असिन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
असिन थोडरमल
Asin 'Bol Bachchan' team on the sets of Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah 03.jpg
Asin at the opening of the Landmark Store in Spencer Plaza, Chennai
जन्म नाम അസിൻ തോട്ടുങ്കൽ
जन्म 26 अक्टूबर 1985 (1985-10-26) (आयु 28)[1]
कोच्चि, केरल, भारत
व्यवसाय अभिनेत्री, मॉडल
कार्यकाल 2001 - वर्त्तमान
आधिकारिक जालस्थल http://www.asinonline.com

असिन थोट्टूमकल ([2]), (जन्म 26 अक्टूबर, 1985[3]) एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री हैं जो कि केरल राज्य से हैं|

सथ्यन अन्थिक्कड़की 'नरेंद्र मकान जयकंथान वाका (2001) फिल्म से उन्होंने अभिनय की शुरुआत की, असिन को अपनी पहली व्यावसायिक सफलता 2003 में अम्मा नन्ना ओ तमिल अम्मई नामक फिल्म से मिली, और उन्होंने इसी फिल्म के लिए तेलुगु सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री काफ़िल्म फेयर पुरस्कार जीता|

कई फ़िल्में प्रदर्शित होने के बाद, उनकी दूसरी तमिल फिल्म, गजिनी (2005) में अपने प्रदर्शन के लिए उन्हें अपना दूसरा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री कादक्षिण फ़िल्म फेयर पुरस्कार मिला| उन्होंने सफल फिल्में जैसे की, रोमांचक फिल्म गजिनी (2005) और एक्शन कॉमेडी फिल्मवारालारू (2006) में प्रमुख महिलां की भूमिका निभाई हैं| हाल ही में, असिन ने गजिनी फिल्म से, बॉलीवुड में पर्दार्पण किया, जो कि उन्ही की इसी नाम की तमिल फिल्म की रिमेक हैं, और इस फिल्म के लिए उन्होंने प्रथम फिल्म में सर्वश्रेष्ठ अभिनय का फ़िल्म फेयर पुरस्कार भी जीता|

प्रारंभिक जीवन और पृष्ठभूमि[संपादित करें]

असिन कोचीन, केरल के एक कैथलिक परिवार में पैदा हुई थी| उनके पिता, जोसेफ थोट्टूमकल मूल रूप से थोडूपुझा से हैं, और अपना कारोबार बंद करके अपनी बेटी के अभिनय व्यवसाय को सँभालने का फैसला लेने से पहले वह कई व्यवसाय में जुड़े हुए थे और उन्हें एक कामयाब और प्रमुख व्यवसायी माना जाता था| इसके अलावा असिन के पिता उन्हें उनके सारे विदेशी शूटिंग में उनका साथ देते हैं| उनकी माता, सेलिन थोट्टूमकल ने, अपनी बेटी के साथ रहने के लिए अपनी गृहस्थी कोचीन से चेन्नई और वहां से मुंबई ले जाने के बावजूद एक सर्जन के रूप में अपना काम जारी रखा है| असिन कहती हैं कि उनके नाम का मतलब "शुद्ध और कलंक के बिना" होता है| वह दावा करती है कि "उनके नाम में रहा अक्षर 'अ' संस्कृत से लिया गया है जिसका अर्थ है 'बिना', और बाक़ी का नाम 'सिन' अंग्रेजी से लिया गया है जिसका अर्थ है 'पाप'"}[2]

करियर[संपादित करें]

शुरुआती काम, 2004 तक[संपादित करें]

असिन थोट्टूमकल ने 2001 में सथ्यन अन्थिक्कड़ की मलयालम फिल्म नरेंद्र मकान जयकंथान वाका (2001) में सहायक अभिनेत्री की भूमिका से अभिनय क्षेत्र में पर्दार्पण किया, तब उनकी उम्र 15 साल की थी| अपना अभ्यास पूरा करने के लिए एक साल तक फिल्म जगत से बाहर रहने के बाद, असिन को एक अभिनेत्री के रूप में सफलता दिलाने वाली फिल्म, अम्मा नन्ना ओ तमिल अम्मई में रवि तेजा के साथ वापस आयीं, यह उनकी पहली तेलुगु भाषा की फिल्म थी जिसमे उन्होंने एक तमिल लड़की का चरित्र निभाया, जिसने उन्हें सर्वश्रेष्ट अभिनेत्री का तेलुगु फ़िल्म फेयर अवार्ड दिलाया|[3] उसी साल उन्होंने अपनी दूसरी तेलुगु फिल्म, शिवमणि में नागार्जुन के साथ अपने अच्छे प्रदर्शन के लिए [[सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का संतोषम पुरस्कार|सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का संतोषम पुरस्कार]] जीता|[3] उसके बाद आयीं दो तेलुगु फिल्में, लक्ष्मी नरसिम्हा और घर्षण , दोनों में उन्होने पुलिस अधिकारी की प्रेमिका की भूमिका निभाते हुए, दो सफल फिल्में दी, जिसने तेलुगू फिल्म उद्योग में एक प्रमुख अभिनेत्री के रूप में उनका स्थान और मजबूत बनाया|

