अकेलापन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अकेलापन एक ऐसी भावना है जिसमें लोग बहुत तीव्रता से खालीपन और एकान्त का अनुभव करते हैं.


   अकेलेपन की तुलना अक्सर खाली, अवांछित और महत्वहीन महसूस करने से की जाती है. अकेले व्यक्ति को मजबूत पारस्परिक संबंध बनाने में कठिनाई होती है.


"अकेला" शब्द का पहले पहल दर्ज उपयोग विलियम शेक्सपियर की कॉरिओलेनस में मिलता है, "Though I go alone, like a lonely dragon..."

भाग चतुर्थ दृश्य 1.[1]

एकांत से विभेद[संपादित करें]

जीन जेक्स हेनर, एकांत
इन्हें भी देखें: Loner

अकेलापन और अकेला होना एक समान नहीं है. बहुत से लोग अनेक बार परिस्थितियों के कारण या इच्छा से अकेले हो जाते हैं. अगर यह व्यक्ति के नियंत्रण में है तो

अकेला होना एक सकारात्मक, सुखद और भावनात्मक रूप से तरोताज़ा करने वाला अनुभव हो सकता है. अकेला होने और अन्य लोगों से परे रहने की अवस्था एकांत है और अक्सर इसका अर्थ अपनी इच्छा से अकेले होना है.


 अवांछित एकांत का परिणाम अकेलापन है. अकेलापन अनुभव करने के लिए अकेले होने की आवश्यकता नहीं है इसे भीड़ भरे स्थानों में भी अनुभव किया जा सकता है. इसे पहचान, समझ, या दया का अभाव के रूप में वर्णित किया जा सकता है. अकेलेपन को अन्य व्यक्तियों से अलगाव की भावना के रूप में वर्णित किया जा सकता है, भले ही कोई शारीरिक रूप से दूसरों से अलग हो या नहीं. इसे प्यार या साहचर्य की तड़प के रूप में वर्णित किया जा सकता है जो अधूरी है लेकिन जो अप्राप्य है या किसी के जीवन में प्यार की कमी से पैदा हो और इसलिए अस्वीकृति, निराशा और आत्म सम्मान की कमी जैसी भावनाओं को जन्म दे.
अकेलेपन की भावना मौत या किसी प्रिय की मृत्यु होने पर भावनाओं के समान हो सकती है.

व्यक्तियों के रूप में उनके विकास में, मानव जन्म के समय ही अलगाव की प्रक्रिया हो जाती है जो वयस्कता की ओर बढ़ रही स्वतंत्रता के साथ जारी रहती है. वैसे तो, अकेला महसूस करना एक स्वस्थ भावना है और वास्तव में एक अवधि का एकांतवास करना लाभदायक भी हो सकता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

 तथापि अकेलेपन का अनुभव एक गहन स्तर पर असहनीय अलगाव की भावना 

से अभिभूत होना भी हो सकता है.


यह परित्याग, अस्वीकृति, निराशा, असुरक्षा, चिंता, नैराश्य, निकम्मापन, अर्थहीनता और आक्रोश की भावनाओं में फलीभूत हो सकता है.
अगर ये भावनाएं लंबे समय तक बनी रहें तो वे दुर्बल बना सकती हैं और 

प्रभावित व्यक्ति को स्वस्थ रिश्ते और जीवन शैली विकसित करने से रोकती हैं.

अगर व्यक्ति को विश्वास हो जाए कि वह प्यार के अयोग्य है तो उसकी पीड़ा बढ़ जाती है और वह सामाजिक संपर्क से कतराने लगता है.
 आत्मसम्मान में कमी से अक्सर सामाजिक वियोग उत्पन्न होता है जिससे अकेलापन हो सकता हैं.

कुछ लोगों में, अस्थायी या लंबे समय का अकेलापन उल्लेखनीय कला और रचनात्मक अभिव्यक्ति का रूप ले सकता है उदाहरण के लिए, कवि एमिली डिकिन्सन और अनेक संगीतकार.

  इसका यह अर्थ नहीं है कि अकेलापन ही रचनात्मकता को सुनिश्चित करता है   यह कलाकार की विषयवस्तु को प्रभावित कर सकता है.

