अस्पेर्गेर संलक्षण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(अस्पेर्गेर सिंड्रोम से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Asperger syndrome
वर्गीकरण व बाहरी संसाधन
Riboflavin penicillinamide.jpg
People with Asperger's often display intense interests, such as this boy's fascination with molecular structure.
आईसीडी-१० F84.5
आईसीडी- 299.80
ओ.एम.आई.एम 608638
रोग डाटाबेस 31268
मेडलाइन+ 001549
ई-मेडिसिन ped/147 
MeSH F03.550.325.100

एस्पर्गर संलक्षण या एस्पर्गरस संलक्षण एक स्व-अभिव्यक्तता प्रतिबिंब रोग है. जीसकी महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि समाजीक संपर्क और व्यवहार मे कठिनाई होती है और व्यवहारइक आचरण मे दोहरावदार प्रकार देखाई देता है. ये अन्य स्व-अभिव्यक्तता प्रतिबिंब रोगों से अलग है क्योंकि इसमे भाषा और विज्ञान संबंधी विकास बहुत देर से होता है. हालांकि निदान के लिए आवश्यकता नहीं है,पर शारीरिक भद्दापन और अनियमित भाषा का उपयोग अक्सर देखाई देता है.[1] [2]

एस्पर्गर सिंड्रोम,ऑस्ट्रियन बालरोग चिकित्सक के नाम पर रखा गया है ,जीसने के १९४४ मे अपने अभ्यास मे उन बच्चों को वर्णित किया जो की ,अनकहा संचार,अपने साथियों के साथ कम सहानुभूतिऔर बेढ़ंगे शारीरिक रूप का प्रदर्शन करते थे .[3] पचास साल बाद, यह एक निदान के रूप में मानकीकृत किया गया था, लेकिन अभी भी कई सवाल रोग के विकार के पहलुओं के बारे में रहते हैं. [4] उदाहरण के लिए,इसमे संदेह है की क्या यह उच्च कार्य स्व-अभिव्यक्तता से अलग है . [[/0} [5] आंशिक रूप से इस वजह से, यह व्याप्ति रूप से [[/2} मजबूती से स्थापित नहीं है. [1]]] एस्पर्गर सिंड्रोम का निदान बहिष्करण करने का प्रस्ताव् रखा गया है और इसे स्व-अभिव्यक्तता प्रतिबिंब विकार के निदान के रूप मे प्रतिस्थापित किया गया है. [6]

सटीक कारण अज्ञात है, हालांकि अनुसंधान एक संभावना का समर्थन करता है की [[आनुवंशिक आधार; [[]]]]पर मस्तिष्क इमेजिंग तकनीक किसी स्पष्ट सामान्य विकृति की पहचान नहीं कर पाया है . इसका कोई एक इलाज नहीं है, और विशेष उपायों की प्रभावशीलता केवल सीमित आधार-सामग्री पर ही समर्थित है. [1] हस्तक्षेप लक्षण और कार्य में सुधार लाने के उद्देश्य से है. इसमे मुख्य आधार से व्यवहारईक चिकित्सा,खराब संचार कौशल विशिष्ट ध्यान केंद्रित करने के लिए , जुनूनी या दोहराए, और शारीरिक भधेपन पर विशिष्ट ध्यान केंद्रित किया जाता है. [7] अधिकांश व्यक्तियों मे समय अनुसार सुधार आ जाता है, लेकिन स्वतंत्र रहने,सामाजिक समायोजन के साथ संचार मे कठिनाइयां वयस्कता तक जारी रहती है. [4] कुछ शोधकर्ताओं और लोगों ने बजाय की विकलांगता ,रुख में बदलाव की या इलाज किये जाने चाहिए की वकालत की है.

वर्गीकरण[संपादित करें]

एस्पर्गर सिंड्रोम (के रूप में) एक स्व-अभिव्यक्तता प्रतिबिंब (एएसडी) विकारों या व्यापक विकास (पदद) विकारों, जो मनोवैज्ञानिक स्थितियों का एक प्रतिबिंब है ,जीसमे कि सामाजिक संपर्क और संचार की असामान्यताएं जो कि व्यक्ति की कार्य व्याप्त मे प्रवेश का वर्णन कर रहे हैं. अन्य मनोवैज्ञानिक विकास विकार की तरह, एएसडी शैशव या बचपन में शुरू होता है, छूट या पतन के बिना एक स्थिर पाठ्यक्रम है, और यह मस्तिष्क की विभिन्न प्रणालियों में परिपक्वता से संबंधित परिवर्तनों का परिणाम है.[8] एएसडी, बारी में, व्यापक आत्मकेंद्रित लक्षण प्रारूप का एक उपसमुच्चय है, जो की उन व्यक्तियों के बारे मे बताता है जेन्हाए एएसडी नहीं है, लेकिन सामाजिक घाटे के रूप में स्व-अभिव्यक्तता गुण की तरह, हो सकता है| अन्य चार एएसडी रूपों की तरहां ,स्व-अभिव्यक्तता संकेत के रूप में एएस के समान है और संभावना का कारण बनता है, लेकिन इसके निदान मे बिगड़ऐ संचार और संज्ञानात्मक विकास में देरी की अनुमति है; रेट सिंड्रोम और बचपन विकार और स्व-अभिव्यक्तता मे कई संकेत एक सामान है, और व्यापक विकास विकार (पदद नोस) अन्यथा निर्दिष्ट नहीं है का निदान किया जाता है जब एक अधिक विशिष्ट विकार के लिए मापदंड नहीं मिलते हैंऑटिज़्म

स्व-अभिव्यक्तता और उच्च कार्य स्व-अभिव्यक्तता (मानसिक मंदता से अकेला आत्मकेंद्रित) के बीच परस्पर व्याप्त की हद स्पष्ट नहीं है वर्तमान एएसडी वर्गीकरण कुछ हद तक स्व-अभिव्यक्तता का शिल्प उपकरण है ,की कैसे इसकी खोज की गयी थी [25] और यह वास्तविक प्रकृति को प्रतिबिंबित नहीं कर सकता | [9] [10] एक नैदानिक और मानसिक विकार, पांचवीं संस्करण, समुच्चय के नियम संग्रह में प्रस्तावित परिवर्तनों में से २०१३ मई में प्रकाशित के अनुसार [29] एक अलग निदान के रूप में एस्पर्गर सिंड्रोम को समाप्त कीया जायगा है, और इसे स्व-अभिव्यक्तता स्पेक्ट्रम विकारों मे मूल्यांकन किया जाएगा | प्रस्तावित परिवर्तन, विवादास्पद है [11] और यह तर्क दिया गया है कि है सिंड्रोम नैदानिक मानदंडों के बजाय बदला जाना चाहिए. [12]

एस्पर्गर सिंड्रोम को एस्पर्गरस सिंड्रोम (, [1] एस्पर्गर (या एस्पर्गरस है) विकार (ई.), [13] [14] या बस एस्पर्गर भी बुलाया जाता है. [15] पर नैदानिक शोधकर्ताओं के बीच आम राय नहीं है ,की इस विकार के अंत में सिंड्रोम होना चाहिए याँ "विकार". [5]

अभिलक्षण[संपादित करें]

एक व्यापक विकास विकार, एस्पर्गरस सिंड्रोम के लक्षण एकल प्रतिरूप की बजाये ,एक से अधिक स्वरूप मे प्रतिष्ठित है यह विशष रूप से सामाजिक संपर्क में गुणात्मक हानि ,टकसाली और व्यवहार के स्वरूप प्रतिबंधित गतिविधियों, और हितों, और भाषा मे सामान्य से देरी में संज्ञानात्मक विकास या महत्वपूर्ण नैदानिक से पहचाना जाता है. [14] प्रतिबंधित छंदशास्र, तीव्र परवा के साथ एक संकीर्ण विषय, एक तरफा शब्दाडंबर, और शारीरिक भद्दापन हालत में से एक है ठेठ है, लेकिन निदान के लिए आवश्यक नहीं हैं. [5]

सामाजिक संपर्क[संपादित करें]

Further information: Asperger syndrome and interpersonal relationships

प्रदर्शन सहानुभूति एस्पर्गरस की कमी संभवतः सिंड्रोम का सबसे दुष्क्रिया पहलू है उदाहरण के लिए पीडत लोगों को दूसरों के साथ सामाजिक व्यवहार या आनंदों की उपलब्धियों में कठिनाइया होती है . वेह एक विफल दोस्ती करने मे असफल रहते है. उनमे समाजीकरण या भावनयों की अन्योन्यता की कमी होती है . वेह नज़रों के संपर्क,चेहरे की अभिव्यक्ति या हाव-भाव मे विकृत होते है.