असिन की पहली तमिल भाषा की फिल्म एम.कुमारन सन ऑफ़ महालक्ष्मी थी, जिसमे उन्होंने जयम रवि के साथ अभिनय किया| असिन ने अपनी ही फिल्म अम्मा नन्ना ओ तमिल अम्मई का चरित्र इस रीमेक फिल्म में भी निभाया, यहाँ उन्हें मूल फिल्म के तमिल लड़की के चरित्र की जगह मलयाली लड़की के रूप में चित्रित किया गया| असिन की तमिल फिल्म उद्योग की यह पहली फिल्म, सन 2004 के दौरान तमिल सिनेमा की सबसे बड़ी सफल फ़िल्मों में से एक बन गयी|[4] एक संक्षिप्त अंतराल में तेलुगु फिल्मों में चक्रम करने के लिए लौटने के बाद, वह उल्लम केट्कुमाए में भी दिखाई दीं| [5] यह फिल्म, असल में सन 2002 में, मूल रूप से असिन को एक प्रमुख अभिनेत्री के रूप में प्रस्थापित करने के लिए शुरू की गयी थी, जिसमे उनके साथ नए कलाकार आर्य और पूजा उमाशंकर भी थें| जीवा द्वारा निर्देशित, यह एक कॉलेज प्रेम कहानी थी, जो एक लंबी देरी के बाद पूरी हो पायी लेकिन अंत में बॉक्स ऑफिस पर सफल उपक्रम बन गयी, और असिन एवं इस फिल्म में काम करने वाले अन्य मुख्य कलाकारों के लिए व्यापक अवसर पैदा करने वाली साबित हुईं|[6]

सफलता, 2005 - 2007[संपादित करें]

उल्लम केट्कुमाए के प्रदर्शित होने के बाद, तमिल फिल्म उद्योग के कई प्रुमुख अभिनेताओं के साथ क्रमशः गजिनी, माजा, शिवकासी और वारालारू जैसी फिल्में स्वीकार करते हुए असिन एक अग्रणी नायिका के रूप में स्थापित हो गयीं|[7] असिन को सबसे ज्यादा सफलता प्रदान करने वाली फिल्म गजिनी थी| ए.आर.मुरुगादोस द्वारा निर्देशित तथा सूर्या और नयनतारा के साथ सह अभिनीत, इस फिल्मने उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का तमिल फ़िल्म फेयर पुरस्कार दिलाया| इस फिल्म में उन्होंने कल्पना नाम की एक जिंदादिल मॉडल की भूमिका निभाई थी| सिफी.कॉम ने उनका वर्णन करते हुए "जादुई" कहकर उनके अभिनय की प्रशंसा की, एक "प्यारी बडबड करनेवाली लड़की' के रूप में उनके चरित्र की सराहना करते हुए कहा की, उनके रोमांटिक द्रश्य, एवं मर्मस्पर्शी और हार्दिक अभिनय दर्शाते हुए द्रश्य जैसे की फिल्म के एक दृश्य में जब वह खलनायक से नाबालिग लड़कियों को बचाती हैं, को उन्होंने जो विशाल अभिनय क्षमता के साथ निभाएं हैं, वह लाजवाब हैं|"[8] सन 2005 में दीवाली के बाद, असिन की दो फिल्में, शिवकासी और माजा प्रदर्शित हुई| जिसमे से दूसरी फिल्म औसत सफल साबित हुई, और पूर्व फिल्म में असिन की खराब भूमिका होने के बावजूद, बॉक्स ऑफिस पर व्यावसायिक रूप से सफल रही| [9][10]