सामान्य कारण[संपादित करें]

लोग कई कारणों से अकेलेपन का अनुभव कर सकते हैं और जीवन की कई घटनाएं इसके साथ जुड़ी हैं. बचपन और किशोरावस्था के दौरान मैत्री संबंधों का अभाव या किसी व्यक्ति के आसपास सार्थक लोगों की शारीरिक अनुपस्थिति अकेलेपन, अवसाद और अनैच्छिक ब्रह्मचर्य का कारण है.


  साथ ही, अकेलापन एक सामाजिक या मनोवैज्ञानिक समस्या जैसे पुराना अवसाद का एक लक्षण हो सकता है.


कई लोगों को पहली बार अकेलेपन का अनुभव तब होता है जब उन्हें शिशु के रूप में अकेला छोड़ दिया जाता है.

 तलाक या अलगाव या किसी भी महत्वपूर्ण दीर्घकालिक रिश्ते के खत्म होने के परिणामस्वरूप यह बहुत ही आम है हालांकि आम तौर पर अस्थायी होता है. 
 इन मामलों में, यह एक विशिष्ट व्यक्ति को खोने और घटना या संबद्ध उदासी की वजह से सामाजिक दायरे से उदासीनता दोनों से उत्पन्न हो सकता है.
जीवन में किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति को खोने से आम तौर पर प्रतिक्रिया दु:खद होगी; इस स्थिति में व्यक्ति अकेला महसूस कर सकता है भले ही वह दूसरों के साथ हो.
अकेलापन बच्चे के जन्म के बाद  (प्रसव बाद अवसाद द्वारा), शादी के बाद या किसी भी सामाजिक रूप से विघटनकारी घटना से जैसे अपने गृहनगर से विश्वविद्यालय परिसर या अपरिचित समुदाय या स्कूल को जाने से भी हो सकता है.


अकेलापन विवाह या उसी प्रकार के संबंधों में अस्थिरता

से उत्पन्न हो सकता है जिनमें क्रोध या आक्रोश की भावनाएं शामिल हो सकती हैं या जिनमें प्यार दिया या लिया नहीं जा सकता.


अकेलापन संप्रेषण के अभाव का प्रतिनिधित्व कर सकता है और 
कम घनत्व वाली जनसंख्या के स्थानों जहां परस्परक्रिया के लिए लोग अपेक्षाकृत कम हों, के परिणामस्वरूप भी हो सकता है.
अकेलेपन पर काबू पाने के लिए जीवनचर्या में परिवर्तन का सामना करना सीखना आवश्यक है. 


एक जुड़वां अध्ययन से सबूत मिला है कि वयस्कों में अकेलेपन के मानक योग्य लगभग आधे अंतर का कारण आनुवंशिकी है जो पहले बच्चों में पाए गए आनुवांशिकता अनुमान के समान था.

ये जीन पुरुषों और महिलाओं में एक समान तरीके से कार्य करते हैं. अध्ययन से वयस्क अकेलेपन में समान पर्यावरणात्मक योगदान नहीं मिला. [2]

अकेलापन सामाजिक घटना के रूप में देखा जा सकता है जो रोग की तरह फैलने में सक्षम है.[3]


वर्गीकरण[संपादित करें]

आम प्रकार[संपादित करें]

संक्षेप में अकेलापन को इन श्रेणियों में विभक्त किया जा सकता है:

  • स्थितिजन्य / परिस्थितिजन्य - किसी रिश्ते का अंत, एक नए शहर को जाना
  • विकासात्मक - व्यक्तिवाद की आवश्यकता द्वारा संतुलित अंतरंगता की ज़रूरत
  • आंतरिक - इसमें अक्सर आत्मसम्मान की कमी और असुरक्षा की भावनाएं शामिल होती हैं

यह एक से अधिक श्रेणी का मिश्रित रूप भी हो सकता है.

आम लक्षण[संपादित करें]

अकेलापन सामाजिक अपर्याप्तता की भावनाओं का आह्वान कर सकता है. अकेला व्यक्ति मान सकता है कि उसमें ही कुछ गड़बड़ है और कि कोई उसकी स्थिति को नहीं समझता. इस तरह का व्यक्ति आत्मविश्वास खो देता है और सामाजिक अस्वीकृति के डर से बदलने की कोशिश या नई चीज़ें आज़माने का प्रयास करने का अनिच्छुक होगा. चरम मामलों में, एक व्यक्ति खालीपन की भावना महसूस कर सकता हैं जो नैदानिक अवसाद की स्थिति का रूप धारण कर सकता है.