अस्पेर्गेर सिंड्रोम से पीडत लोग स्व-अभिव्यक्तता के विपरीत आमतौर पर दूसरों के पास खुद जाते है ,चाहे शर्मो-शर्मी ही सही. उदाहरण के लिए, पीडीत व्यक्ति लम्बे समय के लियऐ अपने मन पसंद विषय पर एक तरफा बोल सकता है बिना दूसरों की भावनाओं या प्रतिक्रियाएं को पहचाने [5] इस सामाजिक अनाड़ीपन को "सक्रिय लेकिन विषम" कहा गया है. [1] उनके समाजीकरण के प्रति चलती असफलता के कारन, दुसरे लोग इसे अपनी भावनाओं का निरादर समझ सकते है.[5] हालांकि,एस से पीडीत व्यक्ति खुद दूसरों से बातचीत मे पहल नहीं करता. उनमें से कुछ, हो सकता है चयनात्मक गूंगापन का भी प्रदर्शन करे , वेह अधिक लोगों से ना बोल कर , सिर्फ विशिष्ट लोगों से ही समाजीकरण का परदरशन कर सकते है. कुछ सिर्फ उनसे बात करते हैं जिन्हे वो पसंद करते है.0/}

बचे अपनी संज्ञानात्मक क्षमता दुआरा अक्सर, प्रयोगशाला मे समाजीकरण को सुस्पष्ट करते हैं, जहाँ पर वेह सैद्धांतिक तोर पर दूसरों की भावनाओं को समझ सकते हैं .पर आमतौर पर वास्तविक जीवन के अभिनय मे उन्हे कठिनाई होती है . एएस पीडीत लोग अपनी समाजीकरण के अवलोकन को कड़े व्यवहार मे बदल सकते हैं , और इन्हे समाज मे चिन्ताजनक तरीक़े से प्रयोग कर सकते हैं ,जैसे की बलपूर्वक आंख का संपर्क, जिसका परिणामस्वरूप सामाजिक अकृत्रिम हो सकता है. के लिए इच्छा बचपन मे साहचर्य की अभिलाषा विफल सामाजिक घटनाओं के कारण संवेदना रहित हो सकती है. [1]

परिकल्पना कि पीडीत व्यक्ति पूर्वप्रवृत्त रूप से हिंसक या आपराधिक व्यवहार का है, इस बात की जांच की गई है, लेकिन डेटा द्वारा समर्थित नहीं है. अधिक सबूत के अनुसार पीडीत बचे खुद शिकार होता है , बजाय शिकारी होने के . [16] एक 2008 की समीक्षा के अनुसार भारी संख्या मे प्रतिवेदित एएस पीडीत हिंसक अपराधियों को एएस के साथ-साथ मनोरोग और शिज़ोअफ़ेक्टिव रोग भी थे. .

प्रतिबंधित और दोहराव दिलचस्पी और व्यवहार[संपादित करें]

अस्पेर्गेर सिंड्रोम से पीडीत लोग अक्सर प्रतिबंधित और दोहरावदार व्यवहार, हितों प्रदर्शन, और गतिविधियों का प्रदर्शन करते हैं और कभी कभी असामान्य रूप से तीव्र या ध्यान केंद्रित होते हैं. वे लोग अनम्य दिनचर्या के हो सकते हैं , वे रूढ़ और दोहराव तरीक़े से चलने का परदरशन करते हैं, ये खुद को वस्तुओं के कुछ हिस्सों के साथ वैसत रख सकते हैं.

विशिष्ट और संकीर्ण क्षेत्रों की खोज मे दिलचस्पी पीदेतो की सबसे स्पष्ट विशेषताओं में से एक है. एएस पीडीत व्यक्तिगत संकीर्ण विषय पर विस्तृत जैसे की मौसम डेटा या सितारों का नाम पर जानकारी एकत्र कर सकते हैं, बिना वास्तविक समझ के|

उदाहरण के लिए, एक बच्चे  कैमरा की मॉडल संख्या याद कर सकता है बिना  फोटोग्राफी  की  देखभाल करते हुए. [1] यह व्यवहार आमतौर पर 5 या 6 साल की उम्र तक अमेरिका में ग्रेड स्कूल तक प्रत्यक्ष होता हैं.  . [1] हालांकि इन विशेष हितों से समय समय पर परिवर्तन हो सकते हैं, वे आमतौर पर अधिक असामान्य और सकराई केंद्रित हो सकते  है, और अक्सर सामाजिक संपर्क मे हावी हो जाते हैं तान की उसमे पूरा परिवार विसर्जित हो सके . क्योंकि संकीर्ण विषयों अक्सर बच्चों का हित अभिग्रहण करते है, इस वजह सें इस बीमारी के लक्षण अपरिचित रह  सकते हैं. [5]

रूढ़ और दोहरावदार व्यवहार इस बीमारी के निदान का एक प्रमुख हिस्सा है. [17] वे लोग सम्मिश्र बांह या पूरे शरीर की बेढंगी की हरकतो का पर्दर्शन करते हैं. वे लोग यह प्रतिकिर्य्यें अक्सर लम्बे समय के लिये करते हैं , और वेह आमतोर पर की गयी स्वभावाकर्ष प्रतिकिर्य्यें जो की तेज,और कम सममित और लयानुगत होती हैं ,से अधिक स्वैच्छिक और कर्मकांडी प्रतीत होती हैं,



भाषण और भाषा[संपादित करें]

हालांकि अस्पेर्गेर सिंड्रोम से पीडीत व्यक्ति बिना किसी सार्थक सामान्य देरी के भाषा का अधिग्रहण करते हैं ,और उनका भाषण आम तौर पर बिना किसी महत्वपूर्ण असामान्यता के होता हैं,लेकिन भाषा का अधिग्रहण और उपयोग अक्सर अनियमित होता है . . [5] असामान्यतओं मे शब्दाडंबर, अचानक बदलाव, शाब्दिक व्याख्याएं और अति सूक्ष्म अंतर की नासमझ , अध्यक्ष को ही सार्थक रूपक का उपयोग , श्रवण धारणा घाटे, असामान्य रूप से पंडिताऊ, औपचारिक या विशेष स्वभाव, वाणी,अंतराल,स्वरोच्चारण,छंदशास्र और ताल में कुछ विषमताएं शामिल है.

निदानशाला के लिये  संचार के तीन स्वरूप पहलु हैं:घटिया छंदशास्र, स्पर्शरेखा और परिस्थितिजन्य भाषण, और चिह्नित वर्बोसिटी. पीडीत लोगों का भाषण स्व-परायणता पीडीत व्यक्ती के सामान ,असामान्य रूप से तेज, झटकेदार या उंचे स्वर का हो सकता है: हालांकि स्वरोच्चारण कम कड़ा ,कठोर या स्वरात्मक  हो सकता है.