उसके अगले वर्ष, लंबे समय से बन रही उनकी फिल्म ,वारालारू जिसमे वह अजिथ कुमार के साथ अभिनय कर रही थी, सन 2006 की तमिल सिनेमा की सबसे बड़ी सफल फिल्म बन गई| फिल्म के नायक केंद्रित विषय ने असिन को अभिनय का कम मौका दिया, लेकिन अपनी भूमिका अच्छी तरह से करने के लिए आलोचकों द्वारा सराही गई| [11] असिन और एक सफल फिल्म, पवन कल्याण की अन्नावाराम जिसमे वह ख़राब भूमिका को चित्रित कर रही थी में भी नजर आयीं| जनवरी, 2007 में, असिन दो अलग फिल्मों, आलवार और पोक्किरी में, अजिथ कुमार और विजय के साथ मुख्य भूमिका में नजर आयीं, जिसमे से दूसरी फिल्म सफल रही, और आलवार असफल रही| जहाँ आलवार में असिन की भूमिका की आलोचना हुई, वहीँ पोक्किरी में उनके प्रदर्शन की आलोचकों ने जमकर सराहना की|[12][13] उस वर्ष की उनकी अंतिम फिल्म हरि की वेळ थी, जो 2007 में दिवाली पर प्रदर्शित हुई, यह उनकी तीसरी सफल फिल्म रही जो कि पिछले तीन साल में दीवाली के मौसम में प्रदर्शित हुई थी| असिन, जो इस फिल्म में एक टीवी एंकर के चरित्र में नजर आई थी, की उनकी इस भूमिका के लिए सराहना की गयी|[14]

सफलता, 2008 - वर्तमान[संपादित करें]

असिन के.एस.रविकुमार की, प्रसिद्ध रचना दसावथारम में कमल हासन के साथ, जिन्होंने इस फिल्म में दस भूमिकाए निभाई थी, अपनी पहली दोहरी भूमिका में दिखाई दीं| यह फिल्म, जो सितंबर 2006 से शुरू की गयी थी, असिन की अब तक की सबसे बड़ी फिल्म बन गई| कमल हासन की दस भूमिकाओं में होने की बजह से उनका रोल दब जाने के बावजूद, असिन की इस फिल्म में भूमिका के लिए प्रसंशा की जाती है और इस फिल्म के चरित्र को उनकी "अब तक की सर्वश्रेष्ठ" भूमिकाओं में से एक माना जाता है, जिन में से एक चरित्र वैष्णाविते का है जो 12 वीं शताब्दी में दर्शाया गया है, और अन्य चरित्र चिदंबरम से एक ब्राह्मण लड़की का है| [15] दसावथारम बाद में दक्षिण भारतीय फिल्म इतिहास में सबसे बड़ी फिल्मों में से एक बन गयी|[16] दक्षिण भारत में खुद को एक प्रमुख अभिनेत्री के रूप में स्थापित करने बाद, राष्ट्रव्यापी प्रसिद्धि पाने के लिए, असिन ने बॉलीवुड में जाने का विकल्प चुना| उनकी पहली हिंदी फिल्म, आमिर खान के साथ अभिनीत गजिनी हैं जो इसी नाम की उन्ही की सफल फिल्म की रीमेक है| प्रदर्शित होने पर, फिल्म को आलोचकों और आम जनता से सकारात्मक प्रतिक्रिया प्राप्त हुई, और असिन की "शानदार" अभिनय के लिए प्रसंशा हुई|. जानेमाने समीक्षक, तरण आदर्श ने उनकी पहली हिंदी फिल्म को "शानदार" बताया और लिखा की "आमिर खान के कद के एक अभिनेता के साथ परदे पर अंतरिक्ष साझा करने के लिए और फिर भी अपने शो के बाद स्मृति में रहना आसान नहीं है| वह एकदम ताजा और दर्शनीय लगती हैं और उन्होंने अपना किरदार बखूबी निभाया हैं ", जो असिन के प्रदर्शन को एक सकारात्मक दृष्टिकोण दे रही है|[17] असिन विपुल शाह की लंदन ड्रीम्स के लिए सलमान खान और अजय देवगन के साथ प्रतिबद्ध है, जिसमें वह एक पांच मंडली बैंड के एक सदस्य की भूमिका में नजर आयेंगी|[18] वह हाल ही में पेन्टालून्स फेमिना मिस इंडिया 2009 और फैशन बिग बाजार का 2009 का भारत का फैशन सितारा जैसे कार्यक्रम में न्यायाधीश के तौर पर उपस्थित रही थी| लंदन ड्रीम्स 30 अक्टूबर 2009 को प्रदर्शित होने के लिए तैयार हैं|[19]
सन्दर्भ त्रुटि: <ref> टैग मौजूद हैं, किन्तु कोई <references/> टैग नहीं मिला