आधुनिक समाज में[संपादित करें]

अकेलापन अक्सर घनी आबादी वाले शहरों में होता है, इन शहरों में कई लोग लाखों लोगों से घिरे हुए होने पर भी नितांत अकेला और कटा हुआ महसूस करते हैं.

गुमनाम भीड़ में वे परिचित समुदाय का अभाव अनुभव करते हैं. यह स्पष्ट नहीं है कि अकेलापन उच्च घनत्व वाली जनसंख्या के कारण बिगड़ी हुई हालत है या इस सामाजिक ढांचे से उत्पन्न मानवीय हालात का हिस्सा मात्र है.


निश्चित रूप से, अकेलापन बहुत छोटी आबादी वाले समाज में भी होता है लेकिन शहर में दैनिक रूप से संपर्क में आने वाले लोगों की संख्या, भले ही थोड़ी देर के लिए हो, वास्तव में उनके साथ गहराई से अन्योन्य क्रिया में अधिक बाधा बन सकती है और अलग और अकेले होने की भावना में वृद्धि कर सकती है.


संपर्क की मात्रा संपर्क की गुणवत्ता नहीं होती.[4]

अकेलापन आधुनिक समय में विशेष रूप से प्रचलित है. बीसवीं सदी की शुरुआत में परिवारआम तौर पर बड़े और ज्यादा स्थिर थे, तलाक बहुत कम होते थे और अपेक्षाकृत कम लोग अकेले रहते थे. संयुक्त राज्य अमेरिका में, 1900 में केवल 5% घर एकल थे, 1995 तक 24 मिलियन अमेरिकावासी अकेले रहते थे और अनुमान है कि 2010 तक यह संख्या बढ़कर 31 मिलियन हो गई होगी.[5]

अमेरिकन सोशियोलॉजिकल रीव्यू में 2006 के एक अध्ययन में पाया गया कि अमेरिकियों के औसतन केवल दो हमराज़ दोस्त थे जबकि 1985 में औसतन तीन थे. विश्वासपात्र रहित लोगों का प्रतिशत 10% से बढ़कर लगभग 25% हो गया और अतिरिक्त 19% ने कहा कि उनका केवल एक विश्वासपात्र (अक्सर उनके पति या पत्नी) है, इससे रिश्ता खत्म होने की स्थिति में गंभीर अकेलेपन का जोखिम बढ़ जाता है.[6]

इंटरनेट कनेक्शन का प्रयोग भी अकेलेपन से सशक्त रूप से जुड़ा हुआ है,[7]अकेलेपन से पीड़ित अनेक लोग मदद पाने या दर्द को दूर करने के लिए इंटरनेट साइट पर जाते हैं जैसा कि "मैं अकेला हूं क्या कोई मुझ से बात करेगा" विषय क्रम में देखा गया है.


मानव शर्त के रूप में[संपादित करें]

अस्तित्ववादी मत के अनुसार अकेलापन मानव मात्र का सार है. प्रत्येक इंसान दुनिया में अकेला आता है, एक अलग व्यक्ति के रूप में जीवन यात्रा पूरी करता है और अंततः अकेला मर जाता है. इसका सामना करते हुए, इसे स्वीकार करते हुए, गरिमा और संतोष के साथ जीवन को दिशा प्रदान करना सीखना ही मानव स्थिति है.[8]

   कुछ दार्शनिक जैसे सार्त्र,  संज्ञानात्मक अकेलेपन  को मानते है जिसके अनुसार एकाकीपन और ब्रह्मांड की शून्यता के साथ

सार्थकता पाने की मानव चेतना की इच्छा के बीच के विरोधाभास के कारण अकेलापन मानव स्थिति का मौलिक अंग है.


 तथापि, अन्य अस्तित्ववादी विचारक इसके विपरीत तर्क देते हैं. हो सकता है कि यह कहा जाए कि मानव संप्रेषण और सृजनात्मकता के माध्यम से एक दूसरे और ब्रह्मांड को व्यस्त रखते हैं और अकेलापन

इस प्रक्रिया से परे रहने की भावना मात्र है.


