य बनाती है.

हाल ही में भारत सरकार ने सार्वजनिक / निजी भागीदारी का प्रतिनिधित्व करने वाले समूह का गठन किया है. यह मुख्य रूप से भारत-आधारित एक बड़ी कंप्यूटर कंपनी द्वारा वित्त पोषित है और इसका उद्देश्य आपदाओं के रूप में वर्णित घटनाओं के अलावा आपात स्थितियों के प्रति समुदायों की सामान्य प्रतिक्रिया में सुधार लाना है. प्रथम रिस्पॉन्डर्स के लिए आपात प्रबंधन प्रशिक्षण (भारत में पहली बार), एकल आपातकालीन टेलीफोन नंबर की रचना और ईएमएस स्टाफ़ के लिए मानक, उपकरण और प्रशिक्षण की स्थापना का प्रावधान समूह के शुरुआती कुछेक प्रयासों में शामिल हैं. वर्तमान में यह तीन राज्यों में प्रचालित है, हालांकि इसे राष्ट्रव्यापी प्रभावी समूह बनाने के प्रयास जारी हैं.

नीदरलैंड्स[संपादित करें]

नीदरलैंड्स में राष्ट्रीय स्तर पर आपातकालीन तत्परता और आपात प्रबंधन के लिए आंतरिक और साम्राज्य संबंधों का मंत्रालय उत्तरदायी है और यह राष्ट्रीय संकट केन्द्र (एनसीसी) का संचालन करता है. देश 25 सुरक्षा क्षेत्रों (veiligheidsregio) में विभाजित है. प्रत्येक सुरक्षा क्षेत्र तीन सेवाओं: पुलिस, अग्नि और एम्बुलेंस से लैस है. सभी क्षेत्र समन्वित क्षेत्रीय घटना प्रबंधन प्रणाली के अनुसार संचालित होते हैं. रक्षा मंत्रालय, जलमंडल, Rijkswaterstaat आदि जैसी अन्य सेवाएं आपात प्रबंधन की प्रक्रिया में सक्रिय भूमिका निभा सकती हैं.

न्यूज़ीलैंड[संपादित करें]

न्यूज़ीलैंड में आपातकालीन स्थिति की प्रकृति या जोखिम न्यूनीकरण कार्यक्रम के आधार पर आपातकालीन प्रबंधन का दायित्व स्थानीय से राष्ट्रीय रूप धारण करता है. एक गंभीर तूफ़ान का सामना एक क्षेत्र विशेष के भीतर किया जा सकता है जबकि राष्ट्रीय सार्वजनिक शिक्षा अभियान केंद्र सरकार द्वारा ही निर्देशित किया जाएगा. प्रत्येक क्षेत्र के भीतर स्थानीय सरकारें 16 सिविल डिफ़ेन्स एमरजेंसी मैनेजमैंट ग्रुपों (CDEMGs) में एकीकृत हैं. प्रत्येक CDEMG का उत्तरदायित्व है कि वह सुनिश्चित करे कि स्थानीय आपातकालीन प्रबंधन यथासंभव सशक्त हो. चूंकि आपात स्थिति में स्थानीय बंदोबस्त कम पड़ जाते हैं, पहले से मौजूद परस्पर-समर्थित बंदोबस्त सक्रिय कर दिए जाते हैं. जैसाकि निश्चित है, नागरी रक्षा एवं आपातकाल प्रबंधन मंत्रालय (MCDEM) द्वारा संचालित राष्ट्रीय संकट प्रबंधन केंद्र (NCMC) के माध्यम से प्रतिक्रिया के समन्वयन का प्राधिकार केन्द्र सरकार के पास है. विनियमन इन संरचनाओं को परिभाषित करते हैं[24] और लगभग अमेरिकी फ़ेडरल आपातकालीन प्रबंधन एजेंसी के नेशनल रिस्पांस फ़्रेमवर्क के समतुल्य द गाइड टू द नेशनल सिविल डिफ़ेन्स एमरजेंसी प्लान 2006 में इनका बेहतर वर्णन है.

पारिभाषिक शब्दावली[संपादित करें]

आपातकालीन प्रबंधन के लिए न्यूज़ीलैंड अंग्रेज़ी-भाषी शेष विश्व के लिए अद्वितीय शब्दावली का उपयोग करता है.

