अनुकरण मरीज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

"अनुकरण मरीज" - "मानकीकृत रोगी", "मानकीकृत मरीज" (या स.पा.) या "मरीज प्रशिक्षक" नाम से भी जाना जाता है. स्वास्थ्य देखभाल के क्षेत्र में, यह एक प्रशिक्षित व्यक्ति है, जो वास्तविक रूप से रोगी का भूमिका खेलता है - और ऐसे करने से कोई बीमारी के समस्याओं या लक्षण का अनुकरण करता है. अनुकरण मरीजों का चिकित्सा शिक्षा में सफलतापूर्वक रूप से प्रयोग किया गया है. वे मूल्यांकन और अनुसंधान में भी इस्तेमाल किये जाते हैं.

इतिहास[संपादित करें]

दक्षिणी कैलिफोर्निया के विश्वविद्यालय में, डॉ.हावर्ड बर्रोव्स, पहली बार, १९६३ में, अनुकरण मरीज को प्रशिक्षित किये थे ( इस सिम्युलेटेड पेशंट ने एक परप्लेगिक एकाधिक काठिन्य (मुल्तिपुल स्क्लेरोसिस) रोगी का इतिहास, परीक्षण-जाँच और भूमिका निभाया था. डॉ. बर्रोव्स ने एक जांच सूची (चेक-लिस्ट) भी बनाया था, जिसके उपयोग कर के,वह अनुकरण मरीज, शिक्षार्थी (ट्रेनी)का मूल्यांकन कर सकता था. एरिजोना विश्वविद्यालय के डा.पाउला स्तिल्लमन ने, १९७० में, अनुकरण मरीजों का एक समूह स्थापना की थी. उनके पायलट (प्रथम) कार्यक्रम में, स्थानीय अभिनेताओं काल्पनिक बच्चों के "माताओं" की भूमिका खेली थी. अभिनेताओं अपने अनदेखी, पीड़ित बच्चों की बिमारियों का वर्णन करती थी. और मेडिकल छात्रों, उनसे मेडिकल इतिहास लेने के बाद, अपने-अपने विभेदक निदान पेश करते थे. १९८४ में,पूर्वोत्तर अमेरिका के अनेक मेडिकल निवासी कार्यक्रमों ने अपने निवासियों को इसी तरह से, एस.पी. के साथ, परीक्षा दिए थे. कनाडा के मेडिकल काउंसिल, १९९३ में, पहेली बार लाइसन्सुर परीक्षा में एस.पी. का उपयोग किया था.[1] १९९८ में, विदेशी चिकित्सा स्नातकों के लिए शैक्षिक आयोग नैदानिक कौशल मूल्यांकन का परीक्षा शुरू किया था. यह विदेशी चिकित्सा स्नातकों के कौशल का परीक्षण जांचने का परीक्षा था. यह परीक्षा, अब USMLE स्टेप २ नैदानिक कौशल परीक्षा के नाम से जाना जाता है. और यह विदेशी चिकित्सा स्नातकों और अमेरिकन संयुक्त राज्य छात्रों - दोनों - को चिकित्सा लाइसन्सुर प्राप्त करने के लिए अनिवार्य है.

उपयोग[संपादित करें]

अनुकरण मरीज बड़े पैमाने पर चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में उपयोग किया जाते हैं - चिकित्सा छात्रों के अभ्यास के लिए और अपने मुठभेड़ कौशल करने के लिए.एस.पी. सामान्यतः ऐसी मुठभेड़ों के बाद प्रतिक्रिया देते हैं. वे मेडिकल छात्रों को संभावित-शर्मनाक स्थितियों - जैसे, पैल्विक या स्तन परीक्षा - में व्यावसायिक चालकता सीखने में उपयोगी है. एस.पी. बड़े पैमाने पर मेडिकल छात्रों के नैदानिक परीक्षा के परीक्षण करने में काम आते हैं, आमतौर पर उद्देश्‍य संरचित नैदानिक परीक्षा मैं. आमतौर पर, एस. पी., एक जांच सूची (चेक-लिस्ट) के उपयोग करने से, मुठभेड़ की जानकारी रिकॉर्ड करता है.

मानकीकृत मरीज को चिकित्सक प्रथाओं में भी भेजा गया है - बिना किसी को सूचित किये हुए - ताकि वहां के देखभाल के मानकों का मूल्यांकन किया जा सके. वे सूचना चिकित्सा के शोध में भी कार्यरत हैं.