भाषण बेतरतीबी की भावना व्यक्त कर सकते हैं, बातचीत की शैली मे अक्सर विषयों का एकालाप भी शामिल होता है,जो की श्रोता को निराश कर सकते है,अक्सर भाषण विषय की टिप्पणी करने और और आंतरिक विचारों का दमन करने मे विफल रहता है. .


एएस पीडीत व्यक्ति बातचीत करते समय, यह जानने मे असमर्थ हो सकता है की क्या श्रोता उनकी बात सुन भी रहा है की नहीं.    बोलने वाले का निष्कर्ष शयेद पूरा न हो,और श्रोता दुआरा भाषण सामग्री मे विस्तार प्रयास,या तर्क , या  विषयों संबंधित में बदलाव, अक्सर असफल होते हैं.

युवा बच्चों मे परिष्कृत शब्दावली का उपयुग दिखाई देता है,और उन्हे उनके बोलचाल के ढंग से "छोटा प्रोफेसर" भी कहा जाता हो सकता है,लेकिन आलंकारिक भाषा को समझने मे उन्हे कठिनाई होती है ,और वे भाषा का उपयोग हूबहू करते हैं. [1] बच्चों मे हास्य,व्यंग्य,और छेड़छाड़ सम्बन्धी क्षेत्रों में विशेष कमजोरी दिखाई देते हैं. हालांकि व्यक्ति आमतौर पर हास्य संज्ञानात्मक आधार समझता हैं,पर वे दूसरों के साथ उसे साझा करने मे असमर्थ रहते है.. [13] बावजूद इसके की पीडीतो मे विकृत हास्य का लक्षण होता है, फिर भी कुछ हास्य सम्बन्धी उपाख्यानात्मक प्रतिवेदनो के अनुसार वे "एएस और स्व-अभिव्यक्तता" मनोवैज्ञानिक सिद्धांतों को चुनौती देते है.[18]

अन्य[संपादित करें]

अस्पेर्गेर सिंड्रोम पीडीत व्यक्तियों मे ,कुछ लक्षण या संकेत निदान से स्वतंत्र हो सकते हैं ,पर वे व्यक्ति या परिवार को प्रभावित कर सकते हैं. . [19] इसमे धारणा में अंतर और मोटर कौशल , नींद, और भावनाओं के साथ समस्यऐ शामिल हैं.

पीडीत व्यक्तियों मे अक्सर उत्कृष्ट श्रवण और दृश्य की धारणा होती है. . [20] एएसडी पीडीत बच्चे अक्सर वस्तुओं या प्रसिद्ध चित्रों के प्रबंध के रूप में पैटर्न में छोटे परिवर्तन की धारणा का प्रदर्शन करते हैं , आम तौर पर यह प्रभाव-क्षेत्र विशिष्ट है और इसमे सुक्ष्म विशेषताओं का प्रक्रमण संसाधन शामिल होता है. इसके विपरीत, उच्च कार्य औतिस्म(स्व-अभिव्यक्तता) के साथ व्यक्तियों की तुलना में, पीडीत व्यक्तियों मे दृश्य स्थानिक धारणा, श्रवण धारणा , या दृश्य स्मृति से जुड़े कार्यों में कमी होती है. बहुत से एसड और एएस व्यक्तियों में असामान्य ग्रहणशील और अवधारणात्मक कौशल और अनुभव का प्रतीत मिलता है. वे असामान्य रूप से ध्वनि, प्रकाश या अन्य अनुक्रिया के प्रती संवेदनशील या असंवेदनशील हो सकता है, [91]लेकिन यह ग्रहणशील अनुक्रिया तिक्रियाओं अन्य विकासात्मक विकारों में भी पाई जाती हैं, और पीडीतो मे किसी आदत को छोड़ना कठिन होता है,पर इस बात का अधिक सबूत मिलता है की उनमे ग्रहणशील अनुक्रिया की अधिक कमी होती है ,हालांकि कई अध्ययनों मे कोई मतभेद नहीं दिखा.

हंस अस्पेर्गेर के कुछ प्रारंभिक लेखन और [1]अन्य नैदानिक योजनाओं मे [21] शारीरिक भद्दापन का विवरण शामिल हैं. पीडीत बच्चे एक साइकिल की सवारी या एक मर्तबान खोलने या मोटर निपुणता,मे विलम्बित हो सकते है , और खुद "अपनी त्वचा में असहज" महसूस कर सकते है. वे,खराब समन्वय,विषम और उछालभरी चाल या मुद्रा ,घटिया लिखावट या दृश्य-गतिजनक संघ का पर्दर्शन करते है. . [1] [5] वे प्रोप्रिओकेप्तिओन के साथ (शरीर की स्थिति की अनुभूति ),चेष्टा-अक्षमता, संतुलन, अग्रानुक्रम चाल, और उंगली अंगूठे समानाधिकरण के उपायों पर समस्याओं दिखा सकते हैं. लेकिन इस बात कोई सबूत नहीं है, कि यह गतिजनक कौशल समस्याओं एएस को अन्य उच्च कार्ये एएसडी से विभन करते है.|

पीडीत बच्चे मे नींद सम्बन्धी , जैसे की , जल्दी सोना या असामान्या तोर पर जल्दी उठने के लक्षण दिखाई देते है . और इसमे अक्सर उच्च स्तर की भावाभिव्यक्ति असमर्थता भी दिखाई देती है.

अन्य बिमरिओ के प्रती एएस पीडीत बच्चों के माता पिता, अधिक तनाव मे रहते है. [23]

कारण[संपादित करें]

हंस अस्पेर्गेर नए अपने मरीजों के परिवार के सदस्यों के बीच आम लक्षण वर्णित किये थे है, खासकर पिता के बारे मे , और अनुसंधान नए इस अवलोकन का समर्थन किया है, और अस्पेर्गेर सिंड्रोम को एक आनुवंशिक योगदान का हिसा बतया है. हालांकि कोई विशिष्ट जीन की पहचान अभी तक नहीं की गई है , लकिन औतिस्म की अभिव्यक्ति के लिये कई कारण हो सकते है,शर्ते बच्चों मे देखी गयी परिवर्तनशीलता [[]] एक आनुवंशिक संबद्ध की प्रवृत्ति के साक्ष्य अनुसार ,यह बीमारी उन्हे ही होती जिनके परिवारों में व्यवहार सम्बन्धी लक्षण दिखाई देते हों | (उदाहरण के लिए, सामाजिक संपर्क, भाषा, या पढ़ने) मे मामूली कठिनाइआ अधिकांश शोध से पता चलता है कि सभी औतिस्म स्पेक्ट्रम विकारों मे आनुवंशिक सम्बन्ध होता है,लकिन ,एएस मे इनकी तुलना मे मजबूत आनुवंशिक घटक हो सकता है. [1] हो सकता है की जीनो के एक विशेष समूह के कारन किसी व्यक्ति को यह बीमारी होती हो, और अगर यह कारन है, तो जीनो का वेह विशेष संयोजन ही किसी व्यक्ति मे एएस की लक्षणों की गंभीरता का वर्णन करते है.. [7]

कुछ मामलों मे इस बीमारी को टैराटोजेनिक एजेंटों (जो की गर्भाधान के समय पहले आठ सप्ताह मे जन्म-दोष का कारण होता है) से अनुबंधन किया गया है. s) . हालांकि यह इस बात का खंडन नहीं करता की यह बीमारी बाद में किसी को नहीं हो सकती लकिन इस बात का मजबूत सबूत है कि इसका विकास बहुत जल्दी होता है. [24] कई जन्म के बाद पर्यावरणीय कारकों को इसका कारन बतया गया है ,लकिन लेकिन कोई भी तर्क वैज्ञानिक जाँच-पड़ताल की पुष्टि नहीं करता . [25]