4Rs शब्द का इस्तेमाल स्थानीय रूप से आपात प्रबंधन चक्र का वर्णन करने के लिए किया जाता है. न्यूज़ीलैंड में चार चरणों को निम्न रूप से जाना जाता है:[25]
  • कम करना = न्यूनीकरण
  • तैयारी = तत्परता
  • प्रतिक्रिया
  • उबरना
आपातकालीन प्रबंधन का प्रयोग स्थानीय स्तर पर शायद ही कभी किया जाता है, कई सरकारी प्रकाशन नागरी रक्षा शब्द का प्रयोग करते हैं.[26] उदाहरण के लिए, केंद्र सरकार की आपातकालीन प्रबंधन एजेंसी की ज़िम्मेदारी नागरी रक्षा मंत्री MCDEM पर है.
सिविल डिफ़ेन्स एमरजेंसी मैनेजमैंट अपने आप में एक शब्द है. अक्सर CDEM के रूप में संक्षिप्त, इसे कानून द्वारा आपदाओं से होने वाले नुकसान को रोकने वाले ज्ञान के रूप में परिभाषित किया गया है.[27]
आधिकारिक प्रकाशनों में आपदा बहुत कम आता है. न्यूज़ीलैंड के संदर्भ में आपातकाल और घटना शब्द आमतौर पर तब इस्तेमाल होते हैं जब सामान्य तौर पर आपदाओं के बारे में बात हो रही हो.[28] जब किसी आपात स्थिति की आधिकारिक प्रतिक्रिया होती है तो उसका ज़िक्र करते समय घटना शब्द का भी प्रयोग किया जाता है. उदाहरण के लिए, प्रकाशन "कैंटरबरी शो घटना 2002" का उल्लेख करते हैं.[29]

रूस[संपादित करें]

रूस में आपातकालीन परिस्थिति मंत्रालय (EMERCOM) अग्नि शमन, नागरी रक्षा, बचाव और खोज में कार्यरत है जिसमें प्राकृतिक और मानव-रचित आपदाओं के बाद बचाव सेवाएं भी शामिल हैं.

युनाइटेड किंगडम[संपादित करें]

2000 में यूके ईंधन विरोध, उसी वर्ष गंभीर बाढ़ और 2001 यूनाइटेड किंगडम पैर-और-मुंह संकट के बाद यूनाइटेड किंगडम ने आपात प्रबंधन की ओर अपना ध्यान केंद्रित किया. इसके परिणामस्वरूप सिविल आकस्मिकता अधिनियम 2004 (सीसीए) की रचना हुई जिसने कुछ संगठनों को रिस्पॉन्डर 1 और 2 के रूप में परिभाषित किया. कानून के तहत आपातकालीन तत्परता और प्रतिक्रिया के संबंध में इन रिस्पॉन्डर्स को उत्तरदायित्व सौंपे गए हैं. सीसीए का प्रबंधन क्षेत्रीय समुत्थान मंच के माध्यम से और स्थानीय प्राधिकरण स्तर पर सिविल आकस्मिकता सचिवालय द्वारा किया जाता है.

आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण का आयोजन आम तौर पर किसी भी प्रतिक्रिया में शामिल संगठनों द्वारा स्थानीय स्तर पर किया जाता है. इसे आपातकालीन योजना कॉलेज में व्यावसायिक पाठ्यक्रम के माध्यम से समेकित किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त डिप्लोमा, पूर्वस्नातक और स्नातकोत्तर अर्हता देश भर में प्राप्त की जा सकती है - इस प्रकार का पहला पाठ्यक्रम 1994 में कोवेन्ट्री विश्वविद्यालय द्वारा चलाया गया था. सरकार, मीडिया और वाणिज्यिक क्षेत्रों के लिए परामर्श सेवाएं प्रदान कर रहा, 1996 में स्थापित आपातकालीन प्रबंधन संस्थान धर्माथ है.

आपातकालीन योजना सोसायटी आपातकालीन योजनाकारों की व्यावसायिक सोसायटी है.[30]

ब्रिटेन के सबसे बड़े में से एक आपातकालीन अभ्यास 20 मई 2007 को बेलफ़ास्ट के पास उत्तरी आयरलैंड में किया गया जिसमें बेलफ़ास्ट अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे में एक विमान दुर्घटना लैंडिंग का परिदृश्य शामिल था. पांच अस्पतालों और तीन हवाई अड्डों के कर्मचारियों ने इस ड्रिल में भाग लिया और लगभग 150 अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों ने इसकी प्रभावशीलता का मूल्यांकन किया.[31]

संयुक्त राज्य अमेरिका[संपादित करें]

