अनवर मसूद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
अनवर मसूद

अनवर मसूद (उर्दू: انور مسعود) एक विख्यात पाकिस्तानी कवि हैं जो अधिकतर व्यंग्य कविता (मज़ाहिया शायरी) लिखतें हैं, हालांकि उनकी और भी विषयों पर रचनायें हैं। वे पंजाबी, उर्दू और फ़ारसी भाषाओं में लिखते हैं।

जीवनी[संपादित करें]

अनवर मसूद का जन्म ८ नवम्बर १९३५ को पंजाब प्रांत के गुजरात शहर में हुआ (जो कि अब पाकिस्तान में है)। उनके जन्म के बाद, १९४१ में, उनका परिवार लाहौर में जा बसा और उन्होंने वहाँ अपनी प्राथमिक पढ़ाई पूरी की। १९४७ में वे फिर गुजरात वापस आ गए और वहां के पब्लिक स्कूल में शेष विद्यालय की कक्षाएं पूर्ण कीं। उसके उपरान्त उन्होंने गुजरात में ही स्थित ज़मीन्दारा कालेज से बी॰ए॰ उत्तीर्ण की और पास ही के शहर कुंजा में स्थित सरकारी इस्लामिया हाइ स्कूल में पढ़ाना आरम्भ कर दिया। कुछ समय बाद उन्होंने १९६१ में लाहौर के ओरिएंटल कालेज से फ़ारसी भाषा का एम॰ए॰ स्वर्ण-पदक के साथ पूरा किया। १९६२ से १९६६ तक वे पाकिस्तान के विभिन्न कालेजों में पढ़ाते रहे हैं। वे अपनी पंजाबी की व्यंग्य कविताओं के लिए जाने जाते हैं जो की भारत-पाक सीमा के दोनों तरफ़ के पंजाब में अत्यंत लोकप्रिय हुईं हैं।

प्रसिद्ध रचनाएँ[संपादित करें]

  • अज्ज की पकाइए? (पंजाबी रचना, अर्थ: आज क्या पकाएं?)
  • लस्सी ते चा (पंजाबी रचना, अर्थ: लस्सी और चाय)
  • ग़ुंचा फिर लगा खिलने (उर्दू रचना, अर्थ: कली फिर लगी खिलने)
  • बनियान (पंजाबी रचना, अर्थ: बनियान)
  • अम्ब्री (पंजाबी रचना, अर्थ: माँ)
  • एक दरीचा, एक चिराग़ (उर्दू रचना, अर्थ: एक दरीचा, एक चिराग़)

इन्हें भी देखें[संपादित करें]