प्रभाव[संपादित करें]

पुराना अकेलापन (समय समय पर हर किसी द्वारा महसूस किए जाने वाले सामान्य अकेलेपन के विपरीत) एक गंभीर, जानलेवा स्थिति है. कम से कम एक अध्ययन ने आनुभविक रूप से इसे कैंसर के बढ़े हुए जोखिम के साथ सहसम्बद्ध किया है, विशेष रूप से उन लोगों में जो बाहरी दुनिया से अपने अकेलेपन को छिपाते हैं.[9] इसे दौरा और हृदय रोग के बढ़े हुए खतरे के साथ जोड़ा जाता है.[5] जो लोग सामाजिक रूप से अलग-थलग रहते हैं वे अल्प निद्रा के शिकार होते हैं और परिणामतः उनकी स्वास्थ्यकर प्रक्रिया क्षीण हो जाती है.[10] अकेलापन आत्महत्या के जोखिम कारक अवसाद से भी जुड़ा है. [11] एमिल दुर्खीम ने अकेलेपन का वर्णन, विशेष रूप से दूसरों के लिए जीने की अक्षमता या अनिच्छा (अर्थात दोस्ती या परोपकारी विचार के लिए), उनके शब्दों में "घमंडी" आत्महत्या, के मुख्य कारण के रूप में भी किया है .[12] अकेलापन एक प्रकार का पागलपन भी हो सकता है जिसमें मनुष्य दुनिया को अलग ढंग से देखता है और दूसरों से अलग महसूस करता है जिसे 'स्वयं निर्वासन में'(क्लेन 1995) कहा जाता है.


अकेलापन मदात्यय में भूमिका निभा सकता है. बच्चों में, सामाजिक संपर्क की कमी का सीधा संबंध असामाजिक और आत्म विनाशकारी विशेषकर शत्रुतापूर्ण और अपराधी व्यवहार से है. बच्चों और वयस्कों दोनों में, अकेलापन अक्सर सीखने और स्मृति पर नकारात्मक प्रभाव डालता है. सोने की प्रकृति पर इसके प्रभाव और साथ ही उपर्युक्त अन्य प्रभाव का रोज़मर्रा के जीवन की कार्क्षयमता पर विनाशकारी प्रभाव पड़ सकता है. [11]

कुछ अन्य प्रभाव वर्षों तक लक्षणात्मक रह सकते हैं. 2005 में, यू.एस. फ़ार्मिंघम हार्ट स्टडी से प्राप्त परिणामों से पता चला कि अकेले आदमी में आईएल - 6, हृदय रोग से जुड़े हुए रक्त रसायन का स्तर बढ़ा हुआ था.

शिकागो विश्वविद्यालय के कॉगनिटिव एंड सोशल न्यूरोसाईंस द्वारा किए गए 2006 के अध्ययन में पाया गया कि अकेलापन 50 की उम्र से ऊपर के वयस्कों के रक्तदाब में 30 पॉइंट्स की वृद्धि कर सकता है.
 शिकागो विश्वविद्यालय के एक मनोवैज्ञानिक जॉन कैकिऑपो द्वारा आयोजित एक सर्वेक्षण से पता चला है कि डॉक्टरों का कहना है कि वे अकेले रोगियों की तुलना में परिवार और दोस्तों के मजबूत

नेटवर्क वाले मरीजों को बेहतर चिकित्सीय देखभाल प्रदान करते हैं.


कैकिऑपो की 2008 किताब, लोन्लीनेस: ह्युमन नेचर एंड द नीड फ़ॉर सोशल कनेक्शन के अनुसार अकेलापन संज्ञान और इच्छा शक्ति को क्षीण करता है, प्रतिरक्षा कोशिकाओं में डीएनए प्रतिलेखन बदल देता है और समयातीत होने पर उच्च रक्तदाब का कारण बनता है.[13]



प्रत्यारोपित अकेलापन (एकान्त कारावास) इतिहास में दंड की एक विधि रहा है.

उपचार और निवारण[संपादित करें]

अकेलापन,सामाजिक अलगाव या नैदानिक अवसाद के इलाज के लिए अनेक तरीके इस्तेमाल किए जाते हैं.