होमलैंड सिक्योरिटी विभाग (DHS) के तहत संघीय आपात प्रबंधन एजेंसी (फ़ेमा) आपात प्रबंधन के लिए अग्रणी एजेंसी है. जोखिम मूल्यांकन प्रक्रिया में फ़ेमा द्वारा विकसित HAZUS सॉफ़्टवेयर पैकेज देश में प्रमुख है . अमेरिका और उसके क्षेत्र आपात प्रबंधन प्रयोजनों के लिए फ़ेमा के दस क्षेत्रों में से एक के अधीन आते हैं. आदिवासी, राज्य, काउंटी और स्थानीय सरकारें आपातकालीन प्रबंधन कार्यक्रम/विभाग विकसित करते हैं और प्रत्येक क्षेत्र के भीतर पदानुक्रम रूप से कार्य करते हैं. आपात स्थिति समीपवर्ती अधिकार-क्षेत्र के साथ आपसी सहायता समझौतों का उपयोग करते हुए यथासंभव स्थानीय स्तर पर संभाली जाती है. अगर आपात स्थिति आतंकवाद से संबंधित है या फिर "राष्ट्रीय महत्व की घटना" घोषित हो जाए, होमलैंड सिक्योरिटी के सचिव नेशनल रिस्पांस फ़्रेमवर्क (एनआरएफ़) आरंभ कर देंगे . इस योजना के तहत स्थानीय, काउंटी, राज्य या आदिवासी संस्थाओं के साथ मिलकर संघीय संसाधन की भागीदारी को संभव बनाया जाएगा. नेशनल इंसिडेंट मैनेजमैंट सिस्टम (एन आई एम एस) का उपयोग करते हुए यथासंभव निम्नतर स्तर पर प्रबंधन को संभाला जाता रहेगा.


सिटीज़न कॉर्प्स स्थानीय रूप से प्रशासित और राष्ट्रीय स्तर पर DHS द्वारा समन्वित स्वयंसेवक सेवा कार्यक्रम का संगठन है जो सार्वजनिक शिक्षा, प्रशिक्षण और पहुँच के माध्यम से जनता को आपातकालीन प्रतिक्रिया के लिए तैयार करता है. सिटीज़न कॉर्प्स का आपदा तत्परता और बुनियादी आपदा प्रतिक्रिया सिखाने पर केंद्रित एक कार्यक्रम कम्युनिटी एमरजेंसी रिस्पांस टीम है. जब आपदा के कारण पारंपरिक आपातकालीन सेवाएं शिथिल पड़ जाती हैं तब इन स्वयंसेवी टीमों का उपयोग आपातकालीन सहायता प्रदान करने के लिए किया जाता है.

अमेरिकी कांग्रेस ने प्रशांत एशिया क्षेत्र में आपदा तत्परता और सामाजिक समुत्थान को बढ़ावा देने के लिए मुख्य एजेंसी के रूप में आपदा प्रबंधन और मानवीय सहायता (COE) में उत्कृष्टता केंद्र की स्थापना की. घरेलू, विदेशी और अंतर्राष्ट्रीय योग्यता और क्षमता विकसित करने के लिए COE अपने जनादेश के भाग के रूप में आपदा तत्परता, परिणाम प्रबंधन और स्वास्थ्य सुरक्षा में शिक्षा और प्रशिक्षण को सुकर बनाता है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • ब्रिटिश मानवतावादी एजेंसियों का संघ
  • आपदा जवाबदेही परियोजना (डीएपी)
  • अंतर्राष्ट्रीय आपदा आपातकालीन सेवा (इ डी इ एस)
  • नेटहोप
  • पूरक प्राकृतिक आपदा संरक्षण
  • जल सुरक्षा और आपातकालीन तत्परता

