अनुभाषक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
किसी बहु-भाषी एवं बहु-लक्ष्यी (multi-target) कम्पाइलर की रचना का ब्लाक-आरेख

अनुभाषक या कम्पाइलर (compiler) एक या अधिक कम्प्यूटर प्रोग्रामों का समूह होता है जो किसी उच्च स्तरीय कम्प्यूटर भाषा में लिखे प्रोग्राम को किसी दूसरी कम्प्यूटर भाषा में बदल देता है। जिस कम्प्यूटर भाषा में मूल प्रोग्राम है उसे स्रोत भाषा कहते हैं तथा इस प्रोग्राम को स्रोत कोड कहते हैं। इसी प्रकार जिस भाषा में स्रोत कोड को बदला जाता है उसे लक्ष्य-भाषा (target language) कहते हैं एवं इस प्रकार प्राप्त कोड को ऑब्जेक्ट कोड कहते हैं। ऑब्जेक्ट कोड प्रायः बाइनरी भाषा में होता है जिसे लेकर लिंकर किसी मशीन विशेष पर चलने लायक (executable) मशीन कोड पैदा करता है।

ऐसे कम्प्यूटर-प्रोग्राम जो किसी निम्न-स्तरीय कम्प्यूटर भाषा के प्रोग्राम कोलेकर किसी उच्च-स्तरीय भाषा का प्रोग्राम उत्पन्न करते हैं उन्हें डिकम्पाइलर (decompiler) कहा जाता है।

ऐसा प्रोग्राम जो एक उच्च-स्तरीय कम्प्यूटर भाषा को दूसरी उच्च-स्तरीय कम्प्यूटर भाषा में बदलता है उसे कम्प्यूटर-भाषा अनुवादक (language translator) कहते हैं।

कम्पाइलर के प्रमुख कार्यकारी भाग[संपादित करें]

कम्पाइलर निम्नलिखित कार्य करता है। कुछ कम्पाइलरों में इसमें से कुछ भाग अनुपस्थित भी हो सकते हैं-

  • लेक्सिकल विश्लेषण (lexical analysis)
  • पार्जिंग (parsing)
  • सिमैंटिक विश्लेषण (semantic analysis)
  • कोड निर्माण (code generation)
  • कोड का इष्टतमीकरण (code optimization)


इन्हें भी देखें[संपादित करें]

hgjhgsdv bug dd vhg.hv hgdjvvmsbj\ dg jhb hjvsjbvushvbjdbjhsbd,jhbfjhbdf

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]