क्रिया प्रणाली[संपादित करें]

Further information: Mechanism of autism

अस्पेर्गेर सिंड्रोम का परिणाम मस्तिष्क की कुछ स्थानीयकृत या सभी क्रियात्मक प्रणालीयों मे आयी खराबी का कारन होता है. [26] हालांकि इसका कोई विशिष्ट कारन या कारक जो की इसे अन्ये "एसड" से ख्याति करते हैं, का कोई स्पष्ट विकृति नहीं मिला है ,और ना ही कोई पीडीत सम्बन्धी सपष्ट रोग-विज्ञान दिखाई दिया है. [1] यह अभी भी संभव है कि तंत्र के रूप में एएसडी दूसरे से अलग है. [27] नयूरोअनातोमिकल अध्ययन और तेरातोगेंस अध्ययन के अनुसार ,मस्तिष्क मे परिवर्तन की क्रियाविधि का विकास गर्भाधान के बाद जल्द ही शुरू हो जाता है. भ्रूण कोशिकाओं का भ्रूण के असामान्य प्रवास विकास के दौरान दिमाग की अंतिम संरचना का परिवर्तन कर सकता है,जिसके परिणामस्वरूप मे व्यवहार सम्बन्धी कठिनायीँ हो सकती है. [28] तंत्र की कई सिद्धांतों उपलब्ध हैं, लकिन कोई भी इसका पूरा विवरण प्रदान नहीं करता हैं. [29]

Monochrome fMRI image of a horizontal cross-section of a human brain. A few regions, mostly to the rear, are highlighted in orange and yellow.
कार्यात्मक चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग दोनों उन्देर्कोन्नेक्टिविटी और दर्पण न्यूरॉन सिद्धांतों के लिए कुछ सबूत प्रदान करता है <रेफ नामे =जुस्त /> <रेफ नामे =इअकोबोनी />.

उन्देर्कोन्नेक्टिविटी सिद्धांत के अनुसार उन्देर्फ़ुन्क्तिओनिन्ग उच्च स्तरीय तंत्रिका कनेक्शन और तुल्यकालन प्रक्रियाओं इसका कारन हो सकती है.. [30] यह अच्छी तरह से केंद्रीय जुटना सिद्धांत पर भी मानचित्र होता है ,जीसके अनुसार कि एक बड़ी तस्वीर देखने की सीमित क्षमता,एसड की केन्द्रीय बाधा है. एक संबंधित सिद्धांत एनहांस्ड अवधारणात्मक कामकाज- जो की औतिस्टिक व्यक्तियों में स्थानीयकृत अनुस्थापन और अवधारणात्मक की तरफ अधिक केंद्रित है,. [31]

दर्पण न्यूरॉन सिस्टम (एमएनएस) के सिद्धांत के अनुसार एमएनएस विकास मे परिवर्तन के साथ परिवर्तन के कारन अस्पेर्गेर मे सामाजिक विकृत आता है. [32] [33] उदाहरण के लिए, एक अध्ययन में पाया गया कि पीडीतो के अभ्यांतर मे सक्रियण देर से होता है.. [34] यह सिद्धांत सभी सिद्धांतो पर लागु होता है, जैसे की चित्त सिद्धांत ,जीसके अनुसार औतिस्टिक व्यवहार का कारन दिमागी क्षति का होना है,या अति स्य्स्तेमिज़िंग ,जीसके अनुसार पीडीत व्यक्ति अपने आंतरिक कार्यों को करने मे सक्षम होता है, बजाये की वेह कार्ये जो की अन्ये एजेंट दुआरा प्रजनन किये जाते है.

अन्य संभावित क्रियाविधि के अनुसार इसमे सीरोटोनिन रोग और अनुमस्तिष्क रोग{ शामिल है. {0} [35] /2} . [36]

रोग अध्ययन[संपादित करें]

अस्पेर्गेर सिंड्रोम से पीडी बच्चों के माता पिता एस बीमारी का पता विकास के केवल ३० महीने के अन्दर-अन्दर ही कर सकते है.. [37] विकास के दोरान नियमित समय पर किसी चिकित्सक जांच से पहले ही बीमारी के लक्षण पता चल सकते है. इस बीमारी के निदान मे सबसे बड़ी कठिनाई यह है की , इसमे कई सारे विभिन्न जांच उपकरणों का परोय्ग किया जाता है , जैसे की सिंड्रोम नैदानिक (अस्ड्स) स्केल,स्पेक्ट्रम स्क्रीनिंग प्रश्नावली (अस्सक),स्पेक्ट्रम भागफल(बच्चों किशोरों और वयस्कों के लिए संस्करणों के साथ),बाल्यकाल अस्पेर्गेर सिंड्रोम टेस्ट (कास्ट),गिल्लिं अस्पेर्गेर विकार (गाड्स) स्केल . लकिन कोई भी अस्ड्स और एएस के बीच मे साफ़-साफ़ अंतर नहीं दिखाता है.. [1]

रोग की पहचान[संपादित करें]

मानक नैदानिक मानदंडों मे सामाजिक संपर्क और व्यवहार की गतिविधियों, और हितों का दोहराव और टकसाली पैटर्न में भाषा या संज्ञानात्मक विकास में महत्वपूर्ण देरी के बिना, की आवश्यकता है. अंतरराष्ट्रीय मानक के विपरीत , [8] अमेरिका मापदंड के अनुसार आम दिन चर्या मे भी हानि होनी आवश्यक है.. [14] नैदानिक मानदंडों के अन्य सेट स्ज़त्मारी एट अल. और गिल्ल्बेर्ग और गिल्ल्बेर्ग द्वारा प्रस्तावित किया गये है [[]] .

निदान सबसे अधिक चार वर्ष की उम्र और ग्यारह के बीच किया जाता है इसके निदान मे एक व्यापक मूल्यांकन टीम शामिल होती है,जो की बहुत सारी रूपरेखाएँ और तंत्रिका और आनुवंशिकी विज्ञान का विश्लाशन करती है,और साथ ही संज्ञानात्मक,मनोप्रेरक क्रियात्मक और मौखिक-अमौखिक शक्तियों और कमजोरियों का भी विश्लाशन करती है| इस बीमारी के सबसे अचे वर्तमान निदान मे चिकित्सालय मूल्यांकन के साथ पुनरीक्षित स्व-अभिव्यक्तता भेंटवार्ता और माता-पिता की भेंटवार्ता और समय सारणी स्व-अभिव्यक्तता अवलोकन के साथ बचे का नाटक आधार साक्षात्कार शामिल है. देरी से या गलत किया गया निदान परिवार वालों और पीडीतो दोनों के लिये ही अभिघातजन्य साबित हो सकता है.उदाहरण के लिए ग़लत रोग-निदान के उपचार की वजह से व्यवहारवाद और खाराब हो सकता है. शुरू में कई बच्चों को गलती से ध्यान अभाव अतिसक्रियता विकार से पीडीत बतया जा सकता है. वयस्क लोगो कर निदान मे अधिक क्थिनायीँ आती हैं , क्योंकि मानक निदानकारी मापदंड बच्चों को धयान मे रख कर बनाये गये हैं,और साथ ही एएस के लक्षण उम्र के साथ बदलते रहते हैं.वयस्क लोगो का निदान बहुत परिश्रम भरा होता है,और पीडीत की पूरी चिकित्सीय इति‍हास पर आधारित होता है. इसके निदान मे ऊपर दिये गये निदान क्रिया मे सापेक्ष निदान,स्चिज़ोफ्रेनिया (एक प्रकार का पागलपन),उन्‍मादी बाध्यताकारी विकार,वयस्कअवसादक विकार,अर्थ ढीट विकार,संकेतादि शिक्षण विकार,टूरेट सिंड्रोम ,स्तेरेओत्य्पिक मोवेमेंट विकार और द्विध्रुवी विकार का निदान भी शामिल है.