लाभ[संपादित करें]

नकली रोगियों के उपयोग के कई फायदे हैं.[1][2]

  • सुविधा: एस.पी. जरूरत होने पे, ठीक समय पर, सही रोगी उपलब्ध कर सकते हैं. वे अधिक विश्वसनीय होने की संभावना है - और वास्तविक रोगियों से अधिक छात्रों को सहन कर सकते है.
  • मानकीकरण: नैदानिक मानकीकृत परिदृश्यों की अनुमति से छात्रों के नैदानिक कौशल की तुलना करने देते हैं - स्थानीय रूप में, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर.
  • समय के विस्तार/ संपीड़न: एस.पी. समय अनुदैर्ध्य प्रदान कर सकते हैं. वे मरीजों के अनुभव छात्रों के सामने पेश करते वक़्त समय का विस्तार कर सकते हैं.स.पा. मुठभेड़ों के वक़्त एक में कार्यरत तकनीक है - जानकारी (इन्फोर्मेशन) कार्डस के इस्तेमाल. जब प्रशिक्षु या छात्र, एक परीक्षा या एक प्रयोगशाला परीक्षण करने की जरूरत बताता है - तब स.पा., छात्र के हाथों में, उस जांच के परिणाम के साथ एक छोटा सा कार्ड, परीक्षण रख देता हैं.* सुरक्षा: एस. पी. मुठभेड़ों के अनुमति से छात्रों को उन स्थितियों के बारे में जानकारी देती है, जो - हो सकता है - वे, अकेले में, निभाने में सक्षम नहीं होगे.उदाहरण के लिए, एक कैंसर रोगी को परामर्श.
  • दक्षता द्वारा: एस. पी., मुठभेड़ों के दौरान, छात्रों पर निगरानी रख कर, चिकित्सा के छात्रों पर चिकित्सक संकाय की निगरानी कम कर देता है.

सीमाएं[संपादित करें]

साथी ही साथ, एस.पी. रोगी विशिष्ट हैं. और एक सीमित क्षेत्र में ही चिकित्सीय योग्यता का आकलन कर सकते हैं. कई मुठभेड़ों की जरूरत हो सकते है - व्यापक प्रशिक्षण या परीक्षण के लिए. इसके अलावा, जबकि एस. पी. काफी कुशल होते हैं - लक्षण, भावना अल राज्यों परीक्षा के अनुकरण करने में - लेखिन और भी कुछ स्नायविक लक्षण. है, जिस के अनुकरण वे नहीं कर सकते, जैसे कि दिल के मुर्मुर्स या फेफड़ों की आवाज़. एस.पी. की भर्ती करना मुश्किल और समय-नाशक हो सकता है. और वे असली मरीजों से अधिक महंगी भी हो सकते है.[2]

भर्ती[संपादित करें]

नकली मरीज अक्सर स्थानीय शौकिया या पेशेवर अभिनेताओं के बीच में से भर्ती किये जाते हैं - स्थानीय समाचार पत्र के माध्यम से, या मुंह के वचन के विज्ञापन द्वारे. आसपास के विश्वविद्यालयों में स्नातक छात्रों, भी ये भूमिकाओं अपनाने को सहमत हो सकते हैं - खासकर अगर स्थिति भुगतान किया है.[3] एस. पी. उनके स्वयं के व्यक्तिगत अनुभवों पर आकर्षित करने की आवश्यकता है - जैसे, चिकित्सकों के साथ उनके अनुभवे, स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ बातचीत, विशिष्ट रोगी जनसंख्या से बातचित आदि. वे प्रशिक्षित और सही रूप से अनुकरण करने चहिये. लगातार गुणवत्ता मूल्यांकन की अवशाक्यता है - ताकि, वे रोगी की भूमिका सुनिश्चित रूप से खेल सके. और खासकर, क्यों कि, एस.पी. स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ बातचीत के दौरान उनके ज्ञान का एक महत्वपूर्ण नैदानिक राशि ले सकता है.[3]

सांस्कृतिक संदर्भ[संपादित करें]

याकूब एम. अप्पेल, की अपूर्ण कहानी दी हाउस कॉल एक सेवानिवृत्त अभिनेत्री और एक चिकित्सक के मुठभेड़ के बारे में है. येही अभिनेत्री पहली बार उसी डाक्टर को एक अनुकरण मरीज की रूप में मिली थी, जब वह चिकित्सक अपना चिकित्सा छात्र परीक्षा दे रहा था.[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. [3] ^ नकली मानकीकृत मरीजों में चिकित्सा शिक्षा /
  2. J P Collins and R M Harden (2004). "The Use of Real Patients, Simulated Patients and Simulators in Clinical Examinations. AMEE Medical Education Guide No 13". Association for Medical Education in Europe. http://www.medev.ac.uk/resources/features/AMEE_summaries/Guide13summaryMay04.pdf. अभिगमन तिथि: 2008-09-28. 
  3. Jill Thistlethwaite, Jonathan Silverman, George Ridgway (2006). "A practical guide to working with simulated patients and as a simulated patient". Making it real. Radcliffe Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1846190223. http://books.google.com/?id=OJoo9Hx0pU0C&pg=PA7&lpg=PA7&dq=simulated+patients. 
  4. [11] ^ अप्पेल, जेएम. दी हाउस कॉल शेनान्दोः

अतिरिक्त पाठ्य सामग्री[संपादित करें]

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]