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Haddow. Amsterdam: Butterworth-Heinemann. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7506-7689-2. 
  2. Armitage, David; A. M. Moisan (2005). Strategic Forum No. 218. Institute for National Strategic Studies, National Defense University. 
  3. Cuny, Fred C. (1983). Disasters and Development. Oxford: Oxford University Press. 
  4. [1], प्रेवेन की परिभाषा.
  5. [2], समुत्थान की परिभाषा.
  6. विल्सन, जेम्स पार्कर, "पॉलिसी एक्शन ऑफ़ टेक्सास गल्फ़ कोस्ट सिटीज़ टू मिटीगेट हरिकेन डेमेज: शहर के अधिकारियों के परिप्रेक्ष्य से" (2009). अनुप्रयुक्त अनुसंधान परियोजनाएं. टेक्सास राज्य विश्वविद्यालय. लेख 312. http://ecommons.txstate.edu/arp/312
  7. लिंडेल, एम, प्रैटर, सी. और पेरी, आर. (2006). आपातकालीन प्रबंधन के मूल सिद्धान्त. पुनःप्राप्त 9 जनवरी, 2009 में: http://training.fema.gov/EMIWeb/edu/fem.asp.
  8. राष्ट्रीय तत्परता दिशानिर्देश, होमलैंड सिक्योरिटी विभाग फ़ेमा
  9. मॉडलिंग क्रिटिक्ल वैक्सीन सप्लाई लोकेशन: मध्य फ़्लोरिडा में महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे और जनसंख्या की रक्षा पॉल जे. मालिश्वेस्की (2008)
  10. Walker, Peter (1991). International Search and Rescue Teams, A League Discussion Paper. Geneva: League of the Red Cross and Red Crescent Societies. 
  11. अनुशासन और तेज़ी: आपदा प्रतिक्रिया में सफलता के महत्वपूर्ण कारक में जॉन हैराल्ड, द ऐनल्स ऑफ़ द अमेरिकन अकैडमी ऑफ़ पॉलिटिक्ल एंड सोशल साइंस 2006, 604, 256
  12. लीडिंग थ्रू ए क्राइसेस - द न्यू लीडर्स 100 - आर्स एक्शन प्लान में जॉर्ज ब्रैट,द न्यू लीडर्स 100 - आर्स एक्शन प्लान के तृतीय संस्करण के रूप में जे.विले एंड सन्स 2012 द्वारा प्रकाशित, प्राइमजेनेसिस वेबसाइट पर श्वेत पत्र के रूप में वर्तमान में उपलब्ध है
  13. Alexander, David (2002). Principles of Emergency planning and Management. Harpenden: Terra Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-903544-10-6. 
  14. www.fema.gov संघीय आपात प्रबंधन एजेंसी वेबसाइट
  15. Jaffin, Bob (September 17, 2008). "Emergency Management Training: How to Find the Right Program". Emergency Management Magazine. http://www.govtech.com/em/articles/400741. अभिगमन तिथि: 2008-11-15. [मृत कड़ियाँ]
  16. ब्युकैनन, सैली. "आपातकालीन तत्परता." पॉल बैंक्स और रोबर्टा पिलेट द्वारा. संरक्षण के मुद्दे और योजना . शिकागो: अमेरिकी लाइब्रेरी एसोसिएशन, 2000. 159-165. ISBN 978-0-8389-0776-4
  17. आपदा और खाद्य पशु आपात स्थिति के प्रत्युत्तर में पशु चिकित्सक पेशे के कर्तव्य. जर्नल ऑफ़ अमेरिकन वेटरनरी मेडिकल एसोसिएशन, खंड 231, संख्या 2, 15 जुलाई, 2007
  18. विश्व बैंक की आपदा प्रबंधन घटक वाली परियोजनाओं की सूची और विश्व बैंक की आपदा जोखिम प्रबंधन परियोजनाएं
  19. विश्व बैंक आपदा जोखिम प्रबंधन परियोजनाएं
  20. प्राकृतिक आपदा के मुख्य केंद्र
  21. ग्लोबल फ़ैसिलिटी फ़ॉर डिज़ास्टर रीडक्शन एंड रिकवरी
  22. "Civil Protection - The Community mechanism for civil protection". Ec.europa.eu. http://ec.europa.eu/echo/civil_protection/civil/prote/mechanism.htm. अभिगमन तिथि: 2010-07-29. 
  23. Marc Jansen (2010-06-29). "Startseite des Studiengangs Katastrophenvorsorge und -management". Kavoma.de. http://www.kavoma.de. अभिगमन तिथि: 2010-07-29. 
  24. राष्ट्रीय सिविल डिफ़ेन्स एमरजेंसी प्लान आदेश 2005
  25. राष्ट्रीय सिविल डिफ़ेन्स आपातकालीन प्रबंधन रणनीति 2007 , पृष्ठ 5. आंतरिक मामलों का विभाग, वेलिंगटन, न्यूज़ीलैंड 2008. डिजिटल संस्करण. 3 अगस्त, 2008 को पुनः प्राप्त. ISBN 0-478-29453-0.
  26. देखें आपात प्रबंधन पर संसदीय मीडिया विज्ञप्ति,
    न्यूज़ीलैंड रिज़र्व बैंक संकट प्रबंधन सामग्री और
    सामाजिक विकास मंत्रालय की वेबसाइट जो 'आपातकालीन प्रबंधन' शब्द को पूरी तरह से छोड़ देती है, 3 अगस्त, 2008 को पुनः प्राप्त.
  27. सिविल डिफ़ेन्स आपातकालीन प्रबंधन अधिनियम 2002, S4.. 3 अगस्त, 2008 को पुनः प्राप्त.
  28. उदाहरणार्थ, न्यूज़ीलैंड में आपातकालीन प्रबंधन को लागू करने वाले कानून सिविल डिफ़ेन्स आपातकालीन प्रबंधन अधिनियम 2002 में आपदा इस्तेमाल नहीं किया गया है
  29. पुनःप्राप्त 3 अगस्त according to mr rahul jain the fludes and natural uncertanities ary included in mgt it is known as disaster mgt2008
  30. आपातकालीन योजना सोसायटी
  31. नकली विमान दुर्घटना परीक्षण एनआई क्रू, बीबीसी समाचार, मई 20, 2007

इसे भी पढ़ें[संपादित करें]

बाह्य कड़ियां[संपादित करें]