पहला कदम जिसकी ज़्यादातर डॉक्टर मरीजों को सलाह देते हैं वह है चिकित्सा. चिकित्सा अकेलेपन के उपचार का एक आम और प्रभावी तरीका है जो अक्सर सफल रहा है. अकेले या निराश रोगियों के लिए सबसे आम विधि अल्पकालिक चिकित्सा है जिसकी अवधि आमतौर पर 10-20 सप्ताह की होती है. चिकित्सा के दौरान समस्या का कारण समझने पर, नकारात्मक विचारों को बदलने, भावनाओं और समस्या से उत्पन्न दृष्टिकोण; और जुड़ा हुआ महसूस करने में रोगी की मदद करने के लिए तरीके तलाशने पर जोर डाला जाता है. दूसरे पीड़ितों के साथ जुड़ने और समर्थन सिस्टम स्थापित करने के माध्यम के रूप में कुछ डॉक्टर समूह चिकित्सा की भी सिफारिश करते हैं.[14] 

डॉक्टर अक्सर रोगियों को एकल चिकित्सा के रूप में या उपचार के साथ संयोजन में अवसाद विरोधी दवा भी लिखकर देते हैं. सही अवसाद विरोधी दवा पाने से पहले आम तौर पर एक मरीज को

कुछ को आज़माना पड़ता है. कुछ रोगियों में किसी खास प्रकार की दवा के लिए प्रतिरोध विकसित हो सकता है और समय समय पर उसे बदलने की जरूरत पड़ सकती है.[15]

अवसाद के उपचार के लिए अनेक डॉक्टर वैकल्पिक तरीकों का सुझाव देते हैं. इन उपचारों में व्यायाम, परहेज़, सम्मोहन, विद्युत आघात चिकित्सा, एक्यूपंक्चर, जड़ी बूटी इत्यादि शामिल हो सकते हैं.

कई रोगियों ने पाया है कि इन गतिविधियों में भाग लेने से पूरी तरह या आंशिक रूप से अवसाद से संबंधित लक्षण कम हुए हैं.[16] अकेलेपन और अवसाद दोनों के लिए एक और इलाज पालतू चिकित्सा या और अधिक औपचारिक रूप से जानी जाने वाली जानवर की सहायता से चिकित्सा है.  कुछ अध्ययनों और सर्वेक्षणों, और साथ ही स्वयंसेवकों और समुदाय संगठनों  द्वारा प्रदत्त वास्तविक सबूत से संकेत मिलता है कि पशु साथी -कुत्ते, बिल्लियां, यहां तक कि खरगोश या गिनी सुअर-की उपस्थिति से कुछ पीड़ितों में अवसाद और अकेलेपन की  भावनाएं कम होती है.
   रोकथाम और रोग नियंत्रण के लिए केंद्र के अनुसार, पालतू जानवर रखने के कई स्वास्थ्य संबंधी लाभ हैं. अकेलापन दूर करने के अलावा (जानवर के साहचर्य के साथ साथ अन्य पालतू जानवरों के मालिकों के साथ मेल-जोल के अवसरों में वृद्धि के कारण) पालतू जानवर रखने से रक्तदाब में गिरावट और कोलेस्ट्रॉल व ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर में कमी पाई गई है.[17]

संस्मरण का भी स्वास्थ्यकर प्रभाव पाया गया है जिससे सामाजिक समर्थन के बोध में वृद्धि होने से अकेलेपन का प्रतिकार होता है.[18]

एक 1989 के अध्ययन में पाया गया कि बुजुर्ग लोगों में अकेलेपन के साथ धर्म के सामाजिक पहलू का महत्वपूर्ण नकारात्मक संबंध होता है, मित्र और परिवार के साथ सामाजिक रिश्तों के प्रभाव की तुलना में यह प्रभाव अधिक स्थिर था और धार्मिकता की व्यक्तिपरक अवधारणा का अकेलेपन पर कोई महत्वपूर्ण प्रभाव नहीं पड़ा.[19]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • अकेलेपन का भय
  • संज्ञानात्मक अकेलापन
  • व्यक्तिवाद
  • पारस्परिक संबंध
  • अकेला
  • नैराश्य का गड्ढा (अलगाव के संबंध में जानवरों पर प्रयोग)


  • एकांत
  • कुल परिप्रेक्ष्य भंवर (साहित्यिक युक्ति)
  • शर्मिलापन
  • सामाजिक चिंता
  • सामाजिक दुष्चिन्ता विकार