अधीननिदान और समाप्तनिदान सीमांत मामलों में समस्याएं हैं. रोग अध्ययन की लागत और मूल्यांकन की कठिनाई निदान विलंब कर सकते हैं. इसके विपरीत, नशीली दवाओं के उपचार विकल्पों की बढ़ती लोकप्रियता और विस्तार के लाभ नए लोगों को एएसडी के समाप्तनिदान के लिये भी खूब प्रेरित किया है 0/} कई मामलों मे जो बच्चे आंशिक रूप से सामान्य बुद्धि के थे पर जिन्हे सामाजिक कठिनाइया थी , उनमे भी एएस के कई लक्षण देखे गये है. २००६ मे इसे सिलिकन वल्ली बच्चों मे सबसे तेजी से बढ़ता मनोरोग कहा गया था. इसके निदान मे बाहरी वैधता के रूप के बारे में अभी कई सवाल खड़े हैं. मतलब की यह स्पष्ट नहीं है कि क्या इसे ह्फा और पद्द-नोस विकार से अलग करने मे कोई प्रायोगिक लाभ है या नहीं. इसे ह्फा से अलग समझने का एक कारन है,तौतोलोगिकल असमंजस जिसके अनुसार की रोगों की परिभाषा उनकी हानि पहुँचाने की शमता पर निर्भर करती है |

चिकित्सा प्रबंधन[संपादित करें]

अस्पेर्गेर सिंड्रोम के उपचार का प्रयास विक्षुब्ध लक्षण का प्रबंधन करने और आयु उपयुक्त सामाजिक, संचार और व्यावसायिक कौशल कि स्वाभाविक को संभालना है,और उसे व्यक्ति की जरूरतों के अनुसार ढालना है, जो की विकास के दौरान हासिल नहीं हुए थे , [205] हालांकि प्रगति की गई है, लेकिन इसके हस्तक्षेप की प्रभावकारिता मे समर्थन डेटा अभी सीमित है. [1] [38]

चिकित्साएं[संपादित करें]

एक एएस के लिये आदर्श चिकित्सा के अनुसार इसका सही इलाज वो है जो की इस बीमारी के अभ्यांतर लक्षणों,जैसे की घटिया संचार कौशल और दोहरावदार या उन्‍मादी चाल-चरण की और केंद्रित हो. जबकि सबसे अधिक पेशेवरों का मानना है कि जितना पूर्व हस्तक्षेप होगा ,उतना ही बेहतर या अच्छा इलाज भी होगा. , . [7] एएस दुसरे अस्ड्स की ही तरहां हैं .लकिन इसमे पीडीत व्यक्ति की भाषाविज्ञान संबंधी,मौखिक और अमौखिक कमजोरियां का विश्लेषण भी शामिल है. एक ठेठ कार्यक्रम मे आम तौर पर नीचे लिखा शामिल रेहता हैं: [7]

  • अधिक प्रभावी पारस्परिक संबंधों के लिए सामाजिक कौशल का प्रशिक्षण
  • संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी- तनाव प्रबंधन को बेहतर बनाने के लिए और चिंता या विस्फोटक भावनाओं और जुनूनी हितों और दोहरावदार दिनचर्या में कटौती लाने के लिये ,
  • प्रमुख मानसिक अवसाद संबंधी और अधीरता विकार के लिये सही उपचार
  • व्यावसायिक या भौतिक चिकित्सा गरीब संवेदी एकीकरण और मोटर समन्वय के साथ मदद करने के लिए
  • सामाजिक संचार हस्तक्षेप जो की विशेष भाषण चिकित्सा है सामान्य बातचीत सिखाने के लिये
  • व्यवहार तकनीकों का विशेष रूप से घर में उपयोग करने के लिए. माता पिता का प्रशिक्षण और समर्थन ,

व्यवहार के आधार पर शीघ्र हस्तक्षेप कार्यक्रम पर कई अध्ययनों में से सबसे अधिक पांच प्रतिभागियों के मामलों का अध्ययन किया गया हैं, और आम तौर पर खुद को चोट, आक्रामकता, गैर अनुपालन, स्‍टीरियोटाइपी, या सहज भाषा के रूप में कुछ समस्या व्यवहार की ही जांच की गयी है. सामाजिक कौशल प्रशिक्षण की लोकप्रियता के बावजूद, उसकी प्रभावशीलता मजबूती से स्थापित नहीं है एक यादृच्छिक नियंत्रित अध्ययन के अनुसार जिन बच्चों के माता-पिता ने ६ अलग शिक्षाए पर एक दिन का कार्यशाला मे भाग लिया था उनके बच्चों के व्यवहारवाद मे कुछ परिवर्तन आया था , बजाये की उनके जिन्होने सिर्फ एक दिन की कार्यशाला मे भाग लिया था. व्यावसायिक प्रशिक्षण के लिए महत्वपूर्ण है बड़े बच्चों और वयस्कों के साथ काम करने के लिए साक्षात्कार शिष्टाचार और कार्यस्थल व्यवहार सिखाना

औषधि चिकित्सा[संपादित करें]

कोई दवा एस बीमारी के सीधे मुख्य लक्षणों का उपचार नहीं करती. यद्यपि इसकी दवा हस्तक्षेप की प्रभावकारिता में अनुसंधान अभी सीमित है,लेकिन फिर भी यह जरूरी है, की सहविकृति अवस्था का इलाज किया जाये. स्वयं की पहचान भावनाओं में या दूसरों पर एक व्यवहार के अवलोकन के प्रभाव में घाटे यह पीडीत व्यक्तियों के लिए मुश्किल बना सकते हैं| दवा व्यवहार उपायों और चिंता विकार, प्रमुख अवसादग्रस्तता विकार, आनाकानी और आक्रामकता जैसे सहविकृति लक्षणों का उपचार पर्यावरण के आवास के साथ संयोजन में प्रभावी हो सकता है अनियमित मनोविकार नाशक दवाओं रिसपेरीडोन और ओलान्ज़पिने से एएस के लक्षणों मे कमी देखी गयी है रिसपेरीडोन दोहरावदार और स्वयं हानिकारक व्यवहार, आक्रामक विस्फोट और इम्पुल्सिविटी को कम कर सकते हैं और व्यवहार और सामाजिक संबद्धता के टकसाली पैटर्न में सुधार ला सकते. है. चयनात्मक सेरोटोनिन रयूप्ताके अवरोधक (स्स्रिस ) फ्लुओक्सेतिने फ्लुवोक्सामिने , और सेर्त्रलिने प्रतिबंधित हितों और दोहरावदार और व्यवहार के उपचार में कारगर रहे हैं

दवाओं को सही मायने से ही लाना चाहिये क्योंकि पीडीतो मे दुष्प्रभाव की पहचान करना बहुत मुश्किल भरा काम है. चयापचय में असामान्यताएं, हृदय प्रवाहकत्त्व बार, और टाइप २ मधुमेह का खतरा और साथ ही दीर्घकालिक तंत्रिका का दुष्प्रभाव इन दवाओं के साथ चिंताओं के रूप में उठाया गया है, SSRIs इम्पुल्सिविटी आक्रामकता, और सो अशांति के रूप में व्यवहार सक्रियण की अभिव्यक्तियों को जन्म दे सकता वजन और थकान सामान्यतः रिसपेरीडोन का साइड इफेक्ट है, जो बेचैनी और द्य्स्तोनिया और वृद्धि सीरम प्रोलाक्टिन स्तरों जैसे एक्स्त्रप्य्रामिदल लक्षणों के लिए बढ़ा जोखिम पैदा कर सकता है बेहोश करने की क्रिया और वजन बढना ओलान्ज़पिने के साथ आम बात है, जो और इसे मधुमेह के साथ भी जोड़ा गया है स्कूल उम्र के बच्चों में नींद की गोली का दुष्प्रभाव [39] उनकी कक्षा मे उनकी शिक्षा पर प्रभाव डालती है. पीडीत लोग कई बार अपनी आंतरिक भावनाओं और मनोदशा को पहचाने मे असमर्थ हो सकते हैं.

पूर्व निदान[संपादित करें]

कुछ सबूत है कि २०% बच्चे , बढ़े होने पर भी एस बीमारी के नैदानिक मानदंडों को पूरा करने में विफल रहते हैं. कोई भी अस्पेर्गेर सिंड्रोम के साथ व्यक्तियों की लंबी अवधि के परिणाम को संबोधित करता अध्ययन उपलब्ध नहीं हैं और न ही कोई व्यवस्थित बच्चों की लंबी अवधि का विश्लेषण करता अध्ययन उपलब्ध हैं व्यक्तियों का सामान्य जीवन प्रत्याशा होता है , लेकिन प्रमुख अवसादग्रस्तता विकार और चिंता विकार है कि काफी व्याप्ति हो सकती है, जैसे की अधीरता विकार,मानसिक अवसाद संबंधी विकार आदि हालांकि सामाजिक हानि आजीवन है, लेकिन आम तौर पर परिणाम कम कार्य औतिस्म स्पेक्ट्रम विकारों वाले व्यक्तियों तुलना मे अधिक सकारात्मक होता है. हालांकि अधिकांश पीडीत छात्रों मे औसत गणितीय क्षमता होती है,लकिन कुछ को गणित भगवान् दुआरा भेंट मे भी मिला हैं और कुछ तो नोबेल पुरस्कार विजेता भी रह चुके है.

पीडीत बच्चों को उनके सामाजिक और व्यवहार कठिनाइयों की वजह से विशेष शिक्षा सेवाओं की आवश्यकता होती है हालांकि कई नियमित शिक्षा वर्ग में भी भाग ले सकते है. किशोरों आत्म देखभाल संगठन, सामाजिक और रोमांटिक संबंधों में गड़बड़ी का प्रदर्शन कर सकते हैं, लकिन कुछ उच्च संज्ञानात्मक क्षमता के बावजूद, अधिकांश युवा घरो में ही रहते हैं, हालांकि कुछ शादी करते हैं और स्वतंत्र रूप से काम भी करते हैं. किशोरों का "अलग सत्ता" अनुभव दर्दनाक भी हो सकता है रस्में या उम्मीदों के उल्लंघन की वजह से ,या फिर कोई अनुसूची स्थिति से घबराहट हो सकी है. और इसका परिणामस्वरुप अति सक्रिय तनाव,आक्रमण ,आक्रामक व्यवहारवाद जैसे लक्षण पैदा हो सकते है. हताशा का कारन अक्सर जीर्ण निराशा होता है, जो की दुसरो के साथ सामाजिक संपर्क मे बार-बार विफल होना के कारन होती है. नैदानिक अनुभव के अनुसार पीडीतो आत्महत्या का दर अधिक हो सकता है, लेकिन यह व्यवस्थित अनुभवजन्य अध्ययनों द्वारा साबित नहीं किया गया है

बच्चों में सुधार लाने के लिये परिवार वालों की शिक्षा कमजोरियों और ताकत को समझने के लिए रणनीति विकसित करना बहुत जरुरी है. रोग का निदान एक छोटी उम्र कि जल्दी हस्तक्षेप के लिए अनुमति देता है पर निदान द्वारा सुधार किया जा सकता है, जबकि वयस्कता में हस्तक्षेप मूल्यवान लेकिन कम फायदेमंद होते हैं पीडीतो के लिये कुछ क़ानूनी निहितार्थ है , क्योंकि दुसरो के हाथो बेईज्जत हो सकते हैं, और वेह अपनी लडाई लडने भी असमर्थ हो सकते हैं.

जानपदिकरोग विज्ञान[संपादित करें]

व्यापकता का अनुमान काफी भिन्नता है. एक २००३ के महामारी विज्ञान के अध्ययन ने पाया की एस बीमारी से पीडीत होने वाले बच्चों की संख्या ०.०३ से ४.८४ हर १,००० के बराबर है ,जिसमे की औतिस्म और अस्पेर्गेर सिंड्रोम का अनुपात १.५:१ से लेकर १६:१ का है. या फिर दुसरे शब्दों मे यह संख्या ०.२६ हर १,००० के आस पास है. अनुमान में विचरण का एक हिस्सा नैदानिक मानदंडों में अंतर से उत्पन्न होता है उदाहरण के लिए, एक छोटे २००७ अपेक्षाकृत अध्यन के अनुसार फिनलैंड में ५४८४ आठ वर्षीय बच्चों के अध्ययन प्रति 1,००० २.९ बच्चे इकडी -१० मानदंड पर खरे उतरे, 2.7 प्रति 1,000 गिल्ल्बेर्ग और गिल्ल्बेर्ग मापदंड पर खरे उतरे थे. लड़कों मे लड़कियों से अधिक एएस पीडीत होने की संभावना होती हैं;लिंग अनुपात सीमा १:६:१ से ०४:०१ का अनुमान करने के लिए,गिल्ल्बेर्ग और गिल्ल्बेर्ग मानदंड का उपयोग किया गया है.

दुष्चिन्ता विकार और प्रमुख अवसादग्रस्तता विकार सबसे अधिक एक ही समय पर दिखाई दाने वाले विकार है, एक अनुमान के अनुसार इससे पीदीतों की संख्या ६५% के आस-पास है. अवसाद किशोरों और वयस्कों में आम है, बच्चों मे एडीएचडी की उपस्थित होने की संभावना भी होती है| कुछ चिकित्सा रिपोर्ट के अनुसार एएस अक्सर अमीनो-अम्लमेह और अस्थि-बंधन ढीलापन जैसी चिकित्सीय हालत के साथ जुढ़ा होता है.पर यह वाकया केवल छोटे पैमाने पर किया गए विश्लेषण के आध्हार पर ही दिया गया है. पुरुषों के एक अध्ययन के अनुसार एएस पीडीत पुरुषों में मिरगी और संकेतादि शिक्षण विकार की दर तकरीबन ५१% की है. एएस स्वभावाकर्ष, तौरेत्ते सिंड्रोम, और द्विध्रुवी विकार, और अस्पेर्गेर के दोहरावदार व्यवहार जुनूनी बाध्यकारी विकार और जुनूनी बाध्यकारी व्यक्तित्व जैसे विकारों के लक्षणों के साथ जुड़ा हुआ है. हालांकि इनमें से कई अध्ययनों के उपाय मनोरोग चिकित्सालय के बिना किसी मानकीकरण उपाय कार्यवाही के नमूनो पर आधारित है, लेकिन फिर भी सहविकृति स्थिति का परदरशन होना उचित सी बात है.