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Shakespeare, William (2008). Coriolanus p. 129. Google Books. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780559437052. http://books.google.com/?id=kVoqJPKpf0AC&pg=PA129. 
  2. बूम्स्मा, डि. आई., जी., डोलन, सी. वी., हॉक्ली, एल. सी., एंड कैकिऑपो, जे.टी. (2005). वयस्कों में अकेलेपन में आनुवंशिक और पर्यावरणात्मक योगदान: नीदरलैंड ट्विन रजिस्टर अध्ययन. व्यवहार आनुवंशिकी. पीडीएफ़
  3. Park, Alice (2009-12-01). "Time.com". Time.com. http://www.time.com/time/health/article/0,8599,1943748,00.html#ixzz0YZghiRRl. अभिगमन तिथि: 2010-04-02. 
  4. Lonely Nation: Americans Try to Connect in a Country Where Isolation Is Common. Associated Press. 2006-08-06. http://sunsite.utk.edu/FINS/loversofdemocracy/LonelyNation-2.htm. अभिगमन तिथि: 2009-05-03 
  5. "Loneliness and Isolation: Modern Health Risks". The Pfizer Journal IV (4). 2000. Archived from the original on 2006-01-28. http://web.archive.org/web/20060128104835/http://www.thepfizerjournal.com/default.asp?a=article&j=tpj15&t=Loneliness%20and%20Isolation%3A%20Modern%20Health%20Risks 
  6. McPherson, Miller; Smith-Lovin, Lynn; Brashears, Matthew E (2006). "Social Isolation in America: Changes in Core Discussion Networks over Two Decades" (PDF). American Sociological Review 71 (3): 353–375. doi:10.1177/000312240607100301. http://www.asanet.org/galleries/default-file/June06ASRFeature.pdf  Inentaconnect.com
  7. http://escholarship.bc.edu/dissertations/AAI9923427/
  8. एन एग्जि़स्टेंशियल व्यू ऑफ़ लोन्लीनेस - कार्टर, मिशेल; एबाइडिंग लोन्लीनेस: एन एग्जि़स्टेंशियल परस्पेक्टिव से अंश, पार्क रिज केंद्र, सितम्बर 2000
  9. समान भावनाओं से लड़ना; चेतावनी: वैज्ञानिकों ने निर्धारित नहीं किया है कि दमित भावनाएं स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हैं - अभी तक स्मिथ, एलीनॉर, मनोविज्ञान आज , मई 1988
  10. लोन्लीनेस एंड पाथवे टू डिज़ीज़ (पीडीएफ) - हॉक्ली, लुईस सी. एंड कैकिऑपो, जॉन टी.; मन और जीव विज्ञान संस्थान, शिकागो विश्वविद्यालय, गुरुवार 18 जुलाई 2002
  11. अकेलेपन से खतरे -मरैनो, हारा एस्ट्रॉफ़, मनोविज्ञान आज गुरुवार 21 अगस्त 2003
  12. सामाजिक अवसाद, अकेलापन और अवसाद (ऑनलाइन सोशल नेटवर्क्स वेबसाइट से)
  13. कैकिऑपो, जॉन,पैट्रिक, विलियम, अकेलापन: मानव प्रकृति और सामाजिक संपर्क की आवश्यकता , न्यू यॉर्क: WW नॉर्टन एंड कंपनी, 2008. ISBN 978-0-393-06170-3 Science of Loneliness.com
  14. "Psychotherapy". Depression.com. http://www.depression.com/psychotherapy.html. अभिगमन तिथि: 2008-03-29. 
  15. "The Truth About Antidepressants". WebMD. http://www.webmd.com/depression/features/truth-about-antidepressants?page=2. अभिगमन तिथि: 2008-03-30. 
  16. "Alternative treatments for depression". WebMD. http://www.webmd.com/depression/alternative-therapies-depression?page=2. अभिगमन तिथि: 2008-03-30. 
  17. पालतू जानवरों से स्वास्थ्य लाभ (रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्रों से[[]] 2007-11-14 से.
  18. Xinyue Zhou, Constantine Sedikides, Tim Wildschut, Ding-Guo Gao, "अकेलेपन का प्रतिकार: संस्मरण के स्वास्थ्यकर प्रभाव पर", मनोवैज्ञानिक विज्ञान , खंड. 19, संख्या 10, पीपी. 1023-1029, 4 नवम्बर 2008.
  19. "Doyle Paul Johnson, Larry C. Mullins, "Religiosity and Loneliness Among the Elderly ", ''Journal of Applied Gerontology'', Vol. 8, No. 1, 110-131 (1989)". Jag.sagepub.com. doi:10.1177/073346488900800109. http://jag.sagepub.com/cgi/content/abstract/8/1/110. अभिगमन तिथि: 2010-04-02. 

बाह्य लिंक्स[संपादित करें]

साँचा:Wikiquote-inline साँचा:Wikiquote-inline