इतिहास[संपादित करें]

एस विकार का नाम ऑस्ट्रियन बालरोग चिकित्सक Hans अस्पेर्गेर (१९०६–१९८०) के नाम पर रखा गया है.ये एक स्व-अभिव्यक्तता विकार का छोटा सा रूप है. खुद अस्पेर्गेर को उनके अपने बचपन मे इस बीमारी के कुछ लक्षण थे ,जैसे की भाषा मे पृथकता ,उसकी तस्वीरें से पता चलता है की वेह एक सज्जन मगर तीव्र प्रेक्षण किसम के वैक्ति थे . १९४४ मे अस्पेर्गेर नए ४ बच्चों को वर्णित किया था , जिन्हे की सामाजिक रूप से कठिनाई थी. बच्चो मे अमौखिक संचार कौशल , अपने साथियों के साथ सहानुभूति प्रदर्शित करने में विफलता , और शारीरिक रूप से बेढं जैसे लक्षण थे. . अस्पेर्गेर नए इसे "औतिस्टिक मानसिक रोग" का नाम दिया और इसकी परवर्ती का कारन सामाजिक विच्छेदन बतया.

आज  औतिस्टिक मानसिक रोग सभी  स्तर के  बुद्धि के  लोगों में पाया जा सकता है  नाज़ी सुजनन संबंधी  नीति जिसमे की सामाजिक विचलक और मानसिक रूप से विकलांग लोगों को मार दिया जाता था , के विपरीत अस्पेर्गेर ने  एस बीमारी से पीडीत लोगों का बचाव यह केहते हुये किया की " एन पीडीत लोगों को  भी इस समाज के जीव मे रहने का पूरा हक़  है."   पीडीत लोग अपनए जीवन की भूमिका अची तरंह से निभाते है , शायाद दुसरो से भी अची तरंह से ,हम उन लोगों की बात कर रहे है जिन्हे की बचपन मे बहुत  सी सामाजिक कठिनाइयों का सामना करना पढ़ा था  . अस्पेर्गेर नए अपने युवा रोगियों को "छोटऐ  प्रोफेसरों", के नाम से बुलाया और सभी को यह विशवास दिलवाया की उन्मसे कुछ अपने जीवन मे बहुत तरकी करंगे.  अस्पेर्गेर ने अपना अध्यन  गेर्मान मे  युद्ध के समय के दौरान प्राकशित किया था, इसलिये इसे बहुत लोग नहीं पढ़ पाये थे.

लोरना विंग ने अस्पेर्गेर के अध्यन की चिकित्सा समुदाय में पहली बार १९८१ मे सरहना की थी ,और उत फ्रिथ ने अस्पेर्गेर के प्रकाशित अध्यन का अंग्रेज़ी मे १९९१ अनुवाद किया था.

 नैदानिक मानदंडों के सेट गिल्ल्बेर्ग  और गिल्ल्बेर  और स्ज़त्मारी  एट अल  द्वारा १९८९  में  द्वारा  रेखांकित किये  गये थे..   एएस १९९२ में एक मानक निदान के रूप मे सामने आया , जब वह विश्व स्वास्थ्य संगठन के निदान के मैनुअल, रोगों के अंतर्राष्ट्रीय  वर्गीकरण (१०-आईसीडी)  के दसवें संस्करण में शामिल किया गया ,और १९९४ में, यह अमेरिकी मनोरोग  एसोसिएशन के  निदान  के चौथे संस्करण में जोड़ा गया [ संदर्भ नैदानिक, और मानसिक विकार (दसम -इव  के सांख्यिकी मैनुअल)]

अब सैकड़ों किताबें और वेबसाइटों पर एएस से सम्बंधित लेखन उपलब्ध है, क्या अभी इस बीमारी को अन्ये मानसिक विकारों से अलग एखा जाना चाहिय या नहीं इस बात पर अभी कोई सहमती नहीं हुई है.

सांस्कृतिक पहलू[संपादित करें]

एएस पीडीत लोग आम बातचीत के दोरान अपने आप को "अस्पिएस" कह कर संबोधित कर सकते है,यह शब्द पहली बार लिअने होल्लिदय विल्ली ने १९९९ मे इस्तेमाल किया था. नयूरोत्य्पिकल (NT संक्षिप्त) शब्द एक व्यक्ति को जिसका की न्यूरोलॉजिकल विकास और स्थिति विशिष्ट हो के लिये उपयोग किया जता है,यह अक्सर गैर स्‍वपरायण लोगों के लिये ही इस्तेमाल किया जता है. इंटरनेट प्रसार के कारन अब पीडीत लोग भी अपने परिवार जनो के साथ उनकी खुशियों मे शामिल हो सकते है,जो की पहले उनकी दुर्लभता और भौगोलिक विसर्जन के कारन असंभव था. अब तो अस्पिएस के एक उपसंवर्ध का गठन भी किया गया है जैसे की "वरोंग प्लानेट" नामक वेब साईट की वजह से अब हर पीडीत वैक्ति दुसरो के साथ जुड़ सकता है.

कुछ शोधकर्ताओं और लोगों ने बजाय की विकलांगता ,रुख में बदलाव की या इलाज किये जाने चाहिए की वकालत की है. समर्थक इस बात का खंडन करते है की यह बिमारी किसी दिमागी विचलन के चलते होती है , उनके अनुसार इसका कारन सामाजिक अक्लापन है. यह विचार धरा स्‍वपरायण हितो और आंदोलनों का मूल आधार है. पीडीत वयस्क और पीडीत बच्चों के माता-पिता की सोच मे वहुत अंतर दिखई देता है,वयस्क लोगों को अपनी शक्शियत पर बहुत गर्व होता है और वे लोग अपना एल्लाज करवाने से पर्हेअज करते हैं ,जबकि बच्चों के माता-पिता को उनके भविष्य को लेकर अधिक चिंता होती है.

कुछ शोधकर्ताओं का कहना है कि इसे एक अलग संज्ञानात्मक शैली के रूप में देखा जाना चाहिये न की , एक विकलांगता विकार के रूप मे ,और यह मानक नैदानिक और सांख्यिकी मैनुअल से हटाया जाना चाहिए २००२ के एक सीमोन बारों-कहें अध्यन मे पीडीतो पर टिप्पणी करते हुए यह लिखा था की "असल सामाजिक दुनिया मे यह एक विकार हो सकता है लकिन, येही अकेलापन विज्ञान की दुनिया मे बहुत लाभ्दयेक हो सकता है." उन्हों ने इसे एक विकलांगता माने के दो कारन बतये पहला यह की " समर्थन के लिये कानूनी रूप से प्रावधान सुनिश्चित करना" और दूसरा "कम सहानुभूति से भावनात्मक कठिनाइयों को पहचाना" अंत मे इस बात का सबूत भी मिलता है, की अस्पेर्गेर स्यन्द्रोमे की पर्व्रेती के लिये जिन जीनो का समहू शामिल होता है,उसने भी इंसान के विकास मे बहुत एहम भूमिका निभायी है.

संदर्भसमूह[संपादित करें]

  1. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; McPartland नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  2. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Baskin नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  3. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; ha नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  4. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Woodbury-Smith नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  5. Klin A (2006). "Autism and Asperger syndrome: an overview". Rev Bras Psiquiatr 28 (suppl 1): S3–S11. doi:10.1590/S1516-44462006000500002. PMID 16791390. http://www.scielo.br/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S1516-44462006000500002&lng=en&nrm=iso&tlng=en. 
  6. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Wallis नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  7. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; NINDS नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  8. World Health Organization (2006). "F84. Pervasive developmental disorders". International Statistical Classification of Diseases and Related Health Problems (10th (ICD-10) ed.). http://apps.who.int/classifications/apps/icd/icd10online/?gf80.htm+f840. अभिगमन तिथि: 2007-06-25. 
  9. Sanders JL (2009). "Qualitative or quantitative differences between Asperger's Disorder and autism? historical considerations". J Autism Dev Disord 39 (11): 1560–7. doi:10.1007/s10803-009-0798-0. PMID 19548078. 
  10. Szatmari P (2000). "The classification of autism, Asperger's syndrome, and pervasive developmental disorder". Can J Psychiatry 45 (8): 731–38. PMID 11086556. http://ww1.cpa-apc.org:8080/Publications/Archives/CJP/2000/Oct/Classification.asp. 
  11. Landau E (2010-02-11). "Move to merge Asperger's, autism in diagnostic manual stirs debate". CNN. http://www.cnn.com/2010/HEALTH/02/11/aspergers.autism.dsm.v/. 
  12. Ghaziuddin M (2010). "Should the DSM V drop Asperger syndrome?". J Autism Dev Disord. doi:10.1007/s10803-010-0969-z. PMID 20151184. 
  13. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Kasari नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  14. American Psychiatric Association (2000). "Diagnostic criteria for 299.80 Asperger's Disorder (AD)". Diagnostic and Statistical Manual of Mental Disorders (4th, text revision (DSM-IV-TR) ed.). आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-89042-025-4. http://www.behavenet.com/capsules/disorders/asperger.htm. अभिगमन तिथि: 2007-06-28. 
  15. Rausch JL, Johnson ME (2008). "Diagnosis of Asperger's disorder". In Rausch JL, Johnson ME, Casanova MF (eds.). Asperger's Disorder. Informa Healthcare. pp. 19–62. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8493-8360-9. 
  16. Tsatsanis KD (2003). "Outcome research in Asperger syndrome and autism". Child Adolesc Psychiatr Clin N Am 12 (1): 47–63. doi:10.1016/S1056-4993(02)00056-1. PMID 12512398. http://www.childpsych.theclinics.com/article/PIIS1056499302000561/fulltext. 
  17. South M, Ozonoff S, McMahon WM (2005). "Repetitive behavior profiles in Asperger syndrome and high-functioning autism". J Autism Dev Disord 35 (2): 145–58. doi:10.1007/s10803-004-1992-8. PMID 15909401. 
  18. Lyons V, Fitzgerald M (2004). "Humor in autism and Asperger syndrome". J Autism Dev Disord 34 (5): 521–31. doi:10.1007/s10803-004-2547-8. PMID 15628606. 
  19. Filipek PA, Accardo PJ, Baranek GT et al. (1999). "The screening and diagnosis of autistic spectrum disorders". J Autism Dev Disord 29 (6): 439–84. doi:10.1023/A:1021943802493. PMID 10638459. 
  20. Frith U (2004). "Emanuel Miller lecture: confusions and controversies about Asperger syndrome". J Child Psychol Psychiatry 45 (4): 672–86. doi:10.1111/j.1469-7610.2004.00262.x. PMID 15056300. 
  21. Ehlers S, Gillberg C (1993). "The epidemiology of Asperger's syndrome. A total population study". J Child Psychol Psychiat 34 (8): 1327–50. doi:10.1111/j.1469-7610.1993.tb02094.x. PMID 8294522. 
  22. Tani P, Lindberg N, Joukamaa M et al. (2004). "Asperger syndrome, alexithymia and perception of sleep". Neuropsychobiology 49 (2): 64–70. doi:10.1159/000076412. PMID 14981336. 
  23. Epstein T, Saltzman-Benaiah J, O'Hare A, Goll JC, Tuck S (2008). "Associated features of Asperger Syndrome and their relationship to parenting stress". Child Care Health Dev 34 (4): 503–11. doi:10.1111/j.1365-2214.2008.00834.x. PMID 19154552. 
  24. Arndt TL, Stodgell CJ, Rodier PM (2005). "The teratology of autism". Int J Dev Neurosci 23 (2–3): 189–99. doi:10.1016/j.ijdevneu.2004.11.001. PMID 15749245. 
  25. Rutter M (2005). "Incidence of autism spectrum disorders: changes over time and their meaning". Acta Paediatr 94 (1): 2–15. doi:10.1080/08035250410023124. PMID 15858952. 
  26. Müller RA (2007). "The study of autism as a distributed disorder". Ment Retard Dev Disabil Res Rev 13 (1): 85–95. doi:10.1002/mrdd.20141. PMID 17326118. 
  27. Rinehart NJ, Bradshaw JL, Brereton AV, Tonge BJ (2002). "A clinical and neurobehavioural review of high-functioning autism and Asperger's disorder". Aust N Z J Psychiatry 36 (6): 762–70. doi:10.1046/j.1440-1614.2002.01097.x. PMID 12406118. 
  28. Berthier ML, Starkstein SE, Leiguarda R (1990). "Developmental cortical anomalies in Asperger's syndrome: neuroradiological findings in two patients". J Neuropsychiatry Clin Neurosci 2 (2): 197–201. PMID 2136076. 
  29. Happé F, Ronald A, Plomin R (2006). "Time to give up on a single explanation for autism". Nat Neurosci 9 (10): 1218–20. doi:10.1038/nn1770. PMID 17001340. 
  30. Just MA, Cherkassky VL, Keller TA, Kana RK, Minshew NJ (2007). "Functional and anatomical cortical underconnectivity in autism: evidence from an FMRI study of an executive function task and corpus callosum morphometry". Cereb Cortex 17 (4): 951–61. doi:10.1093/cercor/bhl006. PMID 16772313. http://cercor.oxfordjournals.org/cgi/content/full/17/4/951. 
  31. Mottron L, Dawson M, Soulières I, Hubert B, Burack J (2006). "Enhanced perceptual functioning in autism: an update, and eight principles of autistic perception". J Autism Dev Disord 36 (1): 27–43. doi:10.1007/s10803-005-0040-7. PMID 16453071. 
  32. Iacoboni M, Dapretto M (2006). "The mirror neuron system and the consequences of its dysfunction". Nat Rev Neurosci 7 (12): 942–51. doi:10.1038/nrn2024. PMID 17115076. 
  33. Ramachandran VS, Oberman LM (2006). "Broken mirrors: a theory of autism" (PDF). Sci Am 295 (5): 62–9. doi:10.1038/scientificamerican1106-62. PMID 17076085. http://cbc.ucsd.edu/pdf/brokenmirrors_asd.pdf. अभिगमन तिथि: 2009-02-13. 
  34. Nishitani N, Avikainen S, Hari R (2004). "Abnormal imitation-related cortical activation sequences in Asperger's syndrome". Ann Neurol 55 (4): 558–62. doi:10.1002/ana.20031. PMID 15048895. 
  35. Murphy DG, Daly E, Schmitz N et al. (2006). "Cortical serotonin 5-HT2A receptor binding and social communication in adults with Asperger's syndrome: an in vivo SPECT study". Am J Psychiatry 163 (5): 934–6. doi:10.1176/appi.ajp.163.5.934. PMID 16648340. http://ajp.psychiatryonline.org/cgi/content/full/163/5/934. 
  36. Gowen E, Miall RC (2005). "Behavioural aspects of cerebellar function in adults with Asperger syndrome". Cerebellum 4 (4): 279–89. doi:10.1080/14734220500355332. PMID 16321884. 
  37. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Foster नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  38. Attwood T (2003). "Frameworks for behavioral interventions". Child Adolesc Psychiatr Clin N Am 12 (1): 65–86. doi:10.1016/S1056-4993(02)00054-8. PMID 12512399. http://www.childpsych.theclinics.com/article/PIIS1056499302000548/fulltext. 
  39. Stachnik JM, Nunn-Thompson C (2007). "Use of atypical antipsychotics in the treatment of autistic disorder". Ann Pharmacother 41 (4): 626–34. doi:10.1345/aph.1H527. PMID 17389666. 

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

साँचा:Pervasive